जागरण हिन्दुस्तान दैनिक भास्कर नईदुनिया नवभारत टाइम्स

लॉकडाउन तोड़ने वालों पर पुलिस ने भांजी लाठियां; मनमानी भी दिखी, महिला नर्स की गाड़ी का किया चालान

निजामुद्दीन मरकज से लौटे जमातियों ने कानपुर वालों की मुश्किलें बढ़ा दी है। अब तक यहां 10 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें 9 जमात के सदस्य हैं। एहतियातन प्रशासन ने लॉकडाउन को सख्ती से पालन करा रही है। इस दौरान कई जगहों पर पुलिस ने बेवजह सड़कों पर निकले लोगों पर लाठियां भी बरसाई। आवश्यक वस्तु से जुड़े लोगों को ही राहत दी जा रही है। हालांकि, कई जगहों पर पुलिस की मनमानी भी कर रही है। ड्यूटी से लौट रही सरकारी अस्पताल की नर्स का भी चलान कर दिया। महिला नर्स के साथ बदसलूकी भी की।मंगलवार को कानपुर में पूरी तरह से लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई। कांशीराम ट्रामा सेंटर में तैनात महिला नर्स ड्यूटी से अपने बेटे के साथ लौट रही थी। नजीराबाद इंस्पेक्टर मनोज रघुवंशी ने उन्हें रोक लिया। महिला नर्स ने अपना पहचान पत्र दिखाया। इसके बाद भी इंस्पेक्टर ने उनकी गाड़ी का चलान कर दिया। महिला नर्स ने बदसलूकी का भी आरोप लगाया है। वहीं, बाबूपुरवा थाना क्षेत्र में अल्ला रक्खा उर्फ गुड्डू नाम का युवक अपनी गर्भवती साली को उर्सला अस्पताल में भर्ती कराकर लौट रहा था। पुलिस ने उसे रोक लिया उसकी बात सुनने से पहले उसकी जमकर पिटाई की। ज..
                 

पबजी गेम खेलकर नाबालिग ने 4 साल की बच्ची की गर्दन मरोड़ दी; मरने के बाद मामा ने शव को भूसे में छिपाया

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में 12 साल के बच्चे ने पबजी गेम की नकल करतेहुए पड़ोस में रहने वाले चार साल की बच्चीकी गर्दन मरेाड़ दी,जिससे उसकी मौत हो गई। बच्चीकी मौत के बाद आरोपी ने अपने मामा के साथ मिलकर मृतक के गले में फंदा डाल दिया और उसके शव को भूसे में दबा दिया। पुलिस ने नाबालिग आरोपी को बाल सुधार गृह भेज दिया है। जबकि, उसके मामा को जेल भेज दिया है।थाना अछनेरा क्षेत्र के गांव कठवारी निवासी शमशेर की चार वर्षीय बेटी निम्मी 2 अप्रैल को घर से लापता हो गई। परिजनों ने उसकी खोजबीन की, लेकिन कुछ पता नहीं चला। अगले दिन उसका शव भूसे में मिला था। परिजनों ने किसी से रंजिश होने से इंकार किया था। लेकिन पुलिस ने पोस्टमार्टम कराया तो रिपोर्ट में दम घुटने से मौत की बात सामने आई। शरीर के अन्य जगहों पर चोट नहीं थी।एसपी ग्रामीण रवि कुमार ने बताया कि, बच्ची का शव उसके पिता के घर के बाड़े से ही बरामद किया गया था। शक के आधार पर पुलिस ने शमशेर के घर में किराए पर रहने वाले सोहन से पूछताछ की तो उसने बताया कि, उसे इस बारेमें कोई जानकारी नहीं है। लेकिन निम्मी की चप्पल बाड़े में पड़ी देखी थी। पुलिस ने चप्पल को बर..
                 

अखिल भारतीय हिन्दू महासभा की सचिव डॉ पूजा शकुन पांडेय गिरफ्तार, तब्लीगी जमातियों को गोली मार देने का विवादित बयान दिया था

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में अखिल भारत हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव महंत डॉ पूजा शकुन पांडे और उनके पति अशोक पांडे को मरकस तबलीगी जमातियों को गोली मार देने के विवादित बयान के मामले में गिरफ्तार किया गया है। डॉ. पूजा शकुन पांडे ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में कोरोना महामारी को देश में फैलाने का काम कर रहे तबलीगी जमातियों को सीधे गोली मार देने की मांग की थी।जमातीयों के खिलाफ गोली मारने का विवादास्पद बयान देने वाली अखिल भारत हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडे को अलीगढ़ पुलिस ने उनके पति अशोक पांडे सहित गिरफ्तार कर लिया है। पूजा व अशोक को करीब 12 बजे के आसपास घंटे पहले उनके घर से पुलिस ने गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद पुलिस डॉक्टर पूजा शकुन पांडे व अशोक पांडे को महिला थाने ले गई।पूजा शकुन पांडे और अशोक पांडे के खिलाफ अलीगढ़ के थाना गांधी पार्क में तीन मुकदमे पंजीकृत हैं। इनमें पहला मुकद्दमा अपराध संख्या 86/ 20 धारा 153 ए, दूसरा मुकदमा अपराध संख्या 103/20 धारा 153 ए , 505 बी व तीसरा मुकदमा अपराध संख्या 137/ 20 धारा 153 ए, 505 बी के तहत मामला दर्ज था।गिर..
                 

क्वारैंटाइन सेंटर में डॉक्टरों की बात मानने को तैयार नहीं तब्लीगी जमाती; सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की बजाए एक साथ पढ़ रहे नमाज

उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से फैलता जा रहा है। इस बीच क्वारैंटाइन सेंटर में एडमिट तब्लीगी जमात के सदस्य किसी की बात मानने को तैयार नहीं है। डाक्टरों के लाख समझाने के बाद भी जमाती एक साथ वार्ड में नमाज पढ़ रहे हैं। इतना ही नहीं रातभर जाकर कुरान की तिलावतें भी पढ़ रहे हैं। रविवार को डॉक्टरों पर थूकने वाले कोरोना संक्रमित जमाती के तेवर कुछ ढीले पड़े है। अभद्रता फैलाने वाले जमाती ने डाक्टरों से गुस्ताखी के माफी मांगी है।कानपुर शहर में तब्लीगी जमात और उनके संपर्क में आए 79 लोगों क्वारैंटाइन करने के लिए दो सेंटर बनाए हैं। पनकी के नारायणमेडिकल कॉलेज में 50 जमातियों को क्वारैंटाइन सेंटर में रखा गया है। वहीं 29 जमातियों और उनके संपर्क में आए लोगों को रामा डेंटल कॉलेज के क्वारैंटाइन सेंटर में रखा गया है। इन दोनों सेंटर में क्वारैंटाइन के लिए आए जमातियों ने डाक्टरों और कर्मचारियों के नाक में दम कर रखा है। एक भी जमाती क्वारैंटाइन प्रोटोकॉल का पालन नहीं कर रहा है।यह दोनों ही सेंटर अतिसंवेदनशील हैं। अधिकतर जामातियों की कोरोना रिर्पोट निगेटिव आई है। इसके बाद भी यदि आपस में दूरी नहीं ब..
                 

भूखे पेट फसल काट रहे किसान को कमिश्नर ने खाने के लिए दिए बिस्किट, मना किया तो बोले- आपने तो हमें मट्ठा पिलाया नहीं?

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए देश में 21 दिन का लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में सबसे ज्यादा परेशानी उन किसानों को आई, जिनके खेतों में फसलें खड़ी हैं। समय से हार्वेस्टर मशीन न मिलने की वजह से उन्हें खुद अपनी फसल काटनी पड़ रही है। मंगलवार को कमिश्नर सुभाष चंद शर्मा किसानों के बीच खेतों में पहुंचे। किसानों ने अपनी आपबीती सुनाई तो उन्होंने तुरंत गाड़ी से बिस्किट के पैकेट मंगा कर दिए। लेकिन किसान की पत्नी ने राहत लेने से इंकार कर दिया। यह देख सरल अंदाज में कमिश्नर बोले कि, रख लीजिए आपने तो हमें मट्ठा पिलाया नहीं?दरअसल, लॉकडाउन के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सदर तहसील के कोट बेहटा गांव के एक खेत में कुछ किसान फसल काट रहे थे। उनके बीच अचानक झांसी मंडल के कमिश्नर सुभाष चंद्र शर्मा पहुंच गए। उन्होंने एक किसान से अपने सादगी भरे अंदाज में पूछा कि आप बगैर मजदूर के खेत काट रहे हैं? किसान ने उनके सवाल का जवाब देते हुए कहा कि साहब मजदूर नहीं मिल रहे हैं। यदि काटेंगे नहीं तो फसल बर्बाद हो जाएगी।थोड़ी देर तक बातचीत करने के बाद कमिश्नर ने पूछा आपने दोपहर का खाना खाया? किसान का जवा..
                 

खिड़की तोड़कर चादर के सहारे क्वारैंटाइन सेंटर से भागा था कोरोना पॉजिटिव नेपाली जमाती; 12 घंटे बाद पकड़ा गया

कोरोनावायरस से जंग लड़ रहे उत्तर प्रदेश कोतब्लीगी जमातियों से भी जूझना पड़ रहा है। अभी तक डॉक्टरों पर थूकने और अभद्रता करने की घटनाएं ही आ रही थी, लेकिन अब बागपत जिले में बनेक्वारैंटाइन सेंटर में भर्ती कोरोनावायरस से संक्रमित नेपाली जमाती मरीज सोमवार देर रात भाग गया। पहले उसने खिड़की तोड़ी, फिर उसमें से चादर लटकाकर उसके सहारे उतरकर भाग गया। हालांकि उसके भागने की सूचना मिलते ही पुलिस एक्टिव हो गई और 12 घंटे बाद ही उसे जिले के एक गांव से ईट भट्‌ठे से पकड़ा गया।मेरठ जोन के आईजी प्रवीण कुमार ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि वह रात को ही भागा था। कई टीमें लगाई गईं थी आखिरकार वह एक गांव के पास बने ईंट के भट्‌ठे से पकड़ा गया है। उसे दोबारा अस्पताल भेज दिया गया है।दरसअल, यह कोराना पॉजिटिवमरीज दिल्ली से आयी 17 नेपालियों की जमात में शामिल था, जो रटौल गांव के एक मदरसे मे ठहरा हुआ था। जांच में इसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।पिछले चार दिनों से उसका बागपत जिले के खेकड़ा सीएचसी में इलाज चल रहा था। सोमवार की रात करीब 12 बजे आइसोलेशन वार्ड की खिड़की में अपने बेड की चादर लटकाकर भाग निकला।निजामुदद्द..
                 

9 पाकिस्तानी लोग आगरा के 11 जमातियों के साथ गोरखपुर होते हुए नेपाल पहुंचे, इनमें संपर्क में 200 से ज्यादा लोग चिन्हित

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से लौटे तब्लीगी जमाती न सिर्फ भारत के लिए मुसीबत का सबब बने, बल्कि वे पड़ोसी देश नेपाल भी पहुंच गए। सोमवार को नेपाल के बारा जिले में उत्तर प्रदेश के 11 जमातियों के साथ 9 पाकिस्तानी नागरिकों को तीन मस्जिदों से पकड़ा है। ये सभी तब्लीगी हैं। 21 मार्च को कामख्या एक्सप्रेस से गोरखपुर से होकर महाराजगंज पहुंचे और नेपाल चले गए। अब खूफिया एजेंसियां इस बात का पता लगा रही हैं कि, क्या पाकिस्तानी नागरिकता भारतीय सीमा से होते हुए नेपाल गए हैं?महाराजगंज में छह जमाती कोरोना पॉजिटिव हैं। इसके बाद से गोरखपुर जिले में कोविड-19 टीम एलर्ट है। अब तक इन जमातियों के संपर्क में आए 200 से ज्यादा लोगों को चिन्हित कर क्वारैंटाइन किया गया है।नेपाल की तीन मस्जिदों में छिपे थेनेपाल पुलिस के प्रवक्ता गौतम मिश्र ने बताया- दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में हुई तब्लीगी जमात में आगरा के 11 लोगों के साथ 9 पाकिस्तानियों को नेपाल में पकड़ा गया है। खूफिया एजेंसियों के अनुसार, ये सभी दिल्ली से आगरा होते हुए महाराजगंज पहुंचे और नेपाल में इस्लाम धर्म प्रचार कर रहे थे। नेपाल के बारा जिले में पुलिस ने मस्..
                 

नैनी सेंट्रल जेल में 14 दिन के बजाय अब 21 दिन तक क्वारैंटाइन रहेंगे नए कैदी, हॉडकोर अपराधियों की बैरक को सैनिटाइज किया गया

पूरे प्रदेश में कोरोनावायरस का असर तेजी से फैल रहा है। इस संक्रमण से कैदियों को बचाने की कवायद भी शुरू हो गई है। नैनी सेंट्रल जेल में बंद कैदियो पर इसका प्रभाव न पड़े इसके लिए जेल प्रशासन से लेकर जिला और पुलिस प्रशासन तक एलर्ट मोड में है। हार्डकोर क्रिमिनल की बैरक नंबर 4 में जाकर वहां रह रहे कैदियों के बारे में जानकारी ली और जेल सुपरिटेंडेंट हरी बक्स सिंह से सख्त लहजे में कहा कि जेल के अंदर आने वाले नए कैदियों को 14 दिन के बजाय 21 दिन तक क्वारैंटाइन किए जाने का निर्देश दिया।इसी कड़ी में सोमवार देर रात डीएम प्रयागराज भानु चंद्र गोस्वामी और एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज अपनी टीम के साथ सेंट्रल जेल नैनी पहुंचे और वहां कैदियों में कोरोना वायरस से बचाव के लिए की गई तैयारियों का जायजा लिया और कहा कि नए कैदियों को 21 दिनों तक क्वरैंटाइन रखा जाए ताकि अगर उनके अंदर तनिक भी कोरोना जैसी बीमारियों का लक्षण हो तो वह किसी और तक न पहुंचे।अधिकारियों ने बैरक नम्बर 04 में बंद हार्डकोर क्रिमिनलों के लिए की गई व्यवस्था को भी परखाडीएम भानु चंद्र गोस्वामी और एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज अपने दल बल के साथ 43..
                 

लॉकडाउन में तेज रफ्तार दो बाइकों की आमने- सामने भिड़ंत; 2 युवकों की मौत, 2 जख्मी

जिले के यमुनापार के मेजा थाना क्षेत्र के औता गांव के सामने रामनगर-दिघिया मार्ग पर मंगलवार सुबह 9 बजे के करीब दो बाइकों की आमने- सामने जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत हो गई, जबकि दो अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को नजदीकी अस्पताल में ले जाया गया लेकिन हालत गंभीर होने की वजह से उन्हें प्रयागराज के लिए रेफर कर दिया गया है।जानकारी के मुताबिक,शहर से मेजा और मिर्जापुर जाने के लिये निकले थे दोनों मृतक मेजा थाना क्षेत्र के अतरैला गांव निवासी आकाश कुमार पुत्र रामबाबू व योगेश मौर्य पुत्र रामप्रकाश निवासी दोवार, बसेरा, लालगंज जिला मिर्जापुर मंगलवार को सुबह प्रयागराज शहर से बाइक से अपने घर जा रहे थे।मेजा के औता गांव के समीप सामने से आ रही दूसरी बाइक से उनकी बाइक में जोरदार टक्कर हो गई। जिससे दोनों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।जबकि दूसरी बाइक पर सवार अजीत कुमार पुत्र जगन्नाथ निवासी बकचूंदा, रामनगर, मेजा व उसके साथ बैठा युवक छोटू गम्भीर रूप से घायल हो गए। उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रामनगर से एसआरएन हॉस्पिटल, प्रयागराज के लिए रेफर कर दिया गया है।एसपी यमुनापार दीपेंद्रनाथ चौधरी ने बताया ..
                 

70 वर्षीय बुजुर्ग ने 15 दिन में कोरोना महामारी को दी मात, मेडिकल स्टॉफ व पुलिसकर्मियों ने तालियां बजाकर दी बधाई

उत्तर प्रदेश के कानपुर में कोरोना वायरस से संक्रमित पहले 70 वर्षीय मरीज ने सोमवार को बीमारी को मात दे दिया। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद खुद सीएमओ, डॉक्टर व पैरा मेडिकल स्टॉफ और पुलिसकर्मियों ने तालियां बजाकर हौसला बढ़ाया। इस दौरान वे हाथ जोड़कर सभी का अभिवादन स्वीकार करते नजर आए। मरीज को घर भेज दिया गया है। लेकिन 14 दिनों तक होम क्वारैंटाइन रहने की हिदायत दी गई है।कानपुर में 23 मार्च को कोरोना का पहला मामला सामने आया था। 70 वर्षीय बुजुर्ग को कोरोना पॉजिटिव होने पर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। बुजुर्ग 20 मार्च को अमेरिका से कानपुर आए थे। लक्षणों के आधार पर उन्हें क्वारैंटाइन रखा गया था। 23 मार्च को पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर कानपुर के पहले कोरोना मरीज के रूप में कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया था। इनके परिवार के बाकी लोगो की जांच रिपोर्ट कराने पर निगेटिव आई थी। प्रशासन ने बुजुर्ग के निवास स्थान एनआरआई सिटी को पूरी तरह सैनिटाइज भी किया था। 15 दिन बाद ये बुजुर्ग जब ठीक होकर घर जाने लगे तो कानपुर के सीएमओ डॉक्टर अशोक शुक्ला समेत सभी डॉक्टरों और नर्सो ने लाइन से सोशल डिस्टेंस बनाते हुए ..
                 

लॉकडाउन के बीच अपने अधिकारी मित्र को बीयर देने जा रहे बैंक मैनेजर को पुलिस ने दबोचा, पूछताछ के बाद रिहा किया

उत्तर प्रदेश के बांदा में लॉकडाउन के बीच पुलिस द्वारा की जा रही चेकिंग के दौरान रविवार रात एक कार से पुलिस ने एक पेटी बीयर बरामद करते हुए कार चालक को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी भारतीय स्टेट बैंक तिंदवारी का शाखा प्रबंधक है। वह अपने अधिकारी मित्र को बियर देने जा रहा था। लॉकडाउन के बीच बीयर की पेटी कैसे मिली, इसका जवाब पुलिस तलाश रही है।सिविल लाइन चौराहे पर सोमवार को पुलिस मुस्तैद थी। इसी बीच एक कार को रोका गया और उसकी तलाशी ली गई तो एक पेटी बीयर बरामद हुई। कार तिंदवारी के भारतीय स्टेट बैंक के मैनेजर भागवत सिंह की है। जिसे वे खुद चला रहे थे। पुलिस ने गाड़ी को जब्त करते हुए बैंक मैनेजर से पूछताछ की। जांच के दौरान बैंक मैनेजर ने बताया कि वे बीयर तिंदवारी थाना क्षेत्र अंतर्गत जौहरपुर से स्वंय अपने मित्र बांदा कचेहरी में स्थित स्टेट बैंक के मैनेजर कुलदीप राणा के लिए लाए थे।पुलिस ने कुलदीप राणा को भी पूछताछ के लिए चौकी बुलाया। कुछ देर दोनों बैंक मैनेजरों ने पुलिस पर दबाव बनाने का प्रयास भी किया और बीयर की रसीद होने की बात कही। लेकिन कोई भी रसीद नहीं दिखा पाए। मामला बैंक के बड़े अधिकारियों का ..
                 

जमातियों को खोजने पहुंचे सिपाहियों पर हमला, भीड़ ने चौकी फूंकने का किया प्रयास; एएसपी घायल

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में सोमवार की दोपहर इज्जतनगर थाना क्षेत्र के करमपुर मेंदिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में हुई जमात से लौटे तब्लीगियों की तलाश में पहुंचे दो सिपाही से लोगों ने हाथापाई की। सिपाहियों ने दो लोगों को हिरासत में लेकर पुलिस बैरियर वन चौकी पहुंचाया। पुलिस लोगों को घरों में रहने के लिए समझा रही थी। तभी चौकी परकरीब 400 की भीड़ ने हमला कर दिया और आग लगाने की कोशिश की। पुलिस को लाठीचार्ज कर स्थिति पर काबू पाना पड़ा। इस दौरान आईपीएस अभिषेक वर्मा को चोटें आई हैं। एसपी सिटी रविंद्र कुमार ने कहा- आरोपियों पर रासुका लगेगी।यह है पूरा मामलागांव करमपुर चौधरी में तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों के होने की सूचना पर दोपहर दो सिपाही पहुंचे थे। सिपाही लोगों से जानकारी कर रहे थे, लेकिन लोगों ने असहयोग किया और हाथापाई की। इसके बाद दोनों सिपाही वहां से दो लोगों को हिरासत में लेकर पुलिस बैरियर वन चौकी ले आए। लेकिन थोड़ी देर बाद गांव के प्रधान तसब्बुर खान की अगुवाई में 300 से 400 लोग पुलिस चौकी पर पहुंच और आगजनी करने की कोशिश की।इसकी सूचना जब सीओ अभिषेक वर्माआईपीएस मौके पर पहुंचे तो उनसे भी लोग ..
                 

राज्य में अभी लॉकडाउन खुलने की संभावना नहीं, अपर मुख्य सचिव गृह बोले- एक भी केस रहेगा तो खराब हो सकती है स्थिति

उत्तर प्रदेश बीते 24 घंटे में कोरोनावायरस (कोविड-19) के 27 नए केस सामने आए। जिनमें 21 तब्लीगी जमात के सदस्य हैं। इस तरह अबतक राज्य में 305 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। वहीं, 159 जमातियों का टेस्ट पॉजिटिव आ चुका है। सोमवार को राज्य के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने कहा- 14 अप्रैल के बाद भी लॉकडाउन खुलने की संभावना नहीं है। एक भी कोरोना का केस प्रदेश में होता तो हम लॉकडाउन खोलने की स्थिति में नहीं रहेंगे।अवनीश अवस्थी ने कहा- रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी धर्मगुरुओं से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की थी। सभी ने सहयोग करने का आश्वासन दिया था। धर्मगुरुओं का सुझाव आया है कि मोहल्ला वॉरियर बनाया जाए।प्रदेश में बढ़ा कोविड का लोड, हर जिले में बनेगा कलेक्शन सेंटरप्रदेश में कोविड-19 का लोड बढ़ गया है, इसलिए अभी लोगों को लॉकडाउन खुलने का इंतजार करना चाहिए।लॉकडाउन 14 अप्रैल को खुलेगा, यह अभी नहीं कहा जा सकता है। प्रदेश में टेस्टिंग व्यवस्था को मजबूत करने के लिए मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है। सभी75 जनपद में कम से कम टेस्टिंग कलेक्शन सेंटर जरूर होने चाहिए।छह जनपदों को हॉटस..
                 

गाजीपुर में 11 जमातियों समेत 22 पर एफआईआर दर्ज; अब तक यहां 3 तब्लीगी संक्रमित

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले में कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 5 हो चुकी है। वहीं पुलिस प्रशासन ने दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से लौटे 11 जमातियों समेत 22 लोगों के खिलाफ महामारी एक्ट समेत अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज की है।रविवार को कोरोना पाजिटिव के दो नए केस सामने आए थे। जिले में कोरोना मरीजों की संख्या पांच हो चुकी है। कोरोना संक्रमित पांच लोगों में तीन जमाती है, जो निजामुद्दीन मरकज में आयोजित जमात में शामिल हुए थे। जबकि दो लोग जमातियों के सम्पर्क में आने के बाद संक्रमित हुए। फिलहाल सभी कोरोना मरीजों का अस्पताल में इलाज चल रहा है।शहर कोतवाल धनंजय मिश्र ने बताया कि शहर के महुआबाग स्थित एक मस्जिद से बीते दिनों 11 जमाती चिन्हित हुए थे, जिनमें से तीन की पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। इन सभी की 11 जमातियों समेत इनके संपर्क में आए हुए 11अन्य लोगों के ऊपर महामारी एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। फिलहाल जिला प्रशासन मस्जिद के इर्द-गिर्द 1 किलोमीटर के दायरे को सील कर दिया है। इन जमातियों के संपर्क में आए हुए लोगों की तलाश जारी है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News..
                 

कोरोनावायरस को भगाने के लिए भाजपा महिला जिलाध्यक्ष ने की हवाई फायरिंग; वीडियो वायरल होने पर एफआईआर दर्ज, पद मुक्त

कोरोनावायरस (कोविड-19) महामारी के अंधकार को दूर करने व इसके खिलाफ एकजुटता के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर रविवार रात 9 बजे 9 मिनट तक घर की लाइटें बंदकर समूचे देश ने दिये, टॉर्च, मोमबत्ती जलाए। लेकिन उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले में महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष मंजू तिवारी ने कोरोना को भगाने के लिए अपने पति की लाइसेंसी रिवॉल्वर से फायरिंग की। फायरिंग का वीडियो वायरल होने के बाद अब भाजपा नेता को अपनी गलती का एहसास हो रहा है। हालांकि, पुलिस ने उन पर केस दर्ज कर लिया है।महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष मंजू तिवारी ने रिवॉल्वर से हवाई फायरिंग का वीडियो खुद ही अपने फेसबुक वॉल पर पोस्ट किया। साथ ही लिखा- दीप जलाने के बाद कोरोना को भगाते हुए। इसके बाद उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और लोगों की अलग अलग प्रतिक्रिया भी शुरू हो गईं। मामला सुर्खियों में आने के बाद मंजू तिवारी ने अपने फेसबुक वॉल से वीडियो को डिलीट भी कर दिया।पुलिस अधीक्षक देव रंजन वर्मा ने बताया कि वायरल वीडियो का संज्ञान लेने के बाद कोतवाली नगर में अभियुक्त के विरुद्ध सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। विध..
                 

पहले मरीज की तीसरी सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आई; अब तक यहां सात पॉजिटिव केस आए, एक की हो चुकी है मौत

कोरोनावायरस (कोविड-19) की चेन तोड़ने के लिए संपूर्ण देश में 21 दिनों का 14 अप्रैल तक लॉकडाउन है। रविवार को यहां गंगापुर निवासी 55 वर्षीय मरीज की मौत की पुष्टि हुई। इसके बाद चार मोहल्लों में कर्फ्यू लगा दिया गया। लेकिन सोमवार को एक राहत की खबर आई। यहां पहले मरीज की तीसरी सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आई है। उसे मंगलवार को डिस्चार्ज किया जा सकता है। जिला प्रशासन प्रभावित इलाकों में सैनिटाइजेशन करा रहा है। लॉकडाउन के बीच लोग घरों में कैद हैं। ऐसे में आवारा मवेशियों के लिए भुखमरी का संकट है। रविवार रात डीएम खुद सड़कों पर निकले और कुत्तों व अन्य मवेशियों को ब्रेड व बिस्कुट खिलाया। 27 मार्च को भर्ती हुआ था युवक, कल हो सकता है डिस्चार्जशिवपुर थाना क्षेत्र निवासी 30 वर्षीय युवक 20 मार्च को यूएई से वाराणसी लौटा था। इसके बाद उसकी तबियत बिगड़ गई थी। 27 मार्च को जिला अस्पताल में उसकी कोराना की जांच हुई। 28 मार्च को मिली रिपोर्ट में वह कोराना पॉजिटिव निकला। इसके बाद उसे जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया। वहां उसका इलाज चल रहा था। लगातार दो बार सैंपलिंग में उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके ब..
                 

कोरोना वॉरियर्स का हौसला बढ़ाने के लिए प्रदेशवासियों ने 9 मिनट तक दिये व मोमबत्तियां जलाईं; संयम व अनुशासन का पालन करते हुए दिखाई एकजुटता

कोरोनावायरस के अंधकार के खिलाफ प्रदेशवासियों ने रविवार रात 9 बजे 9 मिनट तक दिये, मोमबत्तियां व मोबाइल फोन की फ्लैशलाइट जलाईं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते शुक्रवार को देशवासियों से 5 अप्रैल की रात कोरोना संकट के अंधकार को चुनौती देने के लिए घर की लाइटों को बंदकर दिये जलाने की अपील की थी। इस मुहिम में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी जुड़े। उन्होंने अपने आवास पर ऊं के रूप मेंदिये जलाए। शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने भी दिये जलाए। वाराणसी में गंगा किनारे घाटों पर लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कोरोना के अंधकार को दूर करने के लिए दिये जलाए। लखीमपुर खीरी में एक महिला ने दिये की लौ से मां भारती व भारत के मानचित्र को प्रकाशमान किया।लखनऊ में मौलाना खालिद रशीद ने कोरोना के खिलाफ पीएम मोदी की अपील का स्वागत किया। खालिद रशीद समेत तमाम धर्मगुरुओं ने ईदगाह में रविवार रात दिए जलाए। वहीं, गोरखपुर में इमामबाड़ा में मुस्लिम समुदाय ने महामारी के खिलाफ एकजुटता का परिचय दिया। सैय्यद शहाब ने कहा- कोरोना किसी एक जाति, धर्म, मजहब का दुश्मन नहीं है। बल्कि पूरी इंसानि..
                 

कोरोना महामारी के बीच मांगी एडवांस फीस तो होगी कार्रवाई, उप्र के चार शहरों में प्रशासन ने जारी की एडवायजरी

उत्तर प्रदेश के चार जनपद वाराणसी, नोएडा (गौतमबुद्धनगर), कानपुर और लखनऊ में रविवार को एक महत्वपूर्ण आदेश जारी कर अभिभावकों को बड़ी राहत दी है। जिला प्रशासन ने स्कूल संचालकों व मालिकों को चेतावनी दी है कि, कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन जारी है। ऐसे में तमाम अभिभावक बेरोजगार हुए हैं। किसी बच्चे/अभिभावक से फीस न मांगी जाए। अगर ऐसा करते पाए गए तो मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया जाएगा।शिकायत मिली तो होगी कार्रवाईदरअसल, तमाम अभिभावकों ने जिला प्रशासन के सामने समस्या उठाई कि, लॉकडाउन और कोरोना जैसी महामारी के बीच कई स्कूल प्रबंधन फीस तुरंत जमा करने के एसएमएस व मेल भेजे जा रहे हैं। इन शिकायतों का संज्ञान लेते हुए वाराणसी, नोएडा व कानपुर में जिला प्रशासन ने स्कूल प्रबंधनों से फीस के लिए दबाव न बनाने की हिदायत दी है। यह भी कहा कि, फीस को लेकर यदि कोई शिकायत मिली तो कठोर कार्रवाई होगी।अभिभावकाें में भय व अशांतिलखनऊ के डीएम अभिषेक प्रकाश ने बताया कि, 22 मार्च से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन घोषित है। इस अवधि में समस्त शैक्षणिक संस्थान बंद हैं। विद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों को माह अप्रैल, मई व जून 2020 की फीस ..
                 

योगी बोले- हमनें रामनवमी पर भीड़ नहीं होने दी, मजहब देखकर बीमारी नहीं आती; लॉकडाउन खुलने पर सोशल डिस्टेंसिंग तय करें

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार शाम पांच बजे राज्य के 377 प्रमुख धर्मगुरुओं से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। सीएम योगी ने कहा- हमें तत्कालिक लाभ से ऊपर उठना होगा। रामनवमी जैसे महत्वपूर्ण पर्व पर अयोध्या में कोई भीड़ नहीं होने दी गई। बीमारी किसी का चेहरा या मजहब देखकर नहीं आती है। हम कोरोना वायरस को रोकने में काफी हद तक सफल रहे हैं। लेकिन 21 दिनों के लॉकडाउन की सफलता ही आगे की दिशा तय करेगी। लॉकडाउन खुलने के बाद भी सोशल डिस्टेंसिंग तय करें।लॉकडाउन के बाद भीड़ ने जुटे, इसका मांगा सहयोगइस दौरान मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी व डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी भी मौजूद रहे। वीडियो कॉफ्रेंसिंग का इंतजाम जिले स्तर पर एनआईसी में की गई थी। मुख्यमंत्री ने धर्मगुरुओं से कोरोना से बचाव लॉकडाउन के पालन को लेकर बात की। लॉकडाउन के बाद भीड़ एकत्रित न हो, इसको लेकर सभी से सहयोग की अपील की। दरअसल, उत्तर प्रदेश में 15 अप्रैल से लॉकडाउन को चक्रवार खोलने की तैयारी शासन स्तर पर की जा रही है।सुबह सीएम ने सांसद, विधायकों से मांगा था सुझावइससे पहले रविवार सुबह सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्..
                 

प्रयागराज में तब्लीगी जमातियों पर टिप्पणी करने पर युवक की हत्या, तनाव के चलते फोर्स तैनात

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले में रविवार सुबह लॉकडाउन के दौरान गोली मारकर एक युवक की हत्या कर दी गई।करेली थाना क्षेत्र के बक्शी मोड़ा में हुई इस वारदात में युवक ने चाय की दुकान पर चर्चा के दौरान तब्लीगी जमातियों पर टिप्पणी की थी। इस पर गुस्साए एक व्यक्ति ने उसे गोली मार दी। मौके पर मौजूद लोगों ने आरोपी को पकड़कर पुलिस के सुपुर्द कर दिया।ये है पूरा मामलाकरेली थाना क्षेत्र के बक्सी मोड़ा गांव निवासी लोटन निषाद रविवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे किसी काम से घर से बाहर निकला था। वह एक चाय की दुकान पर था, तभी उसका जमातियों पर टिप्पणी करने को लेकर गांव निवासी मोहम्मद सोना से विवाद हो गया। विवाद बढ़ने पर दोनों के बीच मारपीट शुरू हो गई। इसी बीच मोहम्मद सोना ने तमंचे से उस पर फायर कर दिया। गोली लगने से लोटन निषाद की मौत हो गई।फायरिंग की आवाज सुनकर आसपास के लोग दौड़े और मोहम्मद सोना को पकड़ लिया और उसकी पिटाई की। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने आरोपी को अपनी सुपुर्दगी में लिया। गांव में पुलिस फोर्स तैनात है।लॉकडाउन के बीच कैसे खुली दुकान?मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिसकर्मियों पर भी कार्रवाई के निर्दे..
                 

लखनऊ में कानून के छात्र ने बनाया स्पेशल ड्रोन; 8 लीटर केमिकल लेकर उड़ाने भरने वाला ये यंत्र 8 किमी तक गाड़ियों को कर सकता है सैनिटाइज

लखनऊ. कोरोनावायरस (कोविड-19) का संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए लखनऊ के रहने वाले मिलिंदराज ने एक ऐसा ड्रोन तैयार किया है जो हवा में 8 किमी की दूरी तय कर गाड़ियों को सैनिटाइज कर सकता है। मिलिंदराज रोजाना इस ड्रोन के जरिए बड़ी संख्या में गाड़ियों को सैनिटाइज कर भी रहे हैं। यह पहली बार नहीं है जब मिलिंद ने अपनी कला का प्रदर्शन समाजसेवा के लिए किया है, इससे पहले वे ड्रोन के जरिए नाले में फंसे कुत्ते के बच्चे को बाहर निकालकर मानवता की मिसाल कायम की थी।6 रोटर इंजन का है ये ड्रोनये सैनिटाइज ड्रोन स्प्रे तकरीबन डेढ़ मीटर चौड़ा और आधा मीटर ऊंचा है। इसमें 6 रोटर इंजन है। इसके साथ ही इसमें 7 लीटर की टंकी है। जिसमें सैनिटाइजर केमिकल रहता है। ये पूर्णतया ऑटोमैटिक है और कम्प्यूटर से एक जगह बैठकर संचालित किया जा सकता है। कम्प्यूटर से इसका टारगेट सेट रहता है और गाड़ियों को सैनिटाइज करने के बाद स्वत: वापस आ सकता है। ये ड्रोन स्प्रे कम्प्यूटर, रिमोट और मोबाइल से कंट्रोल होता है।कौन हैं मिलिंद राज?मिलिंद राज गोमतीनगर के वि‍भूति‍खंड के रहने वाले हैं। उन्होंने 15 दिन की दिन-रात की मशक्कत के बाद एक ..
                 

कोविड-19 वार्ड में पढ़ रहे नमाज, थूकने की आदत में सुधार नहीं, दवा खाना छोड़ा, बोले- खाना-पानी देते रहो

उत्तर प्रदेश में तब्लीगी जमात के लोगों की वजह से कोरोनावायरस से संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं। सरकार ने इन्हें खोजकर जब अस्पतालों में भर्ती करवाया तो हर दिन अपनी करतूतों से मुसीबत का सबब बन रहे हैं। कानपुर के हैलट अस्पताल में दो अफगानिस्तान नागरिकों समेत 6 जमाती भर्ती हैं। ये सभी कोरोना से संक्रमित हैं। लेकिन डॉक्टरों के लिए सिरदर्द बन गए हैं। इन्होंने दवा खाना बंद कर दिया है। वार्ड में ही सामूहिक तौर पर नमाज पढ़ी जाती है। हर जगह थूक थूककर गंदगी कर दी है। ये सब देखकर डॉक्टर व पैरा मेडिकल स्टॉफ हैरत में है।अफगानी जमाती समय पर ले रहे दवाहैलट अस्पताल के कोविड-19 वार्ड में 6 जमाती कोरोना पॉजिटिव भर्ती है। जिसमें दो संक्रिमित अफगानिस्तान के हैं। इसके अलावा चार जमाती भारतीय हैं। दोनो अफगानी मरीजों को अलग रखा गया है और चार जमातियों को एक साथ रखा गया है। अफगानी मरीज तो दवा खा रहे हैं और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं। लेकिन चार भारतीय जमाती मनमानी पर उतर आए हैं। दवा नहीं खा रहे हैं। जब डॉक्टरों ने पूछा कि दवा क्यों नहीं खा रहे हो तो जमातियों का कहना है कि दवा की मनाही है। सिर्फ खाना औ..
                 

सीएम योगी ने कहा - तब्लीगी जमातियों ने अव्यवस्था और अराकता फैलाने का प्रयास किया, इनकी वजह से यूपी में संवेदनशील स्थिति पैदा हुई

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को तब्लीगी जमातियों को आड़े हाथों लिया। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि जमातियों ने अव्यवस्था और अराजकता फैलाने का प्रयास किया। लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए सरकार की तरफ से हर संभव कदम उठाए गए हैं लेकिन बाहर से आए हुए लोगों की वजह से स्थिति संवेदनशील हो गई। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि देश में 132 मामले केवल तब्लीगी जमात से जुड़े हैं।सीमए ने कहा कि प्रदेश में पिछले 3 दिनों के भीतर सबसे ज्यादा कोरोना के मामले सामने आए हैं। तब्लीगी जमात से जुड़े 1499 लोगों को चिन्हित किया गया है जिसमें385 से ज्यादा विदेशी भी शामिल हैं। इन लोगों ने अव्यवस्था और अराजकता फैलाने का प्रयास किया।हम इनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही भी कर रहे हैं।योगी ने कहा कि सभी चिन्हित को क्वॉरेंटाइन किया गया है।लॉक डाउन के साथ ही हमने सभी लोगों की सुविधा के लिए 11 कमेटियां भी गठित की थी।भारत सरकार के साथ सामंजस्य बिठाने के लिए भी कमेटी गठित की गई है।यूपी के बाहर रहने वाले लोगों के लिए भी हमने कमेटी गठित की है। कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में हमने कृषि कार्यों के ..
                 

राज्य में 24 घंटे में 47 नए पॉजिटिव मिले; कानपुर के क्वारैंटाइन सेंटर में जमातियों पर दुर्व्यवहार का आरोप

उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। पिछले 24 घंटे में 47 नए कोरोना पॉजिटिव मिले। अब तक राज्य में 210 संक्रमित हो गए, इनमें 94 जमाती हैं। उधर, कन्नौज में पुलिस ने नमाजियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। अब तक 12 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। शुक्रवार को लॉकडाउन के दौरन समूह में एक साथ नमाज पढ़ने से मना करने पर अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने पुलिस पर हमला कर दिया था। इसमें करीब 6 पुलिस वाले जख्मी हो गए थे। उधर, राज्य के कई इलाकों से क्वारैंटाइन किए गए जमातियों द्वारा मेडिकल कॉलेज के स्टाफ के साथ बदसलूकी की खबरें आ रही हैं। गाजियाबादके बाद अब कानपुर में भी जमातियों पर मेडिकल कॉलेज के स्टाफ के साथ बदसलूकी करने का आरोप लगा है।कानपुर: जमातियों ने मेडिकल स्टाफ से दुर्व्यवहार कियाकानपुर में 22 जमातियों को क्वारैंटाइन किया गया है। ये सभी दिल्ली स्थित निजामुददीन के मरकजी मस्जिद के धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इन्हें शहरगणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज में रखा गया है। यहां की प्राचार्या आरती चंदानीका कहना है कि कुछ मरीज स्टॉफ के साथ खराब व्यवहार कर रहे हैं। कुछ क्वारैंट..
                 

210 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव; इनमें 94 लोग 18 जिलों में तब्लीगी जमात से लौटे हैं, सबसे ज्यादा आगरा में 29

उत्तर प्रदेश ही नहीं देशभर में कोरोनावायरस का असर तेजी से फैल रहा है। देश का सबसे बड़ा राज्य होने की वजह से यूपी में भी संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। उत्तर प्रदेश में संख्या 210 हो गई हैं। इनमें 18 जिलों के94 मरीज निजामुद्दीन मरकज से लौटे तब्लीगी जमाती है। सबसे ज्यादा संक्रमित जमाती आगरा में मिले हैं। जबकि, कुल संक्रमितों में सबसे ज्यादा 55 नोएडा में हैं। उत्तर प्रदेश के 24 जिलों में अब कोरोना पॉजिटिव के मामले हो गए हैं।आगरा में सबसे ज्यादा संक्रमित जमाती94 संक्रमित जमातियों में से सबसे ज्यादा 29 आगरा के हैं।आगरा जिलाधिकारी पीएन सिंह ने बताया कि आगरा में कोरोना के मरीजों की संख्या 45 पहुंच चुकी है। पूरे इलाके को पूर्णता प्रतिबंधित कर दिया हैं। क्वारैंटाइन किए गए मरीजों की निगरानी की जा रही है।हाथरस: चार जमातियों में कोरोना की पुष्टिहाथरस जिले के सासनी क्षेत्र से पिछले दिनों पकड़े गए जमातियों में से चार की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। चारों संक्रमितों को मुरसान के सरकारी चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। वहीं जिला प्रशासन इनकी ट्रैवल हिस्ट्री सम..
                 

बस्ती के युवक की मां और दो भाई भी निकले कोरोना पॉजिटिव; अब तक 19 नमूनों की जांच में 16 निगेटिव पाए गए

उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस का संक्रमण राज्य के 24 जिलों में फैल चुका है। जिले में बस्ती के जिस युवक की मौत बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुई थी, उसकी मां और दो भाई भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जबकि 19 अन्य लोगों के नमूनों की जांच में 16 निगेटिव निकले हैं। इसमें जिला अस्पताल में भर्ती पांच मरीजों के भी रिपोर्ट शामिल है।बस्ती के युवक की मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई थी। उसके सैंपल की जांच में कोरोना संक्रमण के लक्षण मिले थे।राज्य सरकार में सचिव-चिकित्सा स्वास्थ्य वी. हेकाली झिमोमी ने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को पत्र भेजकर कहा है-कोविड-19 पीड़ित रोगियों और हाई रिस्क जनसंख्या को चिन्हित कर समय से जांच एवं उपचार करने से इस वायरस के प्रसार को रोका जा सकता है। सीएमओ ने भी पत्र की पुष्टिकी है और कहा है- जिलाधिकारी की देखरेख में शासनादेश का पालन सुनिश्चित करवाया जाएगा।शासन ने आठ जिलों की जांच के लिए भेजा है पत्रशासन से आए पत्र के मुताबिक बस्ती, संतकबीरनगर, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर, देवरिया, महराजगंज, कुशीनगर और अयोध्या के सैम्पल की जाँच ई.सी.एम.आर.-आर.एम.आर. सी. गोरखपुर बी..
                 

गोंडा में रंजिशन पूर्व प्रधान समेत दो की गोली मारकर हत्या; भाजपा नेता गुर्गों पर फायरिंग का आरोप

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में लॉकडाउन के बीच शुक्रवार की शाम आपसी रंजिश में सपा के पूर्व प्रधान व एक सपा नेता की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामला उमरी बेगम थाना क्षेत्र के परास मझवार ग्राम पंचायत का है। बताया जा रहा है कि, शुक्रवार को डीसी मनरेगा और एपीओ तरबगंज जॉब कार्डधारकों का बयान लेने गए थे, तभी दो गुटों में फायरिंग हुई। जिसमें छह लोग घायल हुए। घायलों को जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने दोनों नेताओं को मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद पुलिस फोर्स घटनास्थल पर तैनात की गई है। क्षेत्र में तनाव की स्थिति है।गोंडा जिले के उमरी बेगमगंज थाना क्षेत्र के परास मझवार ग्राम पंचायत के पूरे संगम गांव के प्राथमिक विद्यालय में शुक्रवार को डीसी मनरेगा व एपीओ तरबगंज मनरेगा जॉब कार्डधारकों का बयान लेने गए थे। आरोप है कि, तभी भाजपा के जिला पंचायत सदस्य अतुल परास के गुर्गों ने फायरिंग शुरू कर दी। जिसमें लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्रनेता टिंटु सिंह, उनके भाई पूर्व प्रधान देवेंद्र कुमार सिंह उर्फ लाठी सिंह, कन्हैया पाठक समेत छह लोग घायल हो गए।मौके पर भगदड़ मच गई। इसके बाद हमलावर मौके से फरार हो ग..
                 

9 जमातियों समेत 11 पर एफआईआर, पनाह देने वाले पर भी पुलिस ने कसा शिकंजा, नेपाल से लौटकर यहां मस्जिद में ठहरे

उत्तर प्रदेश के बहरइच जिले में कोतवाली देहात के शेखदहीर स्थित एक मस्जिद में एक माह पूर्व 9 जमाती आए थे। मुंबई से आए जमाती यहां से नेपाल के दौरे पर भी गए थे। वापस लौटने पर लॉकडाउन के चलते मस्जिद बंद हो गई थी। जिसके बाद सभी को एक व्यक्ति ने अपने घर में पनाह दे दी थी। इन सभी को पुलिस ने गुरुवार की रात दबिश देकर पकड़ लिया। सभी को पुराने महिला अस्पताल में क्वारनटाइन कराया गया है। पुलिस ने 9 जमाती, एक मुतवल्ली और बिना सूचना के घर में पनाह देने वाले के खिलाफ अलग-अलग धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। मामले की पुलिस ने जांच शुरु कर दी है।कोरोना वायरस के संक्रमण और महामारी को देखते हुए केंद्र सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन घोषित कर रखा है। लॉकडाउन के बाद भी धार्मिक मामलों को लेकर निकले तब्लीगी जमात के लोगों के देश के विभिन्न हिस्सों में मिलने का सिलसिला जारी है। जिले में भी जामाती लोग छिपे मिल रहे हैं। कोतवाली देहात के शहर से सटे शेखदहीर में अबू बकर मस्जिद है। यहां करीब एक माह पूर्व मुंबई से 9 जमाती पहुंचे थे। कुछ दिन ठहरने के बाद सभी ने नेपाल का दौरा किया। यहां से वापस लॉटने पर अचानक लॉकडाउन घोषित ..
                 

कन्नौज में छत पर नमाज पढ़ रहे लोगों को पुलिस ने समझाया तो कुल्हाड़ी से हमला किया, दो पुलिसकर्मियों की हालत नाजुक

उत्तर प्रदेश के कन्नौज में लॉकडाउन के दौरान शुक्रवार को घर की छत पर सामूहिक नमाज पढ़ी गई। यह सूचना मिलते ही जब पुलिस वहां पहुंची और लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की बात कही तो वहां मौजूद लोगों नेपुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया। इसमें चौकी प्रभारी, एलआईयू सिपाही समेत 4 पुलिसकर्मी घायल हो गए।इसके बाद थाने से पुलिसफोर्स भेजी गई और मामले पर काबू पाया गया। हालांकि, इस बीच पुलिसकर्मियों से मारपीट करने वाले लोग वहां से भाग निकले। हालांकि, कुछ लोगों को पुलिस ने पकड़ लिया है जबकि कुछ की तलाशड्रोन के जरिए भी कीजा रही है। कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने के उद्देश्य से देशभर में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन है। देश के सभी बड़े धर्मस्थल बंद हैं।धर्मगुरुओं ने कहा था घरों में ही नमाज पढ़ेंमुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी गुरुवार को ही अपील की थी कि जुमे की नमाज घरों में रहकर ही पढ़ें। इस पर ज्यादातर लोगों ने अमल भी किया। वहीं, सदर कोतवाली क्षेत्र में काग्जियाल मोहल्ला स्थित साबिर के मकान की छत पर सामूहिक नमाज के लिए 25-30 लोग जुट गए। सूचना मिलते ही हाजी शरीफ चौकी इंचार्ज आनंद पांडेय, एलआईयू सिपाही राजवीर सिंह..
                 

मरकज से लौटे 33 जमातियों को पुलिस ने क्वारैंटाइन किया, ड्रोन कैमरे से रखी जा रही उन पर नजर

दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए मरकज जमात से सीतापुर आये 33 जमातियों को जिला प्रशासन ने ढूंढ निकाला है। पकड़े गए जमातियों में से अधिकतर लोग बांग्लादेशी है। प्रशासन ने एतिहात के तौर पर सभी जमातियों को स्कूलों में क्वारन्टीन किया है वही स्कूल पर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई है। डीएम के मुताबिक सीतापुर में कुल 42 जमाती शामिल होने की सूचना है जिसमे से 9 जमाती अभी तक दिल्ली से वापस नही आये हैं।वहीं आज जुमे की नमाज़ के चलते मस्जिदों की ड्रोन से निगरानी की जा रही है।संभावित इलाकों में ड्रोन से नजरदिल्ली की जमात से सीतापुर आये लोगों की प्रशासन कई दिनों से तलाश कर रहा था। जिसके चलते प्रशासन ने बीते 15 घंटो में सीतापुर के खैराबाद और बिसवां से इन जमातियों को ढूंढ निकाला है।खैराबाद में जहां 10 विदेशी और एक असम और एक महाराष्ट्र का जमाती मिला है तो वही बिसवां में 21 विदेशी जमाती पाए गए है। इन सभी को प्रशासन ने एहतियात के तौर पर स्कूलों में क्वारन्टीन किया है। साथ ही इनका चिकित्सीय परीक्षण भी किया जा रहा है।वहीं प्रशासन ने इन स्कूलों में सुरक्षा व्यवस्था के व्यापक इंतजाम किए हैं। जिला प्रशासन ने स..
                 

मुंबई से घरवापसी की जानकारी देने पर दो गुटों में पथराव; 4 घायल, पुलिस बोली- मामूली बात पर हुई मारपीट

उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में गुरुवार शाम दो गुटों में जमकर पथराव हुआ। लोग लाठी-डंडे लेकर एक दूसरे पर हमलावर हो गए। इस दौरान चार लोग घायल हुए हैं। मामला दोघट थाना क्षेत्र के कुरैशियान मोहल्ले का है। दरअसल, लॉकडाउन के बीच मुंबई से दो लोग गांव लौटे थे। जिसकी सूचना एक पक्ष ने प्रशासन को दी थी। इससे नाराज दूसरे पक्ष ने हमला बोल दिया। हालांकि, पुलिस इस कहानी से इतर अपनी नई कहानी बता रहीहै।दोघट थाना क्षेत्र के दाहा गांव के कुरैशियान मोहल्ले में इरफान व शानू लॉकडाउन के बीच गांव लौटे थे। इसकी सूचना शादाब ने प्रशासन को दी। लेकिन, यह बात इरफान को नागवार गुजरी। उन लोगों ने एकजुट होकर शादाब पर लाठी-डंडे से हमला कर दिया। यह देख दोनों पक्षों से लोग जुट गए और पथराव शुरू कर दिया। इस दौरान शादाब, फईम, शहजाद व सन्नवर गम्भीर रूप से घायल हुए हैं। सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह मामले को शांत कराया और घायलों को इलाज के लिए सीएचसी में भेज दिया है।एसपी बागपत प्रताप गोपेन्द्र यादव ने बताया कि दो लोग करीब एक हफ्ता पहले महाराष्ट्र से आए हैं, लेकिन इस बात को लेकर कोई तनाव नहीं है और न ही ये झगड़े का कारण है। ए..
                 

10वें दिन भी पुलिस मुस्तैद; मस्जिदों में जमातियों की तलाश में छोपमारी जारी, सावर्जनिक तौर पर नमाज न पढ़ने की अपील

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इस समय हाई अलर्ट है। इंटेलीजेंस ने सूचना दी थी कि यहां भी निजामुद्दीन मरकज से निकले देश- विदेश के जमातियों की काफी संख्या है। जो धार्मिक स्थलों और उनके आसपास घरों में छिपे हो सकते हैं। इनमें से कई जमाती मार्च के पहले सप्ताह से आ चुके हैं। जिन्होंने लॉकडाउन के दौरान भी अपने बाहर से आने की सूचना नहीं दी। जिसके बाद पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीमों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया।मेरठ जोन में इस समय आठ जिले मेरठ, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, शामली, बागपत, हापुड़, बुलंदशहर, गाजियाबाद आते हैं। पुलिस अधिकारियों के अनुसार जमात में आने वाले देशी- विदेशी जमातियों की ज्यादा आवाजाही वेस्ट यूपी के जिलों में है। सबसे बड़ा डर कोरोना को लेकर है। यदि इनमें कोरोना से संक्रमित जमाती हैं तो वे सभी के लिए खतरा हैं। इसलिए ऐसे सभी लोगों को जो या तो जमाती हैं या जमाती से अलग लोग जो कहीं बाहर से आए हैं तो अपने आने की सूचना देकर मेडिकल जांच करा लें। लेकिन किसी भी जमाती या बाहर से आए व्यक्ति ने खुद पुलिस या स्वास्थ्य विभाग को सूचना नहीं दी।पुलिस कर रही अपील- मस्जिदों में एकत्र होकर नमाज न पढ़े..
                 

बड़े शहरों से आए 8.5 हजार मजदूरों क्वारंटीन किए गए; तब्लीगी जमात से जुड़े 8 संदिग्ध हिरासत में लिए गए

देशभर में चल रहे तब्लीगी जमात के खौफ के बीच शहर की एक मस्जिद में पिछले दस-बारह दिनों से रुके कानपुर के आठ लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। अब पुलिस इसकी जांच कर रही है कि वह लोग दिल्ली में तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे या नहीं। वहीं लॉकडाउन के दौरान गैर राज्यों से जिले में बड़ी संख्या में लोग दूसरे राज्यों से पलायन करके वापस लौटे हैं। जिसके चलते यहां की 496 ग्राम पंचायतों में साढ़े आठ हजार लोग क्वारैंनटाइन किया जा चुका है।जिलाधिकारी ने अलग- अलग जरूरत के लिए मांगे गए पासों पर रोक लगा दी है। बृहस्पतिवार की सुबह से ही पुलिस सभी मुख्य चौराहों व सड़कों पर सक्रिय हो गई। वाहन चालकों को रोककर उनको वापस लौटाया जा रहा है। पैदल जाने वाले लोगों को भी तुरंत अपने घर पहुंचने की चेतावनी दी जा रही है।जिले में तीन स्थानों पर ठहरे दिल्ली, कोलकाता, पौड़ी गढ़वाल से आए तब्लीगी जमात के 21 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से 23 तब्लीगी जमातियों का सैंपल भेजा गया था, इनमें दो लोगों की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। रिपोर्ट निगेटिव आने के बावजूद इनका नियमित स्वास्थ्य परीक्षण किय..
                 

तब्लीगी जमात में शामिल हुए 8 विदेशी नागरिकों के पासपोर्ट जब्त, एफआईआर दर्ज; इनके सम्पर्क में आने वाले 142 लोग क्वारैंटाइन किए गए

दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित हुए मरकज में शामिल हुए तब्लीगी जमात के 8 विदेशी नागरिकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उनके पासपोर्ट जब्त कर लिए हैं। सभी विदेशी नागरिकों को हैलट के क्वारैंटाइन वार्ड में भर्ती कराया गया है। इसके साथ ही विभिन्न जमातों के संपर्क में आने वाले शहर के 142 लोगों को क्वारैंटाइन कराया गया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने साफ कर चुके है कि तब्लीगी जमात के सदस्यों की गल्तियों का खामियाजा प्रदेशवासी नहीं भुगतेंगें।बाबूपुरवा पुलिस ने अधिकारियों के निर्देष पर 8 विदेशी नागरिकों पर एफआइआर कर लिया है। बाबूपुरवा स्थित सुफ्फा मस्जिद से 6 आफगानी एक ईरानी और एक यूके नागरिक मिले थे। यह आठों विदेशी दिल्ली के निजामुद्दीन तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे। इसी प्रकार तब्लीगी जमात में शहर के सैकड़ों लोग शामिल हुए थे। ऐसे लोगों ने शहर की मुस्किलें बढा दी हैं। पुलिसकर्मी ऐसे लोगों चिन्हित करने कर मेडिकल परीक्षण कराने का काम कर रही है।जमातों के संपर्क में आने वाले 142 शहरवासियों को क्वारैंटाइन के लिए भेजे गएं है। बीते गुरूवार को भी तब्लीगी जमात के लोगों की तलाश होती रही। पट..
                 

24 घंटे में संक्रमण के 15 नए मामले; दारूल उलूम फरंगी महल ने जारी किया फतवा, महामारी में बीमारी छिपाना या टेस्ट न कराना गैर शरई काम

कोरोनावायरस (कोविड-19) की जांच में सहयोग न करने वाले विशेष संप्रदाय के लोगों के लिए दारूल उलूम फरंगी महल ने फतवा जारी किया है। मुस्लिम धर्मगुरु खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा- कोरोना वायरस की जद में आए लोगों को अपना टेस्ट कराना चाहिए और इलाजभी जरुरी है। इस्लाम में एक इंसान की जान बचाना कई इंसानों की जान बचाने जैसा है।इसको छिपाना कतई जायज़ नहीं है। अगर लोग महामारी में अपना इलाज और टेस्ट नहीं कराते हैं लोग तो ये बिल्कुल गैर शरई काम है।उत्तर प्रदेश में दिल्ली से सटा नोएडा शहर (गौतमबुद्धनगर) कोरोना का ऐपिसेंटर बन चुका है। यहां अब तक कोरोना के 48 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। बुधवार को राज्य में कोरोना के 15 नए मरीज मिले। इनमें नोएडा के 9, बुलंदशहर के 2 और बस्ती, मेरठ, लखनऊ व आगरा में एक-एक केस शामिल है। कोरोना ने राज्य के 16 शहरों तक पांव पसार चुका है। अब तक 118 केस पॉजिटिव मिल चुके हैं।लखनऊ: डॉक्टर की सास के बाद ससुर भी कोरोना पॉजिटिवकनाडा से राजधानी लखनऊ लौटी महिला डॉक्टर की सास के बाद उसके ससुर में भी कोरोना का टेस्ट पॉजिटिव पाया गया है। वे सेना के सेवानिवृत्त अफसर हैं। इससे पहले उनकी बहू..
                 

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने लखीमपुर में युवक की मौत का मुद्दा उठाया; बोले- दलितों, अल्पसंख्यकों पर पुलिस उत्पीड़न बढ़ा

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कानून व्यवस्था को लेकर योगी सरकार को घेरने की कोशिश की है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- कोरोनावायरस महामारी के बीच पुलिस उत्पीड़न पर उतारू है। लखीमपुर खीरी के मैगलगंज थाना क्षेत्र में पुलिस उत्पीड़न से परेशान युवक रोशन लाल ने आत्महत्या कर ली। इस पूरे घटनाक्रम की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करके जेल भेजा जाना चाहिए।लॉकडाउन में आम आदमी को पुख्ता राहत नहींप्रदेश अध्यक्ष ने कहा- पूरे प्रदेश में कोरोना महामारी अपने चरम पर है। शासन प्रशासन के तरफ से आम लोगों को कोई पुख्ता राहत नहीं दी जा रही है। दूसरी तरफ, कोरोना वायरस महामारी के नाम पर पुलिसिया उत्पीड़न जारी है। तमाम सोशल मीडिया नेटवर्क पर पुलिसिया दमन और उत्पीड़न की तस्वीरें और वीडियो वायरल हो रहे हैं जो दिल दहला देने वाले हैं। योगी सरकार में खासकर दलितों, पिछड़ों और अल्पसंख्यक समाज लगातार पुलिसिया उत्पीड़न बढ़ा है।यह है लखीमपुर का मामलादरअसल, मैगलगंज कोतवाली क्षेत्र के फरिया पिपरिया गांव निवासी रोशनलाल (22) हरियाणा के गुरुग्राम में बिजली लाइ..
                 

बकरियांन मस्जिद में जमातियों के साथ मिलकर नमाज अदा करने एकत्र हुए थे लोग; 4 लोग गिरफ्तार, 70 के खिलाफ केस दर्ज

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में गुरुवार को कुतुबशेर इलाके में स्थित बकरियान मस्जिद में भारी संख्या में एकत्र होकर नमाज पढ़ने की कोशिश कर रहे लोगों को पुलिस ने समय रहते रोक लिया। इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 4 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और 70 लोगों के खिलाफ अज्ञात में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस ने सख्त हिदायत दी है कि आगे से इस तरह की कोशिश की गई तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।थाना कुतुबशेर क्षेत्र में लोहानी सराय क्षेत्र के मौहल्ला बकरियांन मस्जिद में जमात के साथ मिलकर भारी संख्या में नमाज अदा करने के लिए एकत्र हुए थे, जो सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस को देख भाग खड़े हुए। जमात में आए कुछ लोगों को पुलिस ने मौके पर ही दबोच लिया गया, जिनमें से एक व्यक्ति बंगाल व कुछ क्षेत्र के ही लोग शामिल थे।जांच के बाद लोगों के खिलाफ हो होगी कार्रवाईवरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी के अनुसार जिले में शासन द्वारा घोषित लॉक डाउन का पूरी तरह से और शत-प्रतिशत रूप में पालन हो रहा है। एसएसपी दिनेश कुमार के अनुसार इस मामले की जांच करवाई जा रही है और इसमें जल्द ही शामिल अन्य लोगों की भी ..
                 

पहली बार गोरक्षनाथ मंदिर में बदले कन्यापूजन के नियम; घर जाकर पखारे पांव, भोजन कराकर दिया दक्षिणा

आज नवरात्रि पर्व की नवमी तिथि है। मान्यता के अनुसार इस दिन मां दुर्गा स्वरूपा कन्याओं का पूजन होता है। लेकिन कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के बीच गुरुवार को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर स्थित गोरक्षनाथ मंदिर में कन्यापूजन का नियम बदल गया है। हर बार गोरक्ष पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ कन्याओं का पांव पखारते थे, उन्हें प्रसाद खिलाते थे और दक्षिणा देकर विदा करते थे। लेकिन इस बार मंदिर के मुख्य पुजारी कमलनाथ ने कन्याओं के घर जाकर पूजन किया। उनके अनुसार, आज कई सौ साल पुरानी परंपरा टूटी है। लेकिन कोरोना की लड़ाई अहम है।नाथ संप्रदाय का बड़ा मंदिरगोरखपुर में गोरक्षनाथ मंदिर नाथ संप्रदाय का है। वर्तमान में इसे पीठाधीश्वर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं। सीएम बनने के बाद उन्होंने नवरात्रि पर्व में कन्याओं के पूजन के लिए गोरखपुर जाते थे। लेकिन लॉकडाउन के चलते वे गुरुवार को मंदिर नहीं पहुंचे।परंपरा का सिर्फ निवर्हनमंदिर के सचिव द्वारिका तिवारी ने बताया कि इस बार कन्याओं के घर पर जाकर उनका विधि विधान से पूजन किया गया। चूंकि ये महामारी इस कदर फैली है इसको लेकर हमें आपको सबको गं..
                 

रामनवमी के दिन पहली बार अयोध्या की सड़कों पर सन्नाटा, मंदिरों के गर्भगृहों तक सीमित रहा राम जन्मोत्सव

पहली बार रामनवमी के दिन अध्योध्या में सन्नाटा पसरा है। शंख, झालर, जयकारों और भजनों से गूंजने वाली अयोध्या में आज राम के जयकारे नहीं लग रहे थे। कोरोनावायरस से बचाव के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण जन्मोत्सव के कार्यक्रम मंदिर के गर्भग्रहों और पुजारियों तक ही सीमित रहा।अयोध्या में दिन के 12:00 बजे प्रभु राम का जन्मोत्सव यहां के पुजारियों ने ही पूजा करके पूरा किया। भए प्रगट कृपाला दीन दयाला का उद्घोष मंदिरों के अंदर तक ही सीमित रह गया। यहां 15 लाख की भीड़ हर साल इस उत्सव में हिस्सा लेने के लिए आती थी, पर कोरोना संकट के चलते कल से हीप्रशासन ने नाकेबंदी कर शुरू कर दी थी। अयोध्या जिले की सीमा सील कर दी गई और जगह-जगह पुलिस व आरएएफदस्ते घूमते दिखे।सरयू तट पर भी नहीं दिखी चहल पहलअयोध्या में सरयू नदी के तट पर पसरा सन्नाटा।सरयू नदी में रामनवमी को जहां लाखों की भीड़ आज स्नान करती थी वहां सन्नाटा दिखा। पुलिस की निगरानी होती रही। मेला अधिकारी वैभव शर्मा ने बताया पूरे मेला क्षेत्र में कहीं भी कोई व्यक्ति घर से बाहर निकलकर मंदिर जाने की कोशिश करता हुआ नहीं पकड़ा गया। रामनवमी का कार्यक्रम भी पुजारियों ने ..
                 

देर रात पकड़े गए तब्लीगी जमात के 5 सदस्य; भेजे गए अस्पताल, कोरोना से निपटने के लिए बना कोविड-19 वार रूम

दिल्ली निजामुद्दीन में तबलीगी जमात में शामिल लोगों ने पूरे देश की मुश्किलें बढ़ा दी है। वहीं दिल्ली जमात में शामिल 5 लोगों को बुधवार देर रात पुलिस ने पकड़ कर अस्पताल में जांच के लिए भर्ती कराया है।सभी लोग दशाश्वमेध और भेलूपुर इलाके में घरों के आस पास छिपे थे। ये सभी सामने नहीं आ रहे थे। सूचना मिलने पर इनको पकड़कर अस्पताल ले जाया गया जहां सबके नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं।नई दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में आयोजित धार्मिक जलसे में शामिल हुए वाराणसी जिले के पांच लोग वापस लौट कर चुपचाप अपने घर में रह रहे थे। पांचों को दीनदयाल अस्पताल भेज कर उनके खिलाफ भेलूपुर और दशाश्वमेध थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस प्रकरण में पांचों लोगों के परिजनों की भूमिका की भी जांच करेगी।नई दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में आयोजित धार्मिक जलसे में जिले के पांच लोगों के शामिल होने की सूचना मंगलवार को पुलिस को मिली थी।16 लोग जलसे में शामिल होने गए थेपुलिस ने तफ्तीश शुरू की तो देर शाम पता लगा कि पांच लोग नहीं बल्कि जिले के 16 लोग जलसे में शामिल होने गए थे। बुधवार को भी पुलिस की तफ्तीश जारी रही।सुरागकशी के दौरान..
                 

तब्लीगी जमात के 120 सदस्य पुलिस की निगरानी में; 8 विदेशियों समेत 35 के सैंपल भेजे गए, 68 लोग मस्जिदों में क्वारैंनटाइन

दिल्ली के निजामुद्दीन तब्लीगी जमात में शामिल होकर जमात के सदस्यो ने पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की मुस्किलों को बढा दिया है। पुलिस के खुफियातंत्र और स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने 24 घंटे के भीतर तब्लीगी जमात और अन्य जमात के 120 सदस्यों को चिन्हित किया है। सभी पर पुलिस निगरानी रख रही है। इसके साथ ही कानपुर पुलिस 8 विदेशी नागरिकों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने का विचार कर रही है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 68 लोगों को मस्जिदों और घरों में क्वारैंटान किया है । जमात में शामिल 35 लोगों का कोरोना सैंपल जांच के लिए भेजा गया है।बुधवार को आठों विदेशियों को हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मंगलवार को पुलिस ने बाबूपुरवा की सुफ्फा मस्जिद से 6 अफगानी, एक ईरानी और एक यूके के नागरिकों को बरामद किया था। यह सभी विदेशी नागरिक तब्लीगी जमात से हो कर कानपुर आए थे। मंगलवार को जांच के बाद सभी को नारायाणा इंस्टीयूट्ट में क्वारैंटाइन के लिए रखा गया था। बुधवार को सभी को हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया है।हैलट और उर्सला अस्पताल में कोरोना संदिग्धों की सख्या बढती जा रही है। संदिग्धों का आना लगातार जारी है। सजेती थाना ..
                 

गोरखपुर में आइसोलेशन वार्ड में तब्दीन हो रहीं ट्रेन की बोगियां, पूर्वोत्तर रेलवे ने इसे नाम दिया 'रक्षक'

कोरानावायरस (कोविड-19) के प्रसार को रोकने व आपातकाल में रोगियों को सुविधाएं देने के लिए पूर्वोत्तर रेलवे भी मैदान में आ गया है। रेलवे प्रशासन ने यांत्रिक कारखाने में खाली बोगियों को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील करना शुरू कर दिया है। पूर्वोत्तर रेलवे के कुल 216 कोच को आइसोलेशन वार्ड बनाया जाना है। एक कोच में दस बेड तैयार किए जाएंगे। इसके अलावा गोरखपुर समेत सभी केंद्रीय रेलवे अस्पतालों में 10 से 15 बेड के आइसोलेशन वार्ड तैयार हो चुके हैं। ललित नारायण मिश्र रेलवे केंद्रीय अस्पताल में 57 बेड का क्वारैंटाइन वार्ड भी तैयार किया गया है।जहां पड़ी जरुरत, वहीं शिफ्ट हो जाएगा अस्पतालसीनियर सेक्शन इंजीनियर प्रियंजन ने बताया कि, एक कोच में एक बार में 80 लोगों को आइसोलट किया जा सकता है। हर एक केबिन में एक पेशेंट रहेगा। साथ में तीन केबिन डॉक्टर्स टीम की होगी। ट्रेन की बोगी में बनाए जा रहे आइसोलेशन वार्ड सभी सुविधाओं से लैस होंगे और जहां भी जरूरत पड़ेगी, जहां हॉस्पिटल नही होंगे, वहां पर इस ट्रेन की रक्षक बोगी आइसोलेशन वार्ड को लगा दिया जाएगा।कोच का नाम रक्षक रखा गया है। 20 कोच शनिवार तक आइसोलेशन वार्ड बनक..
                 

तमिलनाडु से मुजफ्फरनगर जा रहा बाइक सवार फिसल कर गिरा, हालत गम्भीर; पांच दिन में दो हजार किमी चला चुका था बाइक

21 दिनों के लॉकडाउन के बीच उद्योग-धंधे बंद होने से तमाम लोग घर लौट रहे हैं। लेकिन, लंबी दूरी तक बाइक चलाना या पैदल चलना भारी पड़ रहा है। ऐसा ही मामला ललितपुर जिले में सामने आया है। तमिलनाडु से मुजफ्फरनगरजा रहे एक युवक की बाइक ललितपुर में फिसल गई,इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। हालत नाजुक है।मुजफ्फरनगर निवासी अकरम ने बताया कि वह औरउनके 4अन्य साथीतमिलनाडु के मुदरई में फेरी लगाकर कपड़े बेचते थे, लेकिन लॉकडाउन के चलते काम बंद हो गया। जिसके चलते पांचों अलग-अलग बाइकसे मुजफ्फरनगर के लिए निकले। उन्होंने बताया कि मुदरई से मुजफ्फरनगर की दूरी 2693 किलोमीटर है। वे लोगबाइकसे 26 मार्च को चले थे।लेकिन, जब वह 2034 किमी की दूरी तय कर मंगलवार रात ललितपुर स्थित मसौरा बैरियर के निकट पहुंचे तभी20 वर्षीय अफजाल की गाड़ी के सामने अचानक बिल्ली आ गई। इससे वह असंतुलित होकर गिरकर घायल हो गया। अकरम ने साथियों के साथ मिलकर एंबुलेंस की मदद से उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाया। हालत नाजुक बताई जा रही है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today ..
                 

क्वारैंटाइन हुए 25 यात्री फरार, 14 घंटे के भीतर सभी पकड़े गए, पुलिस अब एफआईआर भी दर्ज करेगी

कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी से बचाव के लिए 21 दिन के चल रहे लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले में क्वारैंटाइन किए गए 25 लोग मंगलवार रात सेंटर से फरार हो गए। ये सभी गैर राज्यों से पलायन कर लौटे थे। पुलिस करीब 14 घंटे के भीतर सभी लोगों को पकड़ लिया है। पुलिस ने इन सभी मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। साथ ही अब कोई फरार न होने पाए, इसके लिए पुलिस की मुस्तैदी बढ़ा दी गई है।डीएम सी. इन्दुमती ने बताया कि, केएनआईटी परिसर फरीदीपुर में दूसरे राज्यों व जनपदों से आए 115 व्यक्तियों को मेडिकल जांच कराने के पश्चात सतर्कता की दृष्टि से गोसाईगंज थाना क्षेत्र के फरीदीपुर स्थित केएनआईटी परिसर में क्वारैंटाइन किया गया था। मंगलवार की रात में लगभग 10 से 11 बजे के मध्य 25 व्यक्ति शेल्टर होम के पीछे के रास्ते से प्रथम तल से चादर एवं गमछे के सहारे रस्सी बनाकर फरार हो गए थे।एसपी शिवहरि मीणा के निर्देशन में लगी पुलिस टीम ने 14 घंटे के अन्दर सभी भागे हुए 25 व्यक्तियों को पकड़कर उन्हें पुनः शेल्टर होम में वापस क्वारैंटाइन कर दिया है। पुलिस के अनुसार सभी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर कार्रवा..
                 

मेरठ में कोविड-19 से संक्रमित 72 वर्षीय बुजुर्ग की मौत; मुंबई से लौटे दामाद के संपर्क में आने से हुई थी बीमारी, अब तक जिले में कोरोना के 19 केस

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित बुधवार कोएक और मरीज की मौत हो गई। मामला मेरठ जिले का है।मुंबई के अमरावती से मेरठ अपनी ससुराल आए एक 50 वर्षीय व्यक्ति में संक्रमण की पुष्टि हुई थी। जिसके बाद पत्नी, 72 वर्षीय ससुर व दो साले समेत 11 लोगों में कोविड-19 का टेस्ट पॉजिटिव पाया गया था। सभी को मेरठ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। बुधवार को बुजुर्ग की हालत बिगड़ गई। जिसके बाद उसकी मौत हो गई। मृतक के दामाद की भी हालत नाजुक है। उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है।मृतक के दामाद ने से लोगों में फैला संक्रमणदरअसल, बुलंदशहर जिले के खुर्जा निवासी 50 वर्षीय व्यक्ति की मेरठ के शास्त्रीनगर के एक मोहल्ले में ससुराल है। वह बीते 19 मार्च को मुंबई के अमरावती से मेरठ आया था। वह पत्नी के साथ अपनी बीमार सास को देखने आया था। इसके बाद एक शादी समारोह में भी उसने शिरकत की थी। बुखार व खांसी के लक्षण दिखने पर परिवार ने उसका इलाज प्राइवेट डॉक्टर के यहां कराया। लेकिन हालत में सुधार न होने पर उसे 26 मार्च को मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया।डॉक्टरों ने लार का नमूना लेकर जांच के लिए भेजा। 28 मार्च की सुबह रिपोर्ट मिली त..
                 

मेरठ में अस्पताल को ब्लैकमेल कर छुटटी मांग रहा था कोरोना संदिग्ध मरीज, आरोपी के खिलाफ दर्ज कराया गया केस

छत्रपति शिवाजी सुभारती अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में परिवार के चार लोगों सहित भर्ती मेरठ के शास्त्रीनगर निवासी एक युवक को तीन दिन पहले कोरोना के लक्षण होने पर भर्ती कराया गया था। आरोप है कि इस युवक ने दूसरे दिन ही वार्ड में तैनात डाक्टरों से छुट्टी को लेकर घर पर भेजने का दबाव बनाने का प्रयास किया। उसने एक फर्जी वीडियो बनाकर भी वायरल कर दिया। आरोपी के खिलाफ अस्पताल के अधीक्षक की ओर से जानी थाना में केस दर्ज कराया गया है।अस्पातल प्रशासन के मुताबिक संदिग्ध मरीज ने अस्पताल में उत्पात मचाकर हंगामा शुरू कर दिया और अपने लिये अस्पताल में अलग से केवल चार बिस्तर वाला वार्ड अटैच टायलेट बाथरूम के साथ मांगा। साथ ही सभी के ​लिए गर्म खाना व दवाओं की मांग की। जिस पर अस्पताल के कर्मियों द्वारा बताया गया कि अस्पताल में चार बिस्तर वाला कोई अलग से वार्ड नही है। क्वारेंटाइन में रखे गये लोगों को तब तक बीमार नहीं माना जाता जब तक उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव ना आए या कोई लक्षण न हो। लोगों को क्वारेंटाइन में केवल निगरानी के लिये रखा जाता है। इसमें दवाओं की कोई आवश्यकता नहीं है।आइसोलेशन में युवक को सभी सुविधाएं दी जा र..
                 

रोजगार छिना तो 400 किमी रिक्शा चलाकर झांसी पहुंचा युवक, पत्नी बोली- गांव पहुंचते ही फिर परेशान करेंगे साहूकार

कोरोनावायरस (कोविड-19) के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए संपूर्ण भारत लॉकडाउन का आज 8वां दिन है। लेकिन अभी भी बड़े शहरों में रोज कमाने-खाने वाले लोग अपने गांवों की ओर पलायन कर रहे हैं। मध्यप्रदेश के हरपालपुर का रहने वाला एक मजदूर 4 दिन पहले नोएडा से अपनी पत्नी को रिक्शे पर बैठा कर अपने 550 किमी के सफर पर निकला है। उसकी पत्नी का कहना है कि दिन का सफर तो ठीक रहा, लेकिन रात होते ही डर लगने लगता था।मध्यप्रदेश के हरपालपुर का रहने वाला परिवारमध्य प्रदेश के हिस्से में पड़ने वाले बुंदेलखंड के हरपालपुर के रहने वाले बृजकिशोर बुधवार को अपना रिक्शा लेकर झांसी से गुजर रहे थे। उन्होंने बताया कि गांव में रहते हुए साहूकारों का इतना कर्ज बढ़ गया था कि मैं अपनी पत्नी के साथ 2 साल पहले नोएडा चला गया। नोएडा में जब कोई काम नहीं मिला तो मैं रिक्शा चलाने लगा और मेरी पत्नी घरों में झाड़ू-पोछा करने लगी। जैसे-तैसे हम अपनी जिंदगी का गुजर-बसर करने लगे।लेकिन पहले 22 मार्च को जनता कर्फ्यू और उसके बाद संपूर्ण लॉकडाउन ने हमारा रोजगार पूरी तरह से छीन लिया। रिक्शा चलना बंद हो गया और पत्नी जिस घर में झाड़ू-पोछा करती ..
                 

24 घंटे में पांच नए मामले सामने आए; सरकार ने कहा- लॉकडाउन के अगले 15 दिन बेहद महत्वपूर्ण

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार सोमवार रात नौ बजे से मंगलवार शाम तक कोरोना संक्रमण के5 नए मामले सामने आए हैं। इनमें बरेली में तीन, नोएडा और मेरठ में एक-एक केस मिला है। यूपी में कुल संक्रमितों की संख्या 103 हो गई है। यूपी के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा- दिल्ली के तब्लीगी में शामिल होने वाले157 लोगों में से 95 फीसदी लोग ट्रेस हो चुके हैं। बाकी लोगों को भी जल्द ट्रेस कर लिया जाएगा। लॉकडाउन के अगले15 दिन बहुत महत्वपूर्ण हैं।सभी जिलों में कड़ाई से कराया जाएगा लॉकडाउन का अनुपालनअवस्थी ने बताया कि जिलाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि कोई भी अब सड़क के किनारे पैदल भी जाता दिखे तो उनको पास के आश्रयकेंद्र में भेजकर क्वारैंटाइन किया जाए। उनकी जांच के बाद उनको आश्रयगृह में रखा जाए। 14 अप्रैल तक उनको कहीं भी न जाने दिया जाए। सभी जिलों में लॉकडाउन का कड़ाई से पालन करने का निर्देश जारी। अब तो मेडिकल इमरजेंसी काम के सिवाय घर से बाहर निकलने पर रोक लगाई गई है।अब तक 6 हजार से ज्यादा एफआईआर दर्जअवस्थी ने कहा कि कम्युनिटी किचन को और तेज़ी से आगे बढ़ाए जाएगा।वाराणसी डीएम और एसपी की मु..
                 

रामनवमी को लेकर विहिप की अपील; घर पर ही रहकर मनाएं प्रभु श्रीराम का जन्मोत्सव

अयोध्या. कोरोनवायरस का संक्रमण तेजी से पूरे देश में फैल रहा है। इस बीच दो अप्रैल को रामनवमी पर्व है। अयोध्या में राम जन्मोत्सव इस बार धूमधाम से मनाया जा सकेगा।विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने एक एडवाइजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि कोरोना संकट को देखते हुए इस पर्व पर विजय महामंत्र का हिंदू समाज 108 बार जाप करें। सरकारी निर्देश का पालन किया जाए, लेकिन राम जन्मोत्सव को पूरे उत्साह और उल्लास के साथ अपने परिवार को एकजुट कर घर पर ही लोग बनाएं।हिंदू समाज से अपील में विश्व हिन्दू परिषदके अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार राम मंदिर ट्रस्ट के सदस्य स्वामी परमानंद गिरि वह ट्रस्ट के महंत नृत्यगोपाल दास के द्वारा जारी अपील में कहा गया है कि कोरोना संकट से मुक्ति के लिए प्रभु राम के चित्र अथवा विग्रह को सामने रखकर सभी भजन पूजन करें, उनकी आरती उतारें तथा विजय महामंत्र का 108 बार जाप करें।कोरोना से मुक्ति के लिए करें श्रीराम का जापएडवायजरी में कहा गया है कि कोरोनावायरस से मुक्ति के लिए विजय मंत्र श्री राम जय राम जय जय राम का जाप किया जाए। इसके बाद प्रसाद चढ़ाकरअपने अपने घरों म..
                 

योगी का अफसरों को निर्देश; जमातियों को खोजिए, जो जहां मिले उसे वहीं क्वारैंटाइन किया जाए

लखनऊ. मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आगरा व मेरठ का दौरा रद्द कर गाजियाबाद से लखनऊ लौटना पड़ा। उन्होंने कोरोनावायरस से निपटने के लिए बनी 11 समितियों व शासन के बड़े अफसरों के साथ बैठक की। मुख्यमंत्री ने कहा- जमात में शिकरत करने वालों को खोजा जाए और जो जहां मिलें, वहीं तत्काल क्वारैंटाइन किया जाए।लॉकडाउन के बीच सोमवार को तेलंगाना से आई छह कोविड-19 संक्रमितों की मौत ने दिल्ली के साथ उत्तर प्रदेश में हड़कंप मचा दिया है। ये सभी मृतक दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में हुई तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे।कई जिलों में मिल रहे विदेशी जमातीनिजामद्दीन मरकज में हुए तब्लीगी जमात में उत्तर प्रदेश के 157 लोग शामिल हुए थे। इसके लिए 19 जिलों को एलर्ट किया गया है। लखनऊ में छह, बिजनौर में आठ, मथुरा में 21 लोगों को क्वारैंटाइन किया गया है। ये सभी जमात में शामिल थे। इनमें कई विदेशी नागरिक भी हैं, जो जमात में शामिल होने के बाद यूपी आ गए। मुख्यमंत्री के साथ अफसरों की बैठक करीब दो घंटे चली। सीएम ने पश्चिमी यूपी में लगातार बढ़ रहे संक्रमण को रोकने के लिए कठोर कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। कहा- पूरे प्रदेश..
                 

झोपड़ी में आग लगने से भाई-बहन की जिंदा जलकर मौत, खेत में काम करने गए थे परिजन तभी हुआ हादसा

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। यहां मंगलवारको पडरौना कोतवाली क्षेत्र के गंभीरिया बुजुर्ग में झोपड़ी में लगी आग में दो बच्चे जिंदा जलकर मर गए। दो बच्चे आपस में भाई-बहन थे।घरवाले बच्चों को झोपड़ी में छोड़कर खेत में काम करने गए थे। पुलिस ने दमकल विभाग के साथ पर काबू पाया।टोला रामघाट में डेढ़ दर्जन झोपड़ियां बनाकर लोग रहते हैं। सुबह 11 बजे के आस पास अधिकतर परिवार के अभिभावक खेतों में काम करने गए थे। तूफानी के घर में उसकी बेटी करिश्मा (7) व बेटा सुजीत (6 ) थे। घर में सिलेंडर लीक कर रहा था। न जाने कहां से झोपड़ी में आग पहुंची और गैस की लीकेज के चलते धधक उठी। बच्चे कुछ समझ पाते इससे पहले ही दोनों जल गए। आग जब आस पास की 14 और झोपड़ियों तक पहुंची तो ग्रामीणों ने शोर मचाते हुए आग पर काबू पाने का प्रयास शुरू किया। इसी बीच खेत से लौट कर तूफानी व उसकी पत्नी ने बच्चों को खोजना शुरू किया तो झोपड़ी में उनका जला हुआ शव बरामद हुआ। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today आग लगने के बाद मौके पर जुटी भीड़..
                 

जमात में शामिल थे पश्चिमी यूपी के कई लोग; बागपत में सभासद के भाई व उसके परिवार को पुलिस ने कराया क्वारैंटाइन 

मेरठ/बागपत. दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में हुई तब्लीगी जमात में पश्चिमी यूपी के कई जिलों से लोग शामिल हुए थे। मंगलवार को बागपत में एक सभासद के भाई व उसके परिवार को क्वारैंटाइन किया गया है। वहीं, मेरठ के आठ लोग भी जमात में शामिल हुए थे। एक जमाती वापस आया, उसे क्वारैंटाइन किया गया। बाकी सात लोग अभी दिल्ली में हैं। बागपत व मेरठ जिले में कोरोना वायरस से संक्रमित अब तक 20 केस मिल चुके हैं।सोमवार को छह नए केस आएसीएमओ डॉ. राजकुमार ने बताया कि सोमवार को कोरोना पॉजिटिव के 6 नए केस सामने आए हैं। इनमें से चार मरीज महाराष्ट्र के अमरावती से लौटे खुर्जा निवासी कोरोना पॉजिटिव के रिश्तेदार हैं। जबकि जिन दो मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है, वह शहर के सिविल लाइंस क्षेत्र के हैं। ये दोनों मरीज विदेश से आए थे। विदेश से आने के बाद स्वास्थ्य विभाग इनकी निगरानी कर रहा था। दोनों में कोरोना के लक्षण दिखायी देने पर इनके ब्लड सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, जिनकी सोमवार को रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। डॉ. राजकुमार ने बताया कि अब मेरठ में कोरोना पॉजिटिव संख्या 19 हो गई है। जो पॉजिटिव आए हैं उनका मेडिकल अस्पताल और सुभार..
                 

बुलंदशहर के गावों को भी सैनिटाइज कराने में जुटा जिला प्रशासन; ग्रामीणों की कराई जा रही थर्मल स्क्रिनिंग, 5 संदिग्धों को किया गया आइसोलेट

बुलंदशहर. कोरोनावायरस का असर पूरे देश में तेजी से फैलता जा रहा है। यूपी के बुलंदशहर में जिला प्रशासन पूरी तरह हरकत में आ गया है। मंगलवार कोवीरखेड़ा गांव में स्वास्थ्य विभाग की पांच टीमों ने यहांपहुंचकर घर घर व गली गली में केमिकल का छिड़काव कर पूरे गांव को सैनिटाइज करने का काम शुरू किया। सभी ग्रामीणों की थर्मल स्क्रीनिंग भी करायी जा रही है। वहीं, बुलन्दशहर शासन के आदेश पर ज़िला कारागार से सात साल के दंडनीय अपराधिक मामलो मे विचाराधीन 135 बंदियों को भी रिहा किया गया है।वीरखखेड़ा बुलंदशहर का वही गांव है जहां हाल ही में कोरोना पॉज़िटिव केस सामने आया था। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की 5 टीमों ने पूरे गांव की स्क्रीनिंग और सैनिटाइजिंग की। स्क्रीनिंग के दौरान टीम को पांच सन्दिग्ध और मिले जिनको आइसोलेट कर दिया गया है। इसी गांव में कोरोना पॉज़िटिव शख्स के आठ सदस्यों को भी आइसोलेट कर सेम्पल जांच के लिए मेरठ भेजे गए हैं। वहीं, जिला प्रशासन ने गांव की तीन किलोमीटर की परिधि को रेड जोन घोषित कर लोगों के आवागमन पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई है। वहीं, बुलन्दशहर शासन के आदेश पर ज़िला कारागार से सात साल के दंड..
                 

बरेली में संक्रमित युवक के संपर्क में आने से परिवार के 5 और लोग बीमार, यूपी में अब तक 102 पॉजिटिव

बरेली. उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में मंगलवार को कोरोनावायरस के पांच नए संक्रमित मिले हैं। ये सभी बीते रविवार को कोरोना पॉजिटिव मिले युवक के परिवारीजन हैं। युवक नोएडा की सीजफायर कंपनी में ऑडिटर के संपर्क में आकर संक्रमित हुआ था। एडी हेल्थ डॉक्टर राकेश दुबे ने बताया कि, सतर्कता बढ़ा दी गई है। आसपास रहने वालों को क्वारैंटाइन रहने का निर्देश दिया गया है। इस तरह अब राज्य में संक्रमितों की संख्या 102 हो गई है।बरेली में अब तक कोरोना के छह केसनोएडा में अग्निशमन यंत्र बनाने वाली कंपनी सीजफायर में काम करने वाला सुभाष नगर निवासी एक युवक 21 मार्च को बरेली आया था। जिसके बाद उसने खुद को आइसोलेट कर लिया था। दो दिन पहले उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। जिसके बाद परिवार के छह सदस्यों को आइसोलेट किया गया था। मंगलवार को इन सभी की रिपोर्ट आई तो संक्रमित युवक की पत्नी, माता-पिता व भाई-बहन में संक्रमण की पुष्टि हुई है। दो साल के बेटे की रिपोर्ट निगेटिव आई है।संक्रमित मरीज के संपर्क में आने से बढ़ी संख्यानोएडा के सीजफायर कंपनी के ऑडिटर से फैले संक्रमण के बाद पॉजिटिव मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है. सोमवार ..
                 

यूक्रेन में फंसे 50 से अधिक भारतीय छात्र; मेडिकल स्टूडेंट कल्याणी बोली- पीएम हमारी बात सुनें, हम भी आपके बच्चे

वाराणसी. कोरोनावायरस जैसी वैश्विक महामारी के बीच उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले की कल्याणी मिश्रा समेत 50 से अधिक भारतीय स्टूडेंट यूक्रेन में फंसे हैं। सभी यूक्रेन के शहर ओडिसा में मेडिकल (एमबीबीएस थर्ड इयर) की पढ़ाई कर रहे हैं। बीते 20 मार्च से ये मेडिकल छात्र भारतीय दूतावास व पीएमओ को ट्वीट करके मदद मांग कर रहे हैं, लेकिन अभी तक कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला है।एक को बीमारी लगी तो सब खत्म हो जाएंगे। यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी का कहना हैं- देश का बॉर्डर सील हैं इस समय कोई भी भारत नहीं आ सकता हैं। इसलिए यूक्रेन में मौजूदा हालात में कोई भी मदद नहीं हो सकती हैं।यूक्रेन के बैंक स्वीकार नहीं कर रहे भारत से आने वाले पैसेकल्याणी ने दैनिक भास्कर से बात की। कहा- अंकल हमें बचा लीजिए.....प्लीज हेल्प....रोते हुए ट्वीट करते करते हम लोग थक गए है। हॉस्टल में छींकने पर भी प्रतिबंध है। पुलिस आकर पिटाई करती है।पैसे-राशन सब खत्म हो रहा है। एमबीबीएस थर्ड ईयर की पढ़ाई कर रही हूं। 20 मार्च से लगातार एम्बेसी, पीएमओ सभी जगहों पर ट्वीटऔर लेटर लिखकर मदद मांगी है।कल्याणी का कहना है कि हमें हॉस्टल से निकलन..
                 

24 घंटे के भीतर 3 शहरों में 12 नए केस; नोएडा में हालात संभालने के लिए प्रमुख सचिव को हेलिकॉप्टर से भेजा गया

लखनऊ/नोएडा. लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। सोमवार को इनमें मेरठ में 6, नोएडा के 5 व लखनऊ एकमरीज सामने आए। अब प्रदेश में कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 94पहुंच गई है। सर्वाधिक 37मरीज नोएडा (गौतमबुद्धनगर) के हैं। यहां मरीजों की संख्या बढ़ने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा रजनीश दुबे को वहां हेलीकॉप्टर से भेजकर हालात सुधारने के निर्देश दिए हैं।राज्य के 14 शहरों तक फैला संक्रमणनोएडा कोरोना जोन बन चुका है। इसके अलावा आगरा में 11, लखनऊ में 9,गाजियाबाद में 7, मेरठ में 19, पीलीभीत व वाराणसी में 2-2 और लखीमपुर खीरी, बागपत, मुरादाबाद, कानपुर, जौनपुर, शामली व बरेली में 1-1 मरीज मिले हैं। कोरोनावायरस का संक्रमण अब तक प्रदेश के 14 जिलों में पांव पसार चुका है। अब तक राज्य में 14 मरीज इलाज के बाद ठीक हुए हैं। इनमें आगरा के 7, नोएडा के 4, गाजियाबाद के 2 व लखनऊ का एक मरीज शामिल है।53 संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट आना बाकीउत्तर प्रदेश में अब तक कोरोनावायरस के 2,430 संदिग्ध मरीजों के सैंपल प्रयोगशालाओं को भेजे जा चुके हैं। इ..
                 

मकान मालिक ने किया बेघर, युवक ने 8 माह की गर्भवती पत्नी के साथ पैदल तय किया 100 किमी का सफर

मेरठ. लॉकडाउन की एक बेहद भयावह तस्वीर सामने आई है। यहां एक मकान मालिक ने अपने किराएदार को उसकी आठ माह कीगर्भवती पत्नी के साथ घर से निकाल दिया। मजबूरन युवक को अपनी पत्नी के साथ सौ किलोमीटर का सफर पैदल करना पड़ा। रास्ते में महिला की तबियत बिगड़ने पर स्थानीय लोगों ने मदद करके उसे बुलंदशहर उसके घर रवाना किया।मेरठ में नवीन कुमार और रवींद्र ने शनिवार को सोहराब गेट बस अड्डे पर वकील नाम के व्यक्ति व उनकी गर्भवती पत्नी यासमीन को देखा तो उन्होंने मदद के कदम बढ़ाए और नौचंदी पुलिस स्टेशन के सब इंस्पेक्टर प्रेमपाल सिंह को सूचित किया। पुलिस और स्थानीय लोगों ने दंपती को खानाऔर कुछ रुपए देकर एम्बुलेंस से उन्हें उनके गांव अमरगढ़ बुलंदशहर के सिवाना में छोड़ने की व्यवस्था की। वकील एक कारखाने में कार्यरत था और उसने दो दिनों में अपनी पत्नी के साथ 100 किमी की दूरी तय की।यासमीन ने पुलिस को बताया कि वे एक कमरे में रहते थे, जिसे मकान मालिक ने खाली करा लिया था। गांव जाने के लिए मकान मालिक से कुछ पैसे मांगे तो उसने देने से इंकार कर दिया। अब हमारे पास पैदल सफर तय करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। गुरुवार को हम सहार..
                 

दो मस्जिदों में छिपे मिले 19 विदेशी जमाती, सभी को जांच के लिए भेजा; छह लोगों पर एफआईआर

मेरठ. रविवार रात सरधना की दो मस्जिदों में इंडोनेशिया, सूडान आदि देशों के 19 जमाती छिपकर शरण लिए हुए थे। मस्जिदों के बाहर ताला लगा दिया गया था। पुलिस ने छह लोगों पर केस दर्ज किया है। सभी की जांच जारी है। वहीं, सोमवार से स्वास्थ्य विभाग की 600 टीम ने डोर-टू-डोर डेटा तैयार करने व संदिग्धों की पहचान के लिए अभियान शुरू किया है। रविवार को 8 नए केस आने के बाद यहां संक्रमितों की संख्या 11 पहुंच चुकी है।दो मस्जिदों में छिपे थे 19 जमाती, केस दर्जकस्बा मवाना और कस्बा सरधना की दो मस्जिदों में 19 विदेशी जमाती बिना सूचना दिये रह रहे थे। मवाना की मस्जिद में 10 विदेशी जमाती थे, इनका किसी को पता न चले, इसलिए मस्जिद में बाहर से ताला लगा हुआ था। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने इनकी जानकारी जुटाई। दोनों ही मामलों में स्थानीय पुलिस ने तीन-तीन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। फिलहाल इन विदेशियों को मस्जिद में हीआइसोलेट किया गया है। जांच के लिए उनके सैंपल लेकर भेजे जाएंगे। इंस्पेक्टर मवाना राजेंद्र त्यागी ने बताया कि यह जमात दिल्ली की जामा मस्जिद से 17 मार्च को चलकर मवाना आई थी। इन सभी की ट्रैवल हिस्ट्री भी स..
                 

मुख्यमंत्री योगी ने 27.5 लाख मनरेगा मजदूरों के खाते में भेजे 611 करोड़ रुपए, कई लोगों से बात भी की

लखनऊ. लॉकडाउन के बीच रोजी-रोटी का संकट है। इस स्थिति से निपटने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को मनरेगा योजना के तहत राज्य के 27.5 लाख श्रमिकों के बैंक खाते में 611 करोड़ रूपए ट्रांसफर किए हैं। सीएम ने कई मनरेगा श्रमिकों से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए सीधी बात की और उन्हें योजनाओं की जानकारी देते हुए उनकी समस्याओं को भी सुना है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- यह धनराशि उन मजदूरों के लिए कितनी महत्वपूर्ण है? यह पलायन कर रहे मजदूरों को देखकर समझ सकते हैं।केंद्र व राज्य सरकार 80 लाख मनरेगा मजदूरों के लिए निशुल्क खाद्यान्न की व्यवस्था कराएगी। कहा-उज्जवला योजना में 3 माह तक मुफ्त सिलेंडर की व्यवस्था भी सरकार करा रही है।जन धन योजना में भी 500 रुपए तीन माह तक देने की तैयारी पूरी कर ली गई है।सीएम ने कहा- मुझे प्रसन्नता है कि जब पूरी दुनिया कोरोना से डरी है, तब ग्राम विकास और एसबीआई ने मिलकर रुपए का ट्रांसफर किया है। आज का यह कार्यक्रम बहुत महत्वपूर्ण है। 2019-20 में 24 करोड़ 32 लाख मानव दिवस मनरेगा के अंतर्गत रोजगार सृजन के लिए उपलब्ध कराए गए हैं। आज एक बड़ा कार्य हुआ है। ..
                 

यूपी के सीतापुर में गांव का नाम कोरोना, इसे सुनते ही ग्रामीणों से दूरी बना लेते हैं लोग

सीतापुर.दुनियाभर में कोरोनावायरस का संक्रमण फैला हुआ है। देश में भी इसके मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। उत्तर प्रदेश भी इस संक्रमण से अछूता नहीं है। इसके इतर यहां एक गांव ऐसा भी है, जिसका नाम सुनकर ही लोगों में दहशत का माहौल बन जाता है। हम बात कर रहे हैं सीतापुर के गांव कोरोना की। यहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि जब कभी भी हम किसी को बताते हैं कि अपने गांव कोरोना से आए हैं तो लोग हमसे भेदभाव करना शुरू कर देते हैं। वे हमसे दूरी बना लेते हैं। हालांकि, गांव में एक भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित नहीं है।नैमिषारण्य की 84 कोसीय परिक्रमा में है कोरोना गांवदरअसल, कोरोना गांव 88 हजार ऋषियों की तपोभूमि नैमिषारण्य की 84 कोसीय परिक्रमा मार्ग पर पड़ता है। सीतापुर जिले की मिश्रित तहसील के इस गांव की आबादी महज 8 हजार है। ब्राह्मण और यादव बहुल इस गांव के लोग खेती पर निर्भर हैं। यह गांव धार्मिक और सांस्कृतिक रूप से काफी समृद्ध है। होली के पंद्रह दिन पहले नैमिषारण्य से शुरू होने वाली 84 कोसीय परिक्रमा का पहला पड़ाव यही कोरोना गांव है। यहां पर द्वारकाधीश का प्राचीन मन्दिर भी है, जिसमें परिक्रमा के समय लाखों श्र..
                 

यूपी में कम्युनिटी स्प्रेड का कोई मामला नहीं; अब तक 14 मरीज इलाज के बाद ठीक हुए

लखनऊ. प्रदेश के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अमित मोहन ने कहा- अब तक यूपी में कोरोना वायरस के 68 केस सामने हैं। 14 मरीज इलाके बाद ठीक हो चुके हैं। बाकी 54 मरीज विभिन्न मेडिकल कॉलेजों व जिला चिकित्सालयों में भर्ती हैं। सभी की हालत स्थिर है। जहां भी पॉजिटिव केस आ रहे हैं या जो उनके संपर्क में हैं, उन्हें भी क्वारैंटाइन किया जा रहा है। अभी तक 50 ऐसे लोग मिले हैं, जो किसी न किसी संक्रमित के संपर्क में आए थे। इनमें से 18 लोगों को मेडिकल कॉलेज व 32 को क्वारैंटाइन में रखा गया है। मेरठ में भी एक क्लस्टर बना है, कारण यहां पांच केस सामने आए हैं। अभी यूपी में कहीं कम्युनिटी स्प्रेड का मामला नहीं है।नोएडा में भेजा नोडल अधिकारीप्रमुख सचिव ने कहा- गौतमबुद्धनगर में एक फैक्ट्री के कई कर्मचारी संक्रमित हुए हैं। गाजियाबाद और नोएडा में जो भी केस बढ़े हैं, उस संबंध में मुख्यमंत्री के निर्देश पर वरिष्ठ अधिकारी डॉ. एपी चतुर्वेदी को एक महीने के लिए वहां पोस्ट किया गया है। सारी स्थिति पर निगरानी और मुस्तैदी से काम करवाने का काम करेंगे। वे दोनों ही जनपदों के सीएमओ और सीएमएस कोरोना वायरस से सम्बंधित ..
                 

दिल्ली से पलायन कर कानपुर झकरकटी बस अड्डे पहुंचे लोग, बोले- कोरोनावायरस से ज्यादा भयावह है हमारा सफर

कानपुर.कोरोनावायरस के फैलते असर से लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है। दिल्ली से किसी तरह पलायन कर कानपुर पहुंचे कामगार लोग अपने गांवों और जनपद जाने के लिए अंतराज्यीय बस अड्डे पर जमा हो गए। यह भीड़ देख कर कानपुर में रहने वाले मजदूर भी जमा हो गए। सोशल डिस्टेंसिंग की यह हालत देख कर रोडवेज के अधिकारियों से समेत जिलाप्रशासन के हाथ-पैर फूल गए। वहीं पलायन करके आने वाले कामगारों का कहना है कि कोरोना से भी ज्यादा भयवाह है हमारा सफर । हम मरे जाए या जिंदा रहे बस हमें हमारे अपनों के बीच पहुंचा दो।शनिवार दोपहर से ही झकरकटी बस अड्डे पर पलायन कर आने वालों की भीड़ जुटना शुरू हो गई थी। हाजारों की सख्या में लोग इकट्ठा होने की सूचना पर पहुंचे डीएम ब्रह्मदेव राम तिवारी ने सभी यात्रियों को एक-एक मीटर दूरी पर बैठाया था। इसके साथ ही रोडवेज अधिकारियों से बात कर यात्रियों को उनके जनपदों तक पहुंचाने की बात कही थी।शनिवार देर रात बनारस भेजी गईं बसेंझकरकटी बस अड्डे से शनिवार देर रात 7 बसे गोरखपुर भेजी गई थी। दो बसों को बनारस भेजा गया था, एक बस बेहराइच, एक बस लखीमपुर और एक बस को आगरा रवाना किया था। इसके बाद लगातार य..
                 

पलायन को मजबूर मजदूर; डीएम बोले- विदेश से लौटे लोग कराएं स्क्रीनिंग, वरना होगी कार्रवाई

वाराणसी. तमाम सख्ती के बावजूद लोग लॉकडाउन मानने को तैयार नहीं है। शनिवार रात को बस संचालन की अफवाह के बाद हजारो लोग रोडवेज बस स्टैंड पर उमड़ पड़े। पुलिस ने लोगों को अलग-अलग जगहों पर शिफ्ट सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया। पुलिस निजी वाहनों का इंतजाम कर लोगों को उनके मंजिल तक भेज रही है। वहीं रविवार को पूर्वांचल की सबसे बड़ी किराना मंडी विशेश्वरगंज में पुलिस ने आम लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दिया। शिवपुर के एक युवक में कोरोना पॉजिटिव आने के बाद गांव को सील कर दिया गया है। परिवार वालो का सैंपल लेकर बीएचयू जांच के लिए भेजा गया है।डीएम बोले- विदेश से आने वालों की सूचना दें, वरना होगी छह माह की जेलडीएम कौशल राज ने बताया कि वाराणसी जनपद में अब तक 2 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। ये दोनों यूएई से आए थे और खुद टेस्टिंग कराने अस्पताल पहुंचे थे।उन्होंने कहा- विदेश यात्रा से जो लोग वाराणसी में 10 मार्च के बाद आए हैं य 10 मार्च के बाद भारत के बाहर किसी भी देश का विजिट किया है तो आने वाले 3 दिन 29, 30 और 31 मार्च तक दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में उपस्थित होकर अपनी स्क्रीनिंग कराएं।इस आदेश का पालन न करने पर धारा..
                 

आधी रात हजारों कामगार पहुंचे लखनऊ, जान जोखिम में डालकर ट्रकों और बसों से अपनी मंजिल को हुए रवाना

लखनऊ. लखनऊ प्रशासन के लिए देर रात 1 बजे से सुबह 4 बजे का वक्त काफी मुश्किल भरा रहा।दिल्ली से कामगारों को लेकर चली रोडवेज की बसे आधी रात को लखनऊ के कई जगहों पर पहुंची।बसों ने जहां यात्रियों को आगे जाने के लिए आलमबाग, चारबाग, कैसरबाग, पॉलिटेक्निक चौराहा, कमता चौराहा और इंदिरा नहर पर अलग अलग संख्या में छोड़ा और वापस रवाना हो गयी।यहांसे स्थानीय प्रशासन ने यात्रियों को उनकी मंजिल पर पहुंचाने के लिए ट्रक, डीसीएम, डाला और रोडवेज बसों का इंतजाम किया।कमता चौराहे पर थी लगभग 5 से 7 हजार की भीड़लखनऊ के कमता चौराहे पर तकरीबन 3 बजे के आसपास रोडवेज बसे पहुंचनी शुरू हुईं।देखते ही देखते वहां पर 5 से 7 हजार कामगारों की भीड़ लग गयी, जो लखनऊ के अलग अलग जिलों में जाने के लिए इकठ्ठा हुए थे।जब बस चालकों से पूछा गया कि वह इन्हें इनकी मंजिल तक लेकर क्यों नहीं जा रहे तो उनका जवाब था कि उन्हें लखनऊ तक ही आने का आदेश था। हालांकि कमता चौराहे पर 4 थानों की फोर्स ने आकर पहलेही मामला संभाल लिया था।उसके बाद यात्रियों को आगे भेजने के लिए यहांसे दूसरी रोडवेज बसों का इंतजाम किया गया।लगभग 15 से 20 बस और आने जाने वाले ट्रक, ड..
                 

लॉकडाउन के बीच सरकार मनरेगा मजदूरों के खातों में जल्द भेज सकती है पैसे, भीड़ बाहर न निकले इसके लिए डोर-टूर डोर सुविधा देने में जुटा प्रशासन

गोरखपुर. लॉकडाउन के दौरान तमाम तरह की दिक्कों से जूझ रहे मनरेगा मजदूरों को सोमवार को बड़ी सौगात मिलेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ में बटन दबाकर प्रदेश के सभी मनरेगा मजदूरों के खातों में उनकी लंबित मजदूरी भेजेंगे। गोरखपुर में 86 हजार मनरेगा मजदूरों के खातों में करीब आठ करोड़ रुपएपहुंचेंगे। यही नहीं सीएम सूबे के मनरेगा मजदूरोंसे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात करेंगे। वहीं प्रशासन की तरफ से कोशिश है कि लोग अपने घरों में रहें और डोर टू डोर सर्विस के माध्यम से जरूरी सामान लोगों के घरों तक पहुंचाया जाए।गोरखपुर से वनटांगिया गांव चिललिवां का मनरेगा मजदूर सीएम से रूबरू होगा। इसके लिए संबंधित मनरेगा मजदूर के मोबाइल पर ही स्काइप एप इंस्टाल किया जाएगा और वह मोबाइल पर ही सीएम को सुन व देख सकेगा। सोमवार को सुबह 11 बजे से वनटांगिया ग्राम चिलबिलवा में आयोजित इस कार्यक्रम को लेकर जिला प्रशासन ने तैयारियां तेज कर दी हैं। सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान दिया जाएगा। जिले में करीब 1.78 लाख मजदूर मनरेगा से जुड़े हुए हैं।मनरेगा मजदूरों को आश्वस्त करेंगे योगीवीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सीएम मनरेगा मजदू..
                 

यूपी में दिल्ली के आप विधायक राघव चड्ढा पर केस दर्ज; कहा था- योगी सरकार पलायन कर रहे लोगों को पिटवा रही है

लखनऊ/नोएडा. लॉकडाउन के बीच दिल्ली व अन्य राज्यों से मजदूरों के पलायन पर सियासत शुरू हो गई है। दिल्ली के राजेंद्र नगर से आम आदमी पार्टी के विधायक व पार्टी केप्रवक्ता राघव चड्ढा से जुड़ा है। राघव ने ट्वीट करके मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर आरोप लगाया- वह दिल्ली से पलायन करके जा रहे लोगों को दौड़ा-दौड़ाकर पिटवा रहे हैं। योगीजी बोल रहे हैं कि तुम क्यों दिल्ली गए थे? एडवोकेट प्रशांत उमराव पटेल ने राघव पर गलत जानकारी फैलाने के आरोप में गौतमबुद्धनगर जिले के सेक्टर 20 थाने में केस दर्ज कराया है। राघव ने सीएम योगी पर आरोप लगाने के बाद अपना ट्वीटडिलीट कर दिया था।राघव ने टि्वटर पर लिखा-राघव चड्ढा का टि्वट।आमिर खान को भी परेशान कर चुके हैं प्रशांत, जानिए कौन हैं?प्रशांत यूपी के फतेहपुर जिले के जहानाबाद कस्बेसे ताल्लुक रखते हैं। प्रशांत बताते हैं कि जब आमिर खान की फिल्म पीके आई थी तो उन्होंने फिल्म पर हिंदुओं की भावनाओं के साथ मजाक करने का आरोप लगाकर कोर्ट में रिट दाखिल की थी। इसके बाद जेएनयू मामले में भी उन्होंन दिल्ली हाईकोर्ट में रिट दाखिल की थी। प्रशांत ने सेंसर बोर्ड अध्यक्ष लीला सैंम्सन के भ्..
                 

डायरेक्टर की लापरवाही से परिवार व कंपनी के कर्मचारियों में फैला संक्रमण; विदेश से लौटने की खबर छुपाई, एफआईआर दर्ज

नोएडा. देश ही नहीं दुनियाभर में कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से फैलता जा रहा है। इस बीच नोएडा में एक कम्पनी के डायरेक्टर की घोर लापरवाही की वजह से उनका परिवार और कम्पनी के कर्मचारी संक्रमण के दायरे में आ चुके हैं। आरोप है कि सीज फायर कंपनी के प्रबंध निदेशक एक मार्च को यूके से लौटे थे। इसके बाद फिर सात मार्च को उनके स्टॉफ आफिसर लौटकर आए थे। 14, 15 व 16 मार्च को एक विदेशी आडिटर ने कंपनी का ऑडिट भी किया। घोर लापरवाही बरतते हुए उन्होंने इसकी सूचना कंपनी ने स्वास्थ्य विभाग को नहीं दी। अब उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गई है।महामारी की जानकारी छुपाने का नतीजा यह हुआ कि इसी कंपनी व उनकी फैमिली के 13 लोगों तक यह संक्रमण फैल गया। स्वास्थ्य विभाग से ये छुपाने के कारण जिलाधिकारी ने दिए एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं।मुख्य चिकित्साधिकारी के मुताबिक एक निदेशक डेनमार्क की यात्रा पर गए थे। जब वह यात्रा से वापस लौटे तो उनके घर पर कुल दस लोग थे। उन सभी लोगों का कोरोना टेस्ट कराया गया जिसमें डायरेक्टर, उनकी मां और भतीजी का रिपोर्ट पॉजिटिव आयी। इन तीनों को इंफेक्शन की वजह से ऐसा हुआ।उन्होंने बताया कि यह स..
                 

किरायदारों पर दबाव नहीं बना सकते मकान मालिक, किराया मांगा तो होगी 2 वर्ष की जेल

नोएडा. कोरोना के खतरे के बीच मकान मालिक किराएदारों पर किराया वसूलने के लिए दबाव नहीं बना पाएंगे। ऐसेा करने पर उन्हें अधिकतम दो साल की सजा हो सकती है।जिला मजिस्ट्रेट बीएन सिंहने बताया कि ऐसे मकान मालिकों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 के अंतर्गत दंडात्मक कार्रवाईकी जाएगी, जिसमें 1 वर्ष तक की सजा या अर्थदंड या दोनो हो सकता है और यदि आदेश के उल्लंघन से किसी भी तरह की जानमाल की क्षति होती है, तो यह सजा 2 वर्ष तक हो सकती है।जिला मजिस्ट्रेट ने बताया कि यदि किसी मकान मालिक द्वारा आदेश का उल्लंघन किया जाता है, तो प्रभावित व्यक्ति द्वारा इसकी सूचना जनपद के इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम के दूरभाष नंबर 0120- 2544700 पर दी जा सकती है।जनपद में बड़ी संख्या में किराएदार रहते हैं। किरायदारों का कहना है कि मकान मालिकों द्वारा जबरन मकान को खाली करने के बाध्य किया जा रहा था और लगातार उन्हें भागने पर विवश किया जा रहा था। ऐसे में विकल्प न मिलने पर उनका पलायन जारी हो गया। शहर के सड़कों पर बड़ी तादाद में वे पलायन करने को विवश हो रहे थे। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Toda..