GoodReturns हिन्दुस्तान नईदुनिया नवभारत टाइम्स

होम बायर्स के लिए खुशखबरी, सभी रेरा को एक प्लैटफॉर्म पर लाने की तैयारी

                 

इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) भरते समय कभी न करें ये गलतियां

                 

जब देशभर में बैन हुए ये मशहूर ब्रैंड्स

                 

आज तय हो सकता है जेट एयरवेज का भविष्य

आज जेट एयरवेज को कर्ज देने वाले बैंकों की मीटिंग हो रही है जिसमें इस मामले को दिवाला कानून के तहत निपटाने की संभावना पर भी गौर किया जा सकता है। जेट को कर्ज देने वाले बैंक पहले कह चुके हैं कि कंपनी की नेगेटिव नेटवर्थ को बदलना और इसकी सेवाओं को बहाल करना निवेशकों के लिए आसान नहीं होगा। जेट पर 8,500 करोड़ रुपये का कर्ज है और इसकी कुल देनदारी 25,000 करोड़ रुपये है।..
                 

विप्रो के संतूर साबुन ने बनाया रेकॉर्ड, 2000 करोड़ रुपये सेल

संतूर किसी भी भारतीय एफएमसीजी (फास्ट मूविंग कन्ज्यूमर गुड्स) कंपनी का ऐसा साबुन ब्रैंड बन गया जिसने 2 हजार करोड़ रुपये की सालाना सेल का स्तर छू लिया। संतूर बनाने वाली विप्रो कन्ज्यूमर केयर ने टाइम्स ऑफ इंडिया से इस आंकड़े की पुष्टी की। संतूर ने 2 हजार करोड़ रुपये के टर्नओवर के साथ हिंदुस्तीन यूनिलीवर लि. (एचयूएल) के लक्स को पछाड़ दिया और अब लाइफ बॉय के सामने चुनौती पेश कर रहा है। एचयूएल की ताजा सालाना रिपोर्ट में लाइफबॉय और लक्स को क्रमशः 2 हजार करोड़ और 1 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के सेल्स ब्रैकेट में रखा गया था।..
                 

जानें, आईटीआर फाइल करने के लिए किन डॉक्युमेंट्स की जरूरत

                 

जानिए, दुनिया के सबसे अमीर शख्स के पास क्या-क्या खास

                 

थर्ड पार्टी मोटर बीमा में आज से बढ़ोतरी

फेडरेशन ऑफ़ ऑटोमोबाइल डीलर्स एंड एसोसिएशन ने गुरुवार को कहा की थर्ड पार्टी मोटर बीमा में बढ़ोतरी से गाड़ियों की बिक्री में असर देखने को मिलेगा! इन्शुरन्स रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया का आर्डर जिसमे बिमा दरों में बढ़ोतरी होना है, वह इस वित्तीय वर्ष में जून 16 से लागु होगा! ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री पहले से ही घाटे में चल रही है जिसमे बिक्री और ग्राहक की रूचि दोनों ही काम होती जा रही हैं! IRDAI की तरफ से सिंघानिआ ने कहा की बिमा में इस बढ़ोतरी से बिक्री काफी हद तक काम हो सकती है!..
                 

टैक्सेबल इनकम नहीं है तो भी करें रिटर्न फाइल, होंगे यह फायदे

इनकम टैक्स ऐक्ट के मुताबिक टैक्स छूट के दायरे में आनेवाली रकम के लिए आईटीआर भरने की बाध्यता नहीं है। लेकिन इसके वावजूद विशेषज्ञों की राय है कि जहां तक हो सके, ऐसे मामलों में भी लोगों को रिटर्न फाइल करना चाहिए। रिटर्न फाइल करने से जहां आप सरकार को अपनी आमदनी से अवगत कराते हैं, वहीं बैंकों से कर्ज लेने या फिर पहले से कटे टैक्स वापस लेने के लिए रिटर्न फाइल करना जरूरी है।..
                 

नई वित्त मंत्री का पहला बजट