जागरण हिन्दुस्तान दैनिक भास्कर नईदुनिया नवभारत टाइम्स

घर-घर सर्वे के दौरान बीमार मिली महिला भी संक्रमित, जोधपुर में 9, जैसलमेर में 7, बांसवाड़ा में 7 और जयपुर में 3 पॉजिटिव

राजस्थान में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। यहां मंगलवार सुबह 27नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए। जिसमें से 9 जोधपुर में संक्रमित मिले। जिसमें से 6 एक दिन पहले संक्रमित मिले व्यक्त के परिवार से हैं। वहीं सातवींमहिला एक दिन पहले संक्रमित मिले व्यक्ति की पत्नी है।जिसके साथ चिंता का कारण ये है कि जोधपुर में गोयल अस्पताल का एक चिकित्साकर्मी और घर-घर सर्वे के दौरान बीमार मिलीमहिलाभी पॉजिटिव पाईगईहै। इनके अलावा 7 केस जैसलमेर में पॉजिटिव मिले। जो बीकानेर में संक्रमित मिल चुके व्यक्ति के संपर्क में आए थे। साथ ही बांसवाड़ा में 7, जयपुर में 3 और चूरू में 1 केस सामने आया है। जिसके बाद कुल आंकड़ा 328पहुंच गया है।इससे पहले सोमवार को 35 नए मामले सामने आए। इसमें जयपुर में 8, झुंझुनू में 5, दौसा में 3, डूंगरपुर में 2, टोंक में 2 जोधपुर 4 (3 ईरान से लौटे) बीकानेर में 1 और कोटा में 10 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए। कोटा में सभी एक ही परिवार हैं। जो सुबह की रिपोर्ट में पॉजिटिव मिले 60 साल के व्यक्ति से संक्रमित हुए। इनकी रिपोर्ट आने से पहले ही रविवार रात मौत हो गई थी।राजस्थान के 22 जिलों में को..
                 

यहां तेजी से बढ़ रहे हैं संक्रमण के मामले, 6 दिन में 5 नए हॉटस्पॉट बने, तब्लीगी जमात के बाद स्थिति बिगड़ी

राजस्थान में कोरोना का कहर दिनोंदिना बढ़ता ही जा रहा है। पिछले छह दिनों के अंदर प्रदेश में पांच नए कोरोना हॉटस्पॉट बन गए हैं। 31 मार्च तक सिर्फ भीलवाड़ा और जयपुर ही इस लिस्ट में शामिल थे। मगर अब बीकानेर, झुंझुनूं, कोटा, टोंक और जोधपुर भी शुमार हो गए हैं। तब्लीगी जमात के प्रवेश के बाद से स्थिति ज्यादा बिगड़ी है।पिछले एक सप्ताह में ही पाॅजिटिव तीन गुने हो चुके हैं। इसमें सबसे बड़ी भूमिका इन हॉटस्पॉट की ही है। यहां एक या दो संक्रमित के कारण अब 50 से 100 लोगों के पॅाजिटिव होने का खतरा पैदा हो गया है और 300 लोग खतरे में हैं। उनसे आगे संक्रमण कितनों तक पहुंच चुका है, यह सरकार व विभाग के लिए चिंता का सबब बन गया है।1. बीकानेर (11) : 27 डॉक्टर-नर्स समेत 55 खतरे में, करीब 80 लोगों को क्वारैंटाइन किया गयातेली-लौहारान मोहल्ले की 60 वर्षीय विकलांग महिला की पीबीएम अस्पताल में मौत के बाद उसकी रिपोर्ट पॅाजिटिव आई तो हड़कंप मचा। उनके संपर्क में 27 डाॅक्टर-नर्स थे। इसके अलावा लौहारान मोहल्ला के रिश्तेदार और संपर्क वाले 55 लोगों की जान खतरे में है। करीब 80 लोगों को क्वारेन्टाइन किया है। इस कारण सिटी के बीच स..
                 

राज्य में आज 24 नए पॉजिटिव मिले; जयपुर में 105 मामले, इनमें से ओमान से लौटे एक ही व्यक्ति ने 86 को संक्रमित किया

राजस्थान में मंगलवार सुबह 24 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इनमेंसे 9 जोधपुर के हैं, जिसमें छह पॉजिटिव मिले व्यक्ति केपरिवार के हैं। एक महिला संक्रमित मिली जो किएक दिन पहले संक्रमित मिले व्यक्ति की पत्नी है। इसके अलावा, जोधपुर में जोदोअन्य पॉजिटिव मिले हैं। यहप्रशासन के लिएबड़ी चिंता है। इनमें एक यहां केगोयल अस्पताल का एक चिकित्साकर्मी है। दूसरी महिला जो संक्रमित मिली है, वहसर्वे के दौरान बीमार मिली थी। उसकी रिपोर्ट भीपॉजिटिव आई है। अब प्रशासन को आंशका है कि इन दोनों से संक्रमण की चेन बड़ी हो सकती है। इनके अलावा,सातकेस जैसलमेर में पॉजिटिव मिले हैं। यह सभी बीकानेर में संक्रमित मिल चुके व्यक्ति के संपर्क में आए थे। वहीं, बांसवाड़ा में चार, जयपुर में तीनऔर चूरू में एककेस सामने आया है। राजस्थान में संक्रमितों का कुल आंकड़ा325 परपहुंच गया है। राजस्थान में अब तक संक्रमण से छह लोगों की मौत हो चुकी है।जयपुर में संक्रमितों का कुल आंकड़ा 105 है। शहर में 13 मामले तब्लीगी जमातियों के हैं। दो इटली के नागरिक हैं। चार रामगंज से अलग इलाकों के हैं। बाकी 86 मामले ऐसे हैं, जो ओमान से लौटे संक्रमित व्यक्ति ..
                 

एसएमएस के डॉक्टरों को वायरस से बचाने के लिए बनाई सैनेटाइजिंग टनल, 5 सेकंड में कर देगा फुल बॉडी सैनिटाइज

(अर्पित शर्मा)कोरोना से जंग में सबसे ज्यादा संक्रमित होने का खतरा डाक्टरों को है। डाक्टरभगवान बनकर संक्रमितों का न केवल इलाज कर रहे हैं बिल्कि उन्हें स्वस्थ भी कर रहे हैं। ऐसे में मालवीय नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमएनआईटी) की टीम की एक इनोवेशनडाक्टरों के लिए बेहद उपयोगी हो सकती है।एमएनआईटी की टीम ने कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों को वायरस से बचाने के लिए सैनेटाइजिंग टनल तैयार की है। इस टनल से जब डॉक्टर निकलेंगे तो 5-7 सेकंड में उनकी पूरी बॉडी सैनिटाइज हो जाएगी। सवाई मानसिंह अस्पताल के डॉक्टरों से चर्चा के बाद एमएनआईटी के प्रोफेसर्स ने दो दिन में यह टनल तैयार की है।ऑटोमैटिक सेंसर और 10 स्प्रेएमएनआईटी के डायरेक्टर प्रो. उदय कुमार यारागट्टी के निर्देशन में इन्क्यूबेशन सेंटर के हैड प्रो. ज्योतिर्मय माथुर और के बी डिवाइसेज स्टार्टअप के सुधांशु गुप्ता ने यह टनल तैयार की है। प्रो. माथुर ने बताया कि छह फुट लंबे, सात फुट ऊंचे और तीन फुट चौड़े इस टनल में 10 स्प्रे नोजल लगाई गई हैं। जैसे ही डॉक्टर टनल से 10 कदम दूर होंगे, तभी ऑटोमैटिक सेंसर से इसमें स्प्रे चालू हो जाएंगे। इसमें स..
                 

देश का पहला शहर जिसने 11 दिन का महाकर्फ्यू लगाया, 25 लाख लोगों की स्क्रीनिंग कर कोरोना को रोका, एक भी डॉक्टर को संक्रमित नहीं होने दिया

(नरेंद्र जाट)कोरोना पर काबू करने के मामले में भीलवाड़ा देश में रोल मॉडल बन गया है। यहां के प्रशासन ने 20 मार्च को पहला पॉजिटिव केस मिलने के बाद जो प्लान बनाया, उसकी केंद्र ने भी तारीफ की। रविवार को हुई वीडियाे कांफ्रेसिंग में केंद्र सरकार के कैबिनेट सचिव राजीव गाबा ने कहा कि अब कोरोना देश के 223 जिलों में फैल चुका है। इसलिए सभी को भीलवाड़ा से सीखना चाहिए कि इसे कैसे काबू किया जाता है।कैबिनेट सचिव ने भीलवाड़ा में हुए काम को आइडियल बताया। उन्होंने वीसी में मौजूद सभी प्रदेशाें के मुख्य सचिवाें को भीलवाड़ा से सीखने की बात कही। बता दें कि भीलवाड़ा देश में ऐसा पहला शहर है जहां 14 दिन से कर्फ्यू के बावजूद और सख्ती करने के लिए 3 से 13 अप्रैल तक महाकर्फ्यू लगाया गया। महाकर्फ्यू शब्द का ईजाद भीलवाड़ा से ही हुआ। जानिए, क्या है भीलवाड़ा का पूरा रोडमैप...1.कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने राज्य सरकार के किसी सरकारी आदेश का इंतजार किए बगैर ही जिले की सभी को 20 चेकपोस्ट बनाकर सील कर दिया। राशन सामग्री की सप्लाई सरकारी स्तर पर करने व जिले के हर व्यक्ति की स्क्रीनिंग का फैसला किया।2.संक्रमण बांगड़ हाॅस्पिटल से फैल..
                 

अब तक 95 संक्रमित; सभी सरकारी व निजी दफ्तरों में इस इलाके के कर्मचारियों की एंट्री रोकी

शहर केरामगंज इलाकेमें अब तक कुल 95 कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। जिसमें 3 नए पॉजिटिव मंगलवार को सामने आए। इनमें 8 साल के एक बच्चे के साथ 50 और 45 साल की दो महिलाएं शामिल हैं। तीनों रामगंज के रहने वाले हैं। अब तकजयपुर शहर में 105 पॉजिटिव मिले हैं। यानी सिर्फ 10 शहर के दूसरे हिस्सों के हैं। जयपुर रामगंज समेत पूरे परकोटे की सीमाएं सीलहै। जहां पहले से कर्फ्यू लगा है। वहीं परकोटे के आसपास के तीन क्षेत्रों में भीकर्फ्यू लगाया गयाहै।ड्रोन से निगरानी की जा रही है। इस इलाके के लोग इतने डरे हैं कि घर के दरवाजे पर भी नहीं आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम पूरे इलाके के लोगों की स्क्रीनिंग कर रही है। लेकिन टीम भी सहमी है। घरों के दरवाजों तक को ग्लव्स पहनने के बाद भी हाथ नहीं लगा रही है।पहले ओमान से आया संक्रमित और फिर तब्लीगीजयपुर के रामगंज के एक युवक के ओमान से आने के बाद 17 मार्च से 24 मार्च तक वह क्वारैन्टाइन में नहीं रहा और संक्रमण फैलाता रहा। अब तक उसी के कारण दूसरे उसी इलाके के पॅाजिटिव युवक, उसके परिजन और रिश्तेदार और संपर्क वाले 95 लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं। इन 95ने आगे किन-किनको संक्रम..
                 

फैक्ट्री बंद हुई तो 5 माह की गर्भवती भीलवाड़ा से पैदल ही यूपी के लिए निकली, ढाई दिन में जयपुर पहुंची, अब शेल्टर होम में मिली जगह

गर्भवती महिला और दो दिन में ढाई सौ किमी सफर..दो जिंदगियां दांव पर। एक ओर कोरोना तो दूसरी ओर रोजगार का संकट... ऐसे में जिंदगी की जद्दोजहद। लेकिन लता और परिवार के सामने भीलवाड़ा छोड़ने के अलावा कोई चारा नहीं था। 30 मार्च को पैदल ही एटा के लिए निकल पड़े।रास्ते में कदम-कदम पर परेशानी थी। लता बताती हैं...कोरोना के डर से कोई लिफ्ट नहीं देता था और कोई देता भी था तो 2 या 3 किमी ही। हां, दानदाता खाना खिला देते थे। खैर, जैसे-तैसे हम 1 अप्रैल को जयपुर पहुंचे। नम आंखों से लता बताती हैं... ऊपरवाले की दया ही थी कि हमें जयपुर में शेल्टर होम मिल गया।धागा फैक्ट्री बंद होने के कारण लता और सुरजीत घर जा रहे थेपांच माह की प्रेग्नेंट और भीलवाड़ा से पति सुरजीत के साथ पैदल आई लता ने बताया वह शेल्टर हाेम में खुश है। लाॅकडाउन के बाद एटा जाएगी। लता के साथ पति भी यहीं है। दाेनाें भीलवाड़ा में एक धागा फैक्ट्री में काम करते थे। लाॅकडाउन के कारण फैक्ट्री बंद हाे गई और आने जाने के वाहन नहीं मिलने के कारण वे भीलवाड़ा से पैदल ही जयपुर तक आगए।दाे मासूम बच्चाें के साथ पति पत्नी रुके हैं हाेम में, बाेले हम घर जाना चाहते हैं:..
                 

रामगंज इलाके में कोरोना के 8 नए मरीज मिले , जयपुर में संक्रमित मरीजों को संख्या पहुंची 100

जयपुर में कोरोनावायरस पॉजिटिव लगातार बढ़ते जा रहे हैं। सोमवार को रामगंज इलाके से 8 और काेराेना पाॅजिटिव मिले। इनमें 7 मरीज ऐसे हैं जो 26 मार्च को मिले पहले मरीज के संपर्क में आए थे और अभी सभी निम्स हाॅस्पिटल में आइसोलेट थे। वहीं सूरजपाेल निवासी संक्रमित महिला का पति रविवार रात को पॉजिटिव मिला था। अब उसकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।अब कोरोनावायरस ने चारदीवारी भी लांघ दी है। क्योंकि रविवार को पॉजिटिव मिले 39 मरीजों में से 3 परकोटे से बाहर के हैं। ये तीनों भट्टाबस्ती इलाके में नूरानी मस्जिद, आदर्श नगर इलाके में घाटगेट स्थित अमृतपुरी कॉलोनी व लालकोठी थाना इलाके में एमडी रोड स्थित मर्दान खां की गली के रहने वाले हैं। इन तीनों जगह 1-1 कोरोना पॉजिटिव मिला है। तीनों जगह एक-एक किमी क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है। तीनों जगह दो-दो ड्रोन से निगरानी की जा रही है। साेमवार काे काेराेना के 8 नए मरीज मिलने से जयपुर में काेरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 100 (इटली के दंपती का आंकड़ा शामिल नहीं) हाे गई है। इनमें बाकीशहर के 11 मरीजों को छोड़कर सभी रामगंज और तब्लीगी जमात से जुड़े हैं।सीएमएचओ नराेत्तम शर्मा क..
                 

कोटा में एक ही दिन में भीलवाड़ा जैसे हालात; 10 पॉजिटिव मिले, 4 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया

अब तक काेराेना से अछूते चल रहे हाड़ाैती संभाग में इस वायरस का बड़ा आउटब्रेक हुआहै। काेटा में एक साथ 10 लाेगाें में काेराेना पाॅजिटिव मिला है। इनमें एक मरीज की 4 अप्रैल की देर रात एमबीएस के आइसाेलेशन वार्ड में माैत हाे गई थी। इसके बाद उसके परिवार समेत करीब 60 लाेगाें काे एडमिट कराया गया था। इसी मृतक के परिवार में से 8 और क्लाेज काॅन्टैक्ट में आए एक व्यक्त काे काेराेना की पुष्टि हुई है। प्रशासन ने शहर के संबंधित चार थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा सघन जांच शुरू की है।इससे पहले काेटा में एक भी मरीज पाॅजिटिव नहीं था। लेकिन एक साथ 10 मरीज के कन्फर्म हाेने के साथ ही काेटा भीलवाड़ा जैसी स्थिति में आगया है। चिकित्सा विभाग के बड़े अधिकारी मान रहे हैं कि स्थिति विकट है, जयपुर से भी पूरी माॅनिटरिंग की जा रही है। बीते दाे दिन से पूरा काेटा जिला प्रशासन, चिकित्सा विभाग व पुलिस इसी मामले में रात-दिन एक किए हुए थे, शहर के दाे इलाके पूरी तरह सील कर दिए गए हैं। पाॅजिटिव आए राेगियाें में दाे छाेटे बच्चे भी हैं। एक बच्चे की उम्र 5 साल तथा एक बच्ची की उम्र 11 साल है। प्रिंसिपल ने बताया कि टीमें लगातार इन इ..
                 

कोराेना पॉजिटिव मिले वृद्ध का पुत्र और पौत्र भी संक्रमित, दौसा में पीड़ितों की संख्या पहुंची 6, पूरा इलाका सील किया गया

शहर में रविवार को कोरोना पॉजिटिव आए एक वृद्ध का पुत्र व पौत्र भी संक्रमित निकले हैं। सोमवार को आई रिपोर्ट में दोनों के कोरोना पॉजिटिव आया है। एक ही परिवार में तीन जने कोरोना पॉजिटिव आने से लोग खौफजदा हैं। दोनों मरीजों को जिला अस्पताल से जयपुर रेफर कर दिया। लालसोट तहसील के ग्राम संवासा निवासी प्रहलाद मीणा जयपुर में कोरोना पॉजिटिव निकला है। जिले में चार दिन में छह कोरोना पॉजिटिव मिलने से प्रशासन व चिकित्सा विभाग में हड़कंप मच गया। पॉजिटिव आए लोगों के परिजनों व संपर्क में आए लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए एसएमएस मेडिकल कॉलेज जयपुर भेजे गए हैं।जिले के पहले कोरोना पॉजिटिव महाराष्ट्र के तब्लीगी जमाती के संपर्क में आए नागौरी मोहल्ला निवासी दबिरूल इस्लाम (69) व बाडियान मोहल्ला निवासी शाहबाज के परिजनों सहित 39 लोगों के रविवार को सैंपल लेकर जांच के लिए एसएमएस मेडिकल कॉलेज जयपुर भेजे थे, जिनमें दबिरूल इस्लाम का पुत्र शाकिर मोहम्मद (48) व पौत्र असद (18) के भी कोरोना पॉजिटिव आया है। एक ही परिवार में तीन जनों के कोराेना पॉजिटिव आने से विभाग की टीम मोहल्ले में पहुंची तथा परिवार व इनके संपर्क में आए ल..
                 

जयपुर में 100 पहुंचा कोरोना संक्रमित का आंकड़ा, तीन और थाना इलाकों में कर्फ्यू का दायरा बढ़ाया

राजधानी के परकोटे में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखते हुए सोमवार को कर्फ्यू का दायरा बढ़ा दिया गया। देर शामशहर के आदर्श नगर, लालकोठी और परकोटे के भीतर भट्‌टा बस्ती थाना इलाकों में तीन चिन्हित स्थानों पर एक-एक किलोमीटर के दायरे में कर्फ्यू लगा दिया गया। इनमें भट्‌टा बस्ती इलाके में नूरानी मस्जिद के एक किलोमीटर के दायरे में, लालकोठी इलाके में एमडी रोड पर मर्दान खां की गली से एक किलोमीटर के दायरे में और आदर्श नगर इलाके में अमृतपुरी कॉलोनी में कर्फ्यू लगाया गया।जयपुर में कोरोनापॉजिटिव का आंकड़ा 100 पहुंचा, सबसे ज्यादा रामगंज केइससे पहले जयपुर केरामगंज इलाके में 25 मार्च को ओमान से आए एक व्यक्ति में कोरोनापॉजिटिव का केस सामने आया था। इसके बाद इस व्यक्ति के संपर्क में आए कई अन्य व्यक्ति भी कोरोना संक्रमित भी पाए गए। तब डीसीपी नार्थ डॉ. राजीव पचार ने एक आदेश जारी कर 27 मार्च की रात से परकोटे के सात थाना इलाकों मेंकर्फ्यू लगाने की घोषणा कर दी थी।जो कि अभी तक जारी है। इसी बीच जयपुर में कोरोना पोजिटिव का आंकड़ा 6 अप्रेल को 100 पहुंच गया। अब तक पूरे परकोटे को सेनेटाइज कर..
                 

अब तक 79 संक्रमित; यहां लोग घर के बाहर नहीं निकल रहे; सर्वे टीम ने भी दरवाजों और घंटियों से बनाई दूरी

शहर कारामगंज इलाका।इस इलाके में अब तक कुल 79 कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। अगर पूरे जयपुर शहर की बात की जाए तो 102 संकमित मिले हैं। यानी सिर्फ15 शहर के दूसरे हिस्सों के हैं। जयपुर में रामगंज और उसके आसपास सटे हुए इलाकों में सात दिनों सेकर्फ्यू लगा है। ड्रोन से निगरानी की जा रही है। इस इलाके के लोग इतने डरे हैं कि घर के दरवाजे पर भी नहीं आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम पूरे इलाके के लोगों की स्क्रीनिंग कर रही है। लेकिन टीम भी सहमी है। घरों के दरवाजों तक को ग्लव्स पहनने के बाद भी हाथ नहीं लगा रही है।पहले ओमान से आया संक्रमित और फिरतब्लीगीरामगंज इलाके में संक्रमण का पहला मामलाओमान से आए व्यक्ति में मिला था। उसके बाद उसके परिवार और उससे जुड़े लोग संक्रमित मिले हैं। शनिवार को जो39 पॉजिटिव मिले हैं उसमें कुछ तब्लीगी जमाती और संक्रमित व्यक्ति के कांटेक्ट वाले हैं। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग ने अलग-अलग नंबर में इसकी जानकारी नहीं दी। हालांंकि, शनिवार को जो 39 पॉजिटिव मिले हैं वह पहले से ही शहर के दो हॉस्पिटलआरयूएचएस और निम्स में क्वारैंटाइन थे।जयपुर के सबसे बड़े हॉस्पिटलएसएमएस की कैंटीन संचालक भी..
                 

सांगानेर में बोरे में मिला 5 साल की बच्ची का शव, सिर पर चोट के तीन निशान भी

बक्सावाला गांव में रविवार को जेडीए क्वार्टर में एक पांच साल की बच्ची का बोरे में शव मिलने से सनसनी फैल गई। बच्ची की पहचान जान्हवी के रूप में हुई है। जान्हवी का शव पड़ोस वाले क्वार्टरों की गली में सीवर लाइन के पाइपों के बीच मिला है और सिर पर चोट के तीन निशान हैं। जांच में आया कि दम घुटने से बच्ची की मौत हुई है। हत्यारे ने बच्ची का मुंह और नाक दबाया। हालांकि बच्ची के साथ किसी गलत हरकत के संकेत नहीं मिले।जान्हवी शनिवार शाम छह बजे से लापता थी। परिजनों ने सांगानेर सदर थाने मेंं गुमशुदगी दर्ज करवाई थी। पुलिस रातभर बच्ची की तलाश में जुटी रही लेकिन कोई पता नहीं चला। रविवार को सुबह कांस्टेबल रवि प्रकाश को सीवर लाइन के पाइपों के बीच काले रंग की बोरी दिखी। बाहर निकालकर खाेला तो उसमें बच्ची की लाश मिली। इसके बाद एफएसएल टीम को बुलाया गया। एफएसएल टीम ने साक्ष्य जांच शुरू कर दी है। उधर पुलिस ने महात्मा गांधी हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सुपुर्द किया।एडिशनल कमिश्नर अशोक कुमार गुप्ता ने बताया कि शाम छह बजे बच्ची के लापता होने की सूचना मिली थी।शनिवार की रात को ही कर दी गई थी हत्याबच्ची की..
                 

एक दिन में 60 नए मामले सामने आए, जिसमें 39 सिर्फ जयपुर में संक्रमित; 82 साल के बुजुर्ग की मौत

राजस्थान में रविवार को 60 नए केस सामने आए। जिसमें 39 केस केवल जयपुर में पॉजिटिव मिले हैं। इसमें 82 साल के बुजुर्ग भी शामिल थे। जिनकी रिपोर्ट आने से पहले रात 12.16 मिनट पर मौत हो गई थी।वहीं दौसा में भी 2 संक्रमित पाए गए। इसके अलावा झुंझुनू, टोंक और नागौर में भी एक-एक केस पॉजिटिव मिला। इसके साथ जोधपुर में भी ईरान से आए 5लोग संक्रमित मिले हैं। जिसके बाद 3 जोधपुर के लोग संक्रमित पाए गए। वहीं बीकानेर में 6 लोग पॉजिटिव पाए गए। इसके साथ पाली और जैसलमेर में भी एक-एक केस सामने आया।जिसके बाद राजस्थान का कुल आंकड़ा 266 पहुंच गया है।शनिवार को सामने आए थे 25 मामलेइससे पहले शनिवार को 25 नए पॉजिटिव मिले। बीकानेर में 4 दिन से पीबीएम अस्पताल में भर्ती 60 साल की महिला की सुबह 6 बजे मौत हो गई। सुबह 8 बजे महिला के कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट आई। महिला यहां वेंटिलेर पर थी। उसे बुखार और सांस लेने में तकलीफ थी। विकलांग भी थीं। बांसवाड़ा में पहली बार 2 पॉजिटिव मिले। 2 चूरू में संक्रमित तब्लीगी जमात से हैं। भीलवाड़ा के बांगड़ अस्पताल के ओपीडी में भर्ती एक मरीज भी संक्रमित मिला। झुंझुनू में 7 संक्रमित मिले,..
                 

एक दिन में 39 नए पॉजिटिव केस सामने आए, 82 साल के बुजुर्ग की मौत; कुल 94 पहुंचा आंकड़ा

यहां संक्रमण के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। वहीं जयपुर परकोटे में आने-जाने पर पूरी तरह पाबंदी है। इस बीच शनिवार को जयपुर में 39 नएपॉजिटिव केस सामने आया। जिसमें से 82 साल के बुजुर्ग भी कोरोना पॉजिटिव पाएगया। हालांकि रिपोर्ट आने से पहले ही उनकी मृत्यू हो गई थी। जो जयपुर के घाट गेट इलाके के रहने वाले थे। उन्हे एक दिन पहले 4 मार्च को भी एसएमएस के बर्न वार्ड में भर्ती करवाया गया था। जिसके बाद जयपुर में संक्रमितों की संख्या 94पहुंच गई है।इससे पहले शनिवार को जयपुर में कोरोना का कोई नया मामला सामने नहीं आया। वहीं शुक्रवार देर रात तक शहर में 14 नए कोरोना मरीज सामने आए। जिसमें 13 संक्रमित केस तब्लीगी जमात से बताए जा रहे हैं।24 घंटे में ही 268 लोग गिरफ्तार,3097 वाहन सीज किए गएलॉकडाउन की सख्ती से पालना करवाने में जुटी प्रदेश पुलिस ने गत 24 घंटे में ही 268 लोगों को गिरफ्तार किया है। ये वे लोग है बिना पुलिस अनुमति के घरों के बाहर निकले थे और समझाइस के बाद भी नहीं माने। साथ ही एक दिन में पुलिस ने 3097 वाहनों को सीज किया है। प्रदेश भर में हो रही कारवाईयों पर पुलिस मुख्यालय पूरी निगरानी रहा है। एडीजी..
                 

फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर व टिक टॉक पर आपत्तिजनक मैसेजों पर नजर रखेगी एटीएस व एसओजी

राजधानी में कोविड-19 (कोरोनावायरस) संक्रमण के उपजे संकट और लॉकडाउन के दौरानसोशल मीडिया पर भ्रामक या भड़काऊ पोस्ट डालने वालों पर अब एटीएस व एसओजी की भी नजर रखेंगी। इन आपत्तिजनकमैसेजों परनियन्त्रण व कानूनी कार्रवाई के लिहाज से पुलिस मुख्यालय से मिली हरी झंडी के बादएटीएस व सीसीआईयू(एसओजी) मेंएक-एक विशेष सेल गठित की गईहै।अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस एटीएस व एसओजी अनिल पालीवाल ने बताया कि रूटीन में भी एटीएस व एसओजी दोनों में सोशल मीडिया यथा फेसबुक, वाट्सएप, टिवटर व टिक-टॉक आदि पर आ रही आपत्तिजनक पोस्टों, मैसेज, वीडियो आदि पर नजर रखी जाती है।हाल ही के दिनों में कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर यह देखा गया है, कि सोशल मीडिया पर सामप्रदायिक दृष्टि से भड़काने वाली या इलाज के नाम पर बरगलाने वाली आदि भ्रामक पोस्ट भी काफी संख्या में आ रही हैं।स्पेशल सेल की सूचना पर भिवाड़ी, अलवर में दो मुकदमे दर्ज, एक व्यक्ति गिरफ्तारएडिशनल एसपी करण शर्मा ने बताया कि सोशल मीडिया परमॉनीटरिंगकरने वाली सेल को और अधिक मजबूत कर इन्हें "राउन्ड द क्लॉक" प्रभावी किया जा रहा है। इनमें अतिरिक्त अधिकारी व कार्..
                 

जयपुर में 82 साल के बुजुर्ग की मौत; जोधपुर में सेंटर में रखे गए लोगों को हर दो घंटे में भेजनी होगी सेल्फी

राजस्थान में कोरोन संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। रविवार सुबह 6 नए पॉजिटिव केस सामने आए। जिसमें 2 केस झुंझुनू में सामने आए। इनमें एक 40 साल का व्यक्ति संक्रमित मिला, जो 20 मार्च को दुबई से लौटा था। वहीं दूसरा 48 साल का तब्लीगी जमात का व्यक्ति संक्रमित मिला। इसके साथ बीकानेर में भी एक 25 साल का युवक तब्लीगी जमात के संपर्क में आने सेपॉजिटिव मिला। वहीं 2 केस दौसा में सामने आए। जिसमें एक तब्लीगी जमात से संपर्क में आया। जिसके साथ एक केस जयपुर में भी 82 साल के बुजुर्ग पॉजिटिव मिले। जिनकी रिपोर्ट आने से पहले रात 12.16 मिनट पर मौत हो गई थी। जिसके बाद राजस्थान में कुल संक्रमितों की संख्या 210 पहुंच गई है। जिसमें 46 तब्लीगी से जुड़े हैं।परकोटा में 113 दुकानों से सामान की होम डिलीवरीकोरोनावायरस के संक्रमण से बचाव के लिए पूरे परकोटे में कर्फ्यू है। दूध-सब्जियों जैसी जरूरी वस्तुओं की सप्लाई भी पुलिस और प्रशासन की टीमें कर रही हैं। अब दैनिक जरूरत के किराना सामान की आपूर्ति की जिला प्रशासन ने विशेष व्यवस्था की है। कलेक्टर डाॅ.जोगाराम ने बताया कि परकोटा क्षेत्र में 113 दुकानदार किराना सामान की होम डि..
                 

बाॅर्डर पर पहुंचे पर्यटन मंत्री सिंह; सील न हाेते देख बोले- कोई भी कोरोना की बीमारी लेकर आ-जा सकता है

राज्य के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह लगातार तीसरे दिन भी कांग्रेस सरकार की राजनीति में चर्चा का केंद्र बने रहे। विश्वेंद्र सिंह शनिवार काे हरियाणा व राजस्थान बाॅर्डर पर पहुंचे। जहां पर बाॅर्डर सील नहीं था। माैके पर किसी पुलिस कर्मी की तैनाती नहीं थी। इसकाे देखते हुए उन्हाेंने सिस्टम पर सवाल खड़ा किया। एक वीडियाे शेयर करते हुए ट्वीट किया। कहा कि काेई भी व्यक्ति काेराेना वायरस की बीमारी लेकर आ-जा सकता है। काेई राेक-टाेक तक नहीं है।सरकार के स्तर पर दूसरे राज्याें से सटी सीमाएं सील करने का दावा किया गया था। भरतपुर जिले के कामां क्षेत्र में 3 कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद कैबिनेट मंत्री विश्वेंद्र सिंह शनिवार दोपहर को अचानक मेवात क्षेत्र के दौरे पर निकल पड़े, जिसे लेकर स्थानीय प्रशासन में एक साथ हड़कंप मच गया। कैबिनेट मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने स्थानीय प्रशासन को सूचना दिए बिना ही सीधे नौनेरा पहुंच गए। जहां गांव के सरपंच धनराज चौधरी को साथ लेकर बॉर्डर सीमा का जायजा लिया। क्षेत्र में दौरा कर व्यवस्थाओं का जायजा लेकर उच्चाधिकारियों को दिशा निर्देश भी दिए है। इससे पहले शुक्रवार काे विश्वेंद्र स..
                 

डॉक्टरों ने गर्भवती महिला को जयपुर रेफर किया, पति का आरोप- मुस्लिम होने की वजह से इलाज नहीं किया, रास्ते में डिलीवरी के दौरान नवजात की मौत

यहां के इरफान नाम के व्यक्ति ने मुसलमान होने की वजह से अस्पताल में गर्भवती पत्नी को इलाज नहीं मिलने का आरोप लगाया है। इरफान के मुताबिक, वह अपनी पत्नी परवीना को शनिवार सुबह भरतपुर केअस्पताल लेकर पहुंचा था। उसे रात से ही दर्द हो रहा था। अस्पताल में मौजूद ड्यूटी डॉक्टर नेमुझसे मेरा नाम पूछा, जैसे ही मैंने अपना नाम इरफान बताया। उन्होंने कहा आप मुस्लिम हो, यहां आपकी पत्नी का इलाज नहीं होगा। इसके बाद डॉक्टर ने जयपुर के लिए रेफर कर दिया। मैं उसे जयपुर जाने के लिए निकल ही रहा था कि अस्पताल के कॉरिडोर में ही पत्नी ने नवजात को जन्म दे दिया। लेकिन कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई।उसने आरोप लगाया कि अगर डॉक्टर वक्त रहते पत्नी का इलाज कर देते तो बच्चे की मौत नहीं होती। उसने इस पूरी घटना का एक वीडियो बनाया, जिसे राज्य के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर शेयर किया। इसके बाद हड़कंप मच गया।मंत्री विश्वेंद्र ने लिखा-भरतपुर के अस्पताल में डॉक्टर ने एक गर्भवती महिला का सिर्फ इसलिए इलाज नहीं किया, क्योंकि वह मुसलमान थी।यह बेहद शर्मनाक घटना है। किसी धर्म के चंद सिरफिरो की जमात ने पूरे भार..
                 

25 नए केस: बीकानेर में महिला की मौत के 2 घंटे बाद पॉजिटिव रिपोर्ट आई; जोधपुर में 7 और झुंझुनू में भी 6 संक्रमित मिले

राजस्थान में शनिवार को25नए पॉजिटिव मिले। बीकानेर में 4 दिन से पीबीएम अस्पताल में भर्ती 60 साल की महिला की सुबह 6 बजे मौत हो गई।सुबह 8 बजे महिला के कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट आई। महिला यहां वेंटिलेर पर थी। उसे बुखार और सांस लेने में तकलीफ थी।विकलांग भीथीं।बांसवाड़ा में पहली बार 2 पॉजिटिव मिले। 2 चूरू में संक्रमित तब्लीगी जमात से हैं।भीलवाड़ा के बांगड़ अस्पताल के ओपीडी में भर्ती एक मरीज भी संक्रमित मिला।झुंझुनू में 7संक्रमित मिले,जो सभी तब्लीगी जमात से हैं। जोधपुर में 8नए पॉजिटिव मिले। वहीं, शाम को भरतपुर में भीदो पॉजिटिव पाए गए। वहीं टोंक और करौली में भी 1-1 मामला सामने आया।शनिवार को संक्रमित लोगों में 12तब्लीगी जमात से हैं। राजस्थान में अब तक 204कोरोना संक्रमित हो गएहैं,इनमें 45तब्लीगी जमात से आए लोगहैं।शुक्रवार को 46 कोरोना संक्रमित मिले थे, इनमें तब्लीगी जमाए से आए लोग भी शामिलइससे पहलेशुक्रवार को यहां 46 मामले सामने आए थे,जिसमें 12 टोंक से थे। यह सभी टोंक में पहले पॉजिटिव मिल चुके तब्लीगी जमात के लोगों के परिवार से हैं। बीकानेर में भी 2 तब्लीगी जमात के लोग संक्रमित मिले थे। जयप..
                 

झुंझुनूं, सीकर, श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ सहित नौ जिलों में आंधी का अनुमान

करीब एक सप्ताह की शांति के बाद राज्य में मौसम फिर बदलने के संकेत हैं। मौसम विभाग की मानें तो छह और सात अप्रेल को पूर्वी राजस्थान के झुंझुनूं, सीकर और पश्चिमी राजस्थान के श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, बीकानेर, चूरू, जैसलमेर, जोधपुर और नागौर में छह अप्रेल को बादल गरजने व बिजली चमकने के साथ धूल भरी आंधी चल सकती है।वहीं अलवर व भरतपुर में 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चल सकती है। वहीं चार और पांच अप्रेल को राज्य में मौसम शुष्क रहने का अनुमान है। राजस्थान में अभी रात को गुलाबी ठंड का अहसास होता है।बीती रात प्रदेश में सबसे अधिक तापमान फलौदी में 27.6 डिग्री रहा। इसके अलावा बीकानेर, जोधपुर, जैसलमेर, बाड़मेर को छोड़कर कहीं भी तापमान 20 डिग्री से अधिक नहीं रहा। सबसे कम तापमान माउंट आबू में 12.2 डिग्री रहा। सीकर में 14.5 डिग्री तो राजधानी जयपुर में 18.0 डिग्री रहा। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today प्रदेश में छह और सात को सीकर व गंगानगर सहित कुछ जिलों में धूल भरी आंधी आने का अनुमान है।..
                 

अब तब्लीगी जमात से बढ़ा आंकड़ा, कुल पॉजिटिव लोगों की संख्या 55 पहुंची; लोगों ने गलियों में खुद की बेरिकडिंग

यहां संक्रमण के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। वहीं जयपुर परकोटे में आने-जाने पर पूरी तरह पाबंदी है। इस बीच शुक्रवार देर रात तक शहर में 14 नए कोरोना मरीज सामने आए। जिसमें 13 संक्रमित केस तब्लीगी जमात से बताए जा रहे हैं। जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या 55 पहुंच गई। इससे राज्य सरकार के साथ ही चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महकमे की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। वहीं, पुलिस प्रशासन भी सख्ती से लॉक डाउन की पालना करवा रहा है। परकोटे को सीलबंद कर दिया गया है। वहां अति आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों व वाहनों को ही प्रवेश दिया जा रहा है। इससे पहले गुरुवार सुबह 7 नए केस सामने आए थे।14रोगियों में महाराष्ट्र के 6, झारखंड और तमिलनाडु से 1-1जयपुर के राजस्थान हैल्थ साइंस यूनिवर्सिटी आइसोलेशन सेंटर में भर्तीतब्लीग़ी जमात के लोगों में से 13लोग मरीज मिले। इनमें से महाराष्ट्र के छह और झारखंड का एक तब्लीगी जमात का व्यक्ति पॉजिटिव मिला। जिसके बाद पांच और तब्लीगी पॉजीटिव घोषित किया गया। वहीं रात को पॉजिटिव मिले दो लोगों में से 1 तमिलनाडु तब्लीगी जमातसे है। वहीं एक की पहचान नहीं हो पाई है।लोगों ने गलियों में खुद भी लगाए..
                 

सात कोरोना पॉजिटिव की दूसरी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई, तीसरी रिपोर्ट में फिर संक्रमित, इनमें 6 रामगंज के

(संदीप शर्मा)प्रदेश में पॉजिटिव आए कुल 179 में से 61 पॉजिटिव केस आरयूएचएस (राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस) में भर्ती हैं। सामने आया है कि न केवल राजस्थान बल्कि उत्तरप्रदेश, गुजरात के किसी भी अस्पताल में इतने अधिक पॉजिटिव केस भर्ती नहीं हैं। इसके अलावा आरयूएचएस में ही 208 सस्पेक्ट भी भर्ती हैं, जिनकी समय-समय पर जांच की जा रही है। वहीं चौंकाने वाली बात यह भी है कि अस्पताल में सात ऐसे केस हैं, जो पहले टेस्ट में पॉजिटिव आए, दूसरी में निगेटिव और तीसरी में फिर से पॉजिटिव। यानि कि ये एक बार सही होने के बाद फिर से संक्रमित हुए हैं। संभावना जताई जा रही है कि एक ही जगह इतने अधिक केस भर्ती किए जाने और पॉजिटिव केस के स्वयं के ध्यान नहीं रखने की वजह से संभवतया ऐसा हुआ है। टीम कम है, फिर भी शिद्दत सेजुटी है : अस्पताल में मरीजों और सस्पेक्ट की तुलना में भले ही टीम कम है लेकिन जो भी हैं, शिद्दत से जुटे हैं। डॉक्टर्स और स्टाफ 12 से 15 घंटे तक काम कर रहे हैं। सुबह नौ बजे का अस्पताल होने के बावजूद स्टाफ आठ तक ही आ जाता है। इसके बाद जाने का कोई समय निर्धारित नहीं है। हर मरीज से बात, उसका फीडबैक, रिपो..
                 

लॉकडाउन में गरीब परिवारों को 1000 के अलावा 1500 रुपए और देने के आदेश जारी

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल द्वारा कोरोना महामारी से उत्पन्न स्थिति में जरूरतमंद गरीब परिवारों को राज्य सरकार द्वारा स्वीकृत सहायता राशि उपलब्ध करवाने को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।कैबिनेट मंत्री मेघवाल ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा विभिन्न श्रेणियों के पात्र परिवारों को 1000 रुपए की सहायता राशि देने का निर्णय लिया गया था, जिसके दिशा-निर्देश श्रम एवं रोजगार विभाग के 25 मार्च के आदेश में जारी किए गए हैं। अब राज्य सरकार द्वारा विभिन्न श्रेणियों में पात्र परिवारों को 1500 रुपए की सहायता राशि और देने का निर्णय किया है, जिसकी प्रक्रिया श्रम विभाग के पूर्व आदेश के अनुरूप ही रहेगी।इस प्रकार जिन 30 लाख 81 हजार 634 पात्र परिवारों को राजस्थान से राज्य स्तर से 2500 रुपए की सहायता उपलब्ध कराई जा रही है। उनमें अतिरक्ति श्रेणी 1 व 2 के शेष परिवारों तथा श्रेणी तीन व चार के समस्त परिवारों को सहायता जिला स्तर पर निर्धारित प्रक्रिया के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि उनमें अधिक श्रेणी 1 पदों के शेष परिवारों तथा श्रेणी 3 व 4 के समस्त परिवारों को सहायता ..
                 

स्क्रीनिंग टीम को लेकर अफवाह फैलाने और मारपीट के लिए उकसाने वाले पकड़े

कोरोना वायरस के कारण शहर के पूरे परकोटे में कर्फ्यू चल रहा है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की टीमों द्वारा सभी लोगों की स्क्रिनिंग की जा रही है। ऐसे में गलता गेट इलाके में एक व्यक्ति ने स्क्रिनिंग टीम के बारे मे भ्रामक अफवाह सोशल मीडिया पर वायरल कर दी। जिसकी सूचना मिलने पर गलता गेट थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज करके बासबदनपुरा स्थित मोहल्ला बिलोचियान निवासी मोहम्मद मोइन को गिरफ्तार कर लिया। थानाधिकारी धर्मवीर सिंह ने बताया कि आरोपी संविधान बचाओ मोर्चा नाम से वाट्स अप ग्रुप पर स्क्रिनिंग टीम के बारे में गलत अफवाह शेयर कर रहा था। इस ग्रुप के शेयर करने वाले टोंक मालपुरा निवास जावेद और ग्रुप एडमिन की तलाश की जा रही है।आरोपी को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर दिया। इस तरह का भ्रामक मैसेज बनाने वाले आरोपी की तलाश की जा रही है। आरोपियों ने ग्रुप पर स्क्रिनिंग कर रही चिकित्सा टीम के साथ मारपीट करने के लिए लोगों को उकसा रहे थे। दूसरी ओर, सोशल मीडिया पर कोरोनावायरस के दौरान सर्वे करने वाली चिकित्सा टीम के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने और उनके साथ मारपीट करने के लिए लोगों को उकसाने के मामले में गलता गेट थाना पुलिस ..
                 

आटा खरीदने कार से 4 लाेग आ रहे, गुटखा खाने के लिए बहाना गढ़ा- मां अस्पताल में है

लाॅकडाउन में भी लाेग गाड़ियाें से बिना वजह सड़काें पर निकल रहे हैं। ऐसे लाेगाें से पुलिस भी सख्ती से पेश आरही है। लाॅकडाउन के बाद प्राइवेट वाहन भी बंद करने के बाद 11 दिन में पुलिस ने प्रदेशभर में 40,500 वाहन जब्त किए हैं। लाॅकडाउन में सबसे ज्यादा उल्लंघन अजमेर के लाेग कर रहे हैं। अजमेर में पुलिस ने 11 दिन में 8300 वाहन जब्त कर चुकी है। उधर, परकोटे में एडिशनल एसपी नाजिम अली के नेतृत्व में दस अधिकारी और एक कंपनी तैनात थी। लाॅकडाउन के दौरान उल्लंघन करने पर शुक्रवार को पुलिस ने शहर में 427 वाहनों को जब्त कर लिया। इसके साथ ही कर्फ्यू क्षेत्र में आने-जाने वाहनों को लगातार सेनेटाइज किया जा रहा है।राजपार्क : आटा खरीदने 4 आए 4 युवक, कार जब्तदाे दिन पहले राजापार्क में पुलिस एक कार काे रुकवाया और पूछताछ की। पूछताछ करने पर सिंधी कॉलाेनी निवासी युवक ने बताया कि उसके घर में आटा खत्म हाे गया है। आटा खरीदने आया है। पुलिस ने जब कार में बैठे तीन अन्य लाेगाें के बारे में पूछताछ की ताे युवक ने बताया कि दाे उसके भाई है और एक किराएदार है। जब पूछा की आटा खरीदने एक युवक भी आसकता था ताे कार मालिक ने जबाब नहीं ..
                 

लॉकडाउन के कारण जयपुर डेयरी में घटा रोजाना डेढ़ लाख लीटर दूध का संकलन

लॉक डाउन के चलते दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियां बंद होने से जयपुर डेयरी में दूध नहीं पहुंच रहा है। इससे दूध की आपूर्ति गड़बड़ा गई। बाजार में दूध नहीं मिलने से उपभोक्ताओं को भटकना पड़ रहा है। जयपुर डेयरी के दौसा प्लांट में पहले रोजाना सवा लाख लीटर दूध आता था, लेकिन समितियां बंद होने से दूध बंद हो गया। जिन समितियों में बल्क मिल्क कूलर लगे हुए हैं उनका 40-45 हजार लीटर ही दूध जयपुर जा रहा है। जिले में 450 दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियां हैं। इन समितियों से रोजाना 1 लाख 25 हजार लीटर दूध दौसा प्लांट में आता था। दूध नहीं आने से दौसा प्लांट भी बंद हो गया।वहीं इन समितियों में से 40 में बल्क मिल्क कूलर लगे हुए हैं। जिनका 75 हजार लीटर दूध ठंडा होकर सीधा जयपुर डेयरी में भेजा जाता था, लेकिन अब इनमें भी 40-45 हजार लीटर दूध ही भेजा जा रहा है। समितियां बंद होने से पशुपालक दूध नहीं बेच पा रहे हैं। दौसा डेयरी के प्रबंधक राजीव जैन का कहना है कि समितियों को चालू करने के प्रयास किए जा रहे हैं। संभव हुआ तो समितियों को शीघ्र चालू किया जा सकेगा।आर्थिक तंगी से जूझ रहे पशुपालकमानपुर मेंकोरोना महामारी को लेकर सरकार ने..
                 

टोंक और जयपुर में 12-12 पॉजिटिव, बीकानेर 2, भरतपुर 2, उदयपुर 3 और दौसा में 1 केस; कुल आंकड़ा 168 पर पहुंचा

राजस्थान में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार सुबह यहां 35नए मामले सामने आए। जिसमें 12 टोंक से हैं। यह सभी टोंक में पहले पॉजिटिव मिल चुके तब्लीगी जमात के लोगों के परिवार से हैं। वहीं बीकानेर में भी 2 तब्लीगी जमात के लोग संक्रमित मिले हैं। इसके साथ जयपुर में भी12नए केस सामने आए हैं। वहीं 3 केस उदयपुर में सामने आए। इसके बाद जोधपुर में ईरान से लौटे 3 और दौसा में एक केस सामने आया। वहीं देर शाम भरतपुर में 2 केस सामने आए, जो तब्लीकी जमात से हैं।जिसके बाद राजस्थान में कुल आंकड़ा 168पहुंच गया है। वहीं तब्लीगी संक्रमित लोगों की संख्या 31 हो गई है। इससे पहले गुरुवार को 13 नए मामले सामने आए। इनमें 7 जयपुर परकोटे के रामगंज से, 2 जोधपुर, 1 धौलपुर, 1 उदयपुर, 1 झुंझुनू (तब्लीगी जमात) और 1 भरतपुर (तब्लीगी जमात) से है। वहीं अलवर में भर्ती एक 85 साल के बुजुर्ग की एसएमएस अस्पताल में मौत हो गई। उदयपुर के पहले मामले में एक 16 साल का बच्चा कोरोना पॉजिटिव मिला है।राजस्थान के 17जिलों में कोरोना, सबसे ज्यादा 53 जयपुर मेंराजस्थान में कुल 33 जिले हैं। इनमें से अब तक 16 जिलों में क..
                 

जयपुर में 26 मरीज एक ही इलाके से, भीलवाड़ा में निजी अस्पताल एपिक सैंटर; अब दिल्ली के जमातियों ने बढ़ाया आंकड़ा

राजस्थान में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। जिसमें कई लोग ऐसे हैं जो खुद तो पॉजिटिव पाए गए। वहीं दूसरो को भी कोरोना से संक्रमित कर दिया। जिसमें सबसे बड़ा आंकड़ा जयपुर के रामगंज में ओमान से लौटे व्यक्ति और भीलवाड़ा में एक निजी अस्पातल के डॉक्टर का है। वहीं तब्लीगी जमात में भी संक्रमित लोगों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है।जयपुर: ओमान से आया था पहला व्यक्तिओमान से आए एक शख्स के असंयमित व्यवहार ने जयपुर को संकट में डाल दिया है। सबसे पहले पहले संक्रमित का दोस्त कोरोना की चपेट में आया। फिर एक अन्य रिश्तेदार। इसके बाद लगातार केस सामने आ रहे हैं। जिसके बाद अब रामगंज में कुल संक्रमितों की संख्या 26 पहुंच गई है।भीलवाड़ा : एक डॉक्टर की लापरवाही से अब तक 26 संक्रमित20 मार्च को भीलवाड़ा में सबसे पहले बांगड़ अस्पताल के एक डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव मिला। जिसके घर साउदी से कुछ मेहमान आए थे। उसके साथ 6 डॉक्टर और चिकित्साकर्मी भी पहले दिन कोरोना पॉजिटिव मिले। ये अस्पताल भीलवाड़ा में कोरोना संक्रमण का एपिक सैंटर बन गया।जिसके बाद भीलवाड़ा में संक्रमितों की संख्या 26 तक पहुंच गई। यहां इलाज के दौरा..
                 

10% लोग एडवाइजरी का पालना नहीं कर रहे, स्थानीय प्रशासन और अस्पताल कोविड-19 का मुकाबला करने को तैयार नहीं

(भंवर जांगिड़)कोरोना की बढ़ती भयावहता के बीच केंद्र सरकार के प्रशासनिक सुधार और लाेक शिकायत विभाग ने 25 से 30 मार्च के बीच एक ऑनलाइन त्वरित सर्वे किया है, जिसमें विभिन्न प्रदेशों के 266 कलेक्टर और 2014 से 18 बैच के आईएएस अफसरों और केंद्र सरकार के असिस्टेंट सेक्रेटरी शामिल थे। इनसे 20 सवाल पूछे गए। इनके जवाब के आधार पर अब केंद्र सरकार कोरोना से निपटने की पुख्ता तैयारी करेगी।सर्वे के मुताबिक केंद्र औरराज्य सरकारों के प्रयासों में कोई कमी नहीं है, लोग भी लॉकडाउन का शांतिपूर्वक पालन कर रहे हैं, सिर्फ 10 प्रतिशत लोग हैं जो एडवाइजरी का उल्लंघन कर रहे हैं। परंतु इस सर्वे में सबसे प्रमुख बात यह उभर कर आई है कि जिला स्तरों पर स्थानीय प्रशासन बिगड़ते हालातों से निपटने के लिए तैयार नहीं है। अफसरों का 40 प्रतिशत फीडबैक यह रहा कि प्रशासन के पास पर्याप्त संसाधन नहीं है। 40 प्रतिशत का मानना है कि लोकल हॉस्पिटल भी तैयार नहीं हैं। आईसीयू और वेंटीलेटर की स्थिति तो और ज्यादा चिंताजनक है। सर्वे के सवाल और अफसरों का फीडबैक कुछ इस तरह है-सबसे पहले लाेकल फीडबैक, जो हमारे लिए जरूरीसवाल- लोकल प्रशासन क्वारेंटाइन,..
                 

केंद्र राज्यों को तुरंत उपलब्ध करवाए आर्थिक मदद, इंटर स्टेट सप्लाई चेन प्रोटोकाल लागू हो।

सीएम अशोक गहलोत ने पीएम नरेंद्र मोदी से आग्रह किया है कि कोरोना से निपटने के लिए राज्यों को एक लाख करोड़ रुपए की सहायता तत्काल उपलब्ध करवाई जाए। संकट की इस घड़ी में आवश्यक वस्तुओं, दवाओं एवं चिकित्सा उपकरणों की निर्बाध आपूर्ति के लिए केंद्र इंटर स्टेट सप्लाई चेन प्रोटोकाल शीघ्र लागू करे। गहलोत गुरुवार को मुख्यमंत्री निवास पर पीएम नरेंद्र मोदी के साथ राज्यों के मुख्यमंत्रियों की वीडियो कान्फ्रेंसिंग में भाग ले रहे थे। गहलोत ने पीएम को राज्य सरकार की ओर से बेसहारा एवं निराश्रितों, गरीबों, निर्माण श्रमिकों को राहत पहुंचाने के लिए किए गए फैसलों से अवगत कराया। कहा कि कोरोना जैसी आपदा का सामना करने के लिए केंद्र का पर्याप्त सहयोग राज्यों के लिए बेहद जरूरी है।सीएम ने कहा कि मंदी से देश के अधिकतर राज्य पहले से ही आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। कोरोना से लाॅक डाउन होने से प्रदेश का पूरा अर्थतंत्र प्रभावित हो रहा है। उद्योग-धंधे बंद पड़े हैं। राजस्व अर्जन की ज्यादातर गतिविधियां बंद होने से लक्ष्य के मुकाबले काफी कम राजस्व एकत्र हो पाया है। कोरोना संक्रमण की चुनौती से निपटने के लिए राज्य सरकार को जरूर..
                 

लोगों ने गर्मी की छुट्टियों में घूमने की प्लानिंग नहीं की, अब नो रूम वाली ट्रेनों में सीटें खाली, फ्लाइट में भी किराया हुआ कम

(शिवांग चतुर्वेदी) लाॅकडाउन की वजह से लाेग मई व जून की गर्मी की छुट्टियों को लेकर अभी कोई प्लान नहीं बना रहे हैं। इस वजह से रेलवे की पीक सीजन में भरी रहने वाली ट्रेनाें में सीटें खाली पड़ी है। वहीं एयरलाइंस ने भी अब बुकिंग शुरु कर दी है और कम किराए पर भी यात्रियों को उनकी मंजिल तक पहुंचाने की राह देख रही हैं। बावजूद इसके न तो लोग रिजर्वेशन करवा रहे हैं और न ही टूर व ट्रेवल्स कंपनियों के इसके लिए ऑफर आ रहे हैं। रेलवे ने मंगलवार रात 12 बजे से 15 अप्रैल के बाद की ट्रेनों में ऑनलाइन बुकिंग शुरु कर दी है। ऐसे में जयपुर से जुड़ी करीब 180 ट्रेनों में अभी तक महज 5 फीसदी ही टिकट बुक हुए हैं। गौरतलब है कि जयपुर मंडल में करीब 83 फीसदी टिकट ऑनलाइन बुक किए जाते हैं।ट्रेन-फ्लाइट में टिकट बुकिंग सिर्फ ऑनलाइन हीअभी रेलवे और एयरलाइंस के लिए सिर्फ ऑनलाइन ही टिकट बुकिंग करवाई जा सकेगी। हालांकि ट्रेन और फ्लाइट के संचालन को लेकर कोई अधिसूचना जारी नहीं की गई है। ऐसे में लॉकडाउन की अवधि बढ़ती है, तो बुक किए गए टिकट रद्द हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में आईआरसीटीसी किराए का पैसा यात्री के बैंक खाते में सीधे भेज देग..
                 

कोरोना: राजस्थान में इंटेलीजेंस को एक हफ्ते पहले ही भनक लग गई थी मरकज से लोगों के आने की

निजामुद्दीन तब्लीगी जमात से लौटे लोगों के कोरोना से संक्रमित होने की पुलिस इंटेलीजेंस को एक सप्ताह पहले ही भनक लग गई थी। लेकिन अफसर इसकी अनदेखी कर गए। दरअसल, एक पुलिस अधिकारी ने जोन में लगे इंटेलीजेंस के सभी जेडओ रेंज के अधिकारियों को ऐसेलोगों की सूची बनाकर जिला पुलिस के मार्फत उनको आइसोलेट कराने के निर्देश दिए थे। लेकिन जोन में लगे अधिकारी पिछले सात दिन में जमात से आने वाले लोगों की लिस्ट बनाना तो दूर उनको चिन्हित तक नहीं कर पाए।जब तेलंगाना में जमात से लौटे एक बुजुर्ग की मौत हो गई तो अफसरों के होश उड़ गए तब जाकर अफसरों ने दो दिन पहले निजामुद्दीन से लौटे संदिग्ध तब्लीगी जमात वालों की सूची जिला पुलिस को सौंपी है। इंटेलीजेंस के सूत्रों की माने तो मरकज से लौटे प्रदेशभर के 300 लोगों को इंटेलीजेंस ने चिन्हित किया है। जिला पुलिस उन लोगों को आइसोलेट कराएगी और वे लोग जिन लाेगों के संपर्क में आए है, उनको क्वारेंटाइन में भेजेगी। मरकज से सबसे ज्यादा जयपुर, टोंक, भरतपुर, करौली और गंगानगर से लौटे लागे हैं। इंटेलीजेंस ने दिल्ली से यह जानकारी ली है।एटीएस और एसओजी को भी दी ढूंढने की जिम्मेदारीपड़ताल में..
                 

किसानों, उद्योगों एवं आमजन को सरकार ने दी राहत, दो माह के बिजली-पानी के बिल होंगे स्थगित

जयपुर। कोरोना महामारी के कारण आए संकट से किसानों, उद्योगों एवं आमजन को राहत प्रदान करते हुए दो माह के पानी बिजली के बिलों को स्थगित कर दिया। यह फैसला गुरुवार कोमुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मौजूदगी में मीटिंग के बाद लिया गया। बैठक में कई अहमनिर्णय लिए गए। इनमें विद्युत विभाग से जुड़े मामलों में राहत देते हुए राज्य सरकार ने औद्योगिक प्रतिष्ठानों के विद्युत कनेक्शन के मार्च एवं अप्रैल माह के उपभोग के बिलों कोफिक्स्ड चार्ज (स्थाई शुल्क) को लॉकडाउन अवधि के अनुपात में 31 मई, 2020 तक स्थगित (डेफर) किया है। इससे लघु, मध्यम एवं बड़ी औद्योगिक इकाइयों के करीब 1 लाख 68 हजार उपभोक्ताओं को बड़ी राहत मिलेगी।इसी प्रकार राजकीय प्रतिष्ठान एवं लॉकडाउन से मुक्त प्रतिष्ठानों को छोड़कर अन्य सभी अघरेलू (व्यावसायिक यथा-पर्यटन से संबंधित प्रतिष्ठान, शोरुम, दुकान, होटल, वर्किंग हॉस्टल आदि) के करीब 11 लाख कनेक्शनों के मार्च एवं अप्रैल माह के विद्युत बिलों के फिक्स्ड चार्ज को लॉकडाउन अवधि के अनुपात में 31 मई, 2020 तक डेफर किया गया है।राज्य सरकार ने कोरोना से उत्पन्न संकट की इस घड़ी में किसानों को संबल देने के लिए कृष..
                 

नदी में नहाने गए 7 दोस्तों में से 2 की डूबने से मौत

जिले में आज दोपहर में नदी में नहाने के लिए गये दो बच्चों की मौत हो गई। कोतवाली थाना क्षेत्र में बूढ़ी स्थित सागौन घाट में साथियों के साथ नदी में नहाने गये गवली मोहल्ला निवासी सिद्धार्थ (17) और टीमर टाला निवासी योगेश की नहाते समय गहरे पानी में डूबने से मौत हो गई। पुलिस ने गोताखोरो मदद से शवों को नदी से बाहर निकाल लिया है।जानकारी के अनुसार वैनगंगा नदी के बूढ़ी स्थित सागौन वन तट में डूबने से छात्रों की मौत हो गई। छात्र सागौन घाट मैं दोपहर 7 दोस्तों के साथ नहाने गए थे। अन्य छात्रों ने बताया है कि गवली मोहल्ले निवासी सिद्धार्थ मोगरे नदी में नहाते समय गहराई नाप रहा था इसी बीच वह डूबने लगा। उसे बचाने उसका दूसरा साथी योगेश राऊत नदी में उतरा। परंतु वह साथी को नहीं बचा पाया और वह भी डूब गया। साथ में गए अन्य पांच छात्र घबरा गए और नदी से बाहर आकर अपने परिजनों को फोन से सूचना दी। तहसीलदार, नगरपालिका के सीएमओ एवं टीआई सहित पूरा बल मौके पर पहुंचा। गोताखोरों को मौके पर बुलाया गया। गोताखोर द्वारा दोनों ही छात्रों की लाश नदी से निकाली। जिसमें मृतक सिद्धार्थ पिता पप्पू मोगरे उम्र 17 वर्ष, योगेश पिता शंकर..
                 

रामगंज में सात और नए संक्रमण के केस सामने आए, जयपुर का आंकड़ा 41 पहुंचा, दो दिन में 20 केस मिले

राजधानी के परकोटा क्षेत्र में कोरोना संक्रमण बढ़ता जा रहा है। यहां रोजाना संक्रमण के नए केस सामने आ रहे है। खासतौर पर रामगंज कोरोना जोन बन गया है। जहां गुरुवार सुबह 7 नए केस सामने आए। इससे जयपुर का आंकड़ा 41 पहुंच गया। इनमें कोरोना पॉजिटिव के 20 केस में महज 24 घंटे में बढ़ गए। इससे राज्य सरकार के साथ ही चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महकमे की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। वहीं, पुलिस प्रशासन भी सख्ती से लॉक डाउन की पालना करवा रहा है। परकोटे को सीलबंद कर दिया गया है। वहां अति आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों व वाहनों को ही प्रवेश दिया जा रहा है।परकोटे से गुजरने वालीगाड़ियों को भी किया जा रहा सैनिटाइजसंक्रमण बढ़नेके साथ हीपरकोटे मेंलोगों से घर की छतों पर भी दूरी बनाने के निर्देश दिए गए हैं। ड्रोन से इसकी निगरानी की जाएगी। निर्देशों का उल्लंघन करने वालों को गिरफ्तार किया जाएगा। वहीं, प्रशासन या स्वास्थ्य विभाग की जो गाड़ियां इस इलाके में जा रही है, उन्हें भी सैनिटाइज किया जा रहा है। राजस्थान में अब तक भीलवाड़ा में सबसे ज्यादा 26 संक्रमित थे, लेकिन बुधवार को 13 औरगुरुवारको 7लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद राज..
                 

कोई किताबों से जुड़ा, कोई कैनवास पर भर रहा रंग तो कोई कैरम और चैस का दे रहा चैलेंज

(अर्पित शर्मा)।शहर में लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं कर कुछ लोग जहां बाहर घूमने से बाज नहीं आ रहे वहीं अधिकांशलोगघरों में रह कर सृजन में व्यस्त हैं। हमने कुछ ऐसे ही लोगों से बात कर जाना कि वे क्या कर रहे हैं। घरों में रहने पर उनकी दुनिया कैसी है और उसमें क्या बदलाव आए हैं।बात शुरू करें दुर्गापुरा की रहने वाली एमबीए स्टूडेंट आयुषि प्रकृति के रंगों को कैनवास पर उतार रही है। आयुषि को पेंटिंग करना अच्छा लगता है लेकन इन दिनों वे विषयों के आधार पर कैनवास पर रंग भर रही हैं। यानी थीम बेस्ड पेंटिंग बना रही हैं। आयुषि कहती हैँ समय का इससे अच्छा सदउपयोग और क्या हो सकता है कि जो आपको अच्छा लगे उसके लिए आपके पास भरपूर समय हो।अब बात करते हैं बजरंग विहार की रहने वाली रेखा पारीक औरअल्का जोशी की। ये दोनोंकोरोना से बचाव के संदेश पोस्टर्स पर लिखती हैं और गली में कोई भी निकले तो उन्हें दिखाती हैं। डॉक्टर्स, पुलिस को पोस्टर्स बनाकर थैंक यू बोलती हैं।रेखा पारीक और अल्का जोशी कोरोना से बचाव के संदेश पोस्टर्स पर लिखती हैं।राजस्थान यूनिवर्सिटी के वीसी आर के कोठारी अभी भी व्यस्त हैं। कोठारी अपने आवास पर ही हैं..
                 

एसीएस, स्वास्थ्य बोले- रामगंज कोरोना बम पर बैठा, जांच को गए हेल्थ वर्कर पिट रहे, पुलिस सेल्फियां ले रही, कैसा कर्फ्यू?

(डूंगरसिंह राजपुरोहित)कोरोना पर कंट्रोल की कवायद के बीच बुधवार को वार रूम में ही दो आईएएस अफसर आमने-सामने आ गए। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के एसीएस रोहित कुमार सिंह ने एसीएस, गृह राजीव स्वरूप को खूब खरी-खोटी सुनाई। इस दौरान चीफ सेक्रेटेरी डीबी गुप्ता भी वहीं मौजूद थे। रोहित कुमार ने राजीव स्वरूप की ओर इशारा करते हुए कहा- ‘रामगंज इस वक्त कोरोना बम पर बैठा है। हमारे हेल्थ दलों को लोग बंधक बना रहे हैं...उनको मार रहे हैं..., गालियां देकर मोहल्लों से भगा रहे हैं। और आपकी पुलिस के इंस्पेक्टर रामगंज में लोगों के साथ सेल्फियां खिंचवा रहे हैं, खाने के पैकेट बांट रहे हैं। पुलिस की ड्यूटी यह है कि सर्वे में चिकित्सा दलों के साथ जाएं और उनकी रक्षा करें, पर पुलिस ऐसा नहीं कर रही।’ जवाब में एसीएस गृह, राजीव स्वरूप ने कहा- ऐसी कोई बात नहीं है, कर्फ्यू की पालना सख्ती से की जा रही है।रामगंज जैसी लापरवाही भीलवाड़ा में होती तो आंकड़ा सौ पार जाता : रोहितपुलिस का काम कर्फ्यू की पालना करवाना है न कि एनजीओ बनकर खाना बांटना और सेल्फियां खिंचवाना? अगर रामगंज की तरह भीलवाड़ा में कर्फ्यू में ढिलाई बर..
                 

निजामुद्दीन मरकज से लौटे 80 लोगों का पता चला; जयपुर के परकोटे में 26 पॉजिटिव केस, पूरा इलाका सील

राजस्थान में कोरोना संक्रमण से हालत बिगड़ते जा रहे हैं। राज्य में बुधवार को संक्रमण के 15 नए मिले। इनमें 13 जयपुर और दो जोधुपर के हैं। राज्य में अब संक्रमितों की संख्या 108 पर पहुंच गई है। जयपुर में जो 13 संक्रमित मिले हैं। वह सभी शहर के परकोटे के रामगंज इलाके के हैं। बुधवार सुबह ही परकोटे इलाके को पूरी तरह से सील कर दिया गया। यहां न कोई बाहर से आ सकता है न ही अंदर जा सकता है। उधर, दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए मरकज में राजस्थान से 64 लोग गए थे, इन सभी को ट्रेस कर लिया गया है। इनके स्वास्थ्य की जांच के बाद इन सभी को क्वारैंटाइन किया गया है।जयपुर: शहर के परकोटे की ड्रोन से निगरानीजयपुर के परकोटे में कर्फ्यू लगाकर इसे सील कर दिया गया है। यहां ओमानसे लौटे युवक के संक्रमित मिलने के बाद अब तक 26 पॉजिटिव मिल चुके हैं, जो कि सभी युवक से जुड़े हुए थे। इलाके की ड्रोन से निगरानी की जा रही है। लोगों से घर की छतों पर भी दूरी बनाने के निर्देश दिए गए। सिर्फ पुलिस और प्रशासन से जुड़े लोगों को ही इस इलाके में जाने के लिए पास दिए गए हैं।जयपुर: शाहपुरा के एसडीएम नरेंद्र मीणा की पत्नी ने घर में मास्क तैयार..
                 

शहरों व कस्बों के बिजली सिस्टम की प्री मानसून मेंटेनेंस अभी टली, लेकिन गर्मियों में फॉल्ट व ट्रिपिंग की दिक्कत से हो गी परेशानी  

श्यामराज शर्मा।प्रदेशभर के सभी शहरों व कस्बों में फिलहाल बिजली सिस्टम की प्री मानसून ‘मेंटेनेंस’ नहीं होगी। जयपुर, जोधपुर व अजमेर डिस्कॉम ने ‘लॉक डाउन’ को देखते हुए अप्रेल के पहले सप्ताह से शुरू होने वाली मेंटेनेंस को स्थगित रखने का फैसला लिया गया है।मेंटेनेंस का काम दो महीने तक चलता है। लॉकडाउन के कारण ज्यादातर लोग फिलहाल घरों में हैं तथा बिजली बंद होने पर शिकायतें बढ़ जाएंगी। मेंटेनेंस के कारण बिजली कटौती करने का विरोध होने की आशंका है। हालांकि मेंटेनेंस नहीं होने से पीक गर्मी व बरसात में फॉल्ट व ट्रिपिंग के कारण बिजली गुल रहेगी। सरकार ने तीनों डिस्कॉम को लॉकडाउन में नियमित बिजली सप्लाई करने के निर्देश दे रखे हैं।इसलिए जरूरी है मेंटेनेंसप्रदेश में एचटी व एलटी लाइनों से उपभोक्ताओं के घरों तक बिजली सप्लाई होती है। नियमानुसार साल में दो बार बिजली सिस्टम की लाइनों, केबल, ब्रेकर, ट्रांसफार्मर, आरएमयू, फ्यूज, जंपर, खंभा, जीएसएस की मेंटेनेंस करनी होती है ताकि वोल्टेज व लोड की जांच हो तथा डिमांड के अनुसार नए ट्रांसफार्मर लगाए जा सकें।इसलिए मानसून से पहले अप्रेल के पहले..
                 

यहां परकोटे की सभी सीमाएं सील, अंदर और बाहर जाने वाली हर गाड़ी को किया जा रहा सैनेटाइज

बुधवार को राजस्थान में लॉकडाउन का आठवां दिन रहा। वहीं जयपुर के सात थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू का छठा रहा। अब सरकार ने जयपुर परकोटे की सभी सीमाएं सील कर दी हैं। वही सिविल डिफेंस के कार्यकर्तासड़कों पर लोगों की मदद मदद कर रहे हैं।अब परकोटे में सिर्फ पुलिस, चिकित्साकर्मियों और मीडिया समेत कुछ ही लोगों को एंट्री दी जाएगी। इसके अलावा परकोटा बाहरी लोगों के लिए बिल्कुल बंद रहेगा। यहां रामगंज में कोरोना पॉजिटिव केसों की संख्या लगातार बढ़ने के कारण ये फैसला लिया गया है।इस दौरान आवश्यक सेवाओं से जुड़े हुए वाहनों को ही प्रवेश दिया गया। शहर के परकोटे में मुख्य द्वारों पर दमकल की गाड़ियां तैनात कर दी गई हैं। जो यहां से गुजरने वाले सभी वाहनों को सैनेटाइजर का छिड़काव कर रही हैं।सिविल डिफेंस के कार्यकर्ताओं ने बांटा भोजन।अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राजीव स्वरूप ने जानकारी दी थी कि परकोटे में किसी प्रकार की आवाजाही नहीं होगी। जो परकोटे में रहते हैं, वो वहीं रहेंगे। केवल चिकित्साकर्मी, जिला प्रशासन, नगर निगम कर्मी को परकोटा क्षेत्र से बाहर जाने की अनुमति होगी। अगर किसी व्यक्ति को किसी जगह पर जाना आवश्यक ह..
                 

राजस्थान में 14 राेगी स्वस्थ, 4 अस्पताल से डिस्चार्ज भी हाे गए, प्रदेश में 78 लाख से ज्यादा लाेगों की स्क्रीनिंग हाे चुकी

जयपुर | प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव 69 में से सोमवार तक 14 रोगी इस बीमारी से ठीक हाे गए। सरकार ने दावा किया कि चिकित्सकों की मेहनत से 14 पॉजिटिव मरीजों की रिपोर्ट अब निगेटिव आई है। इनमें से 4 को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। 10 को अभी निगरानी में रखा गया है। चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने यह जानकारी दी। मंत्री ने बताया कि चिकित्सा विभाग की एक्टिव सर्विलांस टीम राज्य के 78 लाख 74 हजार 337 परिवारों के 3 करोड़ 26 लाख सदस्यों की स्क्रीनिंग कर चुकी है।इसके अलावा पैसिव सर्विलांस यानी ओपीडी में 28 लाख 43 हजार 362 की जांच की गई है। इस कदम से न केवल बढ़ते कोरोना के संक्रमण पर रोक लगेगी बल्कि भविष्य के लिए योजना बनाई जा सकेगी। उन्होंने बताया कि 69 पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए लोगों की ट्रेसिंग करके भी सैंपल लिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश के जिलों में 302 लोग अभी आइसोलेशन में भर्ती हैं। भीलवाड़ा के कलेक्टर ने दावा किया कि 26 में से 8 की रिपोर्ट निगेटिव आई है।घबराएं नहीं, इस महामारी से बचा जा सकता है : रघु शर्माकोरोनावायरस से घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना पॉजिटिव मरीज को समुच..
                 

2011 में बनी फिल्म कॉन्टेजियन में कोरोना वायरस जैसी कहानी; बचाव के दो सबक- अफवाहें न फैलाएं, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें

वायरस के आक्रमण पर 2011 में रिलीज हुई स्टीवन सोडरबर्ग की फिल्म कॉन्टेजियन ने वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना के कहर के बीच आई-ट्यूंस और अमेजन जैसे वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफाॅर्म पर खूब लोकप्रियता बटोर रही है। वजह... लोगों को इस अदृश्य वायरस के बारे में जानने की इतनी उत्सुकता है कि वे ऐसी फिल्मों से जानकारी ले रहे हैं। फिल्म में दिखाया गया है कि कोरोना जैसा एक वायरस कितनी तेजी से पूरी दुनिया में फैलकर हर तबके को अपने शिकंजे में ले सकता है। फिल्म के दृश्य कोरोना से लड़ रहे देशों के हालत से काफी मिलते हैं। आज 196 देशों को इस कोरोना वायरस ने इंटरनेशनल ट्रेवल की वजह से अपना शिकार बना लिया। कॉन्टेजियन के अलावा 1995 में अमेरिका में फैले इबोला पर आधारित फिल्म आउटब्रेक व दक्षिण कोरिया में बर्ड फ्लू पर 2013 में रिलीज हुई फिल्म फ्लू भी काफी देखी जा रही है।सीन 1- इंटरनेट पर होम्योपैथिक दवा वायरल होना, सीन 2- मास्क और राशन की जमाखोरी वायरस हमले के बाद की चुनौतियाें को कॉन्टेजियन में दिखाया है। सामाजिक विघटन, इलाज, संसाधन व हमारे आसपास मौजूद ऐसे लोग जो किसी नियम-कायदे को मानने को तैयार नहीं होते और सब..
                 

वीडियो कॉलिंग और मोबाइल नंबर से मरीजाें को मिलेगी कंसल्टेंसी; यूटीबी आधार पर डॉक्टर, नर्सेज और लैब टेक्नीशियन की भर्ती

(प्रणीता भारद्वाज)देशभर में लॉकडाउन के चलते पेशेंट्स को किसी तरह की परेशानी न हाे इसलिए एमसीआई और राजस्थान मेडिकल काॅउंसिल ने डॉक्टर्स को टेलिमेडिसिन के जरिए कंसल्टेंसी देने की मंजूरी दे दी है। इसके तहत हॉस्पिटल्स और डॉक्टर्स अपने स्तर पर टाइमिंग के मुताबिक कंसल्टेंसी दे पाएंगे। ताकि पेशेंटस अपने शहर में ही रहते हुए डॉक्टर से परामर्श करके इलाज ले पाएं।डॉ. अरविंद गुप्ता ने बताया कि गवर्नमेंट ने हॉस्पिटल्स और निजी स्तर पर रूटीन ओपीडी को बंद कर रखी है। हॉस्पिटल्स में रेस्प्रेरिटरी डिजीज यानी जुकाम, खांसी, बुखार के पेशेंट्स की ओपोडी ही जारी है। इसके अलावा अन्य बीमारी से ग्रसित पेशेंट्स टेलिमेडिसीन, वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए कंसल्टेंसी ले सकते हैं। एक सप्ताह में अलग-अलग तरह के कुछ सॉफ्टवेयर उपलब्ध हो जाएंगे। इनमें से कुछ सॉफ्टवेयर पर फ्री कंसल्टेंसी होगी।वहीं, कुछ सॉफ्टवेयर पर नॉमिनल फीस देकर कंसल्टेंसी ले पाएंगे। हालांकि अभी भी शहर के डॉक्टर्स अपने पेशेंट्स को वाॅट्सएप पर वीडियो कॉलिंग, मैसेज और पुराना रिकॉर्ड देखते हुए कंसल्टेंसी दे रहे हैं। इसके लिए वे किसी तरह की फीस नहीं ले रहे। फोर्ट..
                 

कैबिनेट का फैसला- राजस्थान में 6 लाख कर्मियों की मार्च की 75% तक सैलरी रोकी गई; कब मिलेगी, यह भी तय नहीं

कोरोना के कहर के कारण प्रदेश में पहली बार करीब 6 लाख सरकारी कर्मचारियों का मार्च का 75 फीसदी तक वेतन स्थगित कर दिया गया है। सीएम अशोक गहलोत की अध्यक्षता में मंगलवार को मुख्यमंत्री निवास पर हुई कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया। हालांकि, मेडिकल स्टाफ, पुलिसकर्मियों, संविदाकर्मियों और चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को इस दायरे में बाहर रखा गया है यानी उनके वेतन में ऐसी कटौती नहीं होगी। इसके अलावा सामाजिक सुरक्षा पेंशन के दायरे में न आने वाले 31 लाख लोगों को 1500 रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी। बैठक में बताया गया कि लाॅकडाउन के कारण प्रदेश में कई औद्योगिक इकाइयां एवं व्यावसायिक गतिविधियां बंद हैं। इससे मार्च में अनुमानित 17 हजार करोड़ रुपये के राजस्व अर्जन में बड़ी कमी आई है।न केवल राजस्थान बल्कि लगभग सभी राज्यों के राजस्व ऐसी ही गिरावट आई है।31 लाख लोगों को 1500 रु. अनुग्रह राशि देंगेसीएम अशोक गहलोत की अध्यक्षता में मंगलवार को मुख्यमंत्री निवास पर हुई कैबिनेट की बैठक में कोरोना महामारी से उपजे संकट को देखते हुए सीएम, मंत्री सहित प्रदेश भर के अधिकारियों एवं कर्मचारियों का मार्च माह का वेत..
                 

एमपी में मरकज से लौटे लोगों की तलाश शुरू, यूपी में 95% ट्रेस किए गए, रजास्थान में सरकार ने मरकज में शामिल लोगों की लिस्ट मंगवाई

नई दिल्ली/जयपुर. दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में इस्लामिक धार्मिक आयोजन (मरकज) में शामिल लोगों से कोरोना संक्रमण के विस्तार का खतरा हो गया है। मध्यप्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से बड़ी संख्या में लोग इस मरकज में शामिल हुए थे। मरकज में बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मिले हैं। ऐसे में आशंका है कि इन राज्यों के शामिल हुए लोगों में संक्रमण हो सकता है। फिलहाल, तीनों राज्यों ने एक टास्क फोर्स का गठन किया है। यह फोर्स मरकज में शामिल हुए लोगों का पता करेगी और उनकी जांच कराने के साथ ही क्वारैंटाइन करेगी।मध्यप्रदेश: 107 लोग मरकज में शामिल हुए थेमध्यप्रदेश में इस मरकज में 107 लोग शामिल हुए थे। इसमें शामिल होकर लौटी 50 जमातें भोपाल में रुकी थीं। दिल्ली से लौटे मध्य प्रदेश के 107 लोगों में से 36 लोग भोपाल के पुराने शहर के रहने वाले हैं। प्रशासन उन लोगों की तलाश कर रहा है जो मरकज में शामिल हुए थे। स्वास्थ्य विभाग ऐसे लोगों की तलाश कर उनके सैंपल ले रही है। मंगलवार को करीब 11 लोगों की पहचान कर सैंपल लिए गए। इन लोगों को घर पर ही क्वारैंटाइन किया गया। राज्य सरकार ने इसकी जानकारी जुटाने की जिम्मेदारी ग..
                 

एसएमएस अस्पताल के मेडिकल आईसीयू में भर्ती व्यक्ति पॉजिटिव मिला, कुल आंकड़ा 21 पर पहुंचा

जयपुर. मंगलवार को जयपुर में कोरोना पॉजिटिव का एक नया केस सामने आया। जिसमें मेडिकल आईसीयू में भर्ती 60 साल के पुरुष की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जानकारी अनुसार ये एसएमएस अस्पताल के मेडिकल आईसीयू में भर्ती थे। जो की रामगंज का ही रहने वाला है।इससे पहले सोमवार को जयपुर में कोरोना पॉजिटिव के 10 केस सामने आए। इनमें रामगंज क्षेत्र के पहले संक्रमित व्यक्ति की मां और बेटे के अलावा उनके आठ रिश्तेदार भी शामिल है। बता दें की 45 साल का ये व्यक्ति ओमान से जयपुर लौटा था। जिसके बाद इस व्यक्ति ने चिकित्सा विभाग का आदेश न मानकर पूरे शहर को खतरे में डाल दिया। अब जयपुर में संक्रमित लोगों की संख्या 21 पहुंच गई है।मंगलवार सुबह पॉजिटिव मिला व्यक्ति ओमान से आए संक्रमित व्यक्ति के परिवार से नहीं है। लेकिन इनसे संपर्क में आया था। जिसके बाद उसे एसएमएस के मेडिकल आईसीयू में आइसोलेशन में रखा गया था। जिसके बाद आज उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। रामगंज के इस परिवार के संपर्क में आए करीब 60 लोगों को आइसोलेशन में रखा गया था। जिन्हे आरयूएचएस, एसएमएस और निम्स में रखा गया है।पुलिस हुई सख्तरामगंज में लगातार केस सामने आने के ब..
                 

14 नए केस पॉजिटिव मिले, इसमें ईरान से लाए गए 10 नए लोग भी संक्रमित; कुल आंकड़ा 93 पर पहुंचा

जयपुर. मंगलवार को राजस्थान में कोरोनावायरस के 14 नए पॉजिटिव केस सामने आए। जिसमें दुबई से झुंझुनू लौटे के एक 44 साल के व्यक्ति, अजमेर में पंजाब से लौटे युवक की 17 साल की बहन, डूंगरपुर में पहले पॉजिटिव मिल चुके युवक के 65 साल के पिता और जयपुर में 60 साल के पुरुष शामिल हैं। अब इन सभी की ट्रेवल हिस्ट्री खंगाली जा रही है। वहीं ईरान से लाए गए 10 लोगों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।जिसके बाद कुल आंकड़ा 93 पहुंच गया है।इससे पहले सोमवार को भीलवाड़ा में 40 साल के व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव आए थे। वहीं जयपुर के रामगंज में पॉजिटिव पाए गए व्यक्ति की मां और बेटे की रिपोर्ट भी सुबह पॉजिटिव आई। इसके बाद रामगंज में ही संक्रमित परिवार के 8 और सदस्यों की जांच रिपोर्ट सोमवार रात को पॉजिटिव आ गई। इससे जयपुर में एक ही दिन में 10 केस सामने आए। इसके अलावा सोमवार को ही ईरान से जोधपुर आए 7 लोगों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।राजस्थान के 11 जिलों में कोरोना, सबसे ज्यादा 26 संक्रमित भीलवाड़ा मेंराजस्थान में कुल 33 जिले हैं। इनमें से अब तक 11 जिलों में कोरोना के केस मिल चुके हैं। सबसे ज्यादा केस भीलवाड़ा में मिले हैं। यहां ..
                 

दौसा-सवाईमाधोपुर के आइसोलेशन वार्ड से भागे 11 संदिग्ध, 8 नहीं मिले

दौसा-सवाई माधोपुर | दौसा और सवाई माधोपुर के आइसोलेशन सेंटरों से सोमवार को 11 संदिग्ध भाग गए। इनमें 10 तो दौसा के मीणा छात्रावास के आइसोलेशन वार्ड से भागे। दौसा से भागे दो संदिग्ध रात तक खुद ही लौट आए। सवाईमाधोपुर के जनरल अस्पताल में भर्ती सूरवाल गांव का संदिग्ध भी भाग कर गांव पहुंच गया, जिसे तुरंत पीछा कर पकड़ लिया। दौसा के 10 में से 8 अभी गायब है। हुआ यह कि दौसा के मीणा छात्रावास में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड से सोमवार को 10 कोरोना संदिग्ध अचानक भाग गए। पता चलने पर हड़कंप मच गया। छात्रावास के गेट पर छह होमगार्ड के जवान तैनात हैं।वहीं, पांच चिकित्साकर्मी डयूटी पर रहते हैं। आइसोलेशन वार्ड का चैनल गेट भी बंद रहता है। बाहरी व्यक्ति का प्रवेश पूरी तरह वर्जित है, लेकिन वार्ड में भर्ती रिंकू, नरसी, कृष्ण कुमार, राहुल, कमलेश, सोदान, मीठालाल, मथुरेश, इंद्राज व विनोद कुमार गार्डों को चकमा देकर वार्ड में से भाग गए। इससे जिन मरीजों के सैंपल की रिपोर्ट नहीं आई, उनसे आबादी में संक्रमण का खतरा और बढ़ गया। बाद में कमलेश व इंदर राज वापस आ गए।अन्य को भी वापस लाने के लिए विभाग के अधिकारी व कर्मचारी देर रात त..
                 

128 कस्बों व 11440 गांवों में पेयजल संकट, हाथ धोने को गांवों में 10 व शहरों में 20 लीटर पानी हो रहा है खर्च

जयपुर (श्याम राज शर्मा )कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए डब्ल्यूएचओ व सरकार ने प्रदेश की जनता को बार बार हाथ धोने की सलाह दे रखी है, लेकिन हालात यह है कि प्रदेश में पांच जिलों के साथ ही 128 कस्बे व 11 हजार 440 से ज्यादा गांव-ढाणियों में साफ पीने के पानी की दिक्कत है। ज्यादातर शहरों व गांवों में पीने के पानी की किल्लत है। अब लोगों के सामने संकट यह है कि पानी को पीने के काम में ले या फिर हाथ धोने के। लाॅक डाउन के बीच कस्बों व गांवों में लोगों को पानी लाने के बीच घर से निकलना ही पड़ता है।करीब 84 लाख घरों में सरकारी नल नहीं है। अब जल जीवन िमशन में इन्हे जोड़ना है। सरकार ने एक सप्ताह पहले गर्मी को देखते हुए टैंकरों के लिए बजट दे दिया, लेकिन अभी तक मामला टेंडर में उलझा हुआ है। डॉक्टरों के मुताबिक, हाथ धोने पर हर व्यक्ति गांवों में 10 लीटर व शहरों में 20 लीटर पानी खर्च हो रहा है। विभाग ने केवल बीसलपुर प्रोजेक्ट से जुडे केवल जयपुर शहर में पिछले सप्ताह 400 लाख लीटर पानी बढ़ाया है।शौचालय बनने के बाद खपत बढ़ी, लेकिन पानी नहीं स्वच्छ भारत अभियान में कस्बों व गांवों में भी शौचालय बढ़ गए है, लेकि..
                 

ओमान से लौटे व्यक्ति की सुबह मां और बेटा भी संक्रमित मिला, रात को आठ रिश्तेदारों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई, 20 पर पहुंचा आंकड़ा

जयपुर. सोमवार को जयपुर में कोरोना पॉजिटिव के 10 नए केस सामने आए। जिसमें जयपुर में रहने वाली 70 साल की महिला और 21 साल का युवक औरउनके 8 रिश्तेदारहैं। इनमेंरामगंज क्षेत्र के पहले संक्रमित व्यक्ति की मां और बेटे के अलावा उनके आठ रिश्तेदार भीहै। बता दें की 45 साल का ये व्यक्तिओमान से जयपुर लौटा था। जिसके बाद इस व्यक्ति नेचिकित्सा विभाग का आदेश न मानकर पूरे शहर को खतरे में डाल दिया।ओमान से लौटने के बाद व्यक्ति को क्वारैंटाइन होना था, लेकिन वह दोस्तों से मिलता रहा, मस्जिद जाकर नमाज पढ़ता रहा और शहर में घूमता रहा। जिसके बाद सोमवार रात तकजयपुर में संक्रमित लोगों की कुल संख्या 20पहुंच गई है।ओमान से आया था युवकजानकारी अनुसार गत गुरुवार से14 दिन पहले युवक ओमान से लौटा था। ओमान से लौटने के बाद सीएमएचओ और मेडिकल टीम ने इस व्यक्ति को क्वारैंटाइन में रहने के लिए कहा था। लेकिन, वह न केवल परिजनों और खुद के बच्चों से मिलता रहा, बल्कि दोस्तों और रिश्तेदारों से भी मिला। यहां तक कि नमाज पढ़ने रहमानिया मस्जिद भी गया। यहां नमाज पढ़कर कई लोगों से मिला। 24 मार्च को इसे बुखार आया, तो एसएमएस अस्पताल की कोरोना ओपीडी..
                 

बारदाना उपलब्ध करवाने के लिए सरकार ने खुलवाई मंडी समितियों की दुकानें, फसल पैकिंग के लिए पर्याप्त बारदाना उपलब्ध

(सौरभ भट्‌ट)जयपुर। कोरोना के खिलाफ लॉकडाउन के चलते बारदाने के संकट से जूझ रहे किसानों के लिए सरकार ने सोमवार को मंडी समितियों की दुकानें खुलवाने का आदेश जारी कर दिया। कृषि विभाग के प्रमुख सचिव नरेश पाल गंगवार ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से किसानों को फसल पैकिंग के लिए पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध करवाया जाएगा।काश्तकार अपनी जरूरत के मुताबिक कृषि उपज मंडी समितियों एवं ग्राम सेवा सहकारी समितियों से बारदाना खरीद सकते हैं। गंगवार ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण रोकथाम के लिए चल रहे लॉकडाउन के बीच रबी फसलों की कटाई का कार्य चल रहा है।इस दौरान काश्तकारों को फसल पैकिंग के लिए बारदाने की जरूरत रहती है। उन्होंने बताया कि बारदाना उपलब्ध कराने के लिए राज्य की सभी कृषि उपज मंडी समितियों की दुकानें खुलवा दी गई हैं। इन दुकानों पर बारदाने का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध है।साथ ही क्रय-विक्रय सहकारी समितियों पर स्टॉक में रखे बारदाना किसानों को आवश्यकता अनुसार बेचने की मंजूरी प्रदान की गई है। राजफैड की ओर से गत वर्षों में समर्थन मूल्य पर तिलहन-दलहन की खरीद के लिए उपलब्ध करवाया गया यह बारदाना नेफे..
                 

84 निजी अस्पताल व मेडिकल कॉलेजों को कब्जे में लेगा जिला प्रशासन, संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए मिल सकेंगे 9377 बैड

जयपुर. शहर में कोरोना संकट से निपटने की लिए युद्ध स्तर पर प्रशासनिक तैयारी जारी है। आने वाले कुछ दिन कोरोना संक्रमण को लेकर अहम हो सकते है। ऐसे में जिला कलेक्टर डॉ. जोगाराम ने जयपुर जिले के 84बड़े निजी अस्पतालों को कब्जे में लेने का आदेश जारी किया है। इन अस्पतालों में कम से कम 50 बेड से लेकर अधिकतम 1100 बेड उपलब्ध है। इनमें सीएमएचओ प्रथम डॉ. नरोत्तम शर्मा के सुपरविजन में 37 निजी अस्पताल रहेंगे। इनमें 4094 बैड उपलब्ध है।इसके अलावा सीएमएचओ द्वितीय डॉ. हंसराज भंडालिया के सुपरविजन में47 निजी अस्पताल है। इनमें 5283 बैड उपलब्ध है। कुल मिलाकर 84 अस्पतालों के अधिग्रहण से जयपुर में कम से कम 9077 बेड कोरोना संक्रमितों के उपचार के लिए उपलब्ध हो सकेंगे। इससे माना जा रहा है कि आने वाले वक्त में प्रदेश में कोरोना संकट और गहरा सकता है। उल्लेखनीय है कि दो दिन पहले ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आने वाले वक्त में 10 हजार वेंटिलेटर और ज्यादा से ज्यादा वेंटिलेटर की जरुरत पड़ने की बात कहते हुए इनकी बिना टेंडर जारी किए खरीदने के निर्देश दिए थे।इसमें प्रदेश की राजधानी जयपुर और भीलवाड़ा सबसे आगे चल रहे है। जहां क..
                 

रोडवेज की बसें बंद होने के बाद भी पैदल पलायन कर रहे लोग, बोले- हमारे पास न खाना, न ही पैसा

जयपुर. सोमवार को राजस्थान में लॉकडाउन के छठा दिन है। वहीं जयपुर के सात थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू का चौथा रहा। इनमें सुभाष चौक, रामगंज, कोतवाली, माणकचौक, ब्रह्मपुरी, नाहरगढ़ व गलता गेट इलाके शामिल हैं। यहां बसें बंद होने के बावजूद कुछ लोग पैदल ही अपने घर जाते नजर आए। जिसके चलते बड़ी संख्या में लोग अजमेर रोड पर देखे गए। वहीं कोर्ट के आदेश के बाद कुछ वाहन स्टोर भी खुले दिखाई दिए।पलायन कर रहे लोगों ने कहा कि सुबह 9 बजे कोटपुतली से रवाना हुए हैं। ये यहां से श्योपुर जा रहे हैं। रास्ते में अभी तक खाने की कोई व्यवस्था नहीं है। घर जाने के लिए बहुत मुश्किल आ रही है। खाना नहीं है। पैसा नहीं है। ये सभी मजदूरी करते थे। जिन्हे लॉकडाउन के बाद नौकरी से हाथ धोना पड़ा। करीब 10 दिन से बैठे हैं।मास्क और सैनेटाइजर बांटे जा रहेवहीं कई जगह लोगों द्वारा सेवा भी की जा रही है। जिसमें जरुरतमंदों तक खाना, मास्क और सैनेटाइजर पहुंचाया जा रहा है। वहीं परकोटे के रामगंज, छोटी चौपड़, बड़ी चौपड़ समेत तमाम जगहों पर सन्नाटा पसरा रहा। बता दें की जयपुर में कोरोना के अब तक 10 मामले सामने आए हैं।बीएस-4 वाहन बेचने को शोरूम्स क..
                 

डिस्कॉम्स का रेवन्यू कलेक्शन 75% गिरा, अब नहीं हो पाएगा बिजली उत्पादन कंपनियों और बैंक का पेमेंट

जयपुर.कोरोना महामारी के बाद देशभर में हुए ‘लॉक डाउन’ के बाद प्रदेश की सरकारी बिजली वितरण कंपनियों (डिस्कॉम्स) का रेवन्यू कलेक्शन 75 फीसदी तक गिर गया है। लॉकडाउन से पहले की तुलना में बीते सप्ताह केवल 25 फीसदी ही बिल जमा हुए है। लॉकडाउन से पहले सप्ताह में जयपुर, जोधपुर व अजमेर डिस्कॉम के बिलों से रेवन्यू करीब 1500 करोड़ थी। जबकि उसके बाद के सप्ताह में केवल करीब 400 करोड़ रुपए के बिल ही जमा हुए है। उपभोक्ताओं के बिल जमा नहीं होने से बिजली कंपनियों के सामने सरकारी व प्राइवेट बिजली उत्पादन कंपनियों का पेमेंट करने का संकट हो गया है।वहीं,बैंकों की किश्त भी जमा नहीं हो पाएगी। गर्मियों से पहले की जाने वाली मेंटेनेंस भी प्रभावित होगी। अकेले जयपुर डिस्कॉम में लॉक डाउन से पहले सप्ताह में 676 करोड़ रुपए की आय हुई थी, लेकिन उसके बाद के सप्ताह में 166 करोड़ की खजाने में जमा हुए है। यानि 510 करोड़ रुपए कम आया है। जो रेवेन्यू कलेक्शन आया है, वहीं भी चैक से है, जो कि पहली ही आ चुका था। वह भी बैंक में जमा चैक का है। प्रदेश में 50 फीसदी से ज्यादा घरेलू उपभोक्ताओं ने पेमेंट नहीं किया है। ऐसे में करी..
                 

धौलपुर में बाहर से आए लोगों को कॉलोनी में घुसने से रोका; क्वारैंटाइन की मुहर लगाकर मजदूरों को घर भेजा जा रहा

जयपुर. कोरोनावायरस के संक्रमण की चेन को तोड़ने के दिए देश में 21 दिन का लॉकडाउन है। राजस्थान में मजदूरों का पलायन बड़ी समस्या बना हुआ है। मजदूरों के सामने रोटी का संकट खड़ा हो गया है और वह हर-हाल में अपने गांव लौटना चाहते हैं।दूसरे राज्यों से भी मजदूर राजस्थान लौट रहे हैं। ऐसे में लॉकडाउन का मकसद पूरा होना मुश्किल लग रहा है। सरकार बाहर जाने वाले मजदूरों की जांच की खानापूर्ति कर रही है। वहीं, बाहर से आने वाले मजदूरों के हाथों में क्वारैंटाइन की मुहर लगाकर उन्हें घर के नजदीक तक पहुंचायाजा रहा है।धौलपुर: अस्पताल में 10 फीट ऊंचाई से की जा रही है बाहर से आने वालों की स्क्रीनिंगधौलपुर के सैंपऊ में हैदराबाद से कुछ युवक आए हैं। रविवार सुबह इनमें से छह युवक स्क्रीनिंग के लिए सरकारी अस्पताल पहुंचे। यहां कंपाउंडर ने 10 फीट की ऊंचाई की दीवार पर खड़ा होकर उनके नाम और गांव के पते रजिस्टर में दर्ज किए। उनकी तबीयत के बारे में भी पूछा। अस्पताल की तरफ से स्क्रीनिंग के नाम पर की जा रही खानापूर्ति से गांव के लोग डरे हुए हैं। बाहर से आ रहे लोग भी स्क्रीनिंग की व्यवस्था से संतुष्ट नहीं है।ताल कर्मी।Edit Video ..
                 

अजमेर में तीन, भीलवाड़ा और झुंझुनू में एक-एक केस पॉजिटिव मिला; राज्य में कुल आंकड़ा 59 पर पहुंचा

जयपुर. रविवार कोकोरोनावायरस पॉजिटिव पांच और मामला सामने आया। जिसमें पहला मामला भीलवाड़ा की 53 साल की महिला है। वहीं दूसरा मामला झुंझुनू में 21 साल के लड़के में सामने आया। जो फिलीपींस से लौटा था। इसके अलावा तीन मामले अजमेर के सामने रविवार रात को सामने आए। ये सभी एक ही परिवार के है। इनमें संक्रमित युवक के बाद उसके माता पिता और भाई शामिलहै।जिसके बाद राजस्थान में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 59हो गई है। वहीं अकेले भीलवाड़ा में 25 लोग पॉजिटिव है। इससे पहले शनिवार को राजस्थान में 4 केस सामने आए थे। जिसमें तीन भीलवाड़ा वहीं एक अजमेर का था। अजमेर में ये पहला मामला है जब कोई कोरोना पॉजिटिव सामने आया है। वहीं राजस्थान में दो लोगों की मौत भी हो चुकी है।भीलवाड़ा में कोरोना संक्रमण के सबसे ज्यादा 25 मामले मिले हैं। जयपुर में 10, झुंझुनूं में 7, जोधपुर में 6, प्रतापगढ़ में 2, डूंगरपुर में 2, अजमेर में 4, पाली, सीकर और चूरू में एक-एक संक्रमित मिला है। रविवार को भीलवाड़ा में जिस 53 साल की महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली वो भी बांगड़ अस्पताल में भर्ती थी। जिनका आईपीडी में डॉक्टर द्वारा इलाज किया जा रहा था..
                 

लॉक डाउन का उल्लंघन करने पर सात दिनों में 2500 वाहन जब्त, 1 लाख जरुरतमंदों को बांटे फूड पैकेट्स

जयपुर. प्रदेश में कोरोना संकट के चलते हुए संपर्क लॉक डाउन के दौरान राजस्थान में पुलिस दोहरी भूमिका निभा रही है। एक तरफ लॉक डाउन और कर्फ्यूग्रस्त इलाकों में नियमों का उल्लंघन करने, अफवाह फैलाने वाले असामाजिक तत्वों से सख्ती कर कार्रवाई की जा रही है। वहीं, दूसरी तरफ, जरुरतमंदों तक खाने पीने की सामग्री और अन्य वस्तुएं भी पहुंचाने मेंपुलिस सक्रिय भूमिका अदा कर रही है। खुद राजस्थान पुलिस के डीजी डॉ. भूपेंद्र सिंह यादव और सीनियर पुलिस अफसर इसकीमॉनिटरिंग कर रहे है।जयपुर पुलिस द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार गत 23 मार्च से लेकर 29 मार्च तक पुलिस करीब 2500 वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई गाड़ियां जब्त कर चुकी है, जो कि लॉक डाउन का उल्लंघन कर सड़क पर निकले थे। इसी तरह, सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वाले 11 जनों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इसी तरह, धारा 144 का उल्लंघन करने वाले 22 लोगों के खिलाफ पिछले छह दिनों में कार्रवाई की गई।वहीं, आवश्यक वस्तुओं के निर्धारित मूल्य से ज्यादा वसूलने वाले दो व्यापारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की गई।लॉक डाउन होने के बाद पिछले छह दिनों में जयपुर पुलिस करीब एक लाख से ज्..
                 

डिस्कॉम्स का रेवन्यू कलेक्शन 75 फीसदी गिरा, अब नहीं हो पाएगा बिजली जनरेशन कंपनियों और बैंक का पेमेंट

(श्यामराज शर्मा) जयपुर।कोरोना महामारी के बाद देशभर में हुए ‘लॉक डाउन’ के बाद राजस्थान की सरकारी बिजली वितरण कंपनियों (डिस्कॉम्स) का रेवन्यू कलेक्शन 75 फीसदी तक गिर गया है। लॉकडाउन से पहले की तुलना में बीते सप्ताह केवल 25 फीसदी ही बिल जमा हुए है।लॉकडाउन से पहले सप्ताह में जयपुर, जोधपुर व अजमेर डिस्कॉम के बिलों से रेवन्यू करीब 1500 करोड़ थी जबकि उसके बाद के सप्ताह में केवल करीब 400 करोड़ रूपए के बिल ही जमा हुए है। उपभोक्ताओं के बिल जमा नहीं होने से बिजली कंपनियों के सामने सरकारी व प्राइवेट जनरेशन कंपनियों का पेमेंट करने का संकट हो गया है।वहीं बैंकों की किश्त भी जमा नहीं हो पाएगी। गर्मियों से पहले की जाने वाली मेंटेनेंस भी प्रभावित होगी। अकेले जयपुर डिस्कॉम में लॉकडाउन से पहले सप्ताह में 676 करोड़ रुपए की आय हुई थी, लेकिन उसके बाद के सप्केताह में वल 166 करोड़ की खजाने में जमा हुए हैं, यानी 510 करोड़ रुपए कम आया है।जो रेवेन्यू कलेक्शन आया है, वह भी चैक से है, जो कि पहले ही आ चुका था, वह भी बैंक में जमा चैक का है। प्रदेश में 50 फीसदी से ज्यादा घरेलू उपभोक्ताओं ने पेमेंट नहीं किया है।..
                 

राज्यपाल की अपील-पलायन ना करें, आपके खाने पीने और रहने का पूरा इंतेजाम है, गांव की भलाई के लिए ठहरें

जयपुर. राजस्थान में कोरोना संक्रमण के संकट के बीच लॉक डाउन से उपजे हालातों के बाद हजारों की संख्या में यहां काम करने आए लोगों का पलायन पांचवें दिन भी जारी रहा। इस बीच प्रदेश के राज्यपाल कलराज मिश्र ने एक वीडियो जारी करपलायन कर रहे लोगों से अपील की है कि लोग अभी कहीं नहीं जाएं, जहां हैं वहीं रुके रहे, प्रशासन ने लोगों की ठहरने खाने -पीने की पूरी व्यवस्था की हुई है, राज्यपाल ने कहा "यह संकट की घड़ी है, इस संकट की घड़ी में सभी धैर्य बनाए रखें घबराए नहीं।राज्यपाल मिश्र ने कहा की मैंने मीडिया में एक साथ बहुत से लोगों को ट्रक में और पैदल जाते हुए देखा। यह देख मुझे दुख हुआ। मैं व्यथित हो गया हूं और चिंता भी हो रही है। आप लोग इस परिस्थिति को समझे। राज्यपाल ने रविवार को प्रदेश वासियों से निवेदन किया है कि "कोराना वैश्विक महामारी के इस समय में आप लोगों का अपने गांव या शहर जाना ठीक नहीं है। आप लोग अपने गांव में जाकर वहां अपने ही लोगों के लिए मुसीबत खड़ी करेंगे। इसलिए जहां हैं वहीं रहे।देवरिया के लोगों का फोन आया था, तब पीड़ा सुनकर करवाया भोजन काप्रबंधराज्यपाल मिश्र ने कहा कि देवरिया, यूप..
                 

खाद्य मंत्री रमेश मीणा बोले- कालाबाजारी करने वालों के बारे में बताएं, कार्रवाई होगी

जयपुर.काेराेना काे लेकर जारी लाॅकडाउन के बीच आम आदमी के लिए राशन की व्यवस्था और कालाबाजारी सबसे बड़ी समस्या है। शनिवार काे दैनिक भास्कर के ‘आपके सवाल-मंत्रीजी के जवाब’ कार्यक्रम में प्रदेश के खाद्य-नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा भी इन्हीं समस्याओंसे जुड़े सवालाें से रूबरू हुए। भास्कर द्वारा उपलब्ध कराए गए नंबराें पर प्रदेशभर से सैकड़ों लाेगाें ने सवाल पूछे। कई समस्याओंऔर मामलाें का माैके से ही जिला प्रशासन और डीएसओ को फोन कर समाधान कराया गया ताे कुछ में व्यक्तिगत रूप से शिकायतकर्ता के नाम और पते नोट कर समस्या को जल्द ही सुलझा देने का भराेसा दिलाया गया। पेश है सवाल-जवाब...सवाल-राशन-सब्जी पर मुनाफाखोरी हो रही है। कीमतें आसमान छू रही हैं। क्या एक्शन ले रही है?जवाब-कोई भी दुकानदार मुनाफाखोरी नहीं कर सकता। यदि कोई कर रहा है तो सरकार एक्शन लेगी। प्रदेश के हर जिले में मुनाफाखोरी व कालाबाजारी रोकने के लिए कंट्रोल रूम बनाए गए हैं। संबंधित जिले में मुनाफाखोरी करने वाले की शिकायत कलेक्टर, डीएसओ व एसडीएम से की जा सकती है। इन पर कार्रवाई के लिए प्रदेशभर में अफसरों को आदेश दिए गए हैं, जि..
                 

प्रदेश के 10 जिलों में कोरोना की दस्तक, अब तक 5 जगह कर्फ्यू

जयपुर.प्रदेश में कोरोना ने 10 जिलों में दस्तक दे दी है। इस महामारी के कारण जयपुर सहित 5 जगह कर्फ्यू लगाया जा चुका है। शनिवार को भीलवाड़ा में 3 और इसके पड़ाेसी जिले अजमेर में एक रोगी मिला। अजमेर में पहला रोगी मिलने के साथ ही इस महामारी ने चिकित्सा मंत्री के गृहजिले में भी दस्तक दे दी। यहां 4 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है।बता दें कि सबसे पहले जयपुर पहुंचे इटली के यात्रियों में 2 मार्च को कोरोना मिला था। इसके बाद झुंझुनूं, फिर भीलवाड़ा, पाली, जोधपुर, सीकर, प्रतापगढ़, चूरू, डूंगरपुर व अजमेर में कोरोना फैला। भीलवाड़ा में सर्वाधिक 24, जयपुर में 10, जोधपुर-झुंझुनूं में 6-6, प्रतापगढ़ व डूंगरपुर में 2-2, पाली, सीकर, चूरू व अजमेर में 1-1 कोरोना रोगी हैं। जयपुर के रामगंज में दूसरे दिन, भीलवाड़ा में नौवें दिन भी कर्फ्यू जारी रहा। चूरू के भांगीवाद में शुक्रवार को महिला के पाॅजिटिव मिलने के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया है।रामगंज में दूसरे दिन भी कर्फ्यू, चूरू के गांव में भी लगाजयपुर के रामगंज इलाके में पिछले दाे दिन में दाे मरीज सामने आने के बाद पूरे परकाेटे क्षेत्र के सात थाना क्षेत्रों म..
                 

अतिआवश्यक काम होने पर बाहर जाने के लिए एक क्लिक पर घर बैठे ले सकेंगे वाहन पास

जयपुर.काेराेना वायरस के प्रकाेप के कारण संक्रमण से बचने के लिए प्रदेश भर में सरकार ने लाॅक डाॅउन कर दिया गया। ऐसे में लाेगाें काे अति आवश्यक कामाें के लिए पास बनाने के लिए पुलिस थानाें व प्रशासनिक अधिकारियाें के पास चक्कर लगाने पड़ रहे है।इस कारण संक्रमण काे ज्यादा खतरा बढ़ने की आशंका के चलते पुलिस मुख्यालय ने इस समस्या काे दूर करने के लिए विशेष साॅफ्टवेयर बना लिया है।अब लाेग पुलिस थानाें व प्रशासनिक अधिकारियाें के चक्कर लगाने के बजाए खुद घर पर बैठे वाहन का पास ले सकेंगे और उस पास के आधार पर अपने वाहन से यात्रा कर सकेंगे। रविवार काे पुलिस मुख्यालय द्वारा यह व्यवस्था शुरू कर दी जाएगी। डीजीपी भूपेन्द्र सिंह यादव ने एससीआरबी टीम द्वारा तैयार किए गए इस साॅफ्टवेयर की जानकारी मांगी है। ताकि लाेगाें काे साॅफ्टवेयर के मार्फत आवेदन करने में काेई परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।पहले एसएसओआईडी बनानी हाेगी और फिर राजकाॅप सिटीजन ऐप डाउनलाेड करके एप्लाई करना पड़ेगापड़ताल में सामने आया कि पास लेने के लिए संबंधित व्यक्ति काे पहले खुद की एसएसओआईडी बनानी पड़ेगी। इसके बाद राजकाॅप सिटीजन एप माेबाइल पर डाउ..
                 

पलायन कर रहे 7 हजार मजदूरों को रोडवेज बसों से गृह जिलों और राज्यों के बॉर्डर पर भेजा, सोशल डिस्टेंस पर सड़क पर बैठे रहे

जयपुर. प्रदेश में लॉकडाउन के चलते चौथे दिन सड़कों पर मजदूरों की लाइनें देखने को मिलीं।यहां काम करने वाले हजारों मजदूरभूखे-प्यासे कई किलोमीटर पैदल आगे बढ़ते दिखे।ये सभी अपने गृहराज्यों की तरफ पलायन कर रहे हैं। शनिवार को राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने ऐसे शरणार्थीमजदूरों को उनके राज्यों की बॉर्डर तक छुड़वाने की व्यवस्था की। करीब 7हजार से ज्यादा मजदूरों कोशहर के विभिन्न इलाकों से रोडवेज बसों में बैठाकर उनके राज्यों की बॉर्डर तक छोड़ा गया।सिंधीकैंप, ट्रांसपोर्ट नगर, नारायण सिंह सर्किल औरअन्य जिलों में भी बॉर्डर पर लोगइकट्‌ठा हो गए। जयपुर में सिंधीकैंप बस स्टैंड पर पुलिस ने शरणार्थी मजदूरों को सोशल डिस्टेंस का पालनकर सड़क पर बैठाया। कुछ देर बाद ही मजदूरों की संख्या बढ़ने पर सोशल डिस्टेंस और लॉकडाउन की व्यवस्था लड़खड़ा गई।स्थानीयसरकार से क्लियरेंस नहीं मिलने सेघर नहीं जा सके बिहार औरयूपी के मजदूरबसों से भेजे गए मजदूरों मेंज्यादातर गुजरात, हरियाणा, पंजाब, समेत राजस्थान में ही अन्य जिलों के रहने वालेथे। लेकिन, बिहार औरउत्तरप्रदेश के मजदूरों को नहीं भेजा जा सका। इसके पीछे रोडव..
                 

लॉकडाउन के दौरान राजकॉप सिटीजन मोबाइल एप पर कर सकेंगे इमरजेंसी पास के लिए आवेदन

जयपुर। कोरोना महामारी के चलते पूरे देशमें 14 अप्रैल, 2020 तक सम्पूर्ण लॉक-डाउन किया गया है। इससेराजस्थान में भी लॉकडाउन जारी है। इस दौरान आमजन को आवश्यक सेवाओं के लिए, दैनिक उपभोग की वस्तुऐं एवं मेडिकल सुविधाओं हेतु घर से बाहर निकलने की आवश्यकता रहती है। ऐसे में आपात वक्त के दौरान इमरजेंसी पास राजकॉप सिटीजन मोबाइल एप पर आवेदन कर प्राप्त कर सकते है।इसके लिए राजस्थान पुलिस द्वारा आमजन को राहत देने के लिएराज कॉप सिटीजन एप पर लॉक डाउन पास के नाम से फीचर दिया गया है। इस सुविधा के लिए आमजन अपने मोबाईल पर गूगल प्ले स्टोर से राजकॉप सिटीजन मोबाइल एप्प (RajCop Citizen Mobile App) डाउनलोड करने के बाद एसएसओ आईडी से लॉगिन कर इस सुविधा का उपयोग कर सकता है।लॉगिन के बाद आमजन व व्यावसायिक फर्म द्वारा उचित कारणों के साथ आवेदन किया जा सकता है। जिस पर संबंधित जिला प्रशासन / पुलिस / अन्य सक्षम अधिकारी द्वारा विचार किया जाकर आवश्यकतानुसार ऑनलाईन डिजीटल पास जारी होकर संबंधित आवेदक की ई-मेल आईडी पर प्राप्त हो सकेगा। इस लिंक (https://sso.rajasthan.gov.in/register>) पर क्लिक कर SSO ID बनाई जा सकेगी। Do..
                 

3 दिन की बरसात के बाद आसमान खुला, अब 31 को बीकानेर संभाग और 1 अप्रेल को बीकानेर-जयपुर संभाग में बारिश के आसार

जयपुर। राज्य में लगातार तीन दिन हई बरसात के बाद शनिवार को मौसम खुला। जयपुर जिले के शाहपुरा में शनिवार सुबह कोहरा छाया रहा। राज्य में कुछ जिलों में लगातार तीन दिन हुई बरसात से न्यूनतम और अधिकतम तापमान में गिरावट आई है।बीती राततापमान 16 डिग्री के आस-पास रहा। सबसे अधिक तापमान कोटा में 18.6 डिग्री तो जयपुर में 17.0 डिग्री रहा। मौसम विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटों में सबसे अधिक तापमान बाड़मेर में 29.5 तो सबसे कम सीकर में 13.0 डिग्री दर्ज किया गया।शनिवार को राज्य में मौसम शुष्क रहा। पिछले 24 घंटों में प्रदेश के श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, चूरू, जयपुर और दौसा सहित कुछ जिलो में बरसात हुई। बरसात से फसलों को काफी नुकसान पहुंचा। सबसे अधिका बरसात गंगानगर के करनपुर में 24.0 मिमी हुई।मौसम विभाग के अनुसार राज्य में 30 तारीख तक मौसम शुष्क रहने के आसार हैं। वहीं 31 मार्च को बीकानेर संभाग में बादल गरजने के साथ हल्की बरसात का अनुमान है। वहीं एक अप्रेल को बीकानेर और जयपुर संभाग में एक दो स्थानों पर बादल गरजने के साथ हल्की बरसात हो सकती है।बारिश से कई गांवों में कटकर खेतों में रखी गेहूं, चना व सरसों की फसल भीगने ..
                 

बसें-ट्रेनें बंद, रोजी-रोटी भी नहीं; सैकड़ों लोग पैदल गांव निकले, ताकि वायरस से पहले भूख न जिंदगी छीन ले

जयपुर.कोरोना, संक्रमण और मौत के काउंटडाउन के बीच जब लोग वायरस और अपने भविष्य को लेकर फिक्रमंद हैं तो राजस्थान की सरहदों से सैकड़ों मजदूर अपने गांव-शहरों की तरफ निकल पड़े हैं।किसी को 50 किमी चलना है तो किसी को 500, रोजी रोटी का संकट सिर पर है। नंगे पैर, भूखे प्यासे समूहों के समूह इस आस में चले जा रहे हैं कि वे किसी भी तरह अपने घर पहुंच जाएं। जयपुर में ऐसे ही कुछ मजदूरों से बात की तो कहते हैं - हम कोरोना के बारे में ज्यादा नहीं जानते।हमें बस इतना पता है कि यह बीमारी किसी को भी हो सकती है और यह जान ले सकती है। अगर मरना ही है तो अपनी धरती पर अपने परिवार के बीच मरना अच्छा है। कम से कम हमारी लाश को कंधा देना वाला तो कोई होगा। आखिरी बार अपने प्रियजनों का चेहरा तो देख पाएंगे। हमें पता है आने वाले समय में सारी फैक्ट्रियां सब कुछ बंद होगा। हमें काम और पैसा भी नहीं मिलेगा। कोरोना से पहले तो भूख मार देगी। पैदल चलने वाले छोटे बच्चों के चेहरे मायूस हैं, लगातार चलने पर पैरों में छाले पड़े हैं। भूख से हाल बेहाल है। इसके साथ ही एक और बेबसी है- लोगों की... उनकी मदद न कर पाने की बेबसी।मदद के लिए बढ़ने वाला ह..
                 

भीलवाड़ा में कम्यूनिटी संक्रमण, कोरोना पीड़ित की माैत के बाद बेटा-पत्नी भी राेगी

जयपुर.देश के काेराेनाजाेन बने भीलवाड़ा में कम्यूनिटी संक्रमण बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार काे मिले 2 नए राेगी वे हैं, जिनके 60 वर्षीय परिजन की गुरुवार को मौत हुई थी। गांव नाथड़ियास इस बुजुर्ग की 55 वर्षीय पत्नी और 35 साल के बेटे की रिपाेर्ट भी पाॅजिटिव आई है। इसके बाद पाॅजिटिव मरीजाें की संख्या 19 से बढ़कर 21 हाे गई। इन्हीं वृद्ध के साथ गुरुवार काे दम ताेड़ने वाले 73 वर्षीय काेराेना पाॅजिटिव का 44 वर्षीय बेटा और 25 वर्षीय पाेती गुरुवार शाम काे ही पाॅजिटिव मिल गए थे। उधर, भीलवाड़ा के एमजी अस्पताल के आइसाेलेशन वार्ड मेंभर्ती संदिग्ध मरीजाें की संख्या बढ़कर 43 हाे गई है। इन सभी के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं। जिले से अब तक 588 सैंपल भेजे जा चुके हैं। इनमें से 21 पाॅजिटिव आचुके, जबकि 82 की रिपाेर्ट आना बाकी है। बाकी सब निगेटिव निकले।जाेधपुर : शहर में लगातार तीसरे दिन मिला मरीजशहर में लगातार तीसरे दिन शुक्रवार काे एक और पॉजिटिव मिला। यह 20 वर्षीय युवक बीजेएस कॉलोनी निवासी है और बुधवार को पॉजिटिव आए युवक का दोस्त है। दोनों लंदन से 19 मार्च काे जोधपुर आए थे। ये लंदन में भी रूम शेयर करते ह..
                 

राजस्थान में 75% अपराध कम हाे गए, 5 दिन में सिर्फ 1764 एफआईआर, वाहन बंद हुए तो एक्सीडेंट एक भी नहीं

जयपुर.काेराेनावायरस का खौफ हर जगह है। देशभर में लॉकडाउन है। इसके कारण अपराधों का भी लॉकडाउन हो गया है। प्रदेशभर में अपराध अन्य दिनाें की तुलना में 75% से भी कम हाे गए है। गत छह दिन में 21 से 26 मार्च तक प्रदेश के 860 पुलिस थानाें में केवल 1764 मामले दर्ज हुए हैं। यानी की एक थाने में औसतन तीन दिन में एक मामला। एक्सीडेंट थाने और महिला थानाें में ताे एक भी मामला दर्ज नहीं हुआ।लूट-डकैती जैसे जघन्य अपराध भी जीरोप्रदेश में गत छह दिन में मर्डर की दाे-तीन घटनाओंकाे छाेड़ दें ताे काेई बड़ी वारदात नहीं हुई। लूट औरडकैती जैसे जघन्य अपराध ताे जीराे हाे गए। लाॅक डाउन के बाद प्रदेश में प्राइवेट वाहनाें पर भी राेक लगा रखी है। जिसके चलते एक्सीडेंट की घटनाएं नहीं हाे रही। जयपुर में चार दिन पहले जगतपुरा में एक महिला की हत्या हुई थी। इसके गत दस दिन में काेई बड़ी वारदात नहीं हुई।अधिकतर मामले सामान्य अपराधाें के:एडीजी क्राइमएडीजी क्राइमबीएल साेनी बोले कि काेराेनाके प्रकाेप के चलते थानाें में गत छह दिन में केवल 1764 मामले दर्ज हुए हैं। इनमें अधिकतर मामले सामान्य अपराधाें के हैं। लाॅक डाउन से अपराधाें में भी ..