जागरण हिन्दुस्तान दैनिक भास्कर नईदुनिया नवभारत टाइम्स

Coronavirus in Chhattisgarh : कोरोना से जंग जीतने को डॉक्टरों के पास थर्मल स्केनर भी नहीं

                 

Coronavirus In Chhattisgarh: होम आइसोलेशन में रह रहे युवक ने की खुदकुशी, जांच में नहीं मिले बीमारी के लक्षण

                 

Coronavirus: घर के बाहर घूम रहा था होम आइसोलेशन में रखा गया युवक, पुलिस ने की कार्रवाई

                 

Dhamtari : जिला अस्पताल में पहुंचे 178 सर्दी खांसी के मरीज, 10 संदिग्ध

                 

कोरोना से जंग जीतने के लिए घरों में बिखेरी रोशनी

                 

भैंसमुंडी में मास्क का वितरण किया

ग्राम पंचायत भैसमुंडी के वार्ड क्रमांक चार की पंच सुलोचना चन्द्राकर ने भूषण लाल चन्द्राकर के साथ मिलकर अपने वार्ड के लोगों को कोरोना वायरस से बचाव व सुरक्षा के लिए मास्क का वितरण की। इस अवसर पर जानसिंग यादव उपाध्यक्ष जनपद पंचायत कुरूद, संतोष, बाबूलाल चन्द्राकर, गैंदलाल साहू, लतखोर साहू, मेघनाथ साहू, खेदूराम यादव, यादराम साहू, घनश्याम साहू, भीखम साहू, फगुवाराम निर्मलकर, जीवराखन साहू, पुनित साहू, जयराम साहू, हरखराम साहू, युवराज ध्रुव, रमेसरी ध्रुव आदि उपस्थित थे।..
                 

इतवारी बाजार बंद कराने करनी पड़ी मशक्कत

लॉकडाउन के बाद भी शहर के प्रमुख इतवारी बाजार जिला प्रशासन के आदेशानुसार समय पर बंद नहीं हुआ। पुलिस अधिकारी और जवानों के हस्ताक्षेप के बाद एक घंटे लेटलतीफी से बंद हुआ। वहीं अधिकांश चिल्हर व्यवसायी बाजार में सब्जी लाने व ले जाते समय शारीरिक दूरी के नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं, ऐसे में कोरोना वायरस संक्रमण की खतरा उन पर मंडराने लगा है।..
                 

कोकड़ी के जरूरतमंद परिवारों को मिली राहत सामग्री

                 

किराना दुकानों में बिक रहा महुआ

                 

घूमने और शहर पहुंचने के लिए लोग कर रहे डॉक्टरों की पर्ची का दुरुपयोग

लॉकडाउन के चलते लोगों की आवाजाही बंद है। 90 प्रतिशत लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं, लेकिन 10 प्रतिशत लोग घूमने व शहर में सामग्री खरीदी करने डॉक्टरों की पर्ची का दुरूपयोग कर शहर पहुंच रहे हैं। पुलिस व ग्रामीणों की चेकिंग करने पर वे पर्ची दिखाकर बच निकलते हैं। ऐसे में लॉकडाउन के बाद भी दिनोंदिन शहर में लोगों की चहल पहल बढ़ती ही जा रही है, जिस पर पुलिस सख्ती नहीं बरत पा रही है।..
                 

ट्रेजरी से नहीं कटता वेतन, तो कैसे काटे राशि

                 

मनरेगा कार्य शुरू होने से ग्रामीणों में नाराजगी, बंद करने की मांग

विश्व में फैली कोविड-19 के चलते पूरे देश में लॉकडाउन किया गया है। इस दौरान घरों में रह रहे गरीब तबके परिवारों को जरूरी सुविधाएं मुहैया कराने शासन युद्ध स्तर पर प्रयास कर रही है। ऐसे में मनरेगा का कार्य भी शुरू कर दिया गया है। जिसमें किसी भी तरह से शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया जा रहा है। कुछ ग्रामीणों ने काम बंद करने की मांग शासन से की है।..
                 

मुनाफाखोरी करने वाले किराना दुकान संचालक पर 2000 का जुर्माना

लॉकडाउन का फायदा उठाकर कुछ किराना व्यवसायी मुनाफाखोरी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। जिला प्रशासन की संयुक्त टीम छापेमार लगातार कार्रवाई कर रही है, इसके बाद भी नहीं थम रहा है। आलू-प्याज में मुनाफाखोरी करने और कोरोना वायरस से बचाव के लिए शारीरिक दूरी का पालन नहीं करने वाले एक किराना व्यवसायी के खिलाफ जिला प्रशासन की संयुक्त टीम ने कार्रवाई की है।..
                 

थोक सब्जी मंडी में लॉकडाउन का पालन नहीं

                 

निर्धारित समय पर नहीं गिरे कई दुकानों के शटर, पुलिस बंद कराती रही

शहर में संचालित आवश्यक सामग्रियों की कई दुकानें शासन से निर्धारित समय में बंद नहीं हुआ। ऐसे दुकानों को बंद कराने पुलिस पेट्रोलिंग वाहन घूमती रही। दुकानदारों को लाउड स्पीकर से आवाज देकर बंद कराने निर्देश देते रहे। वहीं नगर निगम की टीम ने इतवारी बाजार पहुंचकर समय पर लगे चिल्हर सब्जी व्यवसायियों के पसरा उठा दिए। आदेश के बाद पहले दिन कुछ दुकानदारों ने लेटलतीफी से दुकान बंद किए, लेकिन अब नियम का पालन नहीं करने वाले दुकान संचालकों पर कार्रवाई करने सख्त आदेश जिला प्रशासन ने दी है।..
                 

दिल्ली और जम्मू से लौटे छह लोगों पर अपराध दर्ज

                 

झूठी मुनादी पर लोग पहुंच गए थे पालिका की जमीन पर कब्जा करने

                 

दूसरे जिले के 65 लोगों को गायत्री परिवार ने भोजन कराया

गायत्री परिवार ने भखारा ब्लॉक के ग्राम कचना में सोमवार 30 मार्च को कई लोगों को भोजन कराया। गायत्री परिवार के वालिन्टियरों ने भूखे लोगों को खाना बनाकर खिलाया। कोरोना वायरस जेसे विश्व व्यापी महामारी को रोकने, लोगों को जागरूक करने साथ मे पीड़ित मानवता की सेवा करने आपदा प्रबंधन कार्य में जिला प्रशासन के निर्देशों एवं मार्ग..
                 

देश-विदेश से आए लोगों को ढूंढ रही स्वास्थ्य विभाग की टीम

                 

रात में झमाझम बारिश, चना और गेहूं फसल प्रभावित

                 

बेजुबानों को नहीं मिल रहा दाना पानी, बदल रहा व्यवहार

                 

कोरोना वायरस से जंग जीतने डॉक्टरों के पास थर्मल स्केनर नहीं

जिला अस्पताल में मौसमी सर्दी, खांसी व बुखार के मरीज उपचार कराने पहुंच रहे हैं, लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव व सुरक्षा के चलते शरीर टच करना प्रतिबंध है। कोरोना से जंग जीतने जिला अस्पताल में अपनी सेवा दे रहे योद्धा डॉक्टर बिना थर्मल स्केनर के मरीजों की नाड़ी छू नहीं पा रहे हैं, उन्हें भी संक्रमण फैलने की दहशत सताने लगा है। दबी जुबान डॉक्टर जिला अस्पताल में थर्मल स्केनर उपलब्ध कराने की मांग शासन से कर रहे हैं, लेकिन उनकी मांगों को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है, इसे लेकर डॉक्टरों में नाराजगी बनी हुई है।..
                 

जरूरतमंदों की सहायता करने समाजसेवी संस्थाओं के उठे हाथ

कोरोना वायरस से बचाव और सुरक्षा के लिए लॉकडाउन शुरू होने के बाद से लोगों का घरों से बाहर निकलना बंद हो गया है। कामकाज पूरी तरह से बंद है, ऐसे में शहर के झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले और हाल कमाने खाने वाले गरीब परिवारों की सहायता के लिए शहर के धनाढ्य लोग व समाजसेवी संस्थाएं सहयोग करने लगातार आगे आ रही है। वहीं जिला प्रशासन की टीम अपने स्तर पर जरूरतमंद परिवारों तक खाद्य सामग्री पहुंचा रहे हैं, इससे कई परिवारों को राहत मिल रही है।..
                 

इलाहाबाद और राजिम की बजाय रूद्री में महानदी में कर रहे अस्थि विसर्जन

लॉकडाउन होने के कारण परिवार के किसी सदस्य के निधन हो जाने के बाद लोग अस्थि विसर्जन करने राजिम नहीं ले जा पा रहे हैं। क्योंकि राजिम दूसरे जिले में है, ऐसे में लोग अतिआवश्यक रश्म निभाते हुए रूद्रेश्वरधाम रूद्री में महानदी किनारे अस्थि का विसर्जन कर रहे हैं। यहां ज्यादातर मध्यम और गरीब परिवार के लोग अस्थि का विसर्जन करते हैं। लॉकडाउन के कारण धनाढ्य वर्ग के लोग भी महानदी किनारे रूद्री में अस्थि का विजर्सन कर रहे हैं।..
                 

50 जरूरतमंद परिवारों के लिए राशन सामग्री भेंट की

                 

ग्रामीणों ने किया गांव का प्रवेश द्वार बंद

                 

कोरोना वायरस से बचाव के लिए ग्रामीण अपना रहे घरेलू नुस्खे

कोरोना वायरस से बचने ग्रामीण अंचलों में लोग कई तरह के घरेलू नुस्खे अपना रहे हैं। घरों के अंदर और प्रवेश द्वार पर दीप बत्ती व कई औषधियुक्त सामग्री जलाकर धुओं से घरों को रक्षा सूत्र में बांध रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि इस तरह के करने से वायरस मर जाते हैं। घरों में प्रवेश नहीं करते। हर बार जब कोई भी वायरस सक्रिय होने की बात सामने आते हैं, तो वे इस नुस्खा को जरूर अपनाते हैं।..
                 

गांवों की बाड़ियों में सब्जियों की पूछपरख बढ़ी

                 

डाही के मां दुर्गा मंदिर में हर तीन साल में होता है दीप प्रज्ज्वलन

जिला मुख्यालय से 18 किलोमीटर दूर ग्राम डाही है जहां पर आज भी गांव के लोग चैत्र नवरात्र आते ही उस तेंदुए की याद कर बड़ी श्रद्धा के साथ पूजन करने माता के दरबार में उमड पडते है। उस गांव की कहानी ऐसी है कि कुछ वर्ष पहले एक बार चैत्र नवरात्र तिथि अष्टमी को अचानक मां दुर्गा की सवारी तेंदुआ का आगमन हुआ था जो गांव के केदार राम पटेल की बाड़ी में बैठा हुआ था। उस वक्त गांव में चैत्र नवरात्र की अष्टमी का हवन कार्य चल रहा था।..
                 

दुकानों के सामने सोशल डिस्टेंस मेंटेंन नहीं कर रहे लोग

लॉक डाउन के चलते आम जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है, जहां रोजमर्रा की आवश्यकता की वस्तुओं को खरीदने के लिए समय निर्धारित कर दिया गया है वहीं लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा हुआ है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने जो दिशा-निर्देश जारी किए हैं उनका अधिकांश स्थानों पर पालन नहीं हो रहा है। इस दिशा में लोगों को जागरूक होने की आवश्यकता है।..
                 

बाजार में मुनाफाखोरी शुरू, शार्टेज को दुकानदार बता रहे कारण

कोरोना वायरस से बचाव और सुरक्षा के लिए लॉकडाउन शुरू होने के बाद 21 दिनों तक यह स्थिति बने रहने की जानकारी होने के बाद किराना, सब्जी और फल मार्केट में मुनाफाखोरी शुरू हो गई है। रायपुर को सील करने के बाद जरूरी सामग्री की आवक कम होने की बात कहते हुए कुछ व्यवसायियों ने सामग्रियों के दाम बढ़ा दिए है, जो लोगों के लिए मुसीबत बन रहा है। ग्रामीण अंचलों में तो जमकर किराना सामग्रियों पर जमकर मुनाफाखोरी शुरू हो गई है, इसे लेकर खाद्य विभाग गंभीर नजर नहीं आ रहा है।..
                 

आंधी-गड़गड़ाहट के साथ अंचल में झमाझम बारिश

                 

उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व से 22 ट्रेप कैमरा चोरी

                 

सिवनीकला में सरपंच ने ग्रामीणों को किया मास्क वितरण

ग्राम पंचायत सिवनीकला के सरपंच ईश्वर साहू ने ग्रामीणों को मास्क का वितरण किया। प्रत्येक परिवारों को दो-दो मास्क दिया गया। यह मास्क गांव के दर्जियों ने तैयार की है। मास्क वितरण के दौरान सरपंच साहू ने ग्रामीणों को घरों में रहने सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचने का एकमात्र उपाय शारीरिक दूरी बनाए रखना है। वहीं लॉकडाउन का पालन कराने पुलिस पेट्रोलिंग पार्टी गांव पहुंच रही है। पुलिस को देखकर..
                 

100 साल बाद बना अजब संयोग, आजादी के लिए चला था असहयोग आंदोलन, अब चल रहा सहयोग आंदोलन

                 

संकरी में युवाओं ने राशन सामग्री बांटी

                 

भाटापारा क्षेत्र में तेज हवा के साथ झमाझम बारिश और ओले

                 

स्पर्श ग्रुप के सदस्यों ने बांटे मास्क

                 

कोरोना से बचाव के लिए एक्स-रे रिपोर्ट डॉक्टरों के वाट्सएप पर दे रहे

एक्स-रे के फिल्म से भी कोरोना वायरस फैलने की आशंका है। जिला अस्पताल में एक्स-रे कराने के बाद मरीजों को फिल्म नहीं दिया जा रहा है। फिल्म का इमेज डॉक्टरों के पास वाट्सएप के माध्यम से पहुंच रहे हैं। मोबाइल से डॉक्टर मरीजों को रिपोर्ट बता रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से जिला अस्पताल में कोरोना वायरस से बचाव के लिए यह पहल शुरू की गई है।..
                 

एक साथ दिया जा रहा तीन माह का राशन

                 

गरीब परिवार को दी गई खाद्य सामग्री

                 

रावां क्षेत्र में जंगली सूअर का आतंक

                 

सहयोग के लिए नेता और ठेकेदार के हाथ उठे

                 

दान पेटी लेकर राशि एकत्र कर रहे रांवा के ग्रामीण

                 

दुगली में शारीरिक दूरी का पालन कर रहे लोग

दुगली।भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्व.राजीव गांधी जी की गोद ग्राम दुगली की उचित मूल्य की दूकान में वैश्विक समस्या कोरोना वाईरस को लेकर सोसल डिस्टेंट का पूर्णतया पालन किया जा रहा है वहीं 21 दिनों की लाकडाऊन को लेकर आम नागरिकों एवं,गरीबी रेखा की परिवारों को भूखमरी की स्थिति न आए पलायन की स्थिति न आए ऐसी अंदेशा को देखते हुए केंद्र सरकार और राज्य सरकार ने जो जनहित में फैसला लिया है ।..
                 

घास और रोटी खिलाकर मिटा रहे बेसहारा मवेशियों की भूख

लॉकडाउन ने शहर के बेसहारा मवेशियों और कुत्तों की परेशानी बढ़ा दी है। सभी दुकानें बंद होने तथा लोगों के घरों से खाने को कुछ भी नहीं मिलने के कारण उनके सामने भूखे मरने की स्थिति है। ऐसे मवेशियों और कुत्तों की भूख मिटाने के लिए जिला प्रशासन से अनुमति लेकर सेवाभावी लोगों की टीमें शहर में घूम-घूमकर मवेशियों को घास और रोटी खिला रहे हैं, इससे मवेशियों को राहत है।..
                 

होम आइसोलेशन से बाहर निकलकर घुमने वाले के खिलाफ रिपोर्ट

                 

गार्डन को नुकसान पहुंचा रहे बकरियों को निगम टीम ने पकड़ा

                 

पुलिस होम आइसोलेशन में रखे लोगों की कर रही निगरानी

                 

जिला अस्पताल के ओपीडी में मरीजों की संख्या हुई आधी

                 

नर-नारी धान फसल पर मंडराने लगा खतरा

किसानों के खेतों में तैयार नर-नारी धान फसल पर खतरा मंडराने लगा है। लॉकडाउन के चलते किसानों को धान फसल पर बालियां निकलने के समय छिड़काव के लिए मिलने वाला लिक्विड उपलब्ध नहीं है। यह लिक्विड कंपनी के कर्मचारियों के पास है, जिन्हें गांवों में जाकर किसानों से मिलने प्रशासन से अनुमति नहीं दी जा रही है, ऐसे में जिले के 12000 किसानों के फसल पर खतरा मंडराने लगा है।..
                 

सरपंच ने नालियों में ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव कराया

                 

युवक ने की खुदकुशी, 10 दिन पहले तमिलनाडु से लौटा था

                 

निश्शुल्क चावल वितरण शुरू, राशन दुकानों में कार्डधारियों की कतार

जिलेभर के राशन दुकानों में लॉकडाउन के बाद निश्शुल्क चावल वितरण शुरू हो गया है। कार्डधारियों को एक साथ दो माह का राशन दिया जा रहा है। राशन लेने कार्डधारियों की दुकानों में लंबी कतार लगी हुई है। वहीं कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव और सुरक्षा के मद्देनजर प्रत्येक कार्डधारियों का चावल वितरण से पहले हैंडवास कराया जा रहा है।..
                 

खेती किसानी के लिए नहीं मिल रहे मजदूर

                 

राशन वितरण की प्रक्रिया जानने विंध्वासिनी वार्ड पहुंचे कलेक्टर

                 

बेहोश पड़ी लड़की को पुलिस टीम ने पहुंचाया अस्पताल

                 

शहर के बेसहारा मवेशियों को चारा नहीं, खेतों में दिख रहे मवेशी

लॉकडाउन के बाद शहर की गलियों और सड़कों पर सन्नाटा है। अधिकांश दुकानें बंद है। चौक-चौराहों और गलियों में कहीं भी कचरा नहीं है, ऐसे में यहां घूमने वाले बेसहारा मवेशियों को चारा नसीब नहीं हो रहा है। वे अपना भूख मिटाने गांवों और खेतों वाले क्षेत्रों में जा रहे हैं। शहर के आउटर और खेत खलिहान स्थलों में बेसहारा मवेशियों की भीड़ नजर आ रही है।..
                 

सिमगा में बैंकाक, थाईलैंड, नेपाल से लौटे आठ लोगों का आइसोलेशन

शुक्रवार को सिमगा में आठ संदिग्ध मरीजों की जांच की गई जो बैंकाक, थाईलैंड, नेपाल से हाल ही में लौटे हैं। इनमें सिमगा नगर से पांच तथा तीन ग्रामीण क्षेत्र से हैं। बीएमओ डॉ. पीएल चंदन ने बताया कि इन सभी को होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी गई है। बीएमओ ने बताया कि अभी इन लोगों का जांच सैंपल नहीं लिया गया है। जिन लोगा..
                 

नगरी क्षेत्र में घरों तक राशन सामग्री पहुंचा रहे वालिंटियर्स

                 

घुरावड़ में घर पहुंचकर कोरोना वायरस से बचने दे रहे जानकारी

                 

मच्छरों से बचाने फागिंग मशीन से दवा का छिड़काव

मलेरिया सहित अन्य रोगों से बचाव को लेकर ब्राह्मण पारा वार्ड पार्षद द्वारा वार्ड में फागिंग मशीन से दवा छिड़काव कराया गया। इससे लोगों को थोड़ी राहत मिली है। वार्ड पार्षद ने लोगों से स्वच्छता बनाए रखने में सहयोग की अपील की है। कोरोना वायरस ने पूरे देश को झकझोर के रख दिया है। इसके रोकथाम के लिए शासन के अलावा विभिन्न वर्ग भी जुटे हुए हैं। इसे लेकर जनप्रतिनिधि भी सक्रियता दिखाने लगे हैं।..
                 

रोक के बावजूद शाम होते ही सड़क पर निकल रहे लोग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर 22 मार्च दिन रविवार को जनता कर्फ्यू का भरपूर समर्थन क्षेत्र में मिला परंतु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 24 मार्च को मध्यरात्रि में यह एलान किया गया कि 14 अप्रैल तक जनता कर्फ्यू लगा रहेगा, लेकिन सुहेला क्षेत्र में इसका असर नहीं के बतौर रहा है। जबकि सुहेला पुलिस स्टाफ द्वारा लगातार चौक चौराहों तथा गा..
                 

बरारी और कोटाभर्री में नाकेबंदी

लॉकडाउन शुरू होने के बाद जिला पंचायत सदस्य की अगुवाई में ग्रामीणों ने गांव के प्रवेश द्वार पर नाकेबंदी कर बाहरी लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है। यहां निगरानी के लिए ग्रामीण युवा तैनात है। बाहरी लोगों को किसी भी शर्त पर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। आवश्यक वस्तुओं के लिए ही ग्रामीण गांव से बाहर जा रहे हैं।..
                 

जरूरतमंद मरीज ही पहुंच रहे उपचार कराने जिला अस्पताल

लॉकडाउन शुरू होने के बाद लोग घरों से निकलना बंद कर दिया है। सामान्य बीमारी के उपचार के लिए वे उपचार कराने डॉक्टरों के पास नहीं आ रहे हैं, यही वजह है कि जिला अस्पताल में भी मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आई है। आवश्यकता महसूस होने पर ही लोग अपने परिजनों का उपचार कराने जिला अस्पताल पहुंच रहे हैं, जिनका उपचार डॉक्टर कर रहे हैं।..
                 

मनरेगा में भीड़ पर काम कर रहे मजदूर

जिले में 66 हजार मनरेगा मजदूर हर रोज काम कर रहे हैं। ग्रामीण अंचल में मनरेगा स्थल पर एक साथ 80 से 100 मजदूर समूह में काम करते हैं। जबकि जिला प्रशासन का स्पष्ट आदेश है कि लोग भीड़ में न रहे। केंद्र शासन से मनरेगा योजना के तहत चल रहे कार्यों पर बंद के लिए आदेश जारी नहीं होने के कारण यह नजारा गांवों में बनी हुई है, जो कोरोना वायरस से बचाव के विपरीत है।..
                 

दीवार लेखन से ग्रीन आर्मी की महिलाएं ग्रामीणों को कर रहे जागरूकता

                 

Ad

जबरन जुर्माना के विरोध में बंद रखी दुकानें