जागरण हिन्दुस्तान दैनिक भास्कर नईदुनिया नवभारत टाइम्स

राजकीय सम्मान के साथ आज अंतिम विदाई, गौरेला में दफनाया जाएगा शव; छत्तीसगढ़ में तीन दिन का शोक

छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी का शुक्रवार को 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया। पूरे राजकीय सम्मान के साथ शनिवार शाम 4.30 बजेउनको अंतिम विदाई दी जाएगी। गौरेला के प्रभु ख्रीष्ट वाटिका मेंबेटी अनुषा जोगी की कब्र के बगल में ही उन्हें दफनाया जाएगा। इससे पहले उनकी पर्थिव देह बिलासपुर के मरवाही सदन ले जाई जाएगी, जहां आमजनदर्शन करेंगे।उसके बाद शव को सड़क मार्ग से जोगी के पैतृक गांव जोगीसार लाया जाएगा।रायपुर से उनकी पार्थिव देह बिलासपुर के लिए रवाना हो गई है। कार से उनकी पत्नी और विधायक रेणु जोगी और पुत्र अमित जाेगी भी साथ निकले हैं। राज्य सरकार ने जाेगी के निधन पर तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है।रायपुर से उनकी पार्थिव देह बिलासपुर के लिए रवाना हो गई है। कार से उनकी पत्नी और विधायक रेणु जोगी और पुत्र अमित जाेगी भी साथ निकले हैं। राज्य सरकार ने जाेगी के निधन पर तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है। बिलासपुर में जोगी निवास सहित हेलीपैड मैदान में पुलिस ने बैरिकेट्स लगा दिए हैं। उनकी अंत्येष्टि में कई वीवीआईपी शामिल होंगे। बिलासपुर आईजी दीपांशु काबरा को व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी दी ..
                 

आज से शनिवार का लॉकडाउन बंद, शाम 7 बजे तक खुलेंगे बाजार, रेड और कंटेनमेंट जोन में छूट नहीं; 2 साल के कांट्रेक्ट पर 361 नए डॉक्टरों की नियुक्ति

कोरोना संक्रमण में मिली छूट के बाद छत्तीसगढ़ में आज से शनिवार का लॉकडाउन नहीं रहेगा। दुकानें और बाजार शाम 7 बजे तक खोले जाएंगे। वहीं, रविवार को भी लॉकडाउन सख्त नहीं होगा। दुकानें पहले से ही चल रहे नियमों के मुताबिक सुविधानुसार बंद और खुल सकेंगी। रेड जोन और कंटेनमेंट जोन में शामिल जिलों और स्थानों को इसमें छूट नहीं दी गई है। दूसरी ओर जूनियर डाॅक्टरों के इस्तीफे के बाद स्वास्थ्य विभाग ने 361 नई भर्तियां की हैं। यह दो साल के कांट्रेक्ट पर हैं।लॉकडाउन में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की कवायद सभी दुकानें अब सप्ताह में 6 दिन खुलेंगी। पहले से तय की गई दाएं और बाएं की सीमित व्यवस्था को खत्म कर दिया गया है। यह निर्णय भीड़ से राहत देने और व्यवसायिक-व्यापारिक गतिविधियां शुरू कर रोजगार के साथ अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए कियागया है। माॅल, सिनेमा घर, राजनैतिक सभाएं, सामाजिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध पहले की ही तरह लागू रहेगा। राज्य में ऑटो और टैक्सी चलाने की अनुमति पहले ही दे दी गई है। लोग ई-पास से एक जिले से दूसरे जिलों में भी आ-जा सकेंगे।मध्य भारत का बड़ा कपड़ा बाजारथोक कपड़ा एसोसिएशन के अध्यक्ष चंदर ..
                 

नारायणपुर में सीएएफ जवान ने एके-47 से सीनियर समेत साथियों पर गोली चलाई, दो की मौत, एक की हालत गंभीर

छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में शुक्रवार देर रात सीएएफ (छत्तीसगढ़ आर्म्ड फोर्स) जवान ने अपने सीनियर समेत साथी जवानों पर गोलियां चला दी। घटनामें दो जवानों की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल अधिकारी को रायपुर रेफर किया गया है।बताया जा रहा है कि सीएएफ के आमदई घाटी कैंप में जवानों में किसी बात को लेकर आपस में विवाद हुआ था।इस पर गुस्से में आए सहायक कमांडर घनश्याम कुमेटी ने एके-47 राइफल से फायरिंग कर दी। इस फायरिंग में जवान पीसी बिंदेश्वर साहिनी और रामेश्वर साहू की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि प्लाटून कमांडर लक्षराम प्रेमी गंभीर रूप से घायल हो गए।डीजीपी ने दिए मामलेकी जांच के आदेशघटना के बाद पुलिस ने आरोपी जवान को पकड़ लिया गया है। उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। एसपी मोहित गर्ग ने घटना की पुष्टि की है। जवानों के बीच विवाद का कारण अभी स्पष्ट नहीं है। मामले में डीजीपी ने घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं। फिलहाल, अभी ज्यादा जानकारी सामने नहीं आ सकी है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today ..
                 

दिल्ली से लौट 3 दिन घर में रहा, क्वारेंटाइन किया तो छात्र ने अपने भाई को भी रखा साथ

बरमकेला के गोबरसिंघा गांव में गुरुवार को दो कोरोना पॉजिटिव मिले थे। इसमें दिल्ली से लौटा एक छात्र भी है। इस छात्र और बरमकेला में सरकारी कर्मचारी उसके पिता ने पूरे गांव को खतरे में डाल दिया है। एसडीएम सारंगढ़ ने मरीज के पिता की खूब खिंचाई की और फटकारा। अब स्वास्थ्य विभाग कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में जुटा हुआ है। मामले में स्थानीय पुलिस कर्मियों की लापरवाही भी सामने आई है।भास्कर ने शुक्रवार को कोरोना मरीज छात्र के परिचित और पड़ोस के लोगों से बात की। गांव वालों में लापरवाह परिवार के साथ ही स्थानीय पुलिस कर्मियों को लेकर बहुत नाराजगी है। एक ग्रामीण ने बताया कि गुरुवार को कोरोना संक्रमित मिला छात्र दिल्ली में बड़ी प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करता था। 17 मई को दिल्ली से लौटा और सीधे घर चला गया। तीसरे दिन जब गांव में हल्ला हुआ तो लोगों ने विरोध किया। गांव के ही एक युवक ने बताया कि छात्र के पिता सरकारी कर्मचारी हैं, पहचान है इसलिए पुलिस कर्मियों से कहा कि, उसका बेटा मजदूरों के साथ क्वारेंटाइन सेंटर में नहीं रहेगा। तुरंत दूसरा क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया और युवक को शिफ्ट किया गया। एसडीओपी जितेंद्र खूं..
                 

20 साल बाद मरम्मत और रंग-रोगन, हिरोली अस्पताल से मिटाए नक्सली नारे

ये तस्वीर धुर नक्सलगढ़ गांव हिरोली के उपस्वास्थ्य केंद्र की है। भवन सन 2000 में बना। 2018 में विधानसभा चुनाव के दौरान नक्सलियों ने यहां नारे लिख दिए। 20 साल से इसकी मरम्मत नहीं हुई थी तो ग्रामीणों की मांग पर प्रशासन ने स्वीकृति दी और पंचायत को एंजेसी बनाया। भवन की मरम्मत हुई और जब नक्सली नारे को मिटाने की बात आई तो स्थानीय लोग ही आगे आए, रंगाई-पुताई कर नारों को भी मिटा दिया। जिले का यह पहला ऐसा गांव है जहां नक्सली नारे खुद पंचायत ने मिटवा दिए।साल 2000 में बना था भवन: कुआकोंडा ब्लॉक के धुर नक्सलगढ़ गांव हिरोली में साल 2000 को अस्पताल भवन बना था। यहां अब स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने कर्मचारी जुटकर काम कर रहे हैं।यह एक नई शुरुआत है"यह नक्सलवाद के खिलाफ एक नई शुरुआत है। ग्रामीण भवन की मरम्मत और नक्सली नारे मिटाने की मांग कर रहे थे। वे खुद आगे आकर नारे मिटाए। अब तक ऐसा कहीं नहीं हुआ। गांव के कई युवा पुलिस से जुड़े हैं। लोगों का भरोसा बढ़ा है।-डॉ. अभिषेक पल्लव, एसपी दंतेवाड़ा Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Naxalite slogans re..
                 

परिवार को बचाने 14,400 रु. किराया देकर लौटा मजदूर, पर नहीं बचा सका पत्नी की जान

कमाने खाने के लिए जम्मू गए लोहर्सी के दीपक साहू को लाॅकडाउन में काम नहीं मिला। ऐसे में वह ससुर व अन्य रिश्तेदारों से उधार लेकर 14 हजार 400 रुपए बस और ट्रेन का किराया देकर परिवार सहित जिले में तो पहुंच गया। यहां उसे हथनेवरा क्वारेंटाइन सेंटर में पत्नी लक्ष्मीन बाई और मां रूखमणी साहू के साथ रखा गया। चार दिनों तक क्वारेंटाइन सेंटर में रहने के बाद वह गर्भवती पत्नी सहित गर्भस्थ शिशु की जान नहीं बचा सका और उनकी मौत हो गई।जिले के हथनेवरा क्वारेंटाइन सेंटर में रह रही एक गर्भवती महिला की तबियत खराब हो गई। उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसने एक मृत बच्चे को दोपहर 1 बजे जन्म दिया। बच्चे के जन्म के लगभग 9 घंटे बाद रात 10.30 बजे महिला की मौत हो गई। दूसरा मामला शासकीय कॉलेज हसौद का है। यहां रह रहे मजदूर को पेट में तकलीफ होने पर जिला अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां उसकी मौत हो गई। शिवरीनारायण थाना क्षेत्र के ग्राम लोहर्सी का मजदूर विनोद साहू अपनी पत्नी लक्ष्मीन बाई को लेकर कमाने खाने के लिए जम्मू गया था। वहां से वे लोग 24 मई को चांपा पहुंचे थे। चांपा स्टेशन आने के बाद उनको हथने..
                 

सड़क बनाने के लिए पक्की नालियां तोड़ीं, न सड़क बनाई, न नाली, बारिश में होगी परेशानी

पथरिया रेलवे स्टेशन से पुलिस थाने तक सड़क निर्माण कार्य के समय लोक निर्माण विभाग द्वारा पक्की नालियां तोड़ दी गई थी, लेकिन अभी तक न तो सड़क निर्माण हुआ और न ही नालियां बनीं। जिससे नगर का गंदा पानी अब नालियों में भरा पड़ा है। साथ ही यह पानी गंदा एवं बदबूदार होने के कारण नगर में बदबू एवं गंदगी का माहौल है। यह पानी लोगों के घरों के सामने भरा हुआ है। नलकूपों में भी गंदा एवं बदबूदार पानी आ रहा है, लेकिन न लोक निर्माण विभाग के अधिकारी ध्यान दे रहे हैं और न ही नगर परिषद अफसर।बारिश में बढ़ सकती है परेशानीसड़क निर्माण कार्य के समय न तो सड़क का निर्माण हुआ और न ही पानी की निकासी के लिए तोड़ी गई नालियों का सुधार। अभी तक बारिश के मौसम को देखते हुए लोक निर्माण विभाग के स्थानीय अधिकारियों एवं जनता के सेवकों द्वारा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया। अगले माह मानसून आने वाला है जिससे बारिश के समय नालियां और सड़क निर्माण न होने के कारण यह पानी लोगों के घरों में भर सकता है। लेकिन कोई योजना नहीं बनाई गई जिससे आने वाले समय में लोगों के लिए परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। नगर के अनिल तिवारी ने बताया कि मेरे..
                 

जोगी के लिए एक नजर आई कांग्रेस

राज्य के पहले सीएम अजीत जोगी को शुक्रवार को दोपहर के 1.30 बजे फिर से कार्डियक अरेस्ट हुआ। स्पेशलिस्ट डॉक्टर भागते हुए पहुंचे। डाॅक्टरों की टीम सीपीआर के जरिए जोगी के हार्ट रेट को कंट्रोल करने की कोशिश में लगी थी। अमित और डॉ. रेणु अंतिम समय में आईसीयू में ही मौजूद थी। जोगी की तबीयत लगातार बिगड़ती जा रही थी। अंतत: जोगी जिंदगी की जंग हार गए। श्रीनारायणा अस्पताल के एमडी डॉ. सुनील खेमका मीडिया के सामने आए और निधन की पुष्टि की। उन्होंने बताया कि 3.30 बजे अजीत जोगी ने अंतिम सांस ली। जनता कांग्रेस के विधायक धर्मजीत सिंह ने जोगी के अंतिम संस्कार के शिड्यूल की जानकारी दी। निधन की खबर फैलते ही नेताओं, अफसरों और समर्थकों के अस्पताल में तांता लग गया। इनमें कांग्रेस के वे नेता भी शामिल थे जो कभी धुर जोगी समर्थक के रूप में जाने जाते थे। खाद्यमंत्री अमरजीत भगत, विधायक बृहस्पति सिंह सहित एक दर्जन से ज्यादा ऐसे नेता भी अस्पताल पहुंचे, जिनके अजीत जोगी राजनीतिक गुरू हैं। अमरजीत भगत ने बताया कि किस तरह जोगी ने सबसे पहले बिलासपुर का पीआरओ बनाया। फिर एक सीट छांटकर मुझे दी सीतापुर जहां से मैं कभी चुनाव नहीं हा..
                 

बिरगांव का कैलाश नगर और स्टील फैक्ट्री सील, अब कोरोना मरीज के संपर्क में आने वालों की तलाश

बिरगांव के कैलाश नगर में कोरोना संक्रमित मजदूर मिलने के बाद आनन-फानन में पूरे इलाके को सील कर दिया गया है। उसके संपर्क में आने वालों की सूची बनाकर उनकी तलाश भी शुरू कर दी गई है। पत्नी व दोनों बच्चों के अलावा करीबी लोगों को क्वारेंटाइन कर उनका सैंपल ले लिया गया है। मजदूर का घर जिलस इलाके में है उसे स्वास्थ्य विभाग ने कंटेनमेंट जोन घोषित करने के निर्देश दे दिए हैं, ताकि एहतियात के लिए वहां पर सुरक्षा बढ़ाई जा सके। हालांकि प्रशासन पहले ही सतर्क हो गया और पुलिस की मदद से मृतक के निवास स्थान कैलाश नगर और उरला की फैक्ट्री गणपति स्टील को सील कर दिया है। इनके चारो ओर बेरिकेडिंग कर दी गई है। रात में ही इलाके को सेनिटाइज करना शुरू कर दिया गया। पुलिस अफसरों ने बताया कि 26 मई को गणपति स्टील में काम करते समय 28 साल का युवक अचानक बेहोश होकर गिर गया था। उसके साथी निजी अस्पताल लेकर गए। इलाज के दौरान हुई शंका, इसलिए लिया था सैंपलअस्पताल में जांच में दौरान डाक्टरों को शंका हो गई थी। इसी वजह से उन्होंने युवक के स्वाब का सैंपल जांच के लिए भेजा था। रात में युवक की मौत और कोरोना पॉजिटिव होने की खबर फैलते ही ..
                 

4 वाहनों का इस्तेमाल कर पहुंचा भिलाई,सैंपल देने के 8 दिन बाद रिपोर्ट पॉजिटिव

भिलाई के कैंप-2 स्थिति शारदापारा में मिला कोरोना पॉजिटिव मरीज 21 मई को मुंबई से लौटा है। पेश से इलेक्ट्रिशियन यह मरीज भिलाई का सफर कभी पैदल तो कभी वाहनों की मदद लेकर पूरा किया है।17 मई को मुम्बई के घाटकोपर से धुलिया तक वह दो सब्जी ट्रकों पर, वहां से जलगांव तक अखबार वितरण वाले वाहन में और जलगांव से भिलाई पॉवर हाउस तक गुड्स ट्रक पर बैठककर 21 मई को यहां पहुंचा है। इस दौरान आठ अननोन लोग उसके संपर्क में आए हैं। सुबह 4 बजे वह पॉवर हाउस पहुंचा था। यहां से रिश्तेदार का एक लड़का उसको बाइक पर बैठाकर अपने घर ले गया। दोनों यही दो घंटा ठहरने के बाद 6 बजे जिला अस्पताल के फीवर क्लीनिक पहुंचकर जांच कराई। डॉक्टर ने उसका सैंपल कराने के बाद होम आइसोलेश में भेज दिया। शुक्रवार को 8 वें दिन रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।यहां कितने संपर्क में आए, सभी क्वारेंटाइन क्यों1. रिश्तेदार का लड़का, बाइक से ले जाने और साथ में रहने के कारण।2. उस लड़के की वाइफ, छोटा बच्चा, सेम टॉयलेट यूज करने के कारण।3. स्वयं का बेटा अपने घर से खाना देने और बात-चीत करने के कारण।4. रिश्तेदार के घर का एक पड़ोसी रोज मिलकर हाल जानने के कारण।5. जिला अस्..
                 

ट्रेन के लिए 30 घंटे का इंतजार, 12 घंटे का सफर तय करने लगे 20 घंटे, लौटे बदहवास

घर वापसी करने वाले मजदूरों की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। 12 घंटे के सफर के लिए 30 घंटे तक मेहनत करनी पड़ी। पहले 50 से 60 किमी पैदल चलकर स्टेशन पहुंचे। इसके बाद 8 से 10 घंटे तक बिना सोए ट्रेन का इंतजार करना पड़ा। जब जाकर घर वापसी के ट्रेन में बैठने को मिला। रास्ते भर जिनके पास खाने के लिए कुछ नहीं था उनको खाने पीने के लिए भी तरसना पड़ गया।कानपुर (यूपी) से आई श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सवार प्रत्येक मजदूर की यही स्थिति रही। इस बीच ट्रेन के करीब 6 से 7 घंटा देरी से पहुंचने पर भीषण गर्मी ने हालत खराब कर दी। शुक्रवार को बांदा से श्रमिक स्पेशल ट्रेन दुर्ग पहुंची। इस बीच अव्यवस्था देखी गई। प्रशासन की इसी अनदेखी के चलते कवर्धा और बेतूल जाने वाले श्रमिक अपने-अपने जिला के निकटतम स्टेशन पर उतरने की जगह अंतिम स्टेशन दुर्ग पहुंच गए। जानकारी होने पर प्रशासनिक अधिकारियों ने उन्हें घर वापसी की जगह क्वारेंटाइन सेंटर भेजने के आदेश जारी कर दिया।बिना जांचे बैतूल जाने वाले को दुर्ग के लिए बिठायाघर वापसी की आस में ट्रेन में बैठने वाला बैतूल निवासी संतोष मंडलेकर दुर्ग स्टेशन पहुंचकर बदहवास हो गया। अध..
                 

पाटन के एसएलआरएम गौठान व कम्यूनिटी हैल्थ सेंटर का किया निरीक्षण

दुर्ग के नए कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे ने पदभार ग्रहण करने के अगले दिन ही शुक्रवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के विधानसभा क्षेत्र पाटन का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने वहां के एसएलआरएम सेंटर, गौठान व कम्यूनिटी हैल्थ सेंटर की जानकारी ली।ग्रामीणों को रोजगार से जोड़ने के लिए व्यापक स्तर पर मुहिम चलाए जाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। साथ ही क्वारेंटाइन सेंटरों में ही स्किल डेवलप करने के लिए क्लास लगाए जाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि 14 दिनों तक क्वारेंटाइन अवधि के दौरान उन्हें स्किल डेवलमेंट का पूरा प्रशिक्षण दिया जाए। ताकि प्रशिक्षण का उपयोग वे अपने रोजगार के लिए कर सकें। कलेक्टर ने पाटन के विभिन्न क्षेत्रों का भी निरीक्षण किया।नगर की प्रमुख सड़के होंगी गुलमोहर से गुलजारकलेक्टर भूरे ने कहा कि शहर को सुंदर बनाने के लिए हरीतिमा का दायरा बढ़ाना बेहद आवश्यक है। शहर को प्रमुख शहरों से जोड़ने वाली सड़कों के किनारे पर गुलमोहर सहित अन्य पेड़ लगाए जाएंगे। उन्होंने डिवाइडर पर अमलतास अथवा टर्मिनेलिया के पौधे लगाने को कहा।सेंटर में बनाए गए खाद का भी किया निरीक्षणकलेक्टर ने एसएलआरएम स..
                 

ग्रामीण के घर से दो सौ से ज्यादा चिरान लकड़ी जब्त

कटघोरा वनमंडल के केंदई रेंज में शुक्रवार को ग्राम मोरगा व धजाग में वन विभाग की छापामार कार्रवाई में दो ग्रामीणों के घर से 200 से अधिक चिरान लकड़ी जब्त की गई है।कटघोरा वनमंडल के अफसरों को सूचना मिली थी कि केंदई रेंज के ग्राम मोरगा में रघु यादव के निवास पर भारी मात्रा में बीजा प्रजाति का चिरान लकड़ी रखी हुई है। साथ ही ग्राम धजाग के लाल सिंह पिता रामायण सिंह गोंड़ के निवास पर भी अवैध चिरान रखे होने की सूचना मिली थी। वन अधिकारियों के निर्देश पर टीम ने सर्च वारंट जारी कर सुबह ही रघु यादव के निवास पर दबिश दी। जहां वन अमले ने 165 नग बीजा प्रजाति के अवैध रूप से रखी लकड़ी चिरान को जब्त किया। वहीं ग्राम धजाग के लाल सिंह के निवास से 35 से 40 नग लकड़ी चिरान जब्त किया गया है। वन विभाग की इस कार्रवाई से लकड़ी तस्करों में हड़कंप मचा है। दोनों ही आरोपियों के खिलाफ वन संरक्षण अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today More than two hundred chiran wood seized from rural house..
                 

सोशल डिस्टेंसिंग पर बेपरवाह, अध्यक्ष ने कहा रेत परिवहन के बड़े ठेकेदारों का बिल कैसे बन जाता है

पंचायत चुनाव के 2 माह बाद पहली बार सामान्य सभा की हुई बैठक में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह ध्यान नहीं रखा गया। कहीं कुर्सियां अंतर पर रखी गई थी और कहीं सटा कर रख दी गई थी। कुछ लोगों के चेहरे पर मास्क थे और कुछ ऐसे ही सामान्य सभा में उपस्थित रहे। बैठक में जिला पंचायत अध्यक्ष अरुण सिंह चौहान ने खनिज उपसंचालक दिनेश मिश्रा से पूछा की रेत परिवहन करने वाले बड़े ठेकेदारों पर कार्यवाही क्यों नहीं होती। वे नियम विरुद्ध रेत परिवहन के बाद भी बिल कैसे बनवा लेते हैं। शुक्रवार को नए जिला पंचायत कार्यपालन अधिकारी गजेंद्र सिंह ठाकुर ने कार्यभार भी ग्रहण किया और बैठक में मौजूद रहे। दोपहर 12:30 बजे शुरू हुई बैठक में 15 बिंदुओं को रखा गया था। जिला पंचायत अध्यक्ष के जवाब में खनिज उपसंचालक ने कहा कि पूर्व में 40 ठेकेदारों पर कार्यवाही की जा चुकी है और दस ठेकेदारों को नोटिस भी दिया जा चुका है। रेत के अवैध उत्खनन और परिवहन पर खनिज विभाग अकेले कुछ नहीं कर सकता। कुछ समय पूर्व जिला प्रशासन से एक पत्र सभी निर्माण विभाग को जारी हुआ था जिसमें ठेकेदारों पर लगाई जाने वाली पेनाल्टी राशि जमा किए बिना क्लीयरेंस देने प..
                 

क्वारेंटाइन सेंटर में जानकारी लेने पहुंचे शिक्षकों पर श्रमिकों ने जूठा पानी फेंका

रतनपुर के गांधी नगर स्थित इंटेलिजेंट पब्लिक स्कूल में क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है। जहां बाहर से आए 96 मजदूरों को रोका गया है। ये मजदूर मस्तूरी क्षेत्र के अलग-अलग ब्लॉक के बताए जा रहे हैं। इनकी मनमानी क्वारेंटाइन सेंटर में खत्म होने का नाम नहीं ले रही।रविवार को इन्होंने खाने के पैकेट फेंक दिए थे। बल्कि सेवा में लगे कर्मचारियों से भी अभद्रता की थी। बता दें कि शुक्रवार शाम करीब पांच बजे इस स्कूल के क्वारेंटाइन सेंटर में ठहराए गए श्रमिकों एवं मजदूरों ने शिक्षकों से अभद्रता पूर्ण व्यवहार करते जूठा पानी को उनके ऊपर फेंक दिया। घटना से भयभीत सभी डयूटी पर पहुंचे शिक्षक अपने आपको असुरक्षित महसूस करते क्वारेंटाइन सेंटर से भाग कर भीम चौक स्थित कन्या शाला पहुंचे। यहां कोटा तहसीलदार के नाम पत्र लिख कर अपनी सुरक्षा के साथ साथ 50 -50 लाख रुपए का बीमा कराए जाने की मांग का ज्ञापन सौंपा।घटना से डरे शिक्षकों ने थाने में की शिकायतपीड़ित शिक्षक राजेन्द्र जायसवाल व बेदुराम साहू ने भास्कर को बताया कि वे शासन के निर्देश पर मजदूरों की जानकारी जुटाने सेंटर पहुंचे थे। शिक्षकों के अनुसार जिस वक्त वे मजदूरों से ड..
                 

‘गुरु’ अर्जुन के लिए उपचुनाव में खरसिया आए, आखिर तक रायगढ़ से प्रेम रहा

छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी का रायगढ़ जिले से नाता लगभग 32 वर्ष पुराना रहा है। पंजाब के राज्यपाल रह चुके अर्जुन सिंह को राजीव गांधी की पसंद पर मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बनाना था। खरसिया विधायक लक्ष्मी पटेल को इस्तीफा दिलाकर सीट खाली कराई गई और 1988 में ऐतिहासिक उपचुनाव हुआ ।अर्जुन सिंह के सामने बीजेपी के दिलीप सिंह जूदेव थे। अर्जुन को अपना राजनीतिक गॉडफादर मानने वाले अजीत जोगी ने इस उपचुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। खरसिया उपचुनाव के दौरान अजीत जोगी को रायगढ़ से लगाव हुआ जो अंत तक रहा। राजनीति के जानकार यह भी कहते हैं कि उपचुनाव जीतने के बाद अर्जुन सिंह सरकार ने जो तेंदूपत्ता नीति घोषित की थी वह अजीत जोगी का प्लान था और पूरी योजना जोगी ने ही बनाई थी। 1991 के अपनी छत्तीसगढ़ की पदयात्रा में अजीत जोगी ने अविभाजित रायगढ़ जिले को नापा था। राज्यसभा में सांसद रहे अजीत जोगी ने रायगढ़ लोकसभा सीट से 1998 में कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ा। अजीत जोगी और भाजपा के नन्दकुमार साय के बीच कांटे का संघर्ष हुआ था। इस चुनाव को जीतने के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी तो अजीत जोगी के ल..
                 

प्लास्टिक का पर्दा, जरूरी हो तो अंदर आते हैं मरीज

कोरोना संक्रमण के बाद मेकाहारा के ओपीडी में व्यवस्था में बदलाव किया गया है। ओपीडी के डॉक्टर्स के चेंबर्स में ट्रांसपेरेंट प्लास्टिक के परदे लगाए गए हैं। इस परदे के एक तरफ डॉक्टर्स बैठते हैं और दूसरे मरीजों के खड़े होने के लिए जगह बनाई गई है।मरीज खड़े खोकर अपनी परेशानी बताते हैं। डॉक्टर्स को जरूरी लगा तो ग्लव्स पहनकर जांच करते हैं। हर ओपीडी में रोस्टर के अनुसार चेम्बर में एक-एक सीनियर डॉक्टर्स की ड्यूटी लगाई गई है। मेकाहारा के सहायक अधीक्षक डॉ एचएस उरांव ने बताया कि कोरोना का संक्रमण डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ को भी रहता है, इसलिए सुरक्षा के उपाय किए गए हैं। ब्लड बैंक के सामने बनी नई ओपीडी कोरोना संक्रमण के बाद उसे अभी बंद कर दिया गया है। उसे भी पुराने ओपीडी बिल्डिंग में शिफ्ट कर दिया गया है। हर डिपार्टमेंट के एक-एक सीनियर डॉक्टर्स को हर रोज ड्यूटी लगाई गई है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Plastic curtain, patients come in if necessary..
                 

प्रशासन व पुलिस मेहनत कर रही है, जनता व व्यवसायियों का सहयोग भी जरूरी: कलेक्टर

जिले के नवपदस्थ कलेक्टर भीम सिंह ने शुक्रवार को सृजन सभा कक्ष में पत्रकार वार्ता ली। इस दौरान उन्होंने कोरोना संक्रमण से लोगों की सुरक्षा पहली प्राथमिकता बताते हुए कहा कि जिला प्रशासन और पुलिस दोनों अपने स्तर पर प्रयास कर रहा है। उनके द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहे हैं, ताकि जिले को सुरक्षित रखा जा सके, लेकिन सफल होने के लिए जनता और व्यवसायियों का सहयोग भी जरूरी है।उन्होंने मीडिया के पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा कि जिले में संक्रमित लोगों के दायरे में आए लोगों की भी अधिक से अधिक संख्या में टेस्टिंग की जाएगी। हर एक संदिग्ध की पहचान कर उनके सैंपल भी भेजे जा रहे हैं। कोरोना से उत्पन्न कठिनाइयों से निपटने के लिए प्रशासनिक टीम के साथ आम जनता का सहयोग आवश्यक है। व्यवसायियों के लिए जो नियम बनाए गए हैं, उसके अनुरूप व्यवसाय के साथ नियमों का पालन करने की बात कही है। बाजार में व्यवसायियों पर भारी भरकम पेनाल्टी व मास्क नहीं लगाने पर जुर्माना से संबंधित सवालों पर उन्होंने आगे नियम अनुरूप आर्थिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कार्रवाई की बात कही है। जिले के नए कलेक्टर भीम सिंह 2008 बैच..
                 

हाथियों की चिंघाड़ से दहशत, ग्रामीण कर रहे रतजगा

दो दिनों से क्षेत्र के गांवों व जंगलों में घूम रहे 23 हाथियों के दल ने गांवों में दहशत पैदा कर दी है। लोग मारे भय के रात को चैन से सो नहीं पा रहे हैं। आसपास के गांवों में देर रात तक इनकी चिंघाड़ सुनाई देती है जिससे लोग उनके गांवों में घुसने के भय से रतजगा कर रहे हैं।गुरुवार रात को ये हाथी ग्राम दुल्ला के जंगल में आराम फरमा रहे थे तो शुक्रवार तड़के दुल्ला, टोनहीडबरी, केवटीझर के जंगलों से होकर निकलते हुएग्राम के आसपास उत्पात मचाया। हाथियों ने सुबह इतना उत्पात मचाया कि पुलिस को भी मौके पर पहुंचना पड़ा। वन विभाग व पुलिस ने ग्रामवासियों को सावधान रहने की समझाइश दी है। हाथियों ने टोनहीडबरी में फसलों व सब्जी की बाड़ियों को भी रौंदा। टोनहीडबरी पंचायत सरपंच हेमन्त ठाकुर के अनुसार ग्राम टोनही डबरी में 23 हाथियों के दल ने तड़के ही पहुंचकर बहुत उत्पात मचाया। हाथियों ने किसान संतोष साबर के 7 एकड़ धान की फसल में से लगभग 4 एकड़ को पूरी तरह रौंद दिया और दयालु ध्रुव की एक एकड़ की सब्जी बाड़ी को रौंदकर बरबाद कर दिया। इनके साथ ही तेंदूपत्ता के फड़ में सूखे हुए तेंदूपत्ता को बोरों में भरकर रखा गया था उसमें से 4 ..
                 

राजनीति से परे पारिवारिक रिश्ते को तवज्जो देते थे जोगी

छत्तीसगढ़ प्रदेश की स्थापना के बाद प्रथम मुख्यमंत्री बने अजीत जोगी की भाटापारा शहर से जुड़ी कई स्मृतियां हैं जो अब केवल यादों में ही बसेंगी। इस शहर से उनका पारिवारिक सहित राजनेता के भी संबंध रहे हैं। मुख्यमंत्री के अपने तीन साल के कार्यकाल के दौरान पूरे विधानसभा क्षेत्र में दर्जनों बार उनका आगमन हुआ। हर दौरे में राजनीति के अलावा वे व्यक्तिगत भी सबसे अलग से मिलते थे।इसी क्रम में 4 जुलाई 2001 को वे जैन समाज के धार्मिक कार्यक्रम में पुराना गंज रामलीला मैदान पहुंचे जहां वे राष्ट्र संत मुनिश्री चिन्मय सागर जी महाराज जंगल वाले बाबा के चातुर्मास कलश स्थापना महोत्सव में मुख्यमंत्री रहते हुए पधारे थे। चातुर्मास अध्यक्ष प्रकाश मोदी ने बताया कि जोगीजी स्वयं कार्यक्रम स्थल से कलश लेकर पैदल दिगम्बर जैन मंदिर सदर बाजार पहुंचे थे। इस दौरान वे पूजा अर्चना कर सभी सामाजिक लोगों से मिले, ग्रुप फोटो भी खिंचवाया और लोगों को आटोग्राफ भी दिए।आपात लैंडिंग के बाद ग्रामीण की बाइक से निकल गएइसी तरह 10 जुलाई 2003 को तेज आंधी बारिश के चलते उनके हेलीकॉप्टर की नजदीक के ग्राम सूरजपुरा के मैदान में आपात लैंडिंग कराई गई..
                 

युवक अपने बड़े भाई की शराब पीने की आदत से था परेशान, तंग आकर चाकू से किया गले पर वार, मौत

नवापारा के शीतलापारा में बड़े भाई की नशे की लत से परेशान छोटे भाई ने उसकी हत्या कर दी। मो. शमीम की शराबखोरी से त्रस्त हो मो. सलीम ने यह कदम उठाया। आरोपी ने धारदार हथियार से अपने ही भाई का गला रेतकर हत्या कर दी। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी ने नवापारा थाना पहुंचकर आत्मसमर्पण भी कर दिया। मृतक मो. शमीम पेशे से ड्राइवर था। गुरुवार की देर रात शराब पीने के बाद हमेशा की तरह घर में उसने झगड़ा शुरू कर दिया। इससे डरकर उसकी मां पड़ोस में चली गई। मृतक अपने छोटे भाई मो. सलीम से उलझ गया।गुस्से में आकर सलीम से भाई का कत्ल कर दिया। घटना से विचलित होकर आरोपी ने रात करीब डेढ़ बजे थाने पहुंचकर पूरा किस्सा बताकर आत्मसमर्पण कर दिया। शुक्रवार सुबह थाना प्रभारी राकेश ठाकुर और विवेचनाधिकारी ईश्वर प्रसाद दुबे घटना स्थल पर पहुंचे जहां शव का पंचनामा कर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा। मृतक का पूर्व में एक्सीडेंट हुआ था जिससे उसके मस्तिष्क में गंभीर चोट आई थी। शराब पीने के बाद वह अपना आपा खो देता था। उसकी पत्नी भी उसे छोड़कर चली गई थी। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today ..
                 

होम क्वारैंटाइन में रह रहे शिक्षक की मौत, रायपुर से चार दिन पहले लौटा था

संदिग्ध परिस्थितियों में एक शख्स की मौत हो गई। इस मौत की वजह से इलाके में डर का माहौल है। वजह यह है कि मृतक को होम क्वारैंटाइन पर रखा गया था। मौत की वजह से लोगों में चर्चा है कि मृतक को कोरोना संक्रमण रहा होगा, हालांकि इसकी कोई जांच रिपोर्ट अब तक नहीं आई है, यह भी पता नहीं चल पाया है कि आखिर यह मौत हुई कैसे।पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक 47 साल का खम्मन सिंह ध्रुव ग्राम करखा के रिसगांव स्कूल में शिक्षक के पद पर पदस्थ है। सांकरा के रहने वाला यह शिक्षक चार दिन पहले रायपुर से सांकरा आया था। स्वास्थ्य विभाग ने इसे 28 मई को होम क्वारैंटाइन में रहने को कहा और घर पर स्टीकर भी लगाया। पड़ोस के लोगों ने देखा कि दरवाजे के पास वह पड़ा हुआ था। सूचना पर पुलिस आई और मौत का खुलासा हुआ। अब इस घटना की जांच की जा रही है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today शिक्षक का सैंपल लिया गया है, इसकी रिपेार्ट के बाद पता चलेगा इसे कोरोना था या नहीं।..
                 

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी नहीं रहे, उन्हें 20 दिन में तीसरी बार दिल का दौरा पड़ा था

छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री रहे अजीत जोगी का शुक्रवार को निधन हो गया। वे 74 साल के थे। 20 दिन में तीसरी बार दिल का दौरा पड़ने के बाद उनकी हालत गंभीर हो गई थी। डॉक्टरों ने 45 मिनट तक कोशिशें कीं, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। जोगी ने दोपहर 3 बजकर 30 मिनट पर आखिरी सांस ली। वे 2000 से 2003 के बीच छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रहे।बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर पिता अजीत के निधन की जानकारी दी।जोगी 9 मई से कोमा में थे। इमली का बीज गले में अटकने की वजह से उन्हें पहली बार दिल का दौरा पड़ा था। इसके बाद 27 की मई की रात भी उन्हें दिल का दौरा पड़ा। हालांकि, अगले ही दिन उनकी सेहत में थोड़ा सुधार देखा गया।जब शुक्रवार को उन्हें दोबारा दिल का दौरा पड़ा तो रायपुर के श्रीनारायणा अस्पताल की ओर से एक मेडिकल बुलेटिन जारी किया गया। इसमें बताया गया कि जोगी परिवार की सहमति लेकर डॉक्टरों ने उन्हें एक विशेष इंजेक्शन लगाया है। यह बहुत ही रेयर किस्म का इंजेक्शन है। इसका इस्तेमाल छत्तीसगढ़ में बहुत कम हुआ है।जोगी के ब्रेन में कोई हलचल नहीं हो रही थी। शुक्रवार को तीसरी बार हार्ट अटैक आने के बाद डॉक्टरों ने उन्हें सीपीआर यानी ..
                 

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा- विकसित देशों का अंधा अनुकरण कर पीएम ने लॉकडाउन किया, शुरू में संक्रमित मिले 500 को क्वारैंटाइन करते तो यह स्थिति नहीं होती

कोरोना संक्रमण, लॉकडाउन और उसके कारण पैदा हुए हालातों पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र सरकार को कटघरे में खड़ा किया। स्पीक अप इंडिया प्लेटफार्म पर मुख्यमंत्री बघेल ने कहा- कोरोना चीन से निकलकर अरेबियन और यूरोपियन देशों से भारत में आया। जब हमारे देश में आया, तब 500 संक्रमित थे। अगर उनको ही होम क्वारैंटाइन, आइसोलेशन में कर देते तो ये हालात नहीं होते।मुख्यमंत्री बघेल ने कहा- विकसित देशों का अंधा अनुकरण करते हुए प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन कर दिया। अचानक लॉकडाउन से पूरा देश जहां था, वहीं थम गया। अनेक देश अपने-अपने तरीके से लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके अपने सामाजिक, आर्थिक और भौगोलिक परिस्थितयों के अनुसार निर्णय हैं। हमारे देश की स्थिति अलग है। यहां करोड़ों लोग दूसरे राज्यों में रोजी-रोटी की तलाश में जाते हैं। वे वहीं फंस गए।तीसरे लॉकडाउन के बाद लोगाें के सब्र का बांध टूट गयामुख्यमंत्री ने कहा- लाॅकडाउन को लेकर कोई तैयारी नहीं थी। उन मजदूरों का क्या होगा,वहां के उद्योग धंधों का क्या होगा। बिना सोचे-समझे इसे लागू किया गया। पहले एक-दो सप्ताह सभी ने स्वीकार किया। प्रधानमंत्री का आदेश था। तीस..
                 

महासमुंद में श्रमिकों से भरी बस पलटी, मुंबई से जा रही थी पश्चिम बंगाल

छत्तीसगढ़ के महासमुंद में शुक्रवार सुबह श्रमिकों से भरी बस अनियंत्रित होकर पलट गई। इसके चलते बस में सवार श्रमिक चोटिल हो गए। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस सभी को स्थानीय अस्पताल लेकर गई। जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें छुट्‌टी दे दी गई है। इसके बाद पुलिस ने सभी को आगे के लिए रवाना कर दिया। हादसा तुमगांव थाना क्षेत्र में हुआ है।जानकारी के मुताबिक, मुंबई से श्रमिकों को लेकर एक बस पश्चिम बंगाल जा रही थी। इस दौरान शुक्रवार सुबह तुमगांव क्षेत्र में नेशनल हाईवे-53 पर छछान पहाड़ी के पास हुआ अचानक अनियंत्रित होकर पलट गई। इसके चलते चीख-पुकार मच गई। इस पर आसपास के ग्रामीण पहुंचे और पुलिस को सूचना दी। बताया जा रहा है कि हादसा बस चालक को झपकी आने के कारण हुआ है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today महासमुंद में शुक्रवार सुबह श्रमिकों से भरी बस अनियंत्रित होकर पलट गई। बस मुंबई से श्रमिकों को लेकर पश्चिम बंगाल जा रही थी। हादसे में श्रमिकों को चोटें आई हैं।..
                 

छत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 172 जूनियर डॉक्टरों ने इस्तीफा दिया, वेतन और सुविधा नहीं मिलने से नाराजगी

कोरोनावायरस संक्रमण के दौरान छत्तीसगढ़ में जूनियर रेसीडेंट डॉक्टरों ने इस्तीफे की झड़ी लगा दी है। 24 घंटे में रायपुर समेत रायगढ़ और सिम्स बिलासपुर से 172 डॉक्टर इस्तीफा दे चुके हैं। ये सभी वेतन नहीं मिलने, तरीके से ड्यूटी लगाने और कोविड वार्ड में सुरक्षा औरसुविधाएं नहीं मिलने से नाराज हैं। डॉक्टरों ने इसे लेकर कई बार परेशानी भी जाहिर की। इसके बावजूद उनकी मांगों को लेकर ध्यान नहीं दिया गया। रायपुर में उच्चाधिकारियों से भी जूनियर डॉक्टरों ने मुलाकात कर समस्याएं बताई थीं, मगर उन्हें संतोषजनक जवाब नहीं मिला।रायगढ़ में भी लखीराम अग्रवालमेडिकल कॉलेज के 45 जूनियर रेसीडेंट डॉक्टरों ने इस्तीफा दिया है। यहां भी डॉक्टर वेतन नहीं मिलने और गलत तरीके से ड्यूटी लगाने और कोविड वार्ड में सुरक्षा औरसुविधाएं नहीं मिलने से नाराज हैं।सिम्स के डॉक्टर बोले- वेतन मिले, ग्रामीण सेवा अवधि कोशामिल किया जाएबिलासपुर सिम्स के 50 जूनियर डॉक्टरों ने गुरुवार शाम को इस्तीफा दे दिया। इसके बाद देर रात तक 42 और डॉक्टरों ने दे दिया।डॉक्टरों का कहना है कि डीएमई के आदेश और सिम्स डीन के निर्देश पर इंटर्नशिप पूरा करने के बाद उन्हे..
                 

भिलाई में एक शव को दफनाने के लिए चार कब्रें खोदी गईं, कोरोना संक्रमित मजदूर की मौत हुई थी

छत्तीसगढ़ के भिलाई में कोराेना से हुई मौत रीति-रिवाजों के फेर में ऐसीउलझी किएक शव दफनाने के लिए 4 कब्रें खोदी गईं। रिवाजों का पालन करने और ठेस नहीं पहुंचाने के मकसद से जिला प्रशासन ने ऐसा कदम उठाया। पश्चिम बंगाल के मजदूर अबू बकर शेख के शव को उसके परिवार वालों की मर्जी से अंत में जामुल-नंदिनी रोड स्थित कब्रिस्तान में दफनाया गया। अंतिम संस्कार में उसके तीन दोस्त और बड़े पिता केलड़के को क्वारैंटाइन सेंटर से बुलाया गया था। कब्रिस्तान में शव दफनाने की प्रक्रिया फाइनल होने के बाद बाकी तीन अन्य जगहों पर किए गए गड्ढे मिट्टी डालकर बंद किए गए।सीएसपी विश्वास चंद्राकर ने बताया कि मुंबई से पश्चिम बंगाल लौटते समय मजदूर की 3 दिन पहले तबीयत बिगड़ने पर जीआरपी चरोदा के पास मौत हो गई थी। मंगलवार शाम मजदूर के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई। इस पर बुधवार को उसकी अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी की गई। पुलिस ने शव दफनाने के लिए 4 अलग-अलग स्थानों पर गड्ढे तैयार करवा लिए थे। पूरी प्रक्रिया के दौरान मजदूर का भाई और बाकी दोस्त मौजूद थे। अंतिम समय में वेघबरा गए। पुलिस के समझाने के बाद माने। तहसीलदार समेत अन्य लोग..
                 

बुरगुम में हमले की तैयारी कर रहे नक्सली

दंतेवाड़ा पुलिस के सामने गुरुवार को 8 लाख रुपए के इनामी नक्सली प्रदीप उर्फ भीमा कुंजाम ने सरेंडर किया है। प्रदीप प्लाटून नम्बर 24 का डिप्टी कमांडर था। ये इलाके में छोटा प्रदीप के नाम से जाना जाता है। सरेंडर के बाद इसने दंतेवाड़ा पुलिस के सामने एक बड़ा खुलासा किया है। उन्हाेंने नक्शा बनाकर बताया कि बुरगुम, पोटाली में भारी मात्रा में आईईडी लगाकर नक्सली हमले की तैयारी कर रहे हैं।पुलिस ने पहले तो नक्शा बनाकर रणनीति को समझा, फिर सरेंडर नक्सली को अपने साथ पोटाली इलाके लेकर गई व हर एक जगह को बारीकी से देखा। सड़क से लेकर जंगल तक झाड़ियों के बीच पुलिस पार्टी व कट ऑफ पार्टी को किस तरह से क्षति पहुंचाना है, इसकी तैयारी की गई थी। इसके अलावा भी सरेंडर नक्सली ने कई सारे खुलासे किए हैं। यह बड़े नक्सलियों के लिए रेडियो, वायरलेस सेट खोलना, जोड़ना, रिपेयरिंग, मोबाइल मैसेजिंग व इंटरसेप्शन डिकार्डिंग की भी ट्रेनिंग ले चुका है। एसएलआर रायफल अपने साथ रखता था। एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव ने बताया कि प्रदीप के सरेंडर के बाद कई सारी सूचनाएं हाथ लगी हैं। अभी और भी नक्सलियों को सरेंडरकराया जाएगा।इन घटनाओं में शामिल था 8 लाख ..
                 

गर्भवती महिलाओं के लिए होंगे अलग क्वारेंटाइन सेंटर, पति रह सकेंगे साथ

सीएम भूपेश बघेल ने क्वारेंटाइन सेंटर में रही रहीं गर्भवती महिलाओं की हर दिन जांच करने और अच्छी देखभाल के साथ प्रसव संबंधी सुविधाएं उपलब्ध कराने कहा है। गर्भवती महिलाओं के लिए अलग से क्वारेंटाइन सेंटर बनाए जाएंगे, जहां नियमित जांच, चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध होंगी। क्वारेंटाइन सेंटर में व्यवस्था नहीं होने पर सिविल अस्पताल में अलग वार्ड या कमरों में गर्भवती महिलाओं को रखने कहा गया है। सीएम ने कहा है कि महिलाएं यदि अपने पति को साथ रखना चाहते हैं तो उन्हें अनुमति दी जाए। सीएम के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने सभी सीएमएचओ को लिखा है कि कोराेना संक्रमण गर्भवती महिला और गर्भस्थ शिशु दोनों के लिए खतरनाक व जानलेवा है। प्रवासी मजदूरों के लिए संचालित क्वारेंटाइन सेंटर में गर्भवती महिलाओं को भी अन्य महिलाओं के साथ रखा जा रहा है। गर्भवती महिलाओं में संक्रमण की अधिक संभावना है, इसलिए गर्भवती महिलाओं को डॉक्टरी सलाह और उनकी सहमति से अलग क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जाए। इनके लिए क्वारेंटाइन सेंटर ब्लॉक औ..
                 

स्पेशल ट्रेनों में श्रमिकों को मिलेगा बिस्किट और पानी, सीएम बघेल ने 5 कलेक्टरों को दी जिम्मेदारी

भूख को लेकर ट्रेनों मे प्रवासी मजदूरों की हालत को देखते हुए छत्तीसगढ़ से होकर गुजरने वाली सभी श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के प्रवासी श्रमिकोंको स्टापेज वाले स्टेशनों में बिस्किट और पानी पाउच दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रायपुर, बिलासपुर, राजनांदगांव, जांजगीर-चांपा और रायगढ़ कलेक्टर को इस व्यवस्था को लागू करने कहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि एंड टू एंड ट्रेन होने के कारण प्रवासी श्रमिकों के लिए रेल्वे स्टेशनों पर भोजन-पानी की कोई व्यवस्था नही है और न ही वो ट्रेनों से उतर पा रहे हैं। ऐसी स्थिति में उन्हें बिस्किट और पानी के पाउच देने से उनको काफी राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने जिला कलेक्टरों से कहा कि अन्य राज्यों में फंसे प्रवासी श्रमिकों की उनके गृह राज्यों में वापसी के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलायी जा रही है। इनमें से जो छत्तीसगढ़ से होकर गुजरेंगी यदि वो संबंधित जिले में रुकती है तो एक मुख्य स्टेशन में उनके लिए बिस्किट और पानी की व्यवस्था की जाए। ट्रेन के स्टेशन पर रूकते ही यात्रियों को इसका वितरण किया जाए। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today ..
                 

अब बाजार और दुकानों के दिन याद नहीं रखने होंगे, हर दुकान 6 दिन एक ही टाइम, सुरक्षा उपाय जरूरी

तकरीबन एक माह बाद अब शुक्रवार से राजधानी के लोगों को बाजार और दुकानें खुलने का दिन और समय याद रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी। वजह ये है कि सोमवार से शनिवार तक अनुमति वाली सभी दुकानें खुली रहेंगी और समय भी एक ही रहेगा, सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक। लॉकडाउन काल और शुक्रवार से होने वाली शुरुअात में फर्क सिर्फ इतना है कि पहली दुकानें अाराम से बंद होती थीं, अब ठीक 7 बजे से शहर में कर्फ्यू लागू हो जाएगा जो अगले दिन सुबह 7 बजे तक रहेगा।पुलिस और निगम प्रशासन ने बाजारों के खुलने से एक दिन पहले, गुरुवार को सभी व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों को बुलवाया और बाजार के नए नियम ब्रीफ किए। बैठक में बताया गया कि हर कारोबारी को दुकान में अाने-जाने वाले हर व्यक्ति का नाम-नंबर नोट करना होगा। इसके लिए एक रजिस्टर मेंटेन किया जाएगा। यही नहीं, अगर दुकान में ऐसे लोग अाएंगे जो एक नजर में बीमार दिख रहे हैं, तो उसकी सूचना तुरंत पुलिस या निगम अफसरों को देनी होगी। हर दुकानदार और स्टाफ के लिए मास्क अनिवार्य कर दिया गया है। सोशल डिस्टेंसिंग और सेनिटाइजर भी अनिवार्य है। पहली बार, दुकानदारों से कहा गया है कि वे कस्टरम की थर्..
                 

धांधली देखने मौके पर पहुंचे नेशनल हाइवे के अफसर, बोले; गड़बड़ी पर होगी कार्रवाई

गणपति ऑटोमाल संचालक द्वारा तोड़े गए डिवाइडर और सड़क किनारे लगे माइल स्टोन की जांच करने नेशनल हाइवे के एसडीओ विभाग की टीम के साथ मौके पर पहुंचे। डिवाइडर तोड़ने और डेढ़ किलोमीटर तक नेशनल हाइवे के अधिकार वाली जमीन पर संस्थान के प्रचार के लिए 15 माइल स्टोन गाड़ने पर अपत्ति जताई। अफसर बोले, यह गड़बड़ी है और नियमों की अनदेखी पर कार्रवाईकी जाएगी।गुरुवार को एनएच के एसडीओ बीएल ध्रुव अपने इंजीनियरों के साथ मौके पर गए थे। उन्होंने माइल स्टोन सड़क के नजदीक डिवाइडर हटाने की बात कहते हुए गणपति ऑटोमॉल के संचालक दीपक डोरा के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही है। 28 मई को दैनिक भास्कर ने ऑटोमॉल संचालक द्वारा मनमाने ढंग से अपने व्यवसाय के प्रचार के लिए बिना अनुमति 15 माइलस्टोन लगाने और सड़क के बीच से डिवाइडर हटाने की खबर प्रकाशित की थी। विभाग पूरी रिपोर्ट तैयार कर बिलासपुर स्थित कार्यपालन अभियंता को भेजने की तैयारी कर रहा है। विभाग एक-दो दिन में संबंधित व्यवसायी को भी नोटिस जारी करेगा। हादसा हुआ तो ऑटोमॉल के संचालक पर एफआईआरएनएच के अफसरों ने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से सड़क पर डिवाइडर बनाया गया था। जिसे व्यवस..
                 

ऑटो-टैक्सी को अनुमति, पहले दिन नहीं मिली सवारी

राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी जिलों के साथ रायगढ़ में भी तय नियमों के अनुरूप ऑटो और टैक्सी सेवा शुरू करने की मंजूरी दी है, लेकिन लंबे समय बाद यह सेवा शुरू होने के कारण टैक्सी की कुछ बुकिंग हुई लेकिन ज्यादातर ऑटो को सवारी नहीं मिली। लंबे इंतजार के बाद शहर में ऑटो-रिक्शा और टैक्सी सेवा शुरू हो गई। पहले दिन गिने-चुने ऑटो चालक स्टैंड पहुंचे, लेकिन कोरोना संक्रमण और तेज गर्मी के चलते उन्हें सवारी नहीं मिले। अधिकांश चौक चौराहों पर ऑटो रिक्शा ड्राइवर खाली बैठे रहे। शहर में चहल-पहल कम होने और ट्रेनों का परिचालन बंद होने से सवारी नहीं मिलने की बात कही। जिले में करीब 13 सौ ऑटो चालक और 800 से ज्यादा प्राइवेट टैक्सी हैं। लॉकडाउन में इनका कामकाज पूरी तरह प्रभावित हुआ है। आगे भी इन्हें बहुत ज्यादा राहत की उम्मीद नहीं है। बस ऑपरेटरों को करना होगा और इंतजार- बस ऑपरेटरों के लिए फिलहाल शासन से कोई आदेश अबतक जारी नहीं किए गए हैं। इसलिए उन्हें काम शुरू करने के लिए थोड़ा इंतजार करना होगा। परिवहन विभाग के अनुसार शासन इसे लेकर तैयारी कर रही है। तय नियमों के साथ यह सेवाएं भी सभी जिलों में जल्द शुरू की जाएगी।इन ..
                 

श्रमिकों की बस को मेयर ने किया रवाना, 43 लाख रु. के कार्यों का भूमिपूजन भी

भाठागांव में मजदूरी करने वाले प्रवासी श्रमिकों को महापौर एजाज ढेबर ने उनके घर के लिए रवाना किया। भाठागांव से बसों को रवाना करने के लिए उन्होंने गुरुवार को हरी झंडी दिखाई। उन्होंने बताया कि जल विभाग के अध्यक्ष सतनाम सिंह पनाग की पहल पर पश्चिम बंगाल के निवासी 32 प्रवासी श्रमिकों को जितेंद्र अग्रवाल, पार्षद मन्नू यादव की उपस्थिति में रवाना किया गया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के श्रमिक हितकारी प्रयासों से बंगाल के सभी 32 श्रमिक अपने घर पहुंच कर अपने परिजनों, मित्र और रिश्तेदारों से मिल सकेंगे।वहीं महापौर एजाज ढेबर और विधायक विकास उपाध्याय ने निगम जोन 8 के रामकृष्ण परमहंस और डाॅ. एपीजे अब्दुल कलाम वार्ड मं 43 लाख के सीसी रोड व नाली निर्माण का भूमिपूजन किया। इस दौरान लोककर्म विभाग अध्यक्ष ज्ञानेश शर्मा, श्रीकुमार मेनन, पार्षद मंजू वीरेंद्र साहू उपस्थित रहे। महापौर और विधायक ने जोन 8 कमिश्नर प्रवीण सिंह गहलोत व कार्यपालन अभियंता राकेश गुप्ता को निर्माण कार्य का माॅनिटरिंग कर उसे गुणवत्तापूर्ण सुनिश्चित करने निर्देशित किया। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi Ne..
                 

स्टेशन पर माॅस्क-सेनेटाइजर बांटने की ड्यूटी कर रहे शिक्षक कोरोना पॉजिटिव

कालिका नगर वार्ड क्रमांक 7 तिफरा में रहने वाले 52 साल के शिक्षक की ड्यूटी रेलवे स्टेशन पर लगाई गई है। वे दूसरे राज्यों से घर लौट रहे मजदूरों को मास्क और सेनेटाइजर बांट रहे थे। इसी बीच किसी के संपर्क में आ गए। उन्हें अंदर से ऐसा फील हुआ तो उन्होंने 26 मई को अपनी कोरोना जांच कराई। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उनका सैंपल जांच के लिए रायपुर भेजा। गुरुवार को जब रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो जिला प्रशासन और स्टेशन पर ड्यूटी करने वाले सभी कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। अब शिक्षक के संपर्क में आए लोगों की तलाश शुरू कर दी गई है। वहीं लोखंडी मिडिल स्कूल में पदस्थ शिक्षक को पहले शहर के काेविड अस्पताल में भर्ती किया जाना था, एंबुलेंस उन्हें लेकर नेहरू चौक पहुंची ही थी कि अचानक चालक के पास फोन आया कि शिक्षक को रायपुर भेजना है। रात 8.30 बजे वे रायपुर एम्स के लिए रवाना हो गए। सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन का कहना है कि शिक्षक को डायबिटीज की शिकायत थी इसलिए उन्हें रायपुर एम्स में भर्ती किया है। गुरुवार को शहर में दो नए कोरोना मरीज सहित जिले में 4 मरीज मिले हैं। दो केस मस्तूरी क्षेत्र के हैं। वहीं 23 साल का युवक मंगला ..
                 

श्रमिक स्पेशल घंटों चल रही देरी से, प्लेटफार्म पर सैकड़ों पैकेट भोजन रोज हो रहा खराब

ट्रेनों के विलंब से चलने के कारण श्रमिकों को दिया जाने वाला सैकड़ाें पैकेट भोजन राेजाना तेज गर्मी की वजह से खराब हो रहा है। इसे खराब होने से बचाने के लिए फ्रीजर का इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है।बिलासपुर रेलवे स्टेशन से रोजाना 20 से अधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेनें गुजर रहीं हैं। इनमें से आधे से ज्यादा ट्रेनों में सफर कर रहे श्रमिकों को भोजन के पैकेट देने की जवाबदारी बिलासपुर रेल मंडल प्रशासन को दी गई है। प्रतिदिन 10 से अधिक ट्रेनों में भोजन के पैकेट यानी कि 15000 पैकेट तैयार करने की जवाबदारी आईआरसीटीसी के ठेकेदारों को दी गई है। यह ठेकेदार सुबह से लेकर रात तक 24 घंटे अपने बेस किचन में भोजन पकाने का काम कर रहे हैं, भोजन पकाना ही नहीं उसकी पैकेजिंग करना भी उनकी जवाबदारी है। हर ट्रेन की टाइमिंग के हिसाब से पैकेट तैयार किए जा रहे हैं लेकिन जो ट्रेन विलंब से आती है उसका भोजन भी भरी गर्मी में प्लेटफॉर्म पर रखे-रखे खराब हो जाता है।ब्रेड, स्नैक्स, बिस्किट दिया जा रहाभोजन खराब होने की शिकायतें लगातार मिल रही हैं। इसे देखते हुए रेल प्रशासन ने चावल पुलाव के स्थान पर ब्रेड के बने स्नै..
                 

नेहरू की पुण्य तिथि पर एनएसयूआई ने श्रमिकों को पहनाई चप्पलें

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री व भारत रत्न पंडित जवाहरलाल नेहरू की पुण्य तिथि मनाई गई। इस अवसर पर एनएसयूआई के रंजीत सिंह के नेतृत्व में बिल्हा विस अध्यक्ष विकास तिवारी, बिलासपुर जिला महासचिव राहुल राजपूत ने प्रवासी मजदूरों को चप्पल पहनाईं। विकास तिवारी ने कहा की इस घड़ी में हम प्रवासी मजदूरों के साथ खड़े हैं जो आज अपने आप को असहाय महसूस कर रहे हैं। आज के इस कार्यक्रम में युवा कांग्रेस के ज़िला अध्यक्ष भावेंद्र गंगोत्री, जिला महासचिव निखिल सोनी अजय सोनी, विकास सिंह, मयंक गौतम, युवा कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष एजाज हैदर, राहुल तिवारी बिल्हा ब्लॉक अध्यक्ष समेत अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today NSUI workers wear slippers on Nehru's death anniversary..
                 

अब रिटेल कस्टमर पर भी फोकस, सेल सिक्योर टीएमटी बार की रोलिंग हुई शुरू

बीएसपी के आधुनिक बार एंड रॉड मिल (बीआरएम) ने गुरुवार से सेल सिक्योर 12 एमएम टीएमटी बार की कमर्शियल रोलिंग शुरू की। इस तरह टीएमटी की रेंज में एक और उत्पाद जुड़ गया। सेल ने पिछले वित्तीय वर्ष 2019-20 में सेल सिक्योर नाम से टीएमटी बार का नया ब्रांड लॉन्च किया था। पहली खेप को मई 2019 में सेल के बर्नपुर से रवाना किया था। गुरुवार को उत्पादन शुरू होने पर सीईओ अनिर्बान दासगुप्ता, ईडी वर्क्स बीपी सिंह सहित अन्य मौजूद थे।टीएमटी के नए ग्रेड की मजबूती की वजह: सिक्योर टीएमटी बार्स अत्यधिक क्लीन स्टील द्वारा बनाया जाता है जिसके कारण सल्फर और फॉस्फोरस की मात्र कम होने के साथ-साथ गैसीय उपस्थिति को भी नियंत्रित किया जाता है। यह टीएमटी बार की गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार लाता है। सेल सिक्योर टीएमटी बार में समान रिब पैटर्न कंक्रीट के साथ मजबूत बंधन प्रदान करता है। बेंडेबिलिटी होने से इसे आसनी से मोड़ा जा सकता है।भूकंपरोधी होने के साथ है जंगरोधी भी: सेल सिक्योर टीएमटी बार्स में बेहतर लचीलापन के साथ उच्च शक्ति का अद्वितीय संयोजन है। इस वर्ग के लिए बीआईएस द्वारा न्यूनतम स्तर से बेहतर है। इस वर्ग में 1.16 के अ..
                 

26 महीने बाद एक वार्ड में भी पूरी नहीं हो रही पानी की सप्लाई : विधायक वोरा

शहर में पेयजल आपूर्ति व्यवस्था बिगड़ी हुई है। लगातार खामियां सामने आ रही है। बावजूद समस्या का निराकरण नहीं हो पा रहा। गुरुवार को शहर विधायक अरुण वोरा पटरीपार में आपूर्ति व्यवस्था देखने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने लचर व्यवस्था देख नाराजगी जताई। उन्होंने अमृत मिशन की कार्य एजेंसी को लेकर कहा कि 26 महीने बाद भी किसी एक वार्ड में पेयजल सप्लाई पूरी तरह से शुरू नहीं हो सकी है। न ही पाइप लाइन बिछाने का काम पूरा हुआ है। उन्होंने तत्काल इसे कराए जाने के निर्देश अधिकारियों को दिए।वोरा आदित्य नगर व जवाहर नगर पहुंचे। जहां स्थानीय लोगों से बात की। लोगों ने बताया कि पिछले 3 दिनों से आपूर्ति प्रभावित है। अमृत मिशन से पाइप लाइन बिछाने का काम धीमा है। जगह-जगह खोदे गए गड्ढों का मलबा भी नहीं उठाया जा रहा। वोरा ने तत्काल टैंकर बुलवाकर लोगों की समस्या का निराकरण किया। वोरा ने फिल्टर प्लांट में बार बार खराबी आने पर भी नाराजगी व्यक्त की और नए मोटर पंप लगाने कहा। वोरा ने निकाय सचिव अलरमेल मंगई डी से फोन पर चर्चा की। उन्होंने वस्तु स्थिति से अवगत कराया। इस पर सचिव ने राज्य स्तरीय टीम भेजकर मॉनिटरिंग कराने की बात ..
                 

हाथियों ने पिपराही में फसल रौंदी, फाॅरेस्ट गार्ड ने 300 मीटर दौड़कर बचाई जान

छुरा विकासखंड में लगभग 24 हाथियों के दल ने प्रवेश कर लिया है। बुधवार की शाम ये हाथी ग्राम जामली कुड़ेमा के जंगल में देखे गए थे। बुधवार की रात्रि हाथियों का ये दल जामली कुड़ेमा के जंगलों में छिपा रहा तथा वन चौकीदार को करीब 300 मीटर तक दौड़ाया भी। गुरुवार को हाथी ग्राम पंचायत तड़के 5 बजे पिपराही आ पहुंचे औऱ किसान कन्हैया पटेल के 2 एकड़ धान की कटी फसल को बुरी तरह रौंदकर टेंगनाही जंगल की तरफ निकल गए। ये हाथी महासमुंद वन परिक्षेत्र से यहां पहुंचे हैं। गुरुवार की शाम हाथियों का दल पिपराही कोसमी के जंगल होते हुए शाम 5 बजे तक दुल्ला जंगल पहुंच चुका था। वन विभाग ने आसपास के ग्रामीणों को अलर्ट रहने को कहा है। जंगल में ड्यूटी पर तैनात वन कर्मी धनेश सिन्हा ने बताया कि बुधवार रात्रि गश्त के दौरान वन चौकीदार देवराज साहू को हाथियों के दल ने लगभग 200 से 300 मीटर तक दौड़ाया तो चौकीदार ने गड्ढे में कूदकर अपनी जान बचाई। छुरा वन परिक्षेत्र की गाड़ियों के आसपास भी हाथियों का झुंड जंगल में घंटों मंडराता रहा। फ़िर थोड़ी देर बाद वापस दुल्ला के जंगल में घुस गए। प्राप्त जानकारी के मुताबिक ये हाथियों का वही दल वही दल..
                 

अब अगरबत्ती बेचकर महिलाएं 1 किलो पर कमा रही हैं 12 रुपए

कोरोना महामारी के कारण पिछले दो माह से जारी लॉकडाउन से जब बड़े-बड़े उद्योग व्यवसाय वालों की हालत खराब है। ऐसे समय में अत्यंत कमजोर आर्थिक परिस्थिति वाली विधि महिला स्वयं सहायता समूह ने अगरबत्ती बनाने का नया व्यवसाय कर गजब का हौसला दिखाया है।बाल विकास विभाग द्वारा सबला योजना के अंतर्गत रेडी टू ईट निर्माण के लिए 3 साल का ठेका दिया लेकिन परंतु 8 महीने बाद ही एग्रीमेंट तोड़ते हुए काम बंद करा देने से उन्हें लाखों रुपए का नुकसान हुआ था। इसके बावजूद सहायता समूह की महिलाओं ने हार नहीं मानी और अगरबत्ती व्यवसाय करने का फैसला लिया। आज 1 किलो अगरबत्ती बनाने में उन्हें सारा खर्च काटने के बाद लगभग ₹12 का लाभ मिल रहा है।समूह की सचिवममता वर्मा एवं गायत्री वर्मा ने बताया कि वे फरवरी महीने में रायपुर जिले के बाराडेरा में राज्य सरकार की ओर से आयोजित कृषि मेला देखने गई थी। वहां पर लगाए गए विभिन्न रोजगार मूलक स्टॉलों में उन्हें अगरबत्ती बनाने का व्यवसाय पसंद आया। इसके बाद उन्होंने बोरसी (दुर्ग) स्थित मां शीतला इंटरप्राइजेज कंपनी से संपर्क कर अगरबत्ती बनाने की मशीन व रॉ मटेरियल खरीदने का प्रस्ताव रखा। इस पर..
                 

कामकाज संभाल कलेक्टर जैन ने कोरोना के ताजा हालात देखे

जिले के नए कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने गुरुवार की दोपहर जिला कार्यालय में अधिकारियों की मौजूदगी में कामकाज संभाला। यहां पदस्थ होने से पहले वे महासमुंद के कलेक्टर थे। जिला कार्यालय सहित तमाम बड़े अफसरों ने कलेक्टर से सौजन्य भेंटकर स्वागत किया।नव पदस्थ कलेक्टर ने अधिकारियों से चर्चा कर जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के ताजा हालात की जानकारी ली और निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुरूप तमाम व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। अधिकारियों ने शुरूआती मुलाकात में परिचय के साथ ही राज्य सरकार की योजनाओं में प्रगति से कलेक्टर को अवगत कराया। कलेक्टर ने संयुक्त जिला कार्यालय में संचालित विभिन्न कार्यालयों का अवलोकन भी किया। उन्होंने अधिकारियों को कार्यालयीन रिकार्डों के व्यवस्थित रख-रखाव और नियमित रूप से कार्यालयों की साफ-सफाई के निर्देश दिए।इस अवसर पर जिपं सीईओ आशुतोष पाण्डेय, अपर कलेक्टर जोगेंद्र नायक, सहायक कलेक्टर नम्रता जैन, संयुक्त कलेक्टर अरविन्द पाण्डेय, इंदिरा देवहारी, कमाण्डेन्ट नागेन्द्र सिंह,एसडीएम लवीना पाण्डेय, डिप्टी कलेक्टर राकेश गोलछा, सीएमएचओ डाॅ.खेमराज सोनवानी आदि उपस्थित थे। Do..
                 

रायपुर की ट्रेन की बोगियों में रोबोट करेगा सैनिटाइजेशन का काम, कम करेगा संक्रमण का जोखिम

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अल्ट्रावायलेट सेनिटाइजेशन रोबोट बनाया हैं। इसका इस्तेमाल रेलवे कोचों को सैनिटाइज करने के लिए किया जाएगा। इससे रेलवे के कर्मचारी ट्रेन के अंदर गए बिना ही उसे सैनिटाइज कर पाएंगे। सोशन डिस्टेंसिंग का पालन भी होगा। चूंकि लोगों के बीच रोबोट होगा इससे संक्रमण का जोखिम भी कम होगा। रोबोट जब कोच में जाएगा तो यूवी-सी किरणों को रिमोट के द्वारा नियंत्रित कर छोड़ा जाता हैं, रिमोट कैमरा की दृष्टि से सैनिटाइजर मूवमेंट को देखा जा सकता हैं।रेलवे की तरफ से कहा गया है कि यूवी-सी किरणें रोग जनक वायरस को मारने में प्रभावी हैं। बाजार में इसी तरह के उपकरणों की कीमत लगभग ढाई लाख रुपए है जबकि रेलवे की टीम ने इसे महज पच्चीस हजार की लागत में तैयार कर लिया है। रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि पिछले दिनों देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि हमें आत्मनिर्भर होने की जरुरत है। इसी से प्रेरित होकर यह रोबोट बनाया गया है।श्रमिकों के लिए भी इंतेजाम5 मई से लगातार रायपुर मंडल से गुजरने वाली श्रमिक ट्रेनों में नाश्ता और भोजन के साथ पीने के पानी..
                 

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को 18 दिन में दूसरी बार दिल का दौरा पड़ा, हालत गंभीर

छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी की तबीयत फिर बिगड़ गई है। उन्हें बुधवाररात करीब 1 बजे दिल का दौरा पड़ा। तब से उनकी हालत और गंभीर हो गई। डॉक्टरों का कहना है कि उनकाहार्ट और पल्स रेट स्थिर नहीं है।जोगी 9 मई से कोमा में हैं। उन्हें दिल का दौरा पड़ने के बाद यहां नारायणा अस्पताल मेंभर्ती किया गया था।श्रीनारायणा अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. सुनील खेमका ने बताया कि रात को अचानक जोगी को कार्डियक अरेस्ट आया था। इसके बादहार्ट सर्जन समेत तमाम डॉक्टर आईसीयू पहुंचे। उनका हार्ट और पल्स रेट स्थिर करने की कोशिश की जा रही है।कार्डियक अरेस्ट के बाद ही भर्ती कराया गया थाजोगी 9 मई की सुबह अपने घर के लॉन में इमली खाते हुए टहल कर रहे थे। इसी दौरान इमली का बीज उनके गले में फंस गया। जिसके चलते उनका बीपी गिरने लगा और उन्हें कार्डियक अरेस्ट आ गया। इस दौरान उनकी पत्नी डॉ. रेणु जोगी ने प्राथमिक उपचार देकर उन्हें संभाला और अस्पताल में भर्ती कराया। यहां डॉक्टरों ने गले से बीज तो निकाल दिया, लेकिन इसके बाद जोगी कोमा में चले गए। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today ..
                 

दो माह से वेतन नहीं मिलने से नाराज 15 डॉक्टरों का इस्तीफा

पं. जवाहर लाल नेहरु मेडिकल कॉलेज में दो माह से वेतन नहीं मिलने से नाराज 15 जूनियर रेसीडेंट डॉक्टरों ने इस्तीफा दे दिया है। वे बुधवार को चिकित्सा शिक्षा संचालनालय के अफसरों से मिलने गए थे। अफसरों से उन्होंने वेतन नहीं मिलने की शिकायत की। अफसरों ने उन्हें संतोषजनक जवाब नहीं दिया। उसके बाद ही जूनियर रेसीडेंट डाक्टरों ने इस्तीफा दे दिया। इनमें स्टेट व आल इंडिया कोटे से एमबीबीएस कर रहे छात्र शामिल हैं। जूनियर रेसीडेंट यानी जेआर डाक्टरों की कोरोना ओपीडी से लेकर आईसोलेशन वार्ड में ड्यूटी करवायी जा रही है।चिकित्सा शिक्षा विभाग ने कोरोना संकट को देखते हुए ही मार्च में इंटर्नशिप पूरा करने वाले एमबीबीएस छात्रों को आनन-फानन में जूनियर रेसीडेंट बना दिया था। प्रदेशभर में ऐसे 383 छात्र थे, जिन्हें जूनियर रेसीडेंट बनाया गया था। डाक्टरों की पोस्टिंग तो कर दी गई लेकिन अब तक उनका वेतन नहीं किया गया है। इस वजह से उनकी सैलेरी ही नहीं बन रही है। जूनियर रेसीडेंट की ओर से कई बार इस बारे में आला अफसरों से चर्चा की गई, लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं दिया गया। बुधवार को नाराज डाक्टरों ने चिकित्सा शिक्षा संचालनालय पह..
                 

छत्तीसगढ़ में अब 6 दिन खुलेंगी दुकानें, आज से चलेंगे ऑटो और टैक्सी; एक जुलाई से खुल सकते हैं स्कूल

लॉकडाउन के कारण ठप हुई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने बुधवार को नए दिशा-निर्देश जारी किए। इसके तहत जहां अब सप्ताह में 6 दिन दुकानें खुलेंगी, वहीं 28 मई यानी गुरुवार से ऑटो और टैक्सी भी चलने शुरू हो जाएंगे। इसके अतिरिक्त अन्य राज्यों से लौटने वाले श्रमिकों को राशन और मनरेगा जॉब कार्ड बनेंगे। उनमें से कुशल और अर्धकुशल श्रमिकाें की लिस्ट तैयार कर उद्योगों को सौंपी जाएगी।क्वारैंटाइन सेंटर में रखे गए श्रमिकों के मनोरंजन के लिए टीवी, रेडियो की व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में राज्य की आर्थिक गतिविधियों को दोबारा शुरू करने को लेकर कैबिनेट मंत्रियों और उच्चाधिकारियों की बैठक बुलाई गई थी। इसमें तय किया गया कि लोगों की दिक्कतों को देखते हुए अब वैवाहिक कार्यक्रम की अनुमति तहसीलदार देंगे। इस प्रक्रिया को और सरल बनाया जा रहा है। सरकार की ओर से बढ़ाई गई इस छूट का लाभ फिलहाल रेड जोन और कंटेंनमेंट एरिया में नहीं मिलेगा। वहीं, माॅल, सिनेमा घर, राजनैतिक सभाएं, सामाजिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध पहले की ही तरह होगा। बैठक में एक जुलाई से स्कूल ..
                 

एक दिन में 35 हजार लोग जितना खाना खाते हैं, उतना एक किलोमीटर के दायरे में फैला टिड्डियों का झुंड चट कर जाता है

टिड्डी। वजन महज 2 ग्राम।खाती भी इतना ही है। लेकिन, जब यही टिड्डी लाखों-करोड़ों की तादाद में झुंड बनाकर हमला कर दे, तो चंद मिनटों में ही पूरी की पूरी फसल बर्बाद कर सकती है। फसलों को बर्बाद करने वाली टिड्डों की ये प्रजाति रेगिस्तानी होती है, जो सुनसान इलाकों में पाई जाती है।टिड्डी एक बार फिर चर्चा में है। क्योंकि, अब टिड्डी दल ने भारत में घुसपैठ शुरू कर दी है। अब तक राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश में 50 हजार हेक्टेयर से ज्यादा की फसल टिड्डी दल ने खराब कर दी है। उत्तर प्रदेश के भी कुछ हिस्सों में टिड्डी दल पहुंच गया है।और दिल्ली की तरफ भी आ सकता है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि टिड्डियों का झुंड हवा की दिशा में उड़ता है।एक दिन में 150 किमी तक उड़ सकती है टिड्डीएक्सपर्ट का मानना है कि अगर हवा दिल्ली की तरफ चली तो अगले कुछ दिनों में टिड्डियां दिल्ली पहुंच जाएंगी। अगर दिल्ली में टिड्डियों का हमला होता है, तो ये बहुत खतरनाक भी होगा,क्योंकि यहां का ग्रीन कवर 22% है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, एक टिड्डी दिनभर में 100 से 150 किमी तक उड़ सकती और 20 से 25 मिनट में ही पूरी फसल बर्बाद कर सकती है। इन्हीं सब का..
                 

बस्तर में डाॅक्टर ही पहला कोरोना पॉजिटिव दो दिन पहले राजस्थान के सीकर से आया था

प्रदेश में कोरोना का पहला पॉजिटिव केस 19 मार्च को मिला। जब एक छात्रा लंदन से लौटी थी। 19 मार्च से अब तक 68 दिन में बस्तर सुरक्षित था। इस बीच एक के बाद एक 21 जिलों में कोरोना फैलता गया, मरीज 300 से ज्यादा हो गए। इसके बाद 27 मई को बस्तर कोरोना प्रभावित होने वाला 22वां जिला बना।कलेक्टर अय्याज तंबोली ने बताया कि एक छात्र राजस्थान के सीकर से दिल्ली होते हुए जगदलपुर पहुंचा था, वह कोरोना पॉजिटिव है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि घबराने जैसी कोई बात नहीं है, स्थिति कंट्रोल में है। इधर सूत्र बता रहे हैं कि जो इंटर्न डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव निकला है वह मेडिकल कॉलेज जगदलपुर में पढ़ाई पूरी कर चुका था। फिर छुट्‌टी पर राजस्थान में घर गया था। दो दिन पहले वह रायपुर पहुंचा, वहां से अन्य 4 डाॅक्टर साथियों के साथ जगदलपुर आया था। 5 डाॅक्टरों ने जब बस्तर जिले में प्रवेश किया तब सभी को परपा में डाॅक्टरों के लिए बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर में भेज दिया गया था। इनसे किसी स्थानीय ने मुलाकात नहीं हुई। सूत्र बता रहे हैं कि इंटर्न डाॅक्टर में कोरोना के लक्षण नहीं थे। रैंडमली सैंपल लिए गए थे। इस जांच में ही वह ड..
                 

मजदूरों को तत्काल राशन-जॉब कार्ड, क्वारेंटाइन सेंटर में टीवी और रेडियो भी

दूसरे राज्यों से लौटने वाले मजदूरों के भोजन और रोजगार को ध्यान में रखकर सीएम भूपेश बघेल ने तत्काल राशन व मनरेगा जॉब कार्ड बनाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही, कुशल व अर्द्धकुशल मजदूरों की सूची बनाकर स्थानीय उद्योगों में रोजगार दिलाने कहा है। क्वारेंटाइन सेंटर में रखे गए मजदूरों को तनाव से दूर रखने के लिए टीवी और रेडियो के साथ ही मनोवैज्ञानिकों की मदद ली जाएगी।सीएम बघेल की अध्यक्षता में बुधवार को सीएम हाउस में हुई अहम बैठक में सीएम ने कहा कि मजदूरों को मनोवैज्ञानिकों की सेवाएं देने योग या अन्य प्रेरक गतिविधियां संचालित किए जाएं। अफसरों ने बताया कि अब तक 2.12 लाख प्रवासी मजदूरों की छत्तीसगढ़ वापसी हो चुकी है। 53 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें छत्तीसगढ़ आ चुकी हैं। 68 ट्रेनें अभी प्रस्तावित हैं। कलेक्टरों को राज्य आपदा निधि से 18.20 करोड़ और मुसीबत में फंसे मजदूरों की मदद के लिए करीब 4 करोड़ दिए गए हैं। दूसरे राज्यों में रह रहे प्रवासी मजदूरों के बैंक खातों में 66.73 लाख रुपए डाले गए हैं। स्वास्थ्य विभाग को भी राज्य आपदा निधि से 75 करोड़ दिए गए हैं। बैठक में रविंद्र चौबे, ताम्रध्वज साहू, टीएस सिंहदेव, मोह..
                 

नया शिक्षा सत्र 15 जून से नहीं जुलाई के बाद ही संभव होगा

इस साल स्कूल जून में नहीं खुलेंगे। अभी बाहर से आए मजदूरों को स्कूलों में क्वारेंटाइन किया गया है। इन सबके जाने के बाद स्कूलों को सैनिटाइज किया जाएगा। इस पूरी प्रक्रिया में जून का पूरा महीना निकलना तय है। यदि सब कुछ ठीक रहा तो जुलाई के पहले सप्ताह में स्कूल खुल सकते हैं। अभी प्रदेश में 70 हजार पंजीकृत मजदूरों का आना बाकी है। इनके आने के बाद उन्हें क्वारेंटाइन करने में और समय बढ़ सकता है। इसलिए एक संभावना यह भी है कि इस साल शिक्षा सत्र अगस्त में ही खुले। स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने साफ कहा है कि जुलाई के पहले किसी भी शर्त में स्कूल नहीं खाेले जा सकेंगे। दरअसल राज्य के लगभग 15 हजार से ज्यादा स्कूलों को क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है। इन स्कूलों में दूसरे प्रदेशों से आने वाले प्रवासी मजदूरों को ठहराया जा रहा है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अभी तक दो लाख 12 हजार श्रमिक अलग-अलग साधनों से छत्तीसगढ़ आ चुके हैं। जबकि सरकार के पास अब तक दो लाख 92 हजार से ज्यादा श्रमिक ऑनलाइन पंजीयन करा चुके हैं। यानी अभी लगभग 70 हजार श्रमिकाें की वापसी शेष है। इस लिहाज से पूरा जून श्रमिकों की वापसी में..
                 

‘आपके प्रसव का वक्त आ गया है, एम्बुलेंस भेज रहे हैं’

अंबु शर्मा | हैलो... मैं हेल्थ कॉल सेंटर से बोल रही हूं, आपके प्रसव का वक्त नजदीक आ गया है, सुरक्षित प्रसव जरूरी है, आपको लेने एम्बुलेंस आ रही है, प्रसव कहां कराना चाहेंगी? ऐसे ही कॉल अब दंतेवाड़ा की उन गर्भवती महिलाओं के पास आने शुरू होंगे, जिनके प्रसव का समय 5-7 दिन बचा होगा।नक्सल प्रभावित जिला दंतेवाड़ा में संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने, मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करने इस तरह की शुरुआत होने वाली है। इसके लिए बाकायदा प्रशासन ने जावंगा के बीपीओ कॉल सेंटर से एमओयू भी कर लिया है। यहां से उन स्थानीय युवाओं को हायर किया है, जिन्हें हल्बी और गोंडी बोलियों का भी अच्छा ज्ञान है। अभी ट्रॉयल चल रहा है। 3-4 दिनों के अंदर इसका शुभारंभ हो जाएगा। सीएमएचओ डॉ. एसपीएस शांडिल्य ने बताया फिलहाल एक साल तक इस तरह का काम करके देखा जाएगा, निश्चित ही बदलाव आएगा।ऐसे होगा काम: गांव के मोहल्ले तक की टीम जुड़ेगीजावंगा के बीपीओ कॉल सेंटर से ही हेल्थ कॉल सेंटर का संचालन होगा। इस काम से जिला स्तर से लेकर गांव के मोहल्ले तक के कर्मचारी जुटकर काम करेंगे। इस कॉल सेंटर में जिन युवाओं की टीम काम करेगी। उन्हें गर्भवती महि..
                 

वीडियो के जरिए बच्ची ने किया जागरूक, एसपी ने की सराहना

जवानों की तरह वर्दी पहने चार साल की आराध्या चाण्डक मंगलवार को परिजनों के साथ एसपी दफ्तर पहुंची। एसपी शलभ सिन्हा ने बच्ची को अपने पास बुलाया। खुद खड़े हुए और बच्ची को अपनी कुर्सी पर बैठाया। बच्ची को पत्र सौंपकर एसपी ने आराध्या चाण्डक की सराहना करते हुए उसके उज्जवल भविष्य की कामना की। गौरतलब है कि बीते दिनों आराध्या चाण्डक का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ था। वीडियो में आराध्या लोगों को कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के तरीके बताते हुए लोगों काे कोरोना वायरस बचाने के लिए जागरूकता संदेश दे रही थी। लोगों ने इस वीडियो कोखूब पंसद किया। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Girl made aware through video, SP praised..
                 

आज बाइपास का ट्रायल, सफल रहा तो गुजरेंगे भारी वाहन

कांकेर शहर में 10 किमी लंबी बाइपास को बुधवार को खोल दिया गया। हालांकि पहले दिन केवल छोटे वाहन और खाली ट्रकों को जाने दिया, लेकिन गुरुवार को इसका ट्रायल है। यदि ट्रायल सफल रहा तो आगे से इसी से होकर भारी वाहन भी गुजरेंगे। इसका निर्माण 2016 में शुरू हुआ था। सडक़ तो लगभग बन कर तैयार हो चुकी है लेकिन दो बड़े तथा दो छोटे पुल अब तक नहीं बन पाए हैं। इन पुलों पर डायवर्सन तैयार कर बाइपास रोड खोली गई है।माकड़ी से सिंगारभाट तक कांकेर बाइपास का निर्माण पिछले चार सालों से बेहद धीमी गति से चल रहा है। यही कारण है कि दो साल में बनकर तैयार होने वाला बाइपास चार सालों में भी पूरा नहीं हो पाया है। वर्तमान में सड़क तो पूरी बन गई है लेकिन पुल नहीं बन पाए हैं। नेशनल हाईवे डिवीजन ने पुलों के बनने में हो रही देर को देखते डायवर्सन तैयार कर इस मार्ग से आवागमन शुरू कराने कानिर्णय लिया था। बाइपास माकड़ी की जगह नांदनमारा पुल क्रॉस करने के बाद डायवर्सन बनाकर शुरू की गई। नांदनमारा पुल के आगे से बाइपास शुरू करने के चलते समस्या एक बड़े पुल दुधनदी के अलावा दो छोटे पुलों को लेकर है। इनमें डायवर्सन तैयार कर आवागमन शुरू कराया..
                 

नौतपा में तीसरे दिन भी तापमान 41 के पार

नौतपा में गर्मी के तेवर बरकरार है। पश्चिम से आ रही गर्म हवाओं के कारण शहर सहित पूरे संभाग में भीषण गर्मी पड़ रही है। इसका लोगों के जनजीवन पर भी असर दिखने लगा है।बुधवार को को हल्के बादल के बाद पूरे दिन जमकर गर्मी पड़ी और शहर का अधिकतम तापमान 41.6 डिग्री व न्यूनतम तापमान 26.7 डिग्री दर्ज किया। बीते चौबीस घंटे में इसमें मामूली गिरावट दर्ज की गई है। यहां बता दें कि मंगलवार को अधिकतम तापमान 41.8 डिग्री था। तापमान में बढ़ोतरी से दिन में झुलसा देने वाली गर्मी पड़ रही है और पूरा संभाग लू की चपेट में आ गया है। लोग अब दिन में घर से निकलने से बचने लगे हैं। शाम होने के बाद ही शहर में आवाजाही दिख रही है। यहां बता दें कि सोमवार को अधिकतम तापमान 42 व न्यूनतम तापमान 26 डिग्री दर्ज किया गया था।गर्म हवा से मैनपाट भी तप रहा: गर्मी का असर छत्तीसगढ़ का शिमला कहे जाने वाले मैनपाट में दिखने लगा है। गर्म हवाओं से यह इलाका भी तपने लगा है। हालांकि शहरी इलाके से यहां का तापमान कुछ कम रह रहा है। यहां का अधिकतम तापमान 38 से 39 डिग्री के बीच पहुंच रहा है।गर्म हवाओं से तापमान के स्थिर रहने की संभावनामौसम विभाग के अनुसार ..
                 

65 साल की महिला के हाथ-पैर में फ्रैक्चर, सिम्स में मांगने पर भी नहीं दी एंबुलेंस, स्कूटी पर ले जाने को मजबूर

डॉक्टर के बुलाने पर बुधवार को 65 साल की दादी बतसिया बाई को लेकर युवक सिम्स पहुंचा। बुजुर्ग महिला के हाथ और पैर एक्सीडेंट में फ्रैक्चर हो गए हैं। डॉक्टर ने हाथ का प्लास्टर काट दिया और कहा पैर अभी जुड़ा नहीं है, इसलिए प्लास्टर नहीं कटेगा। चिंगराजपारा निवासी बतसिया बाई को स्ट्रेचर पर लादे उसके नाती प्रकाश ने एंबुलेंस की मांग की लेकिन प्रबंधन ने मना कर दिया। जब कुछ साधन नहीं मिला तो दादी का पैर युवक ने स्कूटी में बांधा और मां को पीछे बैठाकर चला गया। उसने बताया कि जब दादी का एक्सीडेंट हुआ था तब एंबुलेंस को बुलाने इतने फोन किए, लेकिन नहीं आई, अब कैसे देंगे ये सरकारी अफसर। पीआरओ आरती पांडेय ने कहा कि सिम्स में ऐसा कोई नियम नहीं है कि हर किसी को एंबुलेंस उपलब्ध कराई जाए। फोटो: राजू शर्मा Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today 65-year-old woman fractures hand and foot, did not give ambulance even after asking for Sims, forced to take on Scooty..
                 

टीकरकला के क्वारेंटाइन सेंटर में डेढ़ साल की बच्ची की मौत

टीकरकला के क्वारेंटाइन सेंटर में बुधवार को डेढ़ वर्षीय बच्ची ने मां का अधिक दूध पीने से बंधी हिचकी के कारण दम तोड़ दिया। फिलहाल मौत का कारण यहीबताया जा रहा है।प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में डॉक्टरों द्वारा किए गए पोस्टमार्टम के बाद शव को उसके परिजन को सौंप दिया गया, जिन्होंने गांव में उसका अंतिम संस्कार किया। वहीं पुलिस ने एहतियात के तौर पर शव का जरूरी सैंपल सुरक्षित रख लिए हैं। घटना टीकरकला हाई स्कूल के छात्रावास में बने क्वारेंटाइन सेंटर की सुबह 7 बजे की है, जहां देवरगांव के प्रवासी मजदूर दंपती को उनकी डेढ़ साल की बच्ची के साथ 19 मई से आइसोलेट किया गया था। बुधवार सुबह 7 बजे बच्ची को उसकी मां दूध पिलाने के बाद नहाने चली गई। नहाकर आने के बाद उसने देखा कि बच्ची की हिचकी बंधी हुई है और वह ठीक से सांस नहीं ले पा रही है। इसकी सूचना उसने अपने पति को दी। इसके बाद क्वारेंटाइन सेंटर के जिम्मेदारों ने एंबुलेंस बुलवाया और बच्ची को इलाज के लिए गौरेला सीएचसी में भर्ती कराने लेकर जा रहे थे, लेकिन बच्ची ने अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया। अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दि..
                 

नौतपा की झुलसाती धूप से बचाने बैंक के बाहर शेड नहीं, ग्राहक सोशल डिस्टेंस का नहीं कर पा रहे पालन

हालांकि पुलिस दिन में कई बार यहां आकर ग्राहकों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की समझाइश देती है। लेकिन ग्राहक इसका पालन नहीं कर रहे हैं। इसकी मुख्य वजह यह भी है कि नगर के मुख्य मार्ग के किनारे बने भवन में संचालित इंडियन बैंक प्रबंधन बाहर ग्राहकों को नौतपा की झुलसाने वाली धूप से बचाने न तो शेड लगवाया है और न ही पीने के लिए पानी की व्यवस्था किया है।दूसरी ओर प्रबंधन अगर बैंक के बाहर छांव के लिए शेड आदि लगवाता है तो यहां के मुख्य मार्ग में हर समय ट्रैफिक जाम की स्थिति बनेगी, क्योंकि बैंक के सामने न तो गाड़ियों के पार्किंग की व्यवस्था है और न ही ग्राहकों के खड़े होने पर्याप्त जगह। लोग सड़क किनारे इसी तरह भवन बना कर बैंक कार्यालय आदि को लीज पर देकर किराया वसूल रहे हैं। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today No shed outside the bank to protect from scorching sun of Nautpa, customers are not able to follow social distance..
                 

लॉकडाउन के कारण ऑटो के पहिए थमे तो अब बना रहीं मास्क

परिस्थितियां जैसी भी हो, सकारात्मक सोच वाले कभी भी नहीं हारते। उसका जीता जागता उदाहरण पंजरी प्लांट में रहने वाली अंजना सिंह चौहान है। उन पर बीमार पति का इलाज, दो बच्चों की पढ़ाई और उनकी बेहतर परवरिश की जिम्मेदारी है। 7 साल पहले जब पति की तबीयत खराब हुई, तो उन्होंने ऑटो चलाना सीखा। सब कुछ ठीक ही चल रहा था कि अचानक कोरोना के चलते लॉकडाउन में ऑटो के पहिए भी थम गए। ऐसे में परिवार को संभालना मुश्किल हो रहा था, तभी अंजना को पता चला कि स्व-सहायता समूहों द्वारा मास्क बनाने काम दिया जा रहा है। वह किसी तरह नारी सशक्तीकरण समूह तक पहुंची और काम मांगा। उन्होंने कागज पेन में ड्राइंग कर मास्क बना कर दिखाया। अंजना ने काम शुरू किया, शुरुआत में मास्क सिलने में थोड़ी परेशानी हुई, लेकिन बाद में वह इस काम में माहिर हो गई, अब रोज वो दो सौ मास्क बनाकर पांच सौ रुपए तक कमा रही है। इस पैसे से घर की जरूरतों को भी पूरा कर रही है। अब तक अंजना ने तीन हजार से ज्यादा मास्क बना चुकी है।पति की मानसिक स्थिति ठीक नहीं इसलिए जिम्मेदारीअंजना बताती है कि 2005 में उनकी शादी अनिल सिंह चौहान से हुई थी। सबकुछ ठीक चल रहा था, लेकिन..
                 

पतंजलि की महिला सदस्य राशन देकर 25 गरीब परिवारों की कर रहीं हैं मदद

महिला पतंजलि के सदस्य लॉकडाउन में आपस में मिलकर सेवा का कार्य कर रही है। रविवार को तमनार ब्लाक में 5-6 सदस्यों ने आपस में मिलकर 25 परिवार को सूखा राशन सहित सब्जियां बांटी। इससे पहले उन्होंने सैनिटाइजर के साथ एक हजार मास्क का भी वितरण किया जा चुका है। आने वाले दिनों में एक हजार पैकेट पतंजलि के बिस्किट और साबुन का बांटा जाएगा। महिला पतंजलि की अध्यक्ष गीतांजलि पटनायक, संगठन मंत्री दमयंती गजरे, तहसील प्रभारी जम्बोवती जायसवाल आपस में चर्चा के 3-4 महिलाओं के साथ अपने-अपने घरो से राशन लेकर मार्केट से सब्जी खरीदकर गरीब परिवारों को बांटी गई।सरपंज-सचिव बांट रहे मास्क- सैनिटाइजरसारंगढ़ विकासखंड के ठकुरदिया गांव में लोगों को कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सरपंच दरशराम, सचिव गजानन पटेल के साथ मिलकर सोमवार को मास्क-सेनेटाइजर बांटने निकले। सुबह 8 बजे से 10 बजे तक तीन चार लोगों के साथ जरूरतमंद 50 परिवारों में इसका वितरण किया गया। इसके साथ ही घर के बाहर आसपास के सदस्यों को एक जगह देखकर शारीरिक दूरी बनाकर सोशल डिस्टेंसिंग की जानकारी दी। अभी गांव के बाहर दो स्कूलों को क्वारेंटाइन सेंटर के लिए तैयार किया गय..
                 

कारखाने और सीमेंट उद्योग स्थापित कर प्रदेश में औद्योगिक क्रांति लाए थे पं. नेहरू: जिला उपाध्यक्ष

बुधवार को प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू की पुण्यतिथि विधायक कार्यालय संगवारी में कांग्रेस जनों ने उन्हें याद कर मनाई। जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष रतिराम साहू ने कहा कि देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले स्व. नेहरू ने 17 वर्षों तक प्रधानमंत्री के तौर पर देश का प्रतिनिधित्व किया।आधुनिक भारत निर्माण की सोच के साथ वे कुशल राजनीतिज्ञ, समाज सुधारक, चिंतक और विचारक थे। भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स द्वारा शैक्षणिक प्रयोग शालाएं, वैज्ञानिक शोध संस्थाएं उन्होंने स्थापित की। स्वतंत्र विदेश नीति की बुनियाद रखी। आर्थिक दृष्टि से कमजोर छत्तीसगढ़ से लोगों के पलायन को रोकने उन्होंने भिलाई स्टील प्लांट स्थापित कर नया औद्योगिक तीर्थ के रूप भिलाई को पहचान दी। साथ ही बालको एल्युमिनियम कारखाना और कोरबा में विद्युत उत्पादन, दल्लीराजहरा और बैलाडिला में लौह अयस्क खदान, सीमेंट उद्योग खड़ा कर प्रदेश में औद्योगिक क्रांति लाई। इस मौके पर पालिकाध्यक्ष धनराज मध्यानी, जीत सिंह, अर्जुन साहू, अजय साहू, अनूप खरे, रामकुमार शर्मा, राकेश सोनकर, विनोद कंडरा आदि उपस्थित थे। Download Dainik B..
                 

प्रदेश में मीसाबंदी व उनकी विधवाओं को एक साल की पेंशन दें सरकार: हाईकोर्ट

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने मीसाबंदियों को बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने प्रदेश सरकार को मीसा बंदियों व उनकी विधवाओं की रोकी गई एक साल के पेंशन राशि को देने का आदेश दिया है। हाईकोर्ट के जस्टिस पी. सैम कोशी की बेंच ने 12 मार्च 2020 को आदेश के लिए फैसला सुरक्षित रखा था। बिलासपुर की जानकी गुलाबानी, रामाधार चंद्रा सहित अन्य ने अधिवक्ता भारत गुलाबानी, गालिब द्विवेदी, अमियकांत तिवारी के माध्यम से याचिका पेश की। इसी तरह बिलासपुर के ही मीसा बंदी सीताराम कश्यप की विधवा रूपादेवी सोनी ने अधिवक्ता सुप्रिया उपासने के माध्यम से याचिका दायर की थी। इसमें बताया गया कि मीसा अधिनियम के अंतर्गत 25 जून 1975 से 31 मार्च 1977 तक मीसा अधिनियम के प्रावधानों के अंतर्गत जेल में बंद नागरिकों को सम्मान निधि प्रदान की जा रही थी। प्रदेश में मीसा बंदियों को पेंशन की शुरुआत रमन सरकार के कार्यकाल में लोकतंत्र सेनानी सम्मान निधि नियम 2008 के तहत हुई थी। मीसा बंदी की मृत्यु पर विधवा को सम्मान निधि की आधी राशि सरकार देती थी।प्रदेश में सरकार बदलने पर प्रदेश की वर्तमान सरकार भौतिक सत्यापन के नाम पर पहले 28 जनवरी 2019 से राशि देनी बंद..
                 

1 हजार रुपए के लेन-देन से शुरू हुआ विवाद, दोस्तों ने सारी रात बंधक बनाकर पीटा, मौत हुई तो सुनसान इलाके में फेंक दिया शव

एक युवक को उसके परिचितों ने पीट-पीटकर मार डाला। पुलिस को गुमराह करने के मकसद से सुनसान इलाके में शव और मृतक का स्कूटर फेंककर आरोपी भाग गए। हालांकि कुछ ही घंटों में इस हत्या की गुत्थी को पुलिस ने सुलझा लिया।पुलिस नेमुख्य आरोपी समेत उसके 4 दोस्तों और 2 नाबालिगों को पकड़ा है।पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, 18 साल का मृतक युवराज खरे अपने चचेरे भाई आकाश के साथ पार्टी करनेनिकला था। उसका अपने परिचित मुकेश लाउत्रे के साथ एकहजाररुपए को लेकर विवाद हो गया।मुकेश ने अपने दोस्तों अभिजित लाल, अभिषेक लाल, हरीश चौहान और दो नाबालिग के साथ मिलकर युवराज और आकाश को बांधा और पिटाई की। रात करीब 1 बजे धमकी देकर आकाश को छोड़ दिया। दोबारा युवराज को पीटा और सभी शराब पीकर सो गए। सुबह देखा तो युवराज की मौत हो चुकी थी।इसके बाद आरोपीउसका शव सिरगिट्‌टी इलाके में फेंक कर भाग गए। मृतक के स्कूटर के नंबर से उसकी पहचान हुई। युवराज के घर वालों ने बताया कि पिछली रात वो आकाश के साथ घर से निकला था। पुलिस आकाश के पास पहुंची और मामले का खुलासा हुआ।​​​​​​ Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today ..
                 

छत्तीसगढ़ में अधिकारियों-कर्मचारियों के इंक्रीमेंट पर रोक, ऐसा करने वाला देश का पहला राज्य; सरकारी विदेश यात्रा पर भी प्रतिबंध लगा

कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉकडाउन का असर पर दिखने लगा है। छत्तीसगढ़ सरकार ने सभी अधिकारियों और कर्मचारियों के इस वर्ष मिलने वाले इंक्रीमेंट पर रोक लगा दी है। ऐसा करने वाला छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य हो गया है। अधिकारियों की विदेश यात्रा पर भी प्रतिबंध लगाया गया है। इसके साथ राज्य में चल रही पुरानी गैर जरूरी योजनाओं को बंद करने के आदेश जारी किए गए हैं। नई योजनाओं में उन्हीं पर ही काम होगा, जो जरूरी होंगी। सरकार ने केंद्रीय बजट में मिली योजनाओं की राशि को भी विभागों से 15 जून तक राजस्व में जमा कराने के निर्देश दिए हैं।वित्त विभाग की ओर बुधवार को जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि देशव्यापी लाॅकडाउन के कारण राज्य सरकार को मिलने वाले राजस्व में बुरा असर पड़ा है। इसके साथ ही इस महामारी के रोकथाम के लिए अतिरिक्त संसाधनों की व्यवस्था तत्काल की जानी है। इसे देखते हुए सरकारी खर्च को सही रूप में विकास कार्यों के लिए खर्च करने की जरूरत है। यह आदेश राज्य के सभी सरकारी विभागों, कार्यालयों के साथ-साथ सभी निगम, मंडल, आयोग, प्राधिकरण, विश्वविद्यालय और अनुदान प्राप्त स्वशासी संस्थाओं पर सामान रूप से 31 ..
                 

छत्तीसगढ़ में एक करोड़ से अधिक टिड्डियों के हमले की आशंका, भगाने के लिए डीजे की भी बुकिंग

छतीसगढ़ में पहली बार पाकिस्तानी से आ रहीटिड्डियों के बड़े हमले की आशंका जताई गई है।कवर्धा जिले केसहसपुर लोहारा ब्लॉक के बिरोड़ा गांव मेंटिडि्डयों के हमलेकी आशंका है। यहीं से ये टिड्डियां हवा के रूख के मुताबिक प्रदेश में आगे बढ़ेंगी। पाकिस्तान की सीमा में तामपान बढ़ने से टिड्डियां राजस्थान से मध्यप्रदेश के नीमच, पन्ना, छतरपुर, सतना और महाराष्ट्र के अमरावती जिले में प्रवेश कर चुकी हैं। इन जगहों पर टिड्डियों के दल ने फसलों को काफी नुकसान पहुंचाया है। अब ये दल छत्तीसगढ़ में प्रवेश करने वाला है। इसे देखते हुए लोहारा में डीजे तक की बुकिंग की गई है।मध्य प्रदेश के छतरपुर पहुंचने परसोमवार को जिला प्रशासन की ओर से फायर ब्रिगेड के जरिए दवाई का छिड़काव कराया गया।उद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक आरएन पांडेय ने बताया कि टिड्डियों के दल की संख्या चार है। इसमें एक दल में करीब एक करोड़ टिड्‌डी रहते हैं। केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र रायपुर की ओर से जारी की गई सूचना के अनुसार, महाराष्ट्र के अमरावती जिले से होते हुए कवर्धा के सहसपुर लोहारा ब्लॉक में प्रवेश कर सकते हैं। अनुमान के मुताबिक यह दल मंगलव..
                 

ओडिशा लौट रहे मजदूर की ट्रेन में मौत, बेटे ने किया अंतिम संस्कार, वीडियो कॉल कर मां को कराया दर्शन

मनीष पांडेय |दो दिन पहले गुजरात से ओडिशा जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन में एक यात्री की मौत हो गई थी। मंगलवार को उसका महासमुंद के दलदली रोड स्थित मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान मृतक का बेटा अनिल स्वाईं सहित उसके परिजन और मुक्तिधाम सेवा समिति के सदस्य मौजूद रहे। ओडिशा के गंजाम जिले के अस्फा गांव निवासी प्रफुल स्वाईं सूरत की साड़ी मिल में काम करता था और लॉकडाउन के कारण वहीं फंस गया था। 23 मई को वह अपने बेटे अनिल के साथ श्रमिक ट्रेन से अपने गांव के लिए रवाना हुआ था, लेकिन महासमुंद पहुंचने से पहले ही ट्रेन में उसकी मौत हो गई थी। अनिल ने पिता के शव को मुखाग्नि दी। अनिल ने अपनी मां और परिजनों को वीडियो कॉल कर पिता के अंतिम दर्शन और अंतिम संस्कार काे लाइव दिखाया। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Worker returning to Odisha dies in train, son performs last rites, video calls made to mother..
                 

एडीजी हिमांशु गुप्ता भेजे गए पुलिस मुख्यालय, रायपुर आईजी आनंद छाबड़ा पर अब इंटेलिजेंस का भी जिम्मा

छत्तीसगढ़ पुलिस के दो बड़े अधिकारियों का तबादला किया गया है। अब तक इंटेलिजेंस के एडीजी रहे हिमांशु गप्ता को कार्यमुक्त करने का आदेश जारी किया गया है। मंगलवार को यह आदेश गृह विभाग के अवर सचिव डीपी कौशल ने जारी किया। गुप्ता के पास अब कौन से विभाग का जिम्मा होगा यह साफ नहीं है। उन्हें पुलिस मुख्यालय में बतौर एडीजी रखा गया है। रायपुर के आईजी आनंद छाबड़ा मौजूदा जवाबदारी के साथ इंटेलिजेंस के अधिकारी भी बनाए गए हैं।मुख्यमंत्री सचिवालय से जुड़े सूत्रों का कहना है कि सरकार की निगाह गुप्ता पर तब से थी जब रायपुर और भिलाई में दिल्ली की इंकम टैक्स टीम ने छापे मारे। उस टीम ने सरकार के करीबी अधिकारियों के ठिकानों पर एक सप्ताह तक जांच की थी। बताया जाता है कि इस कार्रवाई का कोई खुफिया इनपुट छत्तीसगढ़ पुलिस के पास नहीं था। नक्सल हमलों के जवानों के बड़े नुकसान को लेकर भी यह कयास लगाए जा रहे थे कि सरकार को इंटेलिजेंस सिस्टम को और पुख्ता करने की जरुरत है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today रायपुर आईजी आनंद छाबड़ा, तस्वीर एक स्कूल के कार्यक्रम के दौरान ..
                 

भिलाई में हुई थी बंगाल जा रहे श्रमिक की मौत,रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव, राजनांदगांव में भी एक ने तोड़ा दम

रविवार 24 मई को बंगाल जा रहे श्रमिक अब्बु की मौत भिलाई के चरोदा के पास हो गई थी। मंगलवार को उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसकी जानकारी खुद स्वास्थ्य मंत्री ने ट्वीट के जरिए दी। भिलाई 3 थाना क्षेत्र में जब वह बस के जरिए पहुंचा तो उसकी तबीयत बिगड़ने लगी। चक्कर आने लगे उसे उल्टियां भी हुई और अचानक उसकी मौत हो गई। पुलिस ने उसके साथ सफर कर रहे 5 परिजन को रोका था। अब सभी को आईसोलेशन में भेजा गया है।राजनांदगांव में भी मौतमहाराष्ट्र की दिशा से आने वाले एक वृद्ध की मंगलवार की दोपहर बागनदी बॉर्डर पर मौत हो गई। मौत का कारण फिलहाल स्पष्ट नहीं हो पाया है। परिजन की मानें तो वे डायबिटीज के मरीज थे। महाराष्ट्र की बस से उनका परिवार बागनदी तक तो पहुंच गया लेकिन बॉर्डर पर ही उन्होंने दम तोड़ दिया। मृतक का नाम सपत उल्ला बताया जा रहा है। मृतक का सैंपल एम्स भेजा गया। रिपोर्ट आने के बाद ही उनका पोस्टमार्टम किया जाएगा। सीएमओ डॉ.मिथलेश चौधरी ने बताया कि सूचना पर पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर पहुंची। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today तस्व..
                 

साहब...मई-जून में अच्छा मुहूर्त, अनुमति दे दीजिए, इसके बाद लंबे समय तक शुभ लग्न नहीं, अटक जाएगी शादी

तारा परसवानी | बलौदाबाजार ।कोरोना का असर शादी-विवाह पर भी पड़ रहा है। संक्रमण से बचाव के लिए सामूहिक कार्यक्रमों पर रोक लगी है, ऐसे में जिन लोगों की शादी तय हो गई है, वे समारोह को लेकर चिंतित हैं और अनुमति के लिए तपती धूप में कलेक्टोरेट पहुंच रहे हैं। मंगलवार को कलेक्ट्रेट में अपने-अपने बेटे-बेटी की शादी के कार्ड लेकर उनके पिता अनुमति लेने तपती धूप में घंटों लाइन लगाकर खड़े रहे लेकिन उन्हें अनुमति नहीं मिली। हर कोई सिर्फ एक ही बात कह रहा था कि हम सिर्फ 5 लोगों को शादी में बुला लेंगे। कुछ लोग मजबूरी में शादी कर रहे हैं, क्योंकि वर-वधु की कुंडली मिलान के दौरान ऐसी स्थिति बनी है कि यदि मई-जून में मिले मुहूर्त में शादी नहीं होती तो फिर लंबे समय तक अच्छी लग्न नहीं मिल रही है। कोदवा से आए देवदास साहू ने बताया कि उनकी दो बेटियां सविता और मोनिका हैं। दोनों की ही 5 जून की शादी निकली है। एक की शादी भाटापारा तहसील के तरेंगा और दूसरी की बिटकुली से होनी है। आशंका यह भी है कि एक बार शादी टल गई तो कहीं आगे भी कोई अड़चन न आ जाए।मोहतरा के सोहनलाल के बेटे की शादी 7 जून को है। शादी की परमिशन के लिए शादी क..
                 

तीन महीने से हैंडपंप खराब, तालाब का गंदा पानी पी रहे ग्रामीण

बढ़ते कोरोना संकट के साथ ही जिले में पानी की गंभीर समस्या सामने आई है, जहां सैकडों महिला पुरुष और बच्चों को तालाब का पानी पीने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। हैंडपंप के खराब होने के बाद उसकी मरम्मत नहीं होने से ग्रामीणों को तलाब का पानी पीना पड़ रहा है। मामला जिले के नागलोक फरसाबहार ब्लाक के ग्राम पंचायत उपरकछार (लठबोरा) के महादेवमुड़ा बस्ती का हैं। यहां लगभग सैकड़ों परिवार निवासरत हैं। इसके बावजूद पानी को लेकर पीएचई के अफसर गंभीर नही हैं। उनकी अनदेखी से ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर हैं गांव में हैंडपंप लगाया गया है, लेकिन वो भी तीन माह से खराब पड़ा है। विडंबना है कि खराब पड़े हैंडपंप की मरम्मत के लिए विभाग के कर्मचारियों को सूचना देने के बाद भी इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Hand pump bad for three months, villagers drinking dirty water of pond..
                 

बकावंड, बास्तानार ऑरेंज जोन में, नानगुर किलेपाल, फरसगांव अब ग्रीन में शामिल

संभाग में कोरोना जांच के मामले में अभी भी कई जिलों के ऐसे ब्लॉक हैं जहां आबादी के अनुसार जांच नहीं हो पा रही है। ऐसे में इन ब्लॉकों को ऑरेंज जोन में डाला जा रहा है इसके अलावा कुछ ब्लॉक को ऑरेंज जोन से बाहर लाया गया है। राज्य सरकार ने कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या, मरीजों की दोगुनी होती संख्या और सैंपल जांच प्रति लाख जनसंख्या के आधार पर ऑरेंज और रेड जोन की नई सूची जारी की है। इसमें बस्तर के बकावंड और बास्तानार को ऑरेंज जोन में रखा गया है।जबकि पहले ऑरेंज जोन में रखे गए किलेपाल और नानगुर ब्लॉक को नई सूची में ग्रीन जोन में शामिल कर दिया गया है। इसके अलावा दंतेवाड़ा का गीदम नई सूची में भी ऑरेंज जोन में है। इसी तरह कोंडागांव जिले के फरसगांव को भी अब ऑरेंज जोन की सूची से हटा दिया गया है। बस्तर में दो महीनों में करीब 8 हजार सैंपल की जांच हुई है। जबकि सिर्फ जिले में ही बाहर से आने वाले 12 हजार से ज्यादा है।बॉर्डर पर सख्ती, इधर पेड क्वारेंटाइन का भी विकल्पइधर प्रदेश में कोरोना के मामले बढ़ने के साथ ही अब जिले के सभी बॉर्डर पर सख्ती की जा रही है जिले के बाहर से आने वाले लोगों को अनिवार्य रूप से ..
                 

रैपिड जांच की निगेटिव रिपोर्ट को जरिया बनाकर बिना अनुमति मुंबई से कांकेर पहुंचे तीनों कोरोना संक्रमित

जिले में कोरोना मरीजों की संख्या अब 8 हो गई है। इसमें सोमवार को पाए गए तीन नए मरीज भी मुंबई से ही आए हैं। तीनों मरीज अपनी व्यवस्था कर जिला प्रशासन को जानकारी दिए बगैर ही कांकेर आ गए। तीनों मरीजों में एक की जांच मुंबई तथा दो की डौंडीलोहरा में रैपिड किट से की गई थी। जिसमें निगेटिव पाए गए थे। इसके बाद पुलिस ने इन्हें आगे रवाना कर दिया था। तीनों इसी रैपिड किट से हुई जांच रिपोर्ट के सहारे आगे बढ़ते हुए कांकेर तक पहुंच गए जहां स्वाब सैंपल जांच में कोरोना पॉजिटिव पाया गया।मुंबई समेत महाराष्ट्र के कई इलाकों से मजदूरों के लौटने का सिलसिल जारी है। मजदूरों का जत्था अलग-अलग संसाधनों से कांकेर पहुंच रहा है। इसके अलावा महाराष्ट्र में पढ़ाई व कंपनियों में काम करने गए लोग भी अब जिला प्रशासन को बिना जानकारी दिए जिले में वापस आ रहे हैं। जिले में अब तक मिले कुल 8 कोरोना मरीजों में पांच मुंबई से ही लौटने वाले हैं जो वहां की एक मेट्रोललाइन कंपनी में काम कर रहे थे। सोमवार को जिन तीन मरीजों की रिर्पोट आई उनमें इरागांव क्वारेंटाइन सेंटर में रखे गए बरहेली के मजदूर की मुंबई में ही रैपिड किट से कोरोना जांच की गई..