जागरण हिन्दुस्तान दैनिक भास्कर नईदुनिया नवभारत टाइम्स

राजस्थान से आए 81 मजदूरों को पहले नहलाया, फिर क्वारैंटाइन किया; 500 किमी पैदल चलकर आईं तीन गर्भवती का टीकाकरण कराया

राजस्थान से जिले की सीमा में आए81 मजदूरों को फतेहगढ़ के स्कूल में क्वारैंटाइन किया गया, इसमें से 61 तो मजदूर भीलवाड़ा क्षेत्र से आए थे, जहां कोरोना के कई पॉजीटिव मामले सामने आ चुके हैं। इन मजदूरों के जिले की सीमा में घुसने की सूचना से ही प्रशासन हरकत में आ गया। एसडीएम शिवानी गर्ग तुरंत मौके पर पहुंचीं। उन्होंने जितने भी मजदूर आए थे, उनसे कहा कि सबसे पहले सभी लोग नहाकर आएं, फिर इन सभी को सोशल डिस्टेंस का पालन कराते हुए स्कूल में ठहराया गया। इसमें 3 गर्भवती महिलाएं भी थीं, जो 500 किमी की पैदल चलकर आई थीं। उनका टीकाकरण कराया गया है। मजदूरों के साथ में 20 बच्चे भी थे, यह भी भूखे थे, सभी को खाना खिलाया गया। इन सभी की स्वास्थ्य जांच भी कराई गई है, लेकिन किसी में कोरोना के लक्षण नहीं पाए गए हैं। जिला अस्पताल में क्वारैंटाइन एक दर्जन लोगों की सुरक्षा में 1-4 का गार्ड तैनात किया गया है। प्रबंधक का अंदेशा था कि कोई भाग न जाए, इसलिए पुलिस सुरक्षा लगवाई गई।राजस्थान के उदयपुर, जयपुर तक के मजदूर आएराजस्थान से पैदल चलकर बड़ी संख्या में मजदूर गुना की सीमा में प्रवेश कर गए। हालांकि यह सिलसिला लंबे समय से ..
                 

कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या इजाफा होने से लोग सहमे. मुरैना में कर्फ्यू लगा, ग्वालियर 4 अप्रैल तक टोटल शट डाउन

कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 120 पहुंच जाने से लोग सहम गए हैं। सभांवना जताई जा रही है कि इदौंर और भोपाल में संक्रमित मरीजों की संख्या में एकाएक बढ़ोतरी होने से सरकार दोनों शहरों में लॉक डाउन की अवधि नए नियमों के साथ बढ़ा सकती है। भोपाल में एक आईएएस अफसर सहित चार जमातियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद हड़कंप की स्थिति है। इंदौर में मरीजों की संख्या 89और 7 की मौत हो चुकी है। मुरैना में पति-पत्नी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद यहां कर्फ्यू लगा दिया गया है। ग्वालियर में मंगलवार रात 12 बजे से लागू किए टोटल लॉक डाउन को चार अप्रैल तक के लिए बढ़ा दिया गया है। वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संकेत दिए हैं कि करोना संक्रमण के खिलाफ चल रही इस लड़ाई का विरोध करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा सकती है। मुख्यमंत्री शुक्रवार को दिनभर मंत्रालय में प्रदेशभर की स्थिति पर निगाह रखेंगे और शाम को अधिकारियों के साथ स्थिति की समीक्षा करेंगे। भोपाल में चार जमातियों के संक्रमित पाए जाने के बाद मुख्यमंत्री निवास (श्यामला हिल्स) के आसपास का पूरा क्षेत्र प्रतिबंधित घोषित कर दिया गया है।गुरुवार को ऐशबाग की ..
                 

22 कंडम बसों में बन रहे मोबाइल आइसोलेशन वार्ड

भोपाल.कंडम हाे चुकीं लो फ्लोर बसों में मोबाइल आइसोलेशन वार्ड बनाए जा रहे हैं। यह कार्य नगर निगम और सार्थक संस्था द्वारा किया जा रहा है। इन वार्डों को जरूरत के हिसाब से एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से ले जाया जा सकेगा।नगर निगम कमिश्नर बी विजय दत्ता का कहना है कि इन आइसोलेशन वार्डों को कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) के माध्यम से तैयार कराया जाएगा। वर्तमान में उनके डिपो में 36 कंडम बसें खड़ी हैं। इनमें से 22 बसों पर काम शुरू हो गया है। इन बसों पर वर्तमान में सीट हटाने का काम शुरू हो गया है। यह काम जल्द ही पूरा हो जाएगा। सार्थक संस्था के डायरेक्टर इम्तियाज अली ने बताया कि जब रेलवे ने कोच को आइसोलेशन वार्ड बनाने की घोषणा की, तब मोबाइल आइसोलेशन वार्ड बनाने का आइडिया दिमाग में आया। इसके बाद उन्होंने नगर निगम और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को मेल कर भोपाल में खड़ी 36 बसों को आइसोलेशन वार्ड में बदलने का प्रस्ताव दिया। इस पर निगम कमिश्नर दत्ता ने तुरंत रिस्पॉन्स दिया। उन्होंने प्रस्ताव पर चर्चा की। उन्होंने तुरंत ही इस पर काम करने कहा। साथ ही इसके लिए जरूरी सहायता उपलब्ध कराने की बात की।3..
                 

10 दिन में संक्रमितों का आंकड़ा 9 से 120 हुआ, देर रात 14 नए पॉजिटिव मरीज मिले

इंदौर में कोरोना से दो और लोगों की मौत हो गई। खजराना की 65 वर्षीय महिला ने सुबह दम तोड़ दिया। वहीं, मोती तबेला निवासी 54 वर्षीय व्यक्ति की भी मौत हो गई, जिनकी जांच रिपोर्ट बुधवार रात आई थी। जबकि देर रात यहां 14 नए पॉजिटिव मरीज भी मिले हैं। इधर भोपाल में गुरुवार को 65 जमातियों की रिपोर्ट आई है, इनमें 4 काेराेना पाॅजीटिव मिले हैं। इनमें से तीन म्यांमार के हैं, जबकि एक ओडिशा का। आईएएस अफसर जे विजय कुमार भी संक्रमित हुए हैं। जबलपुर में 1 और पॉजिटिव मिला है। भोपाल में 9 मरीज हो गए हैं।गुरुवार को ऐशबाग की रहमानिया मस्जिद और श्यामला हिल्स की अहाता रुस्तम खां मस्जिद के एक किमी क्षेत्र को कंटेनमेंट घोषित कर दिया है। श्यामला हिल्स के कंटेनमेंट दायरे में सीएम हाउस भी आता है।हेल्थ काॅर्पाेरेशन के एमडी जे विजय कुमार की पहली रिपोर्ट पाॅजिटिवभोपाल में मध्यप्रदेश हेल्थ काॅर्पाेरेशन के मैनेजिंग डायरेक्टर और मध्यप्रदेश आयुष्मान भारत निरामयम साेसायटी के सीईओ जे विजय कुमार की गुरुवार काे आई काेराेना रिपाेर्ट पाॅजिटिव पाई गई है। हालांकि, इसकी पुष्टि करने के लिए दाेबारा जांच कराई जा रही है। कुमार 2011 बैच के..
                 

लॉकडाउन के बीच भोपाल की छोटी झील पर पतंगबाजी करते दिखाई दिए युवक, एसएसपी बोले- कानूनी कार्रवाई की जाएगी

कोरोना वायरस के संक्रमण और लॉकडाउन के इस दौर में जरूरी है कि घर में रहें। लेकिन गुरुवार को कुछ युवक छोटी झील में पतंगबाजी करते दिखाई दिए। पुलिस और प्रशासन की हिदायतों के बाद भी इनकी मनमानी जारी है। ऐसे में सख्ती जरूरी है। क्योंकि ये पतंग की डोर तो फिर कभी थाम लेंगे, लेकिन कोरोना के इस दौर में जिंदगी की डोर अटक जाएगी।इनकी पहचान कर करेंगे कानूनी कार्रवाईजोन-3 के एएसपी मनु व्यास ने बताया कि ऐसे लोग खुद के साथ-साथ दूसरों की जान को भी खतरे में डाल रहे हैं। कोरोना संक्रमण के समय इनकी ये मनमानी किसी के लिए जानलेवा भी बन सकती है। ये सीधे-सीधे कलेक्टर आदेश का उल्लंघन है। इन लोगों की पहचान कर सभी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। ये खेल फेल कर देगा लॉकडाउन का मकसदरोशनपुरा से बाणगंगा चौराहे की ओर जाने वाली सड़क है। यहां बच्चे क्रिेकेट खेल रहे हैं। बड़े भी उनके आसपास घूम रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग के सारे कायदे ताक पर हैं। ऐसे में कहीं ये खेल लॉकडाउन का मकसद ही फेल न कर दे।रोशनपुरा से बाणगंगा चौराहे की ओर जाने वाली सड़क है30 सेकंड में पूरी तरह सैनिटाइजमालीपुरा में फुल बाॅडी डिसइंफेक्शन टनल बनाई गई है..
                 

3 दिन और बंद रहे तो किराने की किल्लत; हनुमानगंज, जुमेराती और आसपास के क्षेत्र में ज्यादातर दुकानें नहीं खुली

राजधानी के थोक किराना बाजार यानी हनुमानगंज, जुमेराती और आसपास के क्षेत्र में गुरुवार को ज्यादातर दुकानें बंद ही रहीं। अभी तीन दिन यानी रविवार तक बाजार बंद रखने की घोषणा व्यापारियों ने की है ऐसे में शहर के अन्य बाजारों में दाल, चावल, तेल, शकर, आटा आदि की किल्लत हो सकती है।भोपाल किराना व्यापारी महासंघ के महासचिव अनुपम अग्रवाल, कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स एसोसिएशन (कैट) के प्रवक्ता विवेक साहू, कुंदन भुरानी, किशोर सचदेवा व अन्य व्यापारियों ने दोपहर में संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव से चर्चा की। इन व्यापारियों ने कहा कि बाजार खुलने पर भीड़ बढ़ती है। जिससे प्रशासन को व्यवस्था बनाने में दिक्कत होती है। व्यापारियों ने पास बनाने में आ रही दिक्कतों का भी हवाला दिया। एक पक्ष यह भी है कि लॉकडाउन के दौरान कालोनियों में दुकानें अपनी सुविधा से खुल रहीं हैं। लेकिन यह दुकानदार भी थोक बाजार से ही सामान लाते हैं। यदि अगले कुछ दिन और थोक दुकानें बंद रहीं तो शहर के बाजारों में किल्लत हो जाएगी।आज फिर बैठक ...अनुपम अग्रवाल ने कहा कि व्यापारियों का उद्देश्य शहर को और स्वयं को व परिवार को संक्रमण से बचाना ..
                 

'संक्रमण से बचाने डेडीकेटेड हाॅस्पिटल की व्यवस्था; 2000 पीपीई किट्स रोजाना हो रही तैयार'

भोपाल.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग कर प्रदेश की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा कि सामूहिकता में शक्ति होती है। कोरोना वायरस को युद्ध से भी बड़ा संकट मानकर सभी राज्य पूरी क्षमता से मुकाबला करें। लड़ाई दरअसल अब शुरू हो रही है। मोदी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सुझावों और कोरोना के नियंत्रण के लिए उठाए गए प्रयासों की सराहना की। मोदी ने कहा कि मप्र में किट्स बनाने की पहल और बचाव के लिए किया काम प्रशंसनीय है। सीएम ने जानकारी दी कि मप्र में निर्मित पीपीई किट्स को डीआरडीओ की प्रयोगशाला ने मान्य किया है। सेंपल मान्य होने से अभी जहां दो हजार किट्स प्रतिदिन तैयार की जा रही हैं, उसकी संख्या दोगुनी करेंगे। जो व्यक्ति संक्रमण की बार्डर लाइन पर आए, उनका उन्हें आइसोलेशन में रखा जा रहा है। मुख्यमंत्री ने इंदौर का उल्लेख करते हुए कहा कि वहां कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए डेडीकेटेड हाॅस्पिटल की व्यवस्था है। संभागीय मुख्यालयों के लिए भी अस्पताल चिन्हित कर लिए गए हैं।सैनिटाइजर, मास्क, राशन की कालाबाजारी पर होगी कार्रवाईप्रदेश में म..
                 

भोपाल की कंपनी ने बनाई कोरोना टेस्टिंग किट, ढाई घंटे में जांच; आईसीएमआर की मान्यता वाली देश की दूसरी कंपनी

भोपाल के गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल एरिया स्थित कंपनी किलपेस्ट इंडिया लिमिटेड ने कोरोना वायरस (कोविड-19) की टेस्टिंग किट (ट्रू पीसीआर) बनाई है। इसे इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने मान्यता दे दी है। कोविड-19 का टेस्ट किट बनाने वाली यह देश की दूसरी कंपनी बन गई है। इस किट से ढाई घंटे में कोविड-19 की जांच की जा सकेगी। रोजाना के 10 हजार के हिसाब से एक महीने में 3 लाख टेस्ट किट उपलब्ध कराई जा सकेंगी।आईसीएमआर इससे पहले देश में पुणे की माईलैब के टेस्ट किट को एप्रूवल दे चुकी है। किलपेस्ट इंडिया के रिसर्च एंड डेवलपमेंट हेड डॉ. अखिलेश रावत ने बताया कि यह रियल टाइम पीसीआर डिटेक्शन किट है। इस किट का परीक्षण करने के लिए एनआईवी (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायराेलॉजी) को 31 मार्च काे भेजा गया था। यहां इस टेस्ट किट पर 100 कोरोना पॉजिटिव और 100 निगेटिव लोगों का टेस्ट किया गया। दोनों तरह से टेस्ट सफल होने के बाद इसे मान्यता मिली। कंपनी के डायरेक्टर धीरेंद्र दुबे का कहना है कि इस किट से परीक्षण करने के लिए सरकार पर अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ेगा। नए उपकरण खरीदने की जरूरत नहीं होगी। वर्तमान संसाधन ही पर्याप्त..
                 

मुख्यमंत्री ने दिए निर्देश- सैनिटाइजर, मास्क एवं राशन की कालाबाजारी पर हो सख्त कार्रवाई, थोड़े भी लक्षण दिखने पर कोरोना टेस्ट कराएं

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंत्रालय में प्रदेश में कोरोना संकट की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की गहन समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि प्रदेश में कहीं भी मास्क, सैनिटाइजर अथवा खाद्य सामग्री आदि की कालाबाजारी नहीं होनी चाहिए। उन्हें निर्धारित दाम पर ही बेचा जाना चाहिए। यदि कोई कालाबाजारी करता है और निर्धारित दाम से अधिक में इन्हें बेचता है, तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि थोड़े भी लक्षण दिखने पर कोरोना टेस्ट करवाया जाए, कोई छूटे नहीं। यदि कोई भी कोरोना संक्रमित व्यक्ति बिना टेस्ट के छूटता है, तो उससे कई लोगों को संक्रमण की आशंका बनी रहती है, अतः इस कार्य में ढिलाई न बरती जाए।समीक्षा के दौरान मुख्य सचिव इक़बाल सिंह बैंस ने बताया कि वर्तमान में कोरोना टेस्टिंग किट्स का स्टॉक 4050 का है, जो कि पर्याप्त है। आगे भी इनका आना जारी रहेगा। हमारी वर्तमान टेस्ट क्षमता 480 है जो आगामी 10 अप्रैल तक 1000 हो जाएगी। हमारे पास पीपीई किट्स की संख्या 6000 हो गई है। मध्यप्रदेश में बनी किट्स को डीआरडीओ ने एप्रूव कर दिया है। इस पर मुख्यमंत्री ने बधाई दी तथा कहा कि आवश्यकत..
                 

भोपाल में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए व्यापारियों ने खुद 4 दिन का टोटल लॉकडाउन किया, जरूरी सामान की किल्लत बढ़ सकती

पुराने भोपाल में लॉकडाउन का पालन नहीं होने से व्यापारियों ने खुद बड़ा निर्णय लिया।सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए गुरुवार से रविवार तक चार दिन थोक बाजार बंद रखने का लिया है। इससे राजधानी में जरूरी सामान की किल्लत हो सकती है। आज पुराने शहर के थोक बाजार में सन्नाटा पसरा है। पूरे शहर में इसी थोक बाजार से किराने के सामान की आपूर्ति की जाती है।गुरुवार को भी पुराने शहर के कुछ इलाकों में भीड़ देखे जाने की खबर है। यहां विदेशी जमातेंमस्जिदों में रुकी थीं औरबस्तियों में जाकर धर्म प्रचार किया। यहां लोग पुलिस की गाड़ी देखते ही गलियों में चले जाते हैं और जैसे ही पुलिस की गाड़ी निकल जाती है तो फिर से सड़कों पर आ जातेहैं। हालांकि पुलिस पुराने शहर सहित पूरे भोपाल में मुनादी कर कह रही है कि घर से बाहर नहीं निकलें, अगर घर से बाहर निकले तो महामारी आपका इंतजार कर रही है। पुलिसकर्मी जिंदगी मौत न बन जाए संभालोयारो, मुश्किलों में है वतन... गाना गाकर भी लोगों को जागरुक करने की कोशिश कर रहे हैं।संक्रमण रोकने सात जोन में बांटा शहरभोपाल को सात जोन में बांटने के लिए पुलिस ने 31 स्थानों पर बैरिकेडिंग कर शहर की रफ..
                 

दो राज्यों एमपी और महाराष्ट्र के बीच बैतूल का सालबर्डी गांव, कोरोना के डर से बीच का रास्ता पार नहीं कर रहे ग्रामीण, बाहरी लोगों की एंट्री बंद

(चंद्रकिशोर देशमुख) .350 घरों की बस्ती वाले सालबर्डी गांव के 250 मकान मप्र और 100 मकान महाराष्ट्र की सीमा में शामिल हैं। एक गली इस गांव काे दो राज्यों में बांटती है। गली के दोनों ओर ग्रामीणों के मकान हैं। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए ग्रामीणों ने इस गली को पार करना बंद कर दिया है। लाेग गली में अपनी-अपनी अाेर खड़े हाेकर ही एक-दूसरे से बात कर रहे हैं। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के अधिक मरीज मिलने से ग्रामीणों ने बाहर से आने वालों की गांव में एंट्री बंद कर दी है। इसके लिए ग्रामीण गांव की सीमा पर भी तैनात हो गए हैं।सावधानी... एक-दूसरे काे उपलब्ध करा रहे सामान, महाराष्ट्र के शहरों में जाना बंदमप्र की सीमा में रहने वाले सुखदेव माडिकर, नीलेश झोड़ और महाराष्ट्र की सीमा में रहने वाले अशोक ठाकुर, सादिक पटेल ने बताया कि सालबर्डी के ग्रामीण खरीदी करने महाराष्ट्र के नगरों में जाते हैं। लॉकडाउन होने के बाद से ग्रामीणों ने नगर में जाना बंद कर दिया है। महाराष्ट्र की सीमा में रहने वालों को कोई भी सामग्री की जरूरत होने पर मप्र की सीमा में रहने वाले ग्रामीण उपलब्ध करा रहे हैं। दोनों राज्यों के अधिकारी ..
                 

लापरवाही पर स्वास्थ्य आयुक्त को हटाया, ताजा आंकड़ों में गड़बड़ी से मुख्यमंत्री हुए थे नाराज

कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में लापरवाही बरतने से नाराज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वास्थ्य आयुक्त प्रतीक हजेला को हटा दिया। इसके एक घंटे के भीतर ही मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई को इस पद का प्रभार भी सौंप दिया गया। हजेला असम-मेघालय कैडर के 1995 बैच के आईएएस अधिकारी हैं और पिछले साल ही प्रतिनियुक्ति पर मप्र में थे। समीक्षा बैठक के दौरान दिए ताजा आंकड़ों में गड़बड़ी के कारण मुख्यमंत्री नाराज हो गए थे। उन्होंने मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस से कहा कि हजेला को तुरंत हटा दिया जाए।असम एनआरसी से विवादों में रह चुके हैं हजेलाहजेला असम में एनआरसी को लेकर विवादों में आ चुके हैं। अगस्त 2018 में असम की एनआरसी का अंतिम प्रारूप जारी किया गया। इसमें 19 लाख लोग बाहर हो गए। केंद्र और असम सरकार ने दावा किया था कि बाहर हुए लोगों काफी संख्या ऐसे लोगों की है, जो वाकई में भारतीय नागरिक हैं। उन्हें एनआरसी में जगह नहीं मिली। तब यह आरोप लगे थे कि एनआरसी में ऐसे लोग आ गए जो बांग्लादेशी घुसपैठिए हैं। इसके बाद बयानबाजी शुरू हुई तो कोर्ट ने हजेला व उनकी टीम के बयान देने पर रोक लगा दी। एनआरसी की मॉनिटरिंग..
                 

मुख्यमंत्री ने कोविड-19 की समीक्षा बैठक मे स्वास्थ्य आयुक्त प्रतीक हजेला को हटाया, फैज अहमद किदवई नए आयुक्त बनाए गए

बुधवार को मंत्रालय में आयोजित कोविड-19(कोरोनावायरस) समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने स्वास्थ्य आयुक्त प्रतीक हजेला को तुरंत पद से हटाने के निर्देश दिए हैं। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री स्वास्थ्य आयुक्त के कार्य के तरीके से नाराज थे। दो दिन से वे समीक्षा बैठक में उन्हें कार्य में लापरवाही नहीं हो के निर्देश दे रहे थे। इसके बाद भी स्वास्थ्य आयुक्त का रवैया नहीं सुधरा तो मुख्यमंत्री ने उन्हें तुरंत पद से हटाने के आदेश दे दिए। फैज अहमद किदवई को नया आयुक्त बनाया गया है।शिवराज सिंह ने जब से मुख्यंत्री पद की शपथ ली है वे कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए हर दिन दोपहर बाद प्रतिदिन हो रहे काम की समीक्षा कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि इंदौर में बिगड़ती स्थिति और पूरे प्रदेश में पर्याप्त संशाधन उपलब्ध कराने के निर्देशों का समय पर पालन नहीं हो रहा था। इससे नाराज मुख्यमंत्री ने आयुक्त को हटाने के निर्देश दे दिए। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today covid 19..
                 

भोपाल में मरकज से आई विदेशी जमातों ने चिंता बढ़ाई, ग्वालियर-भिंड में 48 घंटे का टोटल लॉकडाउन

21 दिन के लॉकडाउन का आज आठवां दिनहै। अब प्रशासन ने सख्ती दिखाना शुरू कर दिया है। मध्य प्रदेश का इंदौर कोरोना संक्रमित की सूची में देश में चौथे नंबर पर आ गया है। 6 दिन पहले यानी 24 मार्च तक यह शहर कोरोना मुक्त था। बुधवार सुबह तक यहां70 (+उज्जैन 6, 1 खरगोन) संक्रमित पाए गए। इनमें इंदौर में 3,उज्जैन में 2 और खरगोनके62 साल केसंक्रमितकी मौत हो चुकी। फिलहाल,शहर हाईअलर्ट पर है। सभी तरह के प्रतिबंध लगाए गए हैं। प्रशासन भी यहां और मरीज बढ़ने की आशंका जता रहा है।राहत की खबर ये है कि शुरुआत में भर्ती किए गए 20 संक्रमित तेजी से स्वस्थ्य हो रहे हैं। प्रदेश में अब तक 85 संक्रमित पाए गए हैं। उधर, कोरोना संक्रमण से निपटने में लापरवाही में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आयुक्त स्वास्थ्य सेवाएं प्रतीक हजेला को हटाने के निर्देश दिए हैं। उनकी जगह फैज अहमद किदवई को नियुक्त किया गया है।भोपाल को 7 जोन में बांट दिया गया है। एक से दूसरे जोन में जाने पर पूरी तरह से प्रतिबंध है। ग्वालियर, भिंड में 48 घंटे का टोटल लॉकडाउन मंगलवार रात से लागू कर दिया गया। इस दौरान दोनों शहरों में सिर्फ दूध की ही सप्लाई होगी। किरा..
                 

अस्पताल पहुंचे 300 से अधिक लोग, काउंटर था एक सुबह 9 बजे से खड़े रहे तब शाम 4 बजे हुई स्क्रीनिंग

सोशल डिस्टेंस बनाने के लिए चारों तरफ प्रचार प्रसार है। प्रशासन द्वारा सामाजिक दूरी बनाने के लिए होम डिलेवरी तक की व्यवस्था की है। इसके बाद मंगलवार को जिला अस्पताल का दृश्य जवाबदारों की लापरवाही दिखाने वाला रहा। बाहर से आए लोग स्क्रीनिंग कराने के लिए बड़ी संख्या में अस्पताल पहुंचे लेकिन प्रबंधन व्यवस्था बनाने में नाकाम रहा। परिणाम स्वरूप लोग घंटों तक लाइन में एक दूसरे से सटकर खड़े रहे।शहर सहित आसपास के क्षेत्र में जहां भी बाहर से आए लोगों के आने की जानकारी पुलिस और प्रशासन को मिल रही है उन सभी लोगों को स्क्रीनिंग कराने के लिए जिला अस्पताल भिजवाया जा रहा है। हर दिन की तुलना में मंगलवार को अचानक 300 से अधिक लोग सुबह से ही परीक्षण कराने के लिए पहुंच गए। इतने अधिक लोगों के पहुंचने पर अस्पताल का प्रबंधन बुरी तरह से फेल हो गया। भीड़ को संभालने और व्यवस्था बनाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए गए। इससे हर दिन की तरह एक ही काउंटर पर मरीजों का परीक्षण चलता रहा। यहीं वजह रही कि सुबह 9 बजे से लाइन में लगे लोगों का शाम को 4 बजे तक स्वास्थ्य परीक्षण हो सका।अस्पताल में 2 में से 1 वेंटिलेटर भी खराबजिला अस्पता..
                 

कोरोना वायरस संक्रमण के बीच सामान्य फ्लू समेत अन्य बीमारियों के मरीजों को न हो दिक्कत, हमीदिया-जेपी में ओपीडी फिर शुरू

काेराेना वायरस के संक्रमण के दाैर में सामान्य फ्लू समेत दूसरे अन्य बीमारियाें के मरीजाें काे इलाज के लिए परेशान नहीं हाेना पड़े इसका ख्याल भी रखा जा रहा है। यही वजह है कि कुछ दिन पहले हमीदिया अस्पताल और जेपी अस्पताल में बंद की गई सामान्य ओपीडी फिर शुरू कर दी गई है। हालांकि, माैजूद परिस्थितियाें के मुताबिक इनकी व्यवस्थाओं में कुछ बदलाव किया गया है, ताकि मरीजाें काे बिना किसी परेशानी के इलाज मिल सके। इसलिए पुरानी व्यवस्था लागू कर दी गई है।हमीदिया अस्पतालयहां सामान्य फ्लू के मरीजाें के लिए नए ओपीडी काउंटर के पास ही ओपीडी की व्यवस्था की गई है। जबकि, ईएनटी, आई और पीडियाट्रिक ओपीडी पूर्व की तरह उसी स्थान पर संचालित हाे रही है। जबकि, सर्जरी काे मेडिसन के सामने स्थित रूम नंबर 86 में शिफ्ट किया गया है। इन ओपीडी में 250 से ज्यादा मरीज मंगलवार काे इलाज कराने पहुंचे।प्राइवेट अस्पताल शहर में संचालित प्राइवेट नर्सिंग हाेम के अलावा दूसरे अस्पतालाें में भी सामान्य मरीजाें का इलाज किया जा रहा है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग का अमला लगातार अस्पताल संचालकाें के संपर्क में हैं।जेपी अस्पतालयहां सामान्य फ्लू क..
                 

4 नहीं, भोपाल को अब 7 जोन में बांटा; अब इलाका छोड़ा तो होगी एफआईआर

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बाद भोपाल जिले को अब सात सेल्फ सफिशियंट जोन में बांट दिया गया है। सेल्फ सफिशियंट यानी वो इलाके जहां लॉकडाउन के दौरान भी रोजमर्रा की जरूरत का सामान आसानी से उपलब्ध है। सोमवार को भोपाल के कोलार, भेल, बैरागढ़ और पुराना शहर जोन बनाए गए थे। मेडिकल इमरजेंसी होने पर ही इन सात जोन में रहने वाले लोग अपना इलाका छोड़ सकेंगे। किराना, सब्जी, दूध या दवा लेने के बहाने अब यदि कोई इलाका छोड़ता है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी। एडीजी उपेंद्र जैन ने बताया कि नए शहर में कोलार, रातीबड़, होशंगाबाद रोड, भेल, रायसेन रोड और पुराने शहर में गांधी नगर, बैरागढ़ और पुराना शहर जोन में बांटा गया है। गांधी नगर और बैरागढ़ एक ही जोन माने जाएंगे। एक जोन से किसी दूसरे जोन में आए व्यक्ति को कोई सामान खरीदने के नाम पर अब नहीं छोड़ा जाएगा। जिले को अलग-अलग जोन में बांटने का मकसद ये है कि कोरोना वायरस का संक्रमण पूरे शहर में न फैले। इसके बाद भी यदि कोई व्यक्ति तफरी करता है या गैरवाजिब कारण से घूमते मिलता है तो एफआईआर दर्ज कर उसे गिरफ्तार भी किया जाएगा।यह हैं7 जोनकोलार, रातीबड़, होशंगाबाद रोड, भेल, ..
                 

टीटी नगर और हबीबगंज थाना क्षेत्रों में मचाया जमकर उत्पात; लॉकडाउन के बीच गुंडों ने फूंकी 4 बाइक, 2 घंटे बाद तीनों गिरफ्तार

लॉकडाउन के बीच तीन गुंडों ने टीटी नगर व हबीबगंज थाना क्षेत्रों में देर रात जमकर उत्पात मचाया। नशे में धुत इन गुंडों ने सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात 2 से ढाई बजे के बीच अलग-अलग 4 वाहनों को फूंक डाला। नाइट गश्त कर रहे टीटी नगर थाना प्रभारी ने इनपुट जुटाए और तीनों को गौतम नगर क्षेत्र से धरदबोचा। खुलासा हुआ कि तीनों ने प्रेम प्रसंग और आपसी रंजिश के कारण वारदातों को अंजाम दिया।पंचशील नगर निवासी अनुराग थापा श्रम निरीक्षक हैं और इन दिनों कलेक्टोरेट में पदस्थ हैं। सोमवार रात अनुराग ने अपनी बाइक घर के पोर्च में खड़ी की और सोने के लिए चले गए। रात करीब दो बजे पड़ोसियों का शोर सुनकर नींद खुली तो देखा कि बाइक धूं-धूं कर जल रही थी। दूसरी वारदात गौतम नगर निवासी हेमंत विश्वकर्मा के साथ हुई। वे बिट्टन मार्केट में सब्जी की दुकान लगाते हैं। रात करीब ढाई बजे हेमंत की बाइक को भी फूंक डाला गया। वह घर के बाहर निकले तो वहां से दुर्गेश उर्फ दुग्गा, चीकू और पार्थ भागते हुए नजर आए। तीनों कह रहे थे कि अभी दो ही जलाई हैं, और बाकी हैं। हम इलाके के बदमाश हैं। इसके बाद आरोपियों ने एक और बाइक जला दी। चौथी वारदात ज्योत..
                 

लंदन से आया एक युवक भी कोरोना संक्रमित, शहर में अब तक 4 पॉजिटिव; एक दिन पहले नीमच से रेफर किए गए युवक की मौत, रिपोर्ट निगेटिव

भोपाल. शहर में कोरोना का एक और पॉजिटिव केस मिला है। अवधपुरी निवासी 26 साल का येयुवक कुछ दिन पहले लंदन से दिल्ली आया।फिर मुंबई औरइंदौर भीगया था।बाइक से वापस भोपाल आया था। यहांतबीयतबिगड़ने पर उसने भोपाल के एक निजीअस्पताल में इलाज कराया। बाद मेंउसे एम्स में भर्ती कराया गया। भोपाल में कोरोना पॉजिटिव4हो गएहैं। वहीं, एक दिन पहलेनीमच से इलाज के लिए भोपाल के एम्स में भर्ती किए गए युवककी सोमवार देर रात मौत हो गई। उसकी मंगलवार शाम रिपोर्ट निगेटिव आई।इससे पहले भोपाल में एक पत्रकार और उसकी लंदन से आई बेटी संक्रमित मिली थी।मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया भोपाल काकोरोनापॉजिटिव युवक 20 मार्चको लंदन से दिल्ली आया। वहांसे मुंबई गया। फिरइंदौर आया। वहां उसको क्वारैंटाइन किया गया, लेकिन 29 मार्च कोयुवक इंदौर से भाग निकला और बाइक से छुपते हुए गांव के रास्ते से 30 मार्च कोभोपाल आया। भोपाल में एक निजीअस्पताल में सोमवार को आकर भर्ती हुआ था। इसकी स्थिति बिगड़ने पर एम्स में एडमिट किया गया। निजी अस्पताल में उसके संपर्क में आए डॉक्टर और स्टाफ की पहचान की जा रही है। युवक के सं..
                 

निजामुद्दीन की मरकज में मध्य प्रदेश के 107 लोग शामिल हुए थे, 50 जमातें 5 दिन तक भोपाल में रुकीं, सैकड़ों लोगों से मिलीं

भोपाल. दिल्ली में निजामुद्दीन की मरकज में कोरोनावायरसफैलने की बात सामने आ रही है।इसमेंमध्य प्रदेश से भी 107 लोग शामिल हुए थे। बताया गया किइसमें शामिल होकर लौटी 50 जमातेंभोपाल में रुकी थीं। दिल्ली से लौटे मध्य प्रदेश के 107 लोगों में से 36लोग भोपाल के पुराने शहर के रहने वाले हैं।प्रशासन उन लोगों की तलाश कर रहा है जो मरकज में शामिल हुए थे। स्वास्थ्य विभाग की टीमजिला प्रशासन और पुलिस की मदद से ऐसे लोगों की तलाश कर उनके सैंपल ले रही है। करीब 11 लोगों की पहचान करसैंपल लिए गए। इन लोगों कोघर पर ही क्वारैंटाइन किया गया।इस मामलेकी पुष्टि एसडीएम सिटी जमील खान ने की।सोमवार को निजामुद्दीन की मरकज से कोरोना का संक्रमण फैलनासामने आया। राज्य सरकार ने इसकी जानकारी जुटाने की जिम्मेदारी गृह विभाग को दी। इसके बाद पता चला कि धर्म प्रचार का प्रशिक्षण लेने दिल्ली की निजामुद्दीन की मरकज में मध्य प्रदेश से 107 लोग गए थे। इसमें से 31 लोग भोपालके पुराने शहर के रहने वाले हैं। जानकारी के अनुसार, 36लोगों के अलावा दिल्ली से लौटते समय 50 जमातें शहर की अलग-अलग मस्जिदों में रुकी थीं। एक जमात में करीब 15 से 20 या इससे ..
                 

लड़कियों से खाली करवा रही थीं हॉस्टल, संचालिका और वार्डन पर एफआईआर

भोपाल.कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच भोपाल पुलिस ने सोमवार को भी 20 केस दर्ज किए हैं। एमपी नगर पुलिस ने जोन-1 स्थित साईं कृपा गर्ल्स हॉस्टल की संचालिका सुजाता मलिक और वार्डन प्रभा रघुवंशी के खिलाफ भी लॉकडाउन आदेश उल्लंघन का केस दर्ज किया है। टीआई मनीष राय ने बताया कि हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं ने कॉल कर इसकी शिकायत की थी। बताया था कि हॉस्टल संचालिका और वार्डन यहां रहने वाली सभी लड़कियों से हॉस्टल खाली करवा रही हैं। पुलिस ने सूचना की तस्दीक करवाई, जो सही निकली। इस आधार पर पुलिस ने दोनों को आईपीसी की धारा 188, 269, 270 और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 54-ख के तहत आरोपी बनाया है।इधर, निशातपुरा, तलैया और बिलखिरिया पुलिस ने तीन किराना दुकान संचालकों को भी आरोपी बनाया है। तीनों ने दुकान खोलकर भीड़ इकट्ठा कर ली थी, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल नहीं रखा। स्टेशन बजरिया, कोलार, चूना भट्‌टी, शाहपुरा, एमपी नगर, हबीबगंज और अशोका गार्डन पुलिस ने बेवजह घूमने वालों के खिलाफ लॉकडाउन आदेश उल्लंघन के केस दर्ज किए हैं। वहीं, ईटखेड़ी पुलिस ने हाईवे ढाबा संचालक को आरोपी बनाया है। बीती ..
                 

223 वाहनों से 25 हजार घरों तक पहुंची सब्जी; सभी हाट बंद, सब्जी आपके द्वार योजना से जुड़े व्यापारी

भोपाल.कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए जाने के कारण सेमरा के जिस क्षेत्र को कंटेनमेंट एरिया घोषित करके क्लोज किया गया है वहां सब्जी के साथ किराने की गाड़ी भी पहुंची और जरूरतमंद लोगों ने किराना खरीदा। मंगलवार को प्रोफेसर कॉलोनी में भी किराने की गाड़ी पहुंचेगी। पूरे शहर में सोमवार को 223 वाहनों से करीब 25 हजार परिवारों तक सब्जी पहुंची। प्रशासन ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए शहर में बिट्टन मार्केट, न्यू मार्केट, कोलार और कोटरा सुल्तानाबाद सहित अन्य स्थानों पर लगने वाले हाट बंद करा दिए हैं। इन हाट बाजारों में दुकान लगाने वाले व्यापारियों और शहर के लोडिंग रिक्शा संचालकों का समन्वय करके ‘आपकी सब्जी- आपके द्वार’ योजना शुरू की गई है।ऑनलाइन बुकिंग शुरूपिज्जा, बर्गर और अन्य फूड आइटम की ऑनलाइन बुकिंग और डिलेवरी भी शुरू हो गई है। पहले दिन 750 लोगों ने इस सुविधा का लाभ उठाया। सोमवार को रेस्टोरेंट और किराना मिला कर कुल 2822 लोगों ने इस सुविधा का लाभ उठाया।90 रूट पर.. गाड़ियों से की जा रही है सब्जी की बिक्रीशहर में सब्जी की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने &lsqu..
                 

4 बड़े अस्पतालों की ओपीडी बंद, वैकल्पिक इंतजाम किए

भोपाल.कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार ने शहर के भोपाल मेमेारियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर (बीएमएचआरसी), हमीदिया अस्पताल, एम्स को कोविड-19 का उपचार केंद्र बनाया है। यहां पर पूरी तरह से ओपीडी का संचालन बंद कर दिया गया है। नई व्यवस्था के तहत बीएमएचआरसी और एम्स में नए मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। हालांकि इनके मरीज कहां इलाज कराएंगे, इसकी पूरी व्यवस्था की गई। हमीदिया अस्पताल और जेपी अस्पताल में हार्ट अटैक, रोड एक्सीडेंट के मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इसके अलावा सामान्य सर्दी-खांसी और बुखार के मरीज अपने क्षेत्र के सामुदायिक केंद्रों में इलाज करवा सकते हैँ।बीएमएचआरसी:कोरोना के मरीजों के लिए नए सिरे से हो रही तैयारीबीएमएचआरसी में भर्ती सामान्य मरीजों की छुट्टी कर दी गई है। इसे अब स्वास्थ्य विभाग के हवाले कर दिया गया। अब इसे नए सिरे से कोरोना के मरीजों के हिसाब से तैयार किया जा रहा है। यहां पर करीब 340 बेड कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए रखे गए हैं। इसके अलावा 10 बेड आईसीयू के लिए रिजर्व कर दिए गए हैं।...लेकिन गैस राहत अस्पतालों में मिलता रहेगा इलाजबीएमएचआरसी में भर्..
                 

दूसरे शहर जाने वालों की भोपाल में एंट्री बंद, पुलिस चैक पॉइंट पर स्क्रीनिंग के बाद सिर्फ भोपाल के लोगों को दे रहे प्रवेश

भोपाल(जीतेंद्र मेहरा)।कोरोना के मद्देनजर सीहोर, उज्जैन, देवास और इंदौर की ओर से आने वालों की निगरानी के लिए भोपाल पुलिस ने 11 मील बायपास पर चैक पॉइंट बनाया है, जहां से दूसरे शहरों में जाने वालों की भोपाल में एंट्री पूरी तरह से बंद कर दी गई है। यहां से सिर्फ भोपाल के लोगों को प्रवेश दिया जा रहा है।चैक पॉइंट पर प्रवेश से पहले सभी की स्क्रीनिंग की जा रही है, जिसके लिए डॉक्टर्स की टीम 8-8 घंटे की शिफ्ट में ड्यूटी पर दे रहे हैं। इसके अलावा प्रशासन द्वारा जारी किए गए पास देखने के साथ ही आने कारण भी पूछा जा रहा है। रविवार शाम से लगाए गए इस चैक पॉइंट पर 24 घण्टे ड्यूटी दे रहे पुलिस और मेडिकल स्टाफ के लिए यहां टेंट के साथ ही हेलोजन लगा कर रौशनी की व्यवस्था भी की गई है। एसडीओपी दीपक नायक ने बताया कि डीआईजी और कलेक्टर महोदय के निर्देश पर चैक पॉइंट बनाया गया है। दूसरे शहर जाने वालों को बायपास के रास्ते निकाल रहे हैं।सीहोर की ओर से आने वालों के नाम नंबर भी नोट किए जा रहे हैं। इसके अलावा स्क्रीनिंग के दौरान सामान्य से अधिक टेम्प्रेचर होने की स्थिति में संबंधित की जानकारी स्वास्थ्य विभाग की दिए जाने ..
                 

राज्यपाल लालजी टंडन ने भोजन निर्माण व्यवस्था का लिया जायज़ा

भोपाल। राज्यपाल लालजी टंडन ने राजभवन में वितरण के लिए बन रहे भोजन व्यवस्था की आज समीक्षा की। राज्यपाल ने पैकेट में रखे भोजन को चखा और भोजन निर्माण कार्य में लगे कर्मचारियों को स्वच्छता के नियमों का कड़ा पालन करने, शुद्ध एवं स्वादिष्ट भोजन बनाने के लिए प्रोत्साहित किया।राज्यपाल ने कहा कि कोरोना से संघर्ष के इस दौर में हम सबका यह दायित्व है कि कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहें। उन्होंने कहा कि राजभवन द्वारा भोजन वितरण व्यवस्था सांकेतिक पहल है, ता‍कि समाज के समर्थ व्यक्ति इससे प्रेरणा लेकर गरीब, वंचित और जरूरतमंद व्यक्ति के सहयोग और मदद का दायित्व स्वीकार करें। उन्होंने कर्मचारियों से कहा कि आपकी संकटकाल की यह सेवायें राष्ट्र सेवा है।श्री टंडन ने कहा कि भोजन तैयार करने की आकस्मिक व्यवस्थाओं की तैयारी रखे ताकि आवश्यकता पड़ने पर राजभवन तत्काल प्रशासन को भोजन के पैकेट उपलब्ध करा सकें। श्री टंडन आज प्रात: राजभवन के रसोई घर में पहुंचे। वहाँ भोजन पैकेट में रखी जाने वाली खाद्य सामग्री की जानकारी ली। उनकी स्वच्छता और शुद्धता व्यवस्थाओं का अवलोकन किया। रसोई घर और पैकेट पैकिंग व्यवस्थाओं, उनकी शुद्धत..
                 

गौ-सेवा में लगे भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा, विजयवर्गीय किचन में दोनों वक्त सब्जी बना रहे

भोपाल। पोता-पोती के साथ खेलने का वीडियो सामने आने के बाद भाजपा के वरिष्ठ विधायक नरोत्तम मिश्रा का एक और वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में नरोत्तम मिश्रा भोपाल में अपने घर के पीछे बनी गौ शाला में गायों की सेवा करते नजर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि उनकी गौ सेवा दैनिक दिनचर्या में शामिल है। उधर, इंदौर में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिवकैलाश विजयवर्गीय ने खाली समय में सालों बाद घर की जिम्मेदारी संभाल ली है। कैलाश का भी एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है जिसमें वे शिमला मिर्च की सब्जी बनाते नजर आ रहे हैं।कोरोना के चलते जहां पूरे देश में लाक डाउन है और हर व्यक्ति को घर पर ही रहने की हिदायत दी जा रही है। जनप्रतिनिधि भी इस समय देश के साथ साथ अपने घरों के भी सुध ले रहे हैं। इंदौर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के चलते लोगों ने अपने घर पर काम पर आने वाली मैड को छुट्टी दे दी है। कैलाश विजयवर्गीय भी लंबे समय से अपने घर पर ही हैं। उन्होंने घर पर सुबह शाम सब्जी बनाने की जिम्मेदारी संभाल ली है। कैलाश विजयवर्गीय का जो वीडियो वायरल हुआ है उसनें वे शिमला मिर्च काटते और फिर उसमें आलू का मसाला भरते और..
                 

दमोह में पुलिसकर्मी लॉकडाउन की ड्यूटी करता रहा, अस्पताल में बेटी की सर्दी-जुकाम से मौत

दमोह.यहां लॉकडाउन की ड्यूटी कर रहा एक पुलिस कर्मीअपनीबेटी का इलाज नहीं करा पाया।अस्पताल में बेटी की तड़प-तड़पकर मौत हो गई। पुलिसकर्मी के बेटे की हालत भी गंभीर बनी हुई है।जब पिता को बेटी की यहजानकारी मिलीतो वह ड्यूटी छोड़कर अस्पताल पहुंचा। वर्दी में ही पिता बेटी का पीएम कराने पोस्टमाॅर्टम गृह पहुंचा। बेटी की मौत के गम में आरक्षक बार-बार अपने वरिष्ठ अधिकारियों की मनमानी और छुट्टी नहीं मिलने की बात कह रहा था।लॉकडाउन होने से पुलिस जवानों को छुट्टीनहीं मिल रही है, जिससे वे परिवार का भी ख्याल नहीं रख पा रहे हैं। पुलिस लाइन निवासी आरक्षक श्रीराम जारोलिया की 14 वर्षीय बेटी राधिका को रविवार सुबह आरक्षक की पत्नी शीला और बेटा हिमांशु जिला अस्पताल लेकर आया, यहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। आरक्षक ने बताया कि उसकी बेटी को 15-20 दिन पहले सर्दी जुकाम था, जिसका इलाज कराकर दवा ली थी तो ठीक हो गई थी। उस समय भी मुझे छुट्टी नहीं मिली थी, एक बार फिर बेटी की तबियत बिगड़ी थी तो अधिकारियों से शहर में ड्यूटी लगाने के लिए बोला था, लेकिन न तो छुट्टी मिली, न ही ड्यूटी शहर में लगाई गई। यदि शहर में ड्यूटी लगाई जाती ..
                 

कोरोना संदिग्ध सेल्फी भेजकर खुद बताएं- कैसी है सेहत; निगरानी के लिए जियो फेंसिंग की तैयारी

भोपाल.कोरोना संदिग्धों की देखभाल और निगरानी के लिए भोपाल नगर निगम जियो फेंसिंग की तैयारी कर रहा है। दरअसल संदिग्धों लेकर लगातार आशंका जताई जा रही है कि वे तमाम हिदायतों के बावजूद घर से बाहर निकल रहे हैं। रहवासी कॉल सेंटर पर फोन करके बार-बार शिकायत भी कर रहे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन और नगर निगम अमले को बार-बार फोन पर फॉलोअप लेना पड़ रहा है। इस स्थिति से निपटने के लिए अब ऐसे लोगों की जियो फेंसिंग की जाएगी।इसके तहत संदिग्धों को वॉट्स एप पर अपनी सेल्फी और वीडियो भेजकर रोज रिपोर्टिंग करनी होगी। यदि तबीयत बिगड़ती है तो इसकी तत्काल जानकारी देना होगी और यदि ठीक है तो केवल यह बताना होगा कि वे स्वस्थ हैं। ऐसी स्थिति में प्रशासन का अमला बार-बार फोन नहीं करेगा। अकेले भोपाल में ही प्रशासन 2600 से ज्यादा लोगों की मॉनिटरिंग कर रहा है।यह वे लोग हैं, जो कोरोना प्रभावित देश या शहर की यात्रा करके लौटे हैं। इनकी स्क्रीनिंग की जा रही है और लक्षण मिलने पर उन्हें संदिग्ध मानकर सैंपल लिए जा रहे हैं। अब तक लगभग 600 लोगों के सैंपल लिए गए हैं। कॉल सेंटर से इनका फॉलोअप लिया जा रहा है। फील्ड में प..
                 

48 टेंडरों की टेंपरिंग पर कोरोना इफेक्ट, ईओडब्ल्यू को सीईआरटी से रिपोर्ट लेने की कोई जल्दी नहीं

भोपाल. सरकार बदलते ही मध्यप्रदेश के बहुचर्चित ई-टेंडर घोटाले की जांच अटक गई है। अप्रैल 2018 में ई-टेंडर में टेंपरिंग उजागर करने पर हटाए गए मनीष रस्तोगी सीएम के प्रमुख सचिव हो गए हैं। ऐसे में जांच एजेंसी के अफसर अभी सिर्फ सरकार का इशारा मिलने का इंतजार कर रहे हैं।अफसर आधिकारिक तौर पर तो कुछ नहीं कह रहे हैं लेकिन यह जरूर मानते हैं कि फिलहाल तो जांच पर कोरोना इफेक्ट हावी है। कोरोना का संक्रमण कम होते ही जांच की दिशा और गति तय होगी। अफसर इसलिए भी असमंजस में है क्योंकि अब तक की जांच में कई प्रभावशाली नेता और अफसर भी घेरे में हैं। यही वजह है कि अब तक नए अफसरों ने कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सीईआरटी) से 48 टेंडरों की रिपोर्ट पर कोई फॉलोअप नहीं लिया है। सीईआरटी को विभिन्न सरकारी एजेंसियों के करीब 80 हजार करोड़ रुपए के टेंडर टेंपरिंग की जांच के लिए भेजे गए हैं। इसमें 6 टेंडर तो वो हैं, जिनमें प्रथम दृष्टया टेंपरिंग के प्रमाण मिल गए हैं लेकिन आधिकारिक रिपोर्ट का इंतजार है।खास बात यह है कि ई-टेंडर घोटाला उजागर होने के बाद शिवराज सरकार ने ही यह मामला जांच के लिए आर्थिक अपराध अन्वेषण विंग (ईओडब..
                 

एआईसीटीई के निर्देश- आउटसाइड ऑर्गनाइजेशन की इंटर्नशिप करने नहीं जाएं, स्टूडेंट्स की चिंता- इससे प्लेसमेंट प्रभावित होगा

भोपाल .ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) ने वर्तमान हालातों को देखते हुए अनिवार्य इंटर्नशिप पॉलिसी को लेकर महत्वपूर्ण निर्देश जारी किए हैं। एआईसीटीई ने सभी टेक्निकल इंस्टीट्यूट्स से कहा है कि उन्हें छात्रों को निर्देशित करना चाहिए कि वे आउटसाइड ऑर्गनाइजेशन की इंटर्नशिप करने नहीं जाएं, ताकि उन्हें यात्रा न करनी पड़े और वे इंटर्नशिप के दौरान उन्हें बाहरी लोगों के साथ संपर्क में न आएं। हालांकि जहां कंपनियों द्वारा छात्रों को घर से काम करने के लिए अनुमति दी जा रही है, उसे जारी रखें।बाहरी ऑर्गनाइजेशन में जाकर इंटर्नशिप को लेकर छात्र-छात्राओं में असमंजस की स्थिति है। एआईसीटीई ने सोशल मीडिया ट्विटर के माध्यम से छात्रों को जानकारी दी तो कई छात्र और पासआउट रिप्लाई कर चिंता व्यक्त कर रहे हैं। यश भटनागर ने लिखा है कि इंटर्नशिप कैंसिल होती है तो इसका हमारे प्लेसमेंट पर उल्टा प्रभाव पड़ेगा,क्योंकि अधिकतर फर्म छात्रों को फुलटाइम पोजिशन पर आधार इंटर्नशिप के अवसर उपलब्ध कराती हैं। इंटर्नशिप को प्राप्त करने में काफी कठिन कार्य करना होता है। कृपया इसे कैंसिल करने की बजाय देरी से करें। इसे क..
                 

कॉल सेंटर में कर्मचारियों की कमी, हेल्पलाइन नंबर पर लंबे इंतजार के बाद लग रहे कॉल

भोपाल.कोरोना से जुड़ी शिकायतों के निवारण के लिए शुरू की गई हेल्पलाइन के नंबर अासानी से नहीं लग रहे हैं। कर्मचारियों की कमी के चलते कई बार लंबे इंतजार के बाद लाइन मिल पाती है। हेल्पलाइन नंबर 104 और 181 पर लोग कॉल कर अपनी समस्या का हल पूछ रहे हैं। उनकी शिकायतों को भी तत्काल संबंधितों तक फॉरवर्ड किया जा रहा है, लेकिन कई बार इसमें 5 मिनट या उससे भी ज्यादा का समय लग रहा है। हेल्पलाइन नंबरों पर रोजाना 60 हजार से ज्यादा कॉल आ रहे हैं। अधिकारियों के मुताबिक सीएम हेल्पलाइन नंबर में भी अभी केवल कोरोना और इससे जुड़ी समस्याओं से संबंधित कॉल लिए जा रहे हैं। ज्यादातर कॉल लॉकडाउन से जुड़ी परेशानी और कोरोना के संभावित खतरों को लेकर हैं।हेल्पलाइन नंबर में लंबी वेटिंग की सबसे बड़ी वजह कर्मचारियों की कमी है। कोरोना के संक्रमण के डर के चलते बहुत से आउटसोर्स कर्मचारियों को उनके परिजन कॉल सेंटर भेजने को तैयार नहीं है। इस वजह से कर्मचारियों की कमी बनी हुई है। यही वजह है कि कभी-कभी शिकायतकर्ता को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। लंबी वेटिंग के अलावा कई बार ट्राय करने के बाद भी रिस्पॉस न मिलने से वह वह फिर शिकायत ही नह..
                 

कलेक्टर ने कहा था- जरूरतमंदों को मिलेगा खाना, नपा नहीं कर पाई परिवारों की पहचान तो सड़काें पर उतरी महिलाएं

गुना.शहर में पहली बार लाॅकडाउन उस समय टूट गया जब रविवार काे कई मोहल्ले, बस्तियों से महिलाएं के झुंड के रूप में सड़कों पर निकल आए। इनकी एक ही मांग थी कि उन्हें न तो भोजन पैकेट मिल रहे हैं और न ही खाद्य सामग्री। यह सभी चाहते हैं कि उन्हें भी यह सुविधा मिले। इस वजह महिलाएं उस जगह भी पहुंच गई, जहां प्रशासन द्वारा वितरण के लिए सामग्री एकत्रित की जा रही है।किसी ने अफवाह फैला दी कि मानस भवन से ही सामग्री मिलेगी। कुछ लोग पुराना पोस्ट ऑफिस के पास भी एकत्रित हुए, लेकिन यहां से महिलाओं को पुलिस ने अपने पास रखे भोजन पैकेट देकर रवाना कर दिया। इन सभी को समझाया गया है कि ऐसे घरों से बाहर न आएं, क्योंकि लाॅकडाउन और धारा 144 लगी है।इसका उल्लंघन करने के मामले में कार्रवाई भी की जाएगी। उधर बमोरी में भी भोजन की मांग उठने लगी। पूर्व मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया ने इसे 6 सेक्टर में बांटकर हर जरूरतमंद तक खाद्य सामग्री पहुंचाने के लिए अपनी टीम मैदान में उतार दी है।कई लोग हैं परेशानशहर विकासनगर, गोपालपुरा, बजरंगगढ़ आदि क्षेत्र की महिलाएं सड़कों पर आईं। 7 किमी दूर बजरंगगढ़ से एक महिला फूल बाई भी गुना पहुंची। उसका क..
                 

भाजपा नेता नरोत्तम मिश्रा के दामाद अविनाश लवानिया हो सकते है भोपाल के नए कलेक्टर, आज या कल में आदेश जारी होने की संभावना

भोपाल। भाजपा के वरिष्ठ नेता और प्रदेश की सत्ता परिवर्तन में अहम भूमिका निभाने वाले नरोत्तम मिश्रा के दामाद आईएएस अविनाश लवानिया भोपाल के नए कलेक्टर बनाए जा सकते हैं। संभावना जताई जा रही है कि रविवार देर राततक या सोमवार को उनकी नई पदस्थापना के आदेश जारी हो सकते हैं। अविनाश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पसंद के अधिकारी माने जाते हैं। वे मध्यप्रदेश कैडर के 2009 बैच के आईएएस अधिकारी हैं।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रशानिक सर्जरी की तैयारी प्रारंभ कर दी है जिसके तहत पहले राजगढ़, फिर इंदौर और अब भोपाल कलेक्टर को बदलने की पूरी तैयारी हो गयी है और इसी क्रम में अविनाश लावानिया को कलेक्टर भोपाल बनाया जा रहा है। जिसका मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव ने अनुमोदन कर दिया है। आदेश आज-कल में जारी हो जाएंगे।2 दिन पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अविनाश लवानिया को एक विशेष मिशन के लिए 3 सदस्यीय वरिष्ठ अधिकारियों की बनाई गई हाई पावर कमेटी में बतौर मेम्बर शामिल कर इंदौर भेजा हुआ है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today अविनाश लवानिया..
                 

दिग्विजय सिंह ने विदेश मंत्री को लिखा पत्र- कहा रूस में फंसे प्रदेश के 62 छात्रों को वापस लाने की व्यवस्था की जाए

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने रूस में फंसे प्रदेश के 62 छात्रों को भारत लाने के प्रबंध करने का पत्र विदेशमंत्री एस. जयशंकर को लिखा है। दिग्विजय सिंह ने पत्र में लिखा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते छात्र परेशान है। भारत सरकार को इन्हें वापस लाने की समुचित व्यवस्था करनी चाहिए।दिग्विजय सिंह ने कहा है कि ये 62 छात्र प्रदेश के बालाघाट, जबलपुर, इंदौर, सागर, ग्वालियर, उज्जैन, अनूपपुर, विदिशा, बड़वानी, भोपाल, नरसिंहपुर और खंडवा जिलों के हैं। इसके अलावा 92 छात्र छत्तीसगढ़ के हैं। उन्होंने पत्र में कहा है कि इस समय रूस में भारत के कुल 295 छात्र हैं सभी के लाने की समुचित व्यवस्था सरकार को करनी चाहिए।जिला प्रशासन को सौंपा भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटलराज्य शासन ने भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर को प्रशासकीय कार्य सुविधा और जन-स्वास्थ्य की दृष्टि से जिला कलेक्टर के अधीन जिला प्रशासन को सौंप दिया है। इस हॉस्पिटल को राज्य स्तरीय कोविद-19 उपचार संस्थान चिन्हांकित कर अधिग्रहीत किया गया है। अब इस अस्पताल में गैस पीड़ितों का इलाज नहीं होगा।राजभवन भी गरीबों को प्रतिदिन उपलब्ध करवा ..
                 

कोरोनावायरस के पॉजिटव 39 मरीजों में 7 की हालत में सुधार, दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई, 4 दिन बाद फिर सैंपल भेजे जाएंगे

भोपाल। प्रदेश में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच राहत की खबर भी आई है। प्रदेश के विभन्न अस्पतालों में भर्ती 39 में से 7 मरीजों की हालात में सुधार हुआ है। इसमें 6 मरीज जबलपुर और 1 मरीज ग्वालियर का है। इन मरीजों को कोरोनावायरस की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इन सातों मरीजों के स्वास्थ्य में सुधार होने की जानकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने वीडियो जारी करके भी दी है।दोनों ही अस्पतालों के वरिष्ठ चिकित्सकों का कहना है कि 3दिन पहले इन मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। सभी की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई है। 4 दिन बाद एक बार फिर से सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जाएंगे। तीसरे सैंपल की जो रिपोर्ट आएगी उसके आधार पर फैसला लिया जाएगा। ये लोग ठीक हो चुके हैं, अब इनमें कोरोनावायरस के लक्षण भी नहीं दिख रहे हैं और हालत भी सामान्य है। लेकिन, हम दूसरी जांच रिपोर्ट आने के बाद इनके ठीक होने के बारे में बुलेटिन जारी करेंगे।मुख्यमंत्री ने जारी किया वीडियोशनिवार रात को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने एक वीडियो जारी कर इन सातों मरीजों की हालत में सुधार होने की जानकारी दी। मुख्यमं..
                 

दिल्ली से मुरैना आ रहे युवक की आगरा में मौत, यूपी-बिहार के लिए निकले परिवारों ने कहा- रुके तो भूख से मर जाएंगे

भोपाल. जहां काम करते थे, वे फैक्ट्रियां बंद हो गईं। जहां रहते थे वो घर छोड़ना पड़ा। गुलजार के शब्दों में कहे तो उनकी मढ़ी-गढ़ी और मीठे कुएं सब औंधे हो गए। एक ही रास्ता बचा घर का। जिसको जो साधन मिला, निकल पड़ा। काेई मीलों चला और मारा गया। किसी ने 350 किलोमीटर चलकर ठिकाना पा लिया।फिर भी कोरोना के कारण पलायन जारी है। ऐसा ही नजारा देखने को मिलामध्यप्रदेश में कई शहरों में, जहां अपने घरों को पलायन करते बड़ी तादाद में मजदूर देखे गए। कोई दिल्ली से चलकर मुरैना पैदल आया तो कोई परिवार अहमदाबाद से झाबुआ बस से पहुंचा। वहीं, मध्य प्रदेश में रह रहे उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग वापस जाते दिखे।दिल्ली से मुरैना के लिए पैदल चला, आगरा में मौतमुरैना मेंशुक्रवार काे दिल्ली से पैदल मुरैना (अंबाह) के बड़फरा गांव के लिए निकले 39 साल के रणवीर सिंह की आगरा के सिकंदरा के पास मौत हो गई। होटल में काम करने वाला रणवीर शुक्रवार दोपहर 3 बजे साथियों के साथ निकला था। शाम 6 बजे उसने अंबाह में ब्याही अपनी बहन को फोन पर कहा- मैं फरीदाबाद आ गया हूं। जल्द ही घर पहुंच जाऊंगा। शनिवार सुबह पांच बजे उसका फिर बहन के पास फाेन आया। उसने क..
                 

मुख्यमंत्री राहत कोष में 30 लाख रुपए देंगे ज्योतिरादित्य सिंधिया

भोपाल.पूर्व केंद्रीय मंत्री व भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोना संकट से निपटने के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 30 लाख रुपए देंगे। सिंधिया ने मुख्यमंत्री शिवराज को लिखे पत्र में कहा है कि वैश्विक महामारी कोरोना से हमारा देश और प्रदेश भी जूझ रहा है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में भारत सरकार इस महामारी से मुकाबला करने की हरसंभव कोशिश कर रही है। संपूर्ण लॉकडाउन जैसे अभूतपूर्व फैसले भी इसी दिशा में उठाए गए सार्थक कदम है। इस गंभीर समय में आमजन के स्वास्थ्य और अन्य जरूरतों के लिए संसाधनों की आपूर्ति करना भी आवश्यक है। इस आपदा की घड़ी में मैं 30 लाख रुपए मुख्यमंत्री राहत कोष के जरिए मदद कर हम हमारे नागरिकों को इस कठिन समय में सहायता उपलब्ध करवा पाएंगे। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today फाइल फोटो..
                 

अधिग्रहित की गईं जमीनों पर 10% से भी कम विकास कार्य होने के कारण अटक गईं योजनाएं

भोपाल.टाउन प्लानिंग एक्ट में हुए बदलाव के बाद 906 एकड़ जमीन लौटाने के फैसले पर मोहर लगा चुका बीडीए 2393 एकड़ जमीन और लौटाने जा रहा है। बीते 15 साल में 12 योजनाओं के लिए अधिग्रहित की गईं जमीनों पर 10% से भी कम विकास कार्य होने के आधार पर ये योजनाएं बंद करके निवेशकों को लौटाई जा रही हैं। मौजूदा गाइडलाइन के अनुसार 2393 एकड़ जमीन की औसत कीमत 2990 करोड़ रुपए से अधिक है।इन योजनाओं को बंद करने के साथ जमीन लौटाने का प्रस्ताव बीडीए ने तैयार कर लिया है। जल्द ही इसे शासन को भेजा जाएगा। दरअसल, फरवरी में एक्ट का नोटिफिकेशन जारी होने के बाद यह जमीन फ्रीज हो गई है। अब छह महीने के भीतर बीडीए को यह निर्णय लेना है कि वह नए एक्ट के हिसाब से स्कीम को चालू रखना चाहता है या स्कीम बंद करना चाहता है। नए एक्ट के हिसाब से बीडीए निवेशकों को 50% जमीन लौटा सकेगा। इस मामले में एक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि भोपाल मास्टर प्लान-2031 का ड्राफ्ट जारी होने के बाद इसमें से ज्यादातर जमीन प्राइम लोकेशन पर आ गई है। मास्टर प्लान में इन स्कीम के आसपास सड़कें आदि प्रस्तावित कर दी गईं हैं।मिसरोद-बर्रई और बावड़ियाकलां- कटारा जैसी मास्टर ..
                 

31 दिसंबर को आया रिजल्ट, लेकिन अब तक नहीं की आयुष मेडिकल ऑफिसर की नियुक्ति

भोपाल.कोरोना वायरस कोविड-19 की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त करने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन मध्यप्रदेश ने सूचनापत्र जारी कर अस्थाई नियुक्ति करने करने को कहा है। इसके लिए जिला कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला स्वास्थ्य समिति को अधिकार डेलीगेट किए हैं। लेकिन एनएचएम ने लंबे समय से बड़ी संख्या में भर्ती अटका रखी है। राष्ट्रीय बाल सुरक्षा कार्यक्रम आयुष मेडिकल ऑफिसर के 710 पदों पर नियुक्ति होना है। इसके लिए चयन प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। इसके बाद भी योग्य पाए गए उम्मीदवारों को नियुक्ति नहीं दी गई। यदि इनकी समय रहते नियुक्ति दी जाती तो वर्तमान परिस्थितियों में आयुष मेडिकल ऑफिसर मददगार साबित हो सकते थे। उम्मीदवार परेशान इसलिए भी है कि उन्हें नियुक्ति नहीं दिए जाने का कारण भी नहीं बताया जा रहा है।उनका कहना है कि भर्ती परीक्षा आयोजित कर नियुक्ति करना भूल गया। परीक्षा रिजल्ट भी 31 दिसंबर को आ चुका है। इससे नाराज उम्मीदवार एसोसिएशन ऑफ माॅर्डन आयुष डॉक्टर मध्यप्रदेश के बैनर तले एनएचएम कार्यालय में कई बार विरोध दर्ज करा चुके है। इनका आरोप है कि वे पिछले कई दिनों से नियुक्ति प्रक्रिया के सं..
                 

हालात का जायजा लेने शहर में निकले सीएम शिवराज सिंह चौहान; पुलिसवालों का हौसला बढ़ाया सफाईकर्मियों की तारीफ की

भोपाल.कोरोना वायरस के बीच काम कर रहे कर्मचारियों व अफसरों की हिम्मत बढ़ाने के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान शनिवार को शहर में निकले। इस दौरान उन्होंने शहर की स्थिति का जायजा भी लिया। सीएम ने बिट्टन मार्केट में ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों की हौसला अफजाई की। फल विक्रेताओं से कहा कि कोई दिक्कत आए तो मुझे बताना। लोगों से सोशल डिस्टेंस बनाने की अपील की व सफाईकर्मियों की तारीफ की।एडवांस मेडिकल सेंटर पहुंचकर जांची व्यवस्थासीएम ने कोलार रोड स्थित रानी लक्ष्मीबाई हॉस्पिटल में निर्मित एडवांस मेडिकल में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर की व्यवस्थाओं की जांच भी की। उन्होंने कलेक्टर तरुण पिथोड़े, डीआईजी इरशाद वली और सेंटर संचालक डॉ. उपेन्द्र कुमार थाटे से पूछा कि यहां पर कितने मरीजों को रखा जाएगा। कलेक्टर ने बताया कि शुरुआत में 100 मरीजों को सुरक्षित रूप से क्वारेंटाइन करने की सुविधा विकसित की गई है। सात दिन में तैयार इस 4 मंजिला इमारत में बनाए गए सेंटर के भूतल, प्रथम तल एवं कैंपस के बालिका और बालक छात्रावास के कमरों को वार्डों में बदला गया है। प्रत्येक वार्ड में मरीजों के बेड एक दूसरे से 3-3 मीटर की दूरी पर..
                 

घर बैठे ही लॉकडाउन ट्रांजिट ई-पास ले सकेंगे

भोपाल.लॉकडाउन के दौरान जिले से बाहर जाने के लिए अब ऑनलाइन ट्रांजिट ई-पास ले सकेंगे। ये पास जिला प्रशासन द्वारा तैयार की गई पोर्टल www.epassbhopal.com से मिलेगा। रविवार से यह सुविधा शुरू हो जाएगी। पोर्टल बनाने के पीछे जिला प्रशासन के अफसरों का तर्क है कि लॉकडाउन के दौरान लोगों को घरों से निकलने की मनाही है, फिर भी लोग पास बनवाने के लिए एसडीएम दफ्तर पहुंच रहे थे। इसके लिए दफ्तरों में भीड़ लग रही थी, इससे संक्रमण बढ़ने का खतरा था।कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने बताया कि इस पोर्टल के जरिए ट्रांजिट ई-पास के लिए आवेदन और पास घर बैठे ही लिए जा सकते हैं। इसमें अपनी व्यक्तिगत जानकारी देकर आवागमन का कारण बताएंगे। यदि कारण वैध हुआ तो उन्हें तुरंत पास जारी कर दिए जाएगा।ऐसे कर सकते हैं आवेदनआवेदन करने के लिए वेबसाइट www.epassbhopal.com पर जाएं। जिले के अंदर या बाहर कहां जाना है और कितनी समय सीमा के लिए पास चाहिए, यह बताना होगा। यहां नाम, पता और आवागमन का कारण, फोटो आईडी, फोटो और क्षेत्र की जानकारी दें। जिस वाहन से जा रहे हैं उसका वाहन का क्रमांक भी डालें। आवेदन के साथ पहचान पत्र देना आवश्यक है। Download..
                 

प्रदेश के हर जिले में स्थापित होंगे टेली मेडिसिन सेंटर, एक्शन प्लान भी बनेगा; आज से 90 रूटों पर नगर निगम पहुंचाएगा सब्जी

भोपाल. कोरोना वायरस से रोकथाम के लिए हर जिले में टेलीमेडिसिन यूनिट स्थापित की जाएंगी। इसके साथ ही जिला स्तर पर एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा। बाहर से आने वालों की सूची बनाई जाएगी। शनिवार को प्रमुख सचिव हेल्थ पल्लवी जैन गोविल ने कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने और संभावित व्यक्तियों की सतत स्वास्थ्य निगरानी के लिए सभी जिलों में टेली मेडिसिन यूनिट स्थापित की जा रही हैं।पल्लवी गोविल ने कहा है कि टेली मेडिसिन का काम होगा कि होम क्वारेंटाइन लोग, जिनमें संक्रमित होने की संभावना अधिक है, उनके स्वास्थ्य की सतत निगरानी करना है। उन्होंने कहा कि होम क्वारेंटाइन व्यक्तियों को चिन्हित करते समय ही उन्हें जिला अस्पताल में स्थापित टेली मेडिसिन यूनिट का दूरभाष नंबर दें, जिससे जरूरत पड़ने पर जरूरी सलाह ले सकें। कोविड-19 पोर्टल पर उपलब्ध सूची में प्रदर्शित होम क्वारेंटाइन लोगों से टेली मेडिसिन यूनिट द्वारा सम्पर्क कर जरूरी सलाहें दी जाएंगी। होम क्वारेंटाइन व्यक्तियों में कोरोना वायरस से संबंधित लक्षण दिखने पर तत्काल जिले की रैपिड रिस्पांस टीम को सूचना दी जाए।घर-घर सब्जी उपलब्ध कराने के लिए 'आ..
                 

भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज ने हालात का जायजा लिया, पुलिसवालों का हौसला बढ़ाया, सफाई कर्मियों की तारीफ की; पत्नी साधना ने जरुरतमंदों को सामान दिया

भोपाल. कोरोनावायरस की दहशत के बीच लोगों की हिम्मत बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार को भोपाल मेंशहर का जायजा लेने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने खुद की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा। उन्होंनेमास्क और ग्लब्ज पहन रखा है। शिवराजसोशल डिस्टेंसिंग कामैसेज भीदे रहे औरलोगों से पर्याप्त दूरी बनाकर बात कर रहे हैं।सीएम ने अचानकशहर में घूमने का निर्णय लिया। शाम को मुख्यमंत्री की पत्नी साधना सिंह बेटे कार्तिकेय के साथ अयोध्यानगर में जरूरतमंद लोगों को किराने का सामान वितरित करने पहुंचे।मुख्यमंत्री सबसे पहले वे विट्टन मार्केट आए। यहांचौराहे पर तैनात पुलिसकर्मियों की हौसला अफजाई की और फल विक्रेताओं से बात की। इसके बाद मुख्यमंत्री शाहपुरा पहुंचे। यहांउन्होंने पुलिसकर्मियों से सोशल डिसटेंटिंग का पालन करने की अपील की। मुख्यमंत्री का काफिला कोलार आया। यहां सीएम नेसफाईकर्मियों काहाथ जोड़कर अभिवादन किया और मास्क लगाने की अपील की। उन्होंनेपर्याप्त दूरी बनाकर काम करने की हिदायत भी दी।मुख्यमंत्री 29 मार्च को शाम 5:30 बजे फेसबुक पर कोरोना से बचाव के संबंध में प्रदेश वासियों से चर्चा करेंगे।वाहन चालकों स..
                 

घरों में ताजा हुईं 33 साल पुरानी यादें, छतरपुर में मुस्लिम परिवार बच्चों संग देखा रामायण का पहला एपीसोड

छतरपुर(राजेश चौरसिया)। कोरोना को लेकर देशभर में 21 दिन के लॉकडाउन के बीच सरकार ने एक बार फिर दूरदर्शन पर 33 साल बाद धारावाहिक रामायण का प्रसारण शनिवार से शुरू कर दिया। रामायण के प्रसारण की घोषणा के साथ ही हर वर्ग के लोग इसे देखने के लिए लालयित हो गए। राजधानी भोपाल सहित पूरे प्रदेश में सुबह 9 बजे जैसे ही टीवी पर रामायण शुरू हुई। कई घरों में वहीं 33 साल पुराना नजारा देखने मिला। कइयों ने तो सोशल मीडिया पर चैनल नंबर बताने के लिए मैसेज डाले। एक समय था जब टीवी पर रामायण देखने के लिए शहर में कर्फ्यू लग जाया करता था। आज जब पूरे देश में लॉकडाउन है, ऐसे में एक बार फिर रामायण के लिए लोगों में उसी तरह का क्रेज दिखाई दिया।छतरपुर में एक मुस्लिम परिवार ने रामायण देखते हुए अपना वीडयो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। व्यवसायी जावेद अख़्तर की फैमिली द्वारा रामायण धारावाहिक उनके परिवार बीबी-बच्चों सहित देखा गया। उनका मानना है कि हम बचपन में बजी यह धारावाहिक देखते थे और जैसे ही हमने जानकारी लगी कि आज से यह शुरू होने वाला है तो हमने पहले अपने बच्चों को इसके बारे में बताया कि कैसे हम बचपन में देखा करते थे। और इ..
                 

कर्फ्यू और लॉक डाउन में फंसे मध्य प्रदेश के लोगों को घर पहुंचाएगी सरकार, हेल्प लाइन पर फोन कर दे सकते हैं जानकारी

भोपाल। यह खबर उन लोगों के लिए राहत भरी है जो कर्फ्यू और लॉकडाउन में देश के किसी भी हिस्से में फसे हैं और घर आने के लिए परेशान हो रहे हैं। ऐसे लोगों को घर लाने के लिए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पहल शुरू कर दी है। मध्यप्रदेश के ऐसे लोग जो लॉकडाउन में प्रदेश के किसी दूसरे जिले या किसी दूसरे राज्य में फंसे हैं, उनको घर वापस लाने के लिए मध्य प्रदेश सरकार ने आवश्यक कदम उठाए हैं।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लॉक डाउन में फंसे लोगों को घर वापस लाने के लिए हर जिले में एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने के आदेश सभी जिला कलेक्टर को दिए हैं। साथ ही मुख्यमंत्री ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं।ऐसे लोग जो लॉक डाउन में प्रदेश के किसी भी हिस्से में फंसे हैं‌ वे हेल्पलाइन नंबर 104 और 181 नम्बर पर फोन कर घर वापस जाने के लिए सरकारी मदद ले सकते हैं। इसी तरह यदि प्रदेश के बाहर कही लोग फँसे हैं तो वे राज्य स्तरीय हेल्पलाइन नंबर 0755-2411180 पर फ़ोन कर सहायता प्राप्त कर सकते हैं। उनकी पूरी मदद की जाएगी। ये सभी राज्य कंट्रोल रूम, भोपाल के फोन नम्बर है। Download Dainik Bhaskar App to..
                 

सरकार जल्द करेगी घोषणा; 10वीं, 12वीं को छोड़ बाकी कक्षाओं के बच्चों को किया जाएगा प्रमोट

भोपाल. कोरोना की वजह से प्रदेश में पहली से नौवीं कक्षा के छात्र-छात्राओं को जनरल प्रमोशन दिया जाएगा। अब तक एमपी बोर्ड से संबद्ध कई निजी स्कूलों ने परीक्षा परिणाम घोषित नहीं किए गए हैं। सुरक्षा की दृष्टि से स्कूल बंद कर दिए गए हैंं। इस वजह से कॉपी जांचने और रिजल्ट बनाने का काम भी नहीं हो सकता। ऐसी स्थिति कब तक रहेगी यह भी स्पष्ट नहीं है। इस कारण सरकार ने इन छात्रों को जनरल प्रमोशन देने का फैसला लिया है।छात्राें को उनके सालभर के प्रदर्शन के आधार पर प्रमोशन दे दिया जाएगा। खास बात यह है कि 10वीं के छात्राें को भी सरकार जनरल प्रमोशन देने पर विचार कर रही है। लेकिन, हायर सेकंडरी में ऐसा नहीं किया जाएगा क्योंकि 12वीं के अंकों के आधार पर कॉलेजों में दाखिला दिया जाता है।गौरतलब है कि सरकारी स्कूलों ने 9वीं और 11वीं का परिणाम घोषित कर दिया है। जानकारी के मुताबिक कुछ सीबीएसई स्कूल भी पहली से आठवीं तक के छात्रों को उनके परफार्मेंस के आधार पर जनरल प्रमोशन दे सकते हैं। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today फाइल फोटो..
                 

क्वारेंटाइन पूरा करने वाले लोगों की कहानी; होम क्वारेंटाइन दाग नहीं, सुरक्षा का घेरा है

भोपाल. होम क्वारेंटाइन में रहना दाग नहीं है, बल्कि खुद की, परिवार की और समाज की सुरक्षा का घेरा है। क्वारेंटाइन में रहने का मतलब ये नहीं कि संबंधित को कोरोना वायरस का संक्रमण है। इसी एकांतवास से कोरोना को मात दे सकते हैं....अमेरिका से लौटने के बाद 14 दिन एक कमरे में सिमट गई मेरी दुनिया:राजीव तिवारी, ओल्ड सुभाष नगरमैं ऑनलाइन रिसर्च पेपर पब्लिकेशन का काम करता हूं। इसी केे संबंध में जनवरी की शुरुआत में अमेरिका गया था। वहां से लाैटते वक्त मेरी फ्लाइट करीब 6 घंटे के लिए चीन के संघाई एयरपाेर्ट पर रुकी थी। 10 जनवरी काे वापस आने के बाद मैंने खुद काे हाेम क्वारेंटाइन में रखा था। इस दाैरान घर से बाहर जाना और लाेगाें से मिलना-जुलना बिल्कुल ही छाेड़ दिया था। परिवार के सदस्याें से भी पूरी तरह से दूरी बना ली थी। होम क्वारेंटाइन के इन 14 दिनाें में मेरी दुनिया पूरी तरह से एक कमरे तक ही सीमित हाे गई थी। हालांकि जनवरी की शुरुआत में काेराेना वायरस का इतना संक्रमण नहीं फैला था, इसलिए बहुत सारे लोगों को इस बारे में ज्यादा जानकारी भी नहीं थी। मैंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियाें से जानकारी लेकर होम क्वारें..
                 

हाईकोर्ट ने उपायुक्त विकास के निलंबन को सही ठहराया; राज्यपाल के आदेश पर निलंबन हुआ तो अनअधिकृत कार्रवाई का प्रश्न नहीं

भोपाल.मप्र हाईकोर्ट ने एक मामले में कहा कि जब राज्यपाल के आदेश पर किसी अधिकारी का निलंबन हुआ है तो उसे अनअधिकृत कार्रवाई कैसे कहा जा सकता है। इस मत के साथ हाईकोर्ट ने क्लास वन ऑफिसर विकास उपायुक्त कृष्णकांत पांडे के निलंबन को सही ठहराया। जस्टिस संजय यादव और जस्टिस बीके श्रीवास्तव की खंडपीठ ने पांडे की उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें उसने निलंबन को चुनौती दी थी। पांडे का कहना था कि जिस अधिकारी ने उसे निलंबित किया है उसके लिए वह अधिकृत नहीं है।केके पांडे वर्तमान में जपं नागौद, सतना में सीईओ के पद पर डेपुटेशन पर पदस्थ हैं। पांडे का मूल पद उपायुक्त विकास है। भ्रष्टाचार के आरोप में 28 जनवरी 2020 को निलंबित कर दिया था। पांडे ने निलंबन आदेश को हाईकोर्ट की एकलपीठ के समक्ष चुनौती दी। एकलपीठ ने 6 मार्च 2020 को मप्र सर्विस रूल्स 1966 के नियम 9 के उपनियम 1 के तहत पांडे के निलंबन को सही माना। फिर पांडे ने डबल बैंच के समक्ष अपील पेश की। पांडे की ओर से दलील की गई कि वह क्लास वन अधिकारी है और उसका निलंबन पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर सचिव के आदेश पर हुआ जो कि अवैधानिक है। हाईकोर्ट ने अधिकार..
                 

कोविड-19 नहीं रोक सकेगा पढ़ाई, घर में रहकर कर सकते हैं ऑनलाइन कोर्स

भोपाल.कोरोना संक्रमण के कारण सभी उच्च शैक्षणिक संस्थान लॉकडाउन हैं। छात्र हॉस्टल खाली कर अपने घरों को लौट चुके हैं। ऐसे में इंस्टीट्यूट फॉर एक्सीलेंस इन हायर एजुकेशन (आईईएचई) के एनपीटीईएल कोआर्डिनेटर प्रोफेसर डॉ. आरके श्रीवास्तव का कहना है कि कोविड-19 छात्रों की लर्निंग को नहीं रोक सकता। इसके लिए वे एमएचआरडी व यूजीसी के आईसीटी इनिशिएटिव का इस्तेमाल कर अपने घरों में रहकर स्किल डेवलपमेंट ही नहीं करिकुलम पर आधारित ऑनलाइन कोर्स के माध्यम से पढ़ाई जारी रख सकते हैं।लॉकडाउन के चलते कक्षाएं नहीं लग पा रही हैं। छात्र बाहर निकलने की स्थिति में नहीं है। इसके लिए ई-टैक्स्ट व वीडियाे आदि में उपलब्ध कंटेंट का उपयोग कर सकते हैं। सिर्फ देरी है तो इसको एक्सेस करने की। यूजीसी ने इस संबंध में एक पत्र जारी कर ऑनलाइन कोर्स को उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न एड्रेस जारी किए हैं। इसमें देश की सर्वश्रेष्ठ आईआईटी, आइसर, आईआईएसटी बेंगलुरू, आईआईएम बेंगुलरू, दिल्ली विवि और ऐसे कई संस्थान के व्याख्यान उपलब्ध हैं।आपके मददगार... इन ऑनलाइन सोर्सेस का किया जा सकता है उपयोग स्वयं ऑनलाइन कोर्सेस : storage.googleapis.com/uniq..
                 

चिरायु में तैयार होंगे 600 आइसाेलेशन बेड; सागर, रीवा में भी होगी काेराेना की जांच, प्राइवेट लैब भी शामिल, 600 टेस्टिंग किट आईं

भोपाल.कोरोना से निपटने के लिए सरकार ने फैसला लिया है कि अब रीवा और सागर मेडिकल काॅलेज में भी कोराेना की जांच होगी। साथ ही पांच प्राइवेट लैब में भी जांच की व्यवस्था रहेगी। अब तक भोपाल में एम्स और जीएमसी में जांच होती है। इसके अलावा इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में जांच की व्यवस्था है। स्वास्थ्य विभाग ने प्राइवेट मेडिकल काॅलेजाें में इलाज की व्यवस्थाएं जुटाना शुरू कर दी हैं। चिरायु मेडिकल काॅलेज के डायरेक्टर अजय गाेयनका ने खुद आगे आकर चिरायु मेडिकल काॅलेज में काेराेना वायरस के मरीजाें के लिए आइसाेलेशन वार्ड तैयार करने की बात कही है। यहां 600 से ज्यादा अाइसाेलेशन बैड तैयार किए जा रहे हैं।ऑर्डर... 200 वेंटिलेटर मंगाए, अप्रैल से शुरू हो जाएगी डिलीवरीसरकार 200 वेंटिलेटर का ऑर्डर दिया है। अप्रैल के दूसरे सप्ताह से इनकी सप्लाई शुरू हो जाएगी। अधिकारियों के मुताबिक अब तक 600 टेस्टिंग किट आ चुकी हैं। 3 दिन में 1000 और आएंगी। अब तक एक लाख मास्क बनकर आ चुके हैं। रोज सप्लाई की मॉनीटिरंग हो रही है। ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों को ये मास्क दे रहे हैं। इसी तरह हेंड ग्ल्व्स की सप्लाई भी बढ़ाई गई है।इंडेक्स ब..
                 

राज्यपाल टंडन ने राष्ट्रपति को प्रदेश में कोरोना के नियंत्रण को लेकर हो रहे कार्यों की जानकारी दी

भोपाल. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को राज्यपाल लालजी टंडन ने वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के जरिएप्रदेश में कोरोना की स्थिति की जानकारी दी और इस पर नियंत्रण के लिए किए जा रहे कार्यों और चिकित्सा प्रबंधों के बारे में बताया।राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति एवं राज्यपाल ने आज अपने-अपने निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राष्ट्रीय स्तर पर इस रोग पर नियंत्रण के कार्यों की समीक्षा की। राज्यपाल टंडन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोरोना से बचाव के जो तरीके सुझाएगएहैं, उसमें प्रदेश के नागरिक सहयोग कर रहे हैं। जरूरत पड़ने पर लापरवाही बरतने वालों लोगों को नियंत्रित भी किया जा रहा है।राज्यपालटंडन ने बताया कि मध्यप्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों को समय और परिस्थिति के अनुसार अपने स्तर पर कार्यवाही करने की छूट दी गयी है। सरकार के साथ-साथ रेडक्रास तथा अन्य धार्मिक और स्वयंसेवी संस्थायें भी अपने-अपने स्तर पर दवाई, भोजन आदि की व्यवस्था कर रही हैं। शासन ने बंद अस्पतालों को अधिग्रहीत कर वहाँ भी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की पहल की है। उन्होंने बताया कि गांवों तक यह महामारी नहीं फैलने पाए, इसके लिये समस्त..
                 

भोपाल में तीसरा कोरोना पॉजिटिव मिला, राज्य में संक्रमित लोगों की संख्या 27 हुई; अब तक दो मरीजों की मौत हुई

भोपाल. भोपाल में तीसरा कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है। यह सेमरा इलाके का रहने वाला है, जो रेलवे में गार्ड है। गुरुवार को सर्दी-जुकाम की शिकायत पर गार्ड नेरेलवे हॉस्पिटल में जांच कराई। वहां से डॉक्टरों ने उसे एम्स रेफर कर दिया। एम्स जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसेएम्स के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है।कोरोना पॉजिटिव तीसरा केस मिलने के बादसंक्रमित लोगों के घर के आसपास का एरिया कैंटोनमेंट (निषेध) एरिया घोषित कर दिया गया है। पहले दो केस प्रोफेसर कॉलोनी में आए थे। आज का मामलासेमरा चांदबड़ इलाके का है। दोनों इलाकों के एक किलोमीटर का एरिया कंटोनमेंट और दो किलोमीटर एरिया को बफर जोन घोषित किया गया है।आज पॉजिटिव पाया गया व्यक्ति नेझांसी-भुसावल के बीच ड्यूटी की थी।सीएमएचओ डॉ. सुधीर डेहरिया ने बताया कि उनके परिजन की मेडिकल स्क्रीनिंग की गई है। सभी कोहोम आइसोलेशन में रखा गया है। सभी कीतबियत अभी सामान्य है। इससे पहलेबुधवार को एक पत्रकार कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। पत्रकार की बेटी को भी कोरोना संक्रमण है।कैंटोनमेंट एरिया के सभी लोग होम क्वारैंटाइन रहेंगेजिन दो इलाकों..
                 

कर्फ्यू और लॉक डाउन के बीच राहत की खबर; 15 अप्रैल तक जमा कर सकेंगे प्रॉपर्टी सहित सभी तरह के टैक्स

भोपाल। कोरोना वॉयरस के चलते कई शहरों में लगाई गए कर्फ्यू और लॉक डाउन के चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोग आगामी दिनों में होने वाले काम कैसे होंगे इसको लेकर परेशान है। प्रदेश सरकार ने लोगों की इस चिंता को ध्यान मे रखते हुए नगर निगम सहित सभी निकायों में सभी तरह के टैक्स जमा करने के लिए 16 दिन की छूट दे दी है। अब ये टैक्स 31 मार्च तक की जगह 15 अप्रैल तक जमा हो सकेंगे।इतना ही टैक्स देरी से जमा करने पर कोई पैनल्टी भी नहीं ली जाएगी। अगर इस दौरान भी कोई व्यक्ति टैक्स नहीं भर पाता है तो भी निकायों के कर्मचारी कोई सख्ती नहीं दिखा पाएंगे। प्रदेश सरकार ने इसक आदेश जारी कर दिए है।बिजली कंपनी ने की छूट देने की घोषणालोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने अपने कार्यक्षेत्र के भोपाल, ग्वालियर एवं चंबल संभाग, नर्मदापुरम के अपने उपभोक्ताओं से अपील की है कि वे अपने बिजली के बिल का भुगतान आनलाइन करें। बिल जमा करने कंपनी के किसी भी कैश काउंटर पर नहीं जाएं। आन नाइन बिल जमा करने पर उपभोक्ताओं को 20 रुपए से लेकर एक हजार रुपए तक की छूट दी जाएगी।ज..
                 

20 जिलों में बारिश के साथ ओले गिरे, सीहोर में आकाशीय बिजली की चपेट में आने से पति-पत्नी की मौत

भोपाल। पूरे प्रदेश में मौसम का मिजाज गुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात से अचानक बदल गया है। 20 जिलों में तेज बारिश के साथ ओले गिरे हैं। बारिश और ओले गिरने से खरीफ की फसल को भारी नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है। सीहोर के इछावर में ओले गिरने के बाद खेत में अपनी फसल देखने जा रहे पति-पत्नी आकाशीय बिजली की चपेट में आने से मौत हो गई।मौसम विभाग ने गुरुवार को ही प्रदेश के मौसम में एकाएक बदलाव के साथ गरज-चमक के साथ बारिश और ओले गिरने की चेतावनी जारी की थी। फिलहाल इंदौर, भोपाल, गुना, ग्वालियर, उज्जैन, शाजापुर, रतलाम, खंडवा, धार, रायसेन, सीहोर, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, राजगढ़, देवास, शिवपुरी, मुरैना, भिंड और श्योपुर में बारिश के साथ ओले गिरे हैं। इन सभी जिलों में खरीफ की फसल को भारी होने की आशंका जताई जा रही है। कई जिलों में अभी रुकरुक कर बारिश हो रही है।सीहोर के इछावर में पति-पत्नी की मौतगुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात से बारिश के साथ गिर रहे ओले से फसलों को भारी नुकसान हुआ है। सीहोर जिले के इछावर में अपने खेत में फसल को देखने जा रहे पति-पत्नी की आकाशीय बिजली की चपेट में आने से मौत हो गई। ब..
                 

रेलवे के एसी कोच बनेंगे मिनी हॉस्पिटल 360 मरीजों को कर सकेंगे क्वारेंटाइन

भोपाल.भोपाल रेल मंडल के पास मौजूद 60 एसी कोच का उपयोग कर हर एक कोच मेें 6 कोरोना प्रभावितों के लिए क्वारेंटाइन की व्यवस्था की जा सकती है। इस तरह कुल 360 लोगों के लिए मिनी हॉस्पिटल बनाकर इन कोचों का उपयोग क्वारेंटाइन के लिए हो सकता है। डीआरएम उदय वोरवणकर का कहना है कि मांग के आधार पर वे तत्काल 5 से 10 कोच उपलब्ध करवाने तैयार हैं। जैसे-जैसे मांग बढ़ती जाएगी, कोच की संख्या बढ़ाई जा सकती है। वर्तमान में रेल मंडल के विभिन्न कोचिंग डिपो व यार्ड में सैनिटाइज किए हुए कोच खड़े हैं, जिनका उपयोग एक सूचना पर किया जा सकेगा। इसकी तैयारी भी भोपाल रेल मंडल नेे शुरू कर दी है।रेल मंत्री पीयूष गोयल के निर्देश के बाद भोपाल सहित देश के विभिन्न रेल मंडलों ने खड़ी हुईं ट्रेनों के एसी कोच में कोरोना प्रभावितों के लिए व्यवस्थाएं जुटाने का निर्णय लिया है। डीआरएम ने बताया कि रेलवे या स्वास्थ्य विभाग के रिटायर्ड डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ उन्हें वॉलंटरी आधार पर अपनी सेवाएं दें, तो समस्या काफी हद तक दूर हो सकती है। चूंकि रेलवे के सारे दफ्तर बंद हैं, इसलिए डॉक्टरों समेत पैरामेडिकल स्टाफ की नियुक्तियां नहीं की जा सकतीं।..
                 

शिवराज का दूसरे राज्यों के सीएम को पत्र वहां पर फंसे मप्र के लोगों की मदद करें

भोपाल.मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दूसरे राज्यों के सीएम को पत्र लिखकर वहां फंसे मप्रवासियों की मदद का अनुरोध किया है। शिवराज ने पत्र में लिखा कि लाॅक डाउन के चलते मप्र के निवासी अलग-अलग राज्यों में रह रहे हैं। वे इस समय कठिनाई में हैं।उन्होंने पत्र में लिखा है कि मेरा अनुरोध है कि आपके राज्य में मप्र के जो व्यक्ति रह रहे हैं, उन्हें खाना, रहने की जगह, सुरक्षा व स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं। इसके लिए जो भी राशि खर्च होगी, उसे मप्र सरकार आपको लौटाएगी। मैंने मप्र के सभी कलेक्टरों को दूसरे राज्य के निवासियों की सहायता के निर्देश दिए हैं। उनके लिए भी प्रदेश सरकार पूरा खर्च उठाएगी। इसकी माॅनिटरिंग के लिए उच्च स्तरीय समिति भी गठित की गई है। यदि आपके राज्य का कोई व्यक्ति मप्र में है, तो आप मुझे व्यक्तिगत रूप से भी सूचित कर सकते हैं।उच्चस्तरीय समिति के नंबर भी शेयर किएशिवराज ने इसके लिए जो उच्च स्तरीय समिति गठित की है, उनके नंबर भी दूसरे राज्य के सीएम को शेयर किए हैं। इस समिति में वाणिज्यिक कर के एसीएस आईसीपी केशरी (कार्यालय - 0755 2708030 व मोबाइल नंबर - 9910322000) और नगरीय प्रशास..
                 

सिंधिया ने कहा- मैं फोन पर भी मदद को तैयार हूं

भोपाल.भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि कोरोना से परेशान लोगों की सहायता के लिए मैं व मेरे कार्यकर्ता सदैव तत्पर हैं। सिंधिया ने ट्वीट करते हुए यह बात कही। उन्होंने एक वीडियो भी शेयर किया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि कोरोना और लॉक डाउन के चलते आमजन को हो रही परेशानियों से अवगत हूं। इस महामारी से निपटने के लिए विभिन्न विशेषज्ञों और स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई सोशल डिस्टेंसिंग रखने की अपील और अनिवार्यता की वजह से आप लोगों के बीच नही आ पा रहा हूं। लेकिन यदि किसी को कहीं कोई परेशानी हो तो हमारे कार्यकर्ता और मैं स्वयं उसको दूर करने के लिए हर समय तत्पर हैं। मैं फोन पर उपलब्ध हूं। इधर, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि वे कार्यकर्ताओं से संपर्क में हैं। कार्यकर्ताओं को जरूरतमंदों की मदद के लिए कहा गया है।नरहरि ने खुद को क्वारेंटाइन कियाजनसंपर्क विभाग के सचिव पी. नरहरि ने खुद को क्वारेंटाइन कर लिया है। इसकी पुष्टि उन्होंने की है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today फाइल फोटो..
                 

बिना मास्क-सैनिटाइजर के कोरोना वारियर्स अफसरों की हिदायत- बाहर से ही बात करें

भोपाल.एक ओर जहां प्रमुख सचिव लोक एवं परिवार कल्याण पल्लवी जैन बकायदा वीडियो के माध्यम जानकारी दे रही हैंकि कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति से दूर रहें। वहीं महिला एवं बाल विकास विभाग ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओंको सुरक्षा के संसाधन उपलब्ध कराए बिना ही उन्हें अादेशित किया है वे आइसोलेटेड में और जो कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों के घर में जाकर फाॅर्म भरे और पूछे संबंधित व्यक्ति का स्वास्थ्य कैसा है। वे घर पर रहने का पालन कर रहे है या नहीं।इस बारे में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का कहना है कि जहां देश के प्रधानमंत्री खुद कोरोना वायरस की चैन तोड़ने की अपील कर रहे हैं, वहीं उनको विदेश से आए लोगों और कुल संदिग्ध 1995 लोगों के घरों में जानकारी लेने भेजा जा रहा है। उनका कहना है कि उन्हें काम करने में कोई समस्या नहीं है लेकिन उन्हें केवल मास्क उपलब्ध कराए है और कुछ भी नहीं। इस दौरान वे अौर उनका परिवार कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाएगा तो इसके लिए कौन जिम्मेदार होगा। हालांकि इस आदेश की जानकारी विभाग के प्रमुख सचिव को लगी तो उन्होंने मामले में हस्ताक्षेप कर कलेक्टर अौर जिला कार्यक्रम अधिकारी से बात की।अफसरो..
                 

ईरान से भोपाल लाए जाएंगे 300 से ज्यादा भारतीय

भोपाल.कोरोना के मद्देनजर ईरान में कार्यरत 300 से ज्यादा भारतीयों को वायु सेना के विमान से भोपाल लाया जा रहा है, जिसकी अधिकांश तैयारियां की जा चुकी हैं। सूत्रों की मानें तो इन सभी भारतीयों को भोपाल के थ्री ईएमई सेंटर में आइसोलेट किया जाएगा। यहां सेंटर की 2 बटालियन के पीछे सेना द्वारा 400 लोगों को रखने की व्यवस्था भी की जा चुकी है।जानकारी के मुताबिक सेना का विमान भोपाल एयरपोर्ट पर एक-दो दिन में लैंड हो सकता है। आधिकारिक रूप से फिलहाल इसका समय निर्धारित नहीं किया गया है। लेकिन एयरपोर्ट के सूत्रों के मुताबिक सभी भारतीयों को लेकर सेना का विमान कभी भी लैंड कर सकता है।सबसे पहले एयरपोर्ट पर होगी चैकिंगइधर भोपाल आने वाले इन सभी भारतीयों का सबसे पहले एयरपोर्ट पर ही चैकअप होगा, इसके बाद थ्री ईएमई सेंटर में भी इनकी जांच की जाएगी। यहां इनकी 24 घंटे देखरेख के लिए डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ की अलग से व्यवस्था की गई है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today प्रतीकात्मक फोटो..
                 

जयपुर से आए युवक की रिपोर्ट निगेटिव, कोटा से आई किशोरी को संदिग्ध मानकर भेजा अस्पताल; मास्क और हाथ में सेनेटाइजर लेकर निकाली शव यात्रा

अशोकनगर. शहर मेंजयपुर से आए जिस युवक को संदिग्ध मानकर सेंपल टेस्ट के लिए भेजा था उसकी रिपोर्ट निगेटिव निकली। मंगलवार को देवखेड़ी गांव से आए युवक का सैंपल टेस्ट के लिए भेजा है जबकि बुधवार को मुंगावली के बाड़ोली निवासी कोटा से आई युवती को संदिग्ध मानकर जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है।जिले में कोरोना वायरस से संदिग्ध अभी तक 9 मरीजों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया जा चुका है। इसमें से 5 लोगों को स्वास्थ्य परीक्षण के बाद वापस भेज दिया था जबकि जयपुर के होटल में काम करने वाले शिशुपाल को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर उसका सेंपल 22 मार्च को भेजा गया था। अबजिसकी रिपोर्ट निगेटिव आने से प्रशासन और स्वास्थ्य महकमे ने राहत की सांस ली।वहीं बुधवार को मुंगावली अस्पताल में बाड़ौली निवासी एक 16 वर्षीय किशोरी को उसके चाचा तबियत बिगड़ने पर अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां डॉ योगेंद्र सिंह ने खांसी और सांस लेने में तकलीफ आने पर किशोरी को प्राथमिक इलाज के बाद जिला अस्पताल रैफर किया। डा. सिंह ने बताया कि किशोरी को कोरोना संक्रमित होने की आशंका से जिला अस्पताल भेजा गया है। जिसको जिला अस्पताल के आइसोल..
                 

अशोकनगर में यात्रा से आकर घर में छिपे 70 लोग; हेल्थ टीम ने 24 घंटे में ढूंढकर होम आइसोलेशन में डाला

गुना.कोरोना संक्रमण को लेकर जहां प्रशासन पूरी सतर्कता बरत रहा है, वहीं 24 घंटे में 70 से ज्यादा ऐसे लोगों को हेल्थ टीम ने खोज निकाला है, जो विदेशी यात्रा या फिर उन राज्यों से लौटे हैं, जहां कोरोना पॉजीटिव के केस मिले हैं। यह आंकड़े सामने आते ही स्वास्थ्य विभाग की भी नींद उड़ गई हैं। क्योंकि यह सभी लोग कई दिन पहले से ही शहर में दस्तक दे चुके थे और अपने घरों में बेफ्रिक होकर रह रहे थे। इन यात्रा के संबंध में कायदे से स्वास्थ्य विभाग को जानकारी देनी थी, ताकि उन्हें जांच आदि कर क्वारेंटाइन किया जा सके। अब इनके घरों पर भी सूचना चस्पा की जा रही है ताकि इनके बारे में आस-पड़ोस के लोगों को जानकारी रहे, वह सावधान रहें। वैसे 15 दिन में 150 से ज्यादा लोगों को निगरानी में लिया गया है।यह नंबर आपकी मदद करेंगे स्‍वास्‍थ्‍य संबंधित समस्‍याओं के लिए 104, 181 और 07542-252746 नंबर पर संपर्क किया जा सकता है। खाद्य सामग्री एवं अन्य समस्‍याओं के लिए 07542-259744 पर कॉल करें। कानून व्‍यवस्‍था से संबंधित : शिकायतों के लिए पुलिस कंट्रोल रूम 07542-252920 पर संपर्क किया जा सकता है।यात्रा ..
                 

दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोले बनाए गए, मथुरा से मालगाड़ी पर चढ़े लोगों को ग्वालियर में उतारा गया

भोपाल. मध्य प्रदेश में लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराया जा रहा है। सभी 52 जिलों में कर्फ्यू जैसी स्थिति है। ग्वालियर और शिवपुरी में कोरोना से 3 संक्रमित मिलने के बाद प्रशासन ने सख्ती शुरू कर दी है। दोनों शहरों में 2 दिन से कर्फ्यू लागू है। इसमें सुबह छूट दी गई, इस दौरान निकले लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया गया। लोगों ने गोल घेरे में खड़े होकर ही सामान लिया और घर वापस चले गए। शिवपुरी में पहले मिले एक अन्य पॉजिटिव और ग्वालियर के कोरोना संक्रमित की हालत स्थिर है। कोरोना पॉजिटव मरीज मिलने के बाद राज्य सरकार ने बुधवार को गजराराजा मेडिकल कॉलेड की डीन डॉ. सरोज कोठारी को लापरवाही बरतने के आरोप में हटा दिया था।मथुरा से मालगाड़ी पर चढ़े लोगों को ग्वालियर के पास उतारा गयामथुरा में गिरीराजजी की परिक्रमा करने गए 500 से अधिक लोग फंस गए। ये सभी भिंड-मुरैना के रहने वाले हैं। सभी 2 दिन से मथुरा स्टेशन पर थे। गुरुवार दोपहर स्टेशन पर एक मालगाड़ी आकर रुकी तो सभी उसमें चढ़ गए। लोगों को उम्मीद थी कि मालगाड़ी ग्वालियर में रुकेगी और ये उतर जाएंगे। जब ट्रेन ग्वालियर में नहीं रुकी तो लोगों ने चिल्लाना शुरू..
                 

शुक्रवार को शहर की मस्जिदों में नहीं होगी सामूहिक नमाज, मस्जिदों से हो रहा घर पर नमाज पढ़ने का ऐलान

भोपाल। कोरोना वायरस से लोगों को बचाने शुहर के मुस्लिम समाज ने बड़ा फैसला लिया है। अब शहरस की मस्जिदों में सामूहिक नमाज नहीं होगी। लोगों को घर ही नमाज अता करने कहा जा रहा है। इसके लिए शहर की विभिन्न मस्जिदों से इमाम इस बात का ऐलान कर रहे हैं। शुक्रवार को होने वाली जुमे की नमाज पर भी पाबंदी लगा दी गई है। जुमे को होने वाली सामूहिक नमाज में सिर्फ चार से पांच लोग ही मस्जिद में नमाज अता कर सकेंगे। मस्जिदों में इसके पोस्टर भी चस्पा कर दिए गए हैं।गुरवार को शहर के मुफ्ती मोहम्मद अबुल कलाम कासमी की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि मुसलमानों से अपील की जाती है कि शरीयत की गुंजाइश अमल करते हुए जुमे की नमज के लिए किसी भी मस्जिद में लोग जमा नहीं हो। अपने घर में ही जुहर की नामाज अदा करे। मस्जिदों को कायम रखने के लिए सिर्फ मसंजिद में पाच लोग ही नमा अदा करें। उन्होंने कहा कि इस विश्व व्यापी महामारी को लोग तमाशा नहीं समझे। अल्लाह के गजब के गुस्से को ठंडा करने के लिए हस्बे हैसियत सदका खैरात करें। तौबा इस्तगफार करें, अल्लाह को राजी करने की कोशिश करें और कर्फ्यू का पालन करें। घर हो या मस्जिद कही भी ब..
                 

अब रेलवे काेच फैक्ट्री में बनेंगे अस्पतालों में उपयाेग आने वाले पलंग और वेंटिलेटर्स

भोपाल .कोरोना के कारण अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों के लिए पलंग से लेकर सैनिटाइजर्स जैसा सामान कम न पड़े, इसकी व्यवस्था अब रेलवे करने जा रहा है। रेलवे ने अपनी सभी प्रोडक्शन इकाइयों, जोनल वर्कशॉप में मेडिकल संबंधी सामान बनाने के आदेश जारी कर दिए हैं। निशातपुरा कोच फैक्ट्री में भी इस तरह का सामान बनाया जाएगा। कोच फैक्ट्री के चीफ वर्कस मैनेजर मनीष अग्रवाल का कहना है कि उन्होंने राज्य के स्वास्थ्य विभाग से उस सामान की लिस्ट मांगी है, जिसकी उन्हें जरूरत है। जैसे ही सामान की लिस्ट मिलेगी, तत्काल उसे बनाना शुरू करवा दिया जाएगा।रेलवे ने अपने डीजल शेड्स में सैनेटाइजर के निर्माण से आगे बढ़ते हुए स्वास्थ्य विभाग को सहयोग देने के क्रम में मरीजों के लिए प्रारंभिक रूप से जरूरी सामान की सप्लाई अपनी प्रोडक्शन यूनिट्स में बनवाकर करने का निर्णय आपातस्थिति से निपटने के लिए किया है। रेलवे के प्रिंसिपल एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर एके तिवारी ने इस संबंध में सभी जोन के जीएम को आदेश जारी किया है। इसमें कहा गया है कि देश में बन रही स्थितियों से निपटने के लिए रेलवे की निर्माण क्षमताओं को दिखाने की जरूरत आ गई है..
                 

सरकारी अस्पतालों में वेंटिलेटर की कमी, जरूरत 755 की, हैं 349

भाेपाल।काेराेना के बढ़ते संक्रमण काे काबू करने राज्य सरकार के सामने सबसे बड़ी परेशानी वेंटिलेटर की खड़ी हाे गई है। सरकारी अस्पतालों में जरूरत 755 वेंटिलेटर की है जबकि हैं केवल 349 ही। हालात यह है कि जिला अस्पतालाें में काेराेना पेशेंट के इलाज के लिए सरकार काे 255 वेंटिलेटर की जरूरत है। लेकिन, जिला अस्पतालाें में महज 96 वेंटिलेटर ही उपलब्ध हैं। यह खुलासा स्वास्थ्य संचालनालय की जिला अस्पतालाें में काेराेना पेशेंट के इलाज के इंतजामाें की गैप एनालिसिस रिपाेर्ट में हुआ है।जिला अस्पतालाें में वेंटिलेटर की इस कमी काे दूर करने स्वास्थ्य विभाग प्राइवेट हाॅस्पिटल्स से वेंटिलेटर लेगा। वहीं दूसरी ओर चिकित्सा शिक्षा विभाग ने भाेपाल, इंदाैर, ग्वालियर, जबलपुर और सागर के मेडिकल काॅलेजाें से संबद्ध अस्पतालाें काे काेराेना पेशेंट ट्रीटमेंट सेंटर बनाना शुरू कर दिया है। यहां काेराेना मरीजाें के इलाज के लिए 253 वेंटिलेटर रिजर्व किए गए हैं। जबकि अनुमानित जरूरत करीब 500 वेंटिलेटर्स की है। हालांकि पांचाें मेडिकल काॅलेज के डीन ने करीब 100 वेंटिलेटर के खरीदी आदेश जारी कर दिए हैं। इन वेंटिलेटर की डिलीवरी मेडिकल ..
                 

सुबह सड़कों पर भीड़, दोपहर को सख्ती के बाद घरों में लौटे लोग; जो नहीं माने, उन्हें पुलिस ने उठक-बैठक लगवाई

भोपाल. मध्य प्रदेश में 21 दिन के लॉकडाउन के पहले दिन सुबह-सुबह शहरों में लोगों की भीड़ देखी गई। ज्यादातर भीड़ बाजारों में थी, जहां लोग सामान लेने के लिए पहुंचे। जब भीड़ बढ़ने लगी तो प्रशासन ने सख्ती दिखाई। कई जगह बेवजह बाहर निकले लोगों को उठक-बैठक लगवाई गई। लेकिन, कुछ जगह जागरूकता की तस्वीरें भी दिखीं। सतना में एक अंतिम यात्रा में शामिल लोग सैनिटाइजर लगाए नजर आए। राज्य के जबलपुर, भोपाल, ग्वालियर और शिवपुरी में कर्फ्यू लगा दिया गया है।भोपालसुबह तो सामान लेने के लिए लोगों की भीड़ नजर आई। लेकिन, दोपहर होते-होते पुलिस ने सख्ती दिखाई। यहां पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के भी आइसोलेट होने की खबरें आईं, हालांकि बाद में इनका खंडन भी कर दिया गया। भोपाल में बुधवार को भी कोरोना का एक केस सामने आया है।सतनामैहर शक्तिपीठ बुधवार सुबह चैत्र नवरात्रि के पहले दिन भक्तों से सूना रहा। आम दिनों में यहां हजारों लोग पहुंचते हैं।भिंडभोपाल में मिली कोरोना पॉजिटिव युवती के संपर्क में भिंड का एक युवक 2 दिन तक रहा। इसके बाद वह भिंड लौट आया। यहां वह घर से बाहर नहीं निकल रहा था। उसने यह बात अपने दोस्तों को बताई। इसके बा..
                 

राजगढ़ में लॉक डाउन के दौरान घूमने निकले लोगों को पुलिस ने समझाया, नहीं माने तो डंडों से धुना, पन्ना में पुलिस की अभद्रता का वीडियो वायरल

राजगढ़. जिले में लॉक डाउन के दौरान अनावश्यक रूप से सड़क पर घूम रहे लोगों को पुलिस ने पहले समझाया, जब नहीं माने तो डंडों से धुनाई कर दी और घर वापस भेज दिया। असल में, 21 दिन के लॉक डाउन होने के बाद पूरे राजगढ़ में भी लोग घरों में दुबक गए हैं। पुलिस ने मुनादी भी कराई है कि कोई घर से बाहर न निकले। इसके बाद भी लोग नहीं मान रहे और सड़कों पर निकल रहे हैं। मामला खिलचीपुर का है, जहां पर पुलिस ने युवकों पर सख्ती बरती और डंडा चला दिया। कुछ को थप्पड़ दिखाकर डराया और बीच सड़क में उठक-बैठक कराई। इसके बाद उन्हें घर वापस भेजा गया है। वहीं पन्ना जिले का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें पुलिस की अभद्रता औरकोरोना की रोकथाम के चलते राजगढ़ जिला रविवार से ही पूरी तरह बंद कर दिया गया है। जिले में धारा 144 लागू है और लॉक डाउन कर दिया था। जिला प्रशासन ने लाकडाउन के तहत अखबार वितरण कार्य को इमरजेंसी सेवा में शामिल किया है। साथ ही सुबह साढ़े छह से साढ़े 9 बजे तक कार्य पूर्ण हो सके। इसलिए इस अवधि में सभी हॉकर्स लॉक डाउन से मुक्त रहेंगे। मंगलवार को शहर पूरी तरह से बंद रहा। बुधवार को सुबह 7 से 11 बजे तक किराना, दू..
                 

इंदौर-उज्जैन में संक्रमित मिलने के बाद कर्फ्यू, नवरात्रि के पहले दिन मैहर शक्तिपीठ का दरबार सूना

भोपाल/जबलपुर/होशंगाबाद/ग्वालियर. मध्य प्रदेश में बुधवार को इंदौर और उज्जैन में भी कोरोनावायरस के संक्रमित मरीज मिले। इसके बाद दोनों जगहों परकर्फ्यू लगा दियागया। इससे पहले जबलपुर, भोपाल, ग्वालियर और शिवपुरी में कोरोना संक्रमित मिलने के बाद प्रशासन ने शहर में कर्फ्यू लगाया था। बुधवार को सुबह से दूध और राशन खरीदने के लिए लोग सड़कों पर निकले। 9 बजे के बाद प्रशासन ने सख्ती दिखाई और सभी को घर भेजा। मध्य प्रदेश में अब तक 15 कोरोना संक्रमित मिले हैं।मैहर शक्तिपीठ में पंडित ने अकेले ही पूजा-अर्चना की।सतना जिले का मैहर शक्तिपीठ बुधवार सुबह चैत्र नवरात्रि के पहले दिन भक्तों से सूना रहा। आम दिनों में यहां हजारों लोग पहुंचते हैं। कलेक्टर ने मंदिर को पहले ही 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिए थे। अब 21 दिन का लॉकडाउन होने के बाद आगे भी मंदिर के पट बंद रहेंगे। इधर, भोपाल में मिली कोरोना पॉजिटव युवती के संपर्क में भिंड का एक युवक 2 दिन तक रहा। इसके बाद वह भिंड लौट आया। यहां वह घर से बाहर नहीं निकल रहा था। उसने यह बात अपने दोस्तों को बताई। इसके बाद पुलिस ने उसके खिलाफ केस दर्ज कर लिया और अस्पताल में भर्ती..
                 

ग्वालियर-शिवपुरी में 2 नए संक्रमित मिले, दोनों जिलों में कर्फ्यू; प्रदेश में मरीजों की संख्या बढ़कर 9 हुई

भोपाल.प्रदेश में मंगलवार को कोरोनावायरस के दो और पॉजिटिव मरीज मिले। इनमें एक ग्वालियर और एक शिवपुरी का है। इसके बाद दोनों जिलों में 25 से 31 मार्च तककर्फ्यू लगा दिया गया है। इससे पहले भोपाल और जबलपुर में कर्फ्यू लगाया गया थाप्रदेश में अब इन मरीजों की संख्या 9 तक पहुंच गई है। कोरोना के संक्रमित और संदिग्ध मरीजों के इलाज का एक्शन प्लान तैयार लिया गया है। इसके लिए भोपाल के हमीदिया अस्पताल को खाली कराया जाएगा। इसमें 600 बैड रिजर्व किए गए हैं। अन्य 200 बैड पर अभी मरीज हैं, जिन्हें दो दिन में कहीं और शिफ्ट कर दिया जाएगा। इसके अलावा इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, सागर और रीवा मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों को रीजनल कोरोना पेशेंट ट्रीटमेंट सेंटर बनाया जाएगा। हमीदिया में इलाज के लिए तीन यूनिट बनेंगी।मुख्यमंत्री शिवराज ने मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस को निर्देश दिए हैं कि जहां से विदेशी मेहमान लौटे हैं, ऐसे सभी राष्ट्रीय उद्यानों, पर्यटन क्षेत्रों की सघन जांच की जाए। निजी अस्पतालों में उपलब्ध मेडिकल अमले का भी उपयोग करें।प्रदेश में 100 के सैंपल जांच को भेजेप्रदेश में अभी छह कोरोना पॉजिटिव मरीज जबलपुर, ए..
                 

कमलापति महल में गर्मी में होती थी आर्टिफिशियल बारिश