जागरण हिन्दुस्तान नईदुनिया नवभारत टाइम्स

लॉकडाउन में लोगों ने ढूंढा एकाकीपन दूर करने का साधन और बढ़ गई इन साइटों पर विजिट

लॉकडाउन के दौरान (During Lock down period) कुछ लोगों ने विविध व्यंजनों को बनाने में हाथ आजमाया तो कुछ लोगों ने एकाकीपन से उबरने के लिए (to recover from isolation) हमसफर या साथी की (Partner) तलाश के लिए लोगों ने डेटिंग साइट्स (Dating sites)का रुख भी किया। ऑनलाइन पेमेंट का प्लेटफार्म रेजरपे (online payment platform Razorpay) के एक अध्ययन के मुताबिक लॉकडाउन के 101 दिन की अवधि में डेटिंग और मेट्रोमोनी साइट्स (matrimony sites) पर 32 फीसदी ज्यादा ट्रेफिक हो गया।..
                 

घर बैठे खरीदिए कमर्शियल व्हीकल, इस कंपनी ने लॉन्च किया देश का पहला ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म

                 

पीपीएफ की 7 अहम बातें, जो आपको पता होनी चाहिए

पीपीएफ (PPF) लंबी अवधि के लिए एक बेहतर निवेश विकल्प है। मौजूदा समय में पीपीएफ खाताधारकों को 7.1 फीसदी ब्याज मिल रहा है, जो किसी बचत खाते या कई एफडी विकल्पों से अधिक है। इसमें निवेश न केवल सुरक्षित है, बल्कि इसमें टैक्स छूट में कई तरह के फायदे मिलते हैं और कोई जोखिम नहीं होता है। लेकिन आपको पता होनी चाहिए इससे जुड़ी कुछ खास बातें।..
                 

बदला नियम, मास्क-सैनिटाइजर जरूरी वस्तुएं नहीं!

                 

साइबर क्राइम: चीन कनेक्शन पर PMO ने क्या कहा?

                 

रिलायंस का मार्केट कैप 12 लाख करोड़ पार

                 

कोरोना के चक्कर में इतने स्टार्टअप्स हुए बंद

कोविड-19 (Covid-19) महामारी सिर्फ आपके जीवन को ही प्रभावित नहीं किया है बल्कि कई नवोदित साहसियों (Entrepreneurs) के सपने को भी रौंद दिया है। उद्योग संगठन फिक्की (FICCI) और इंडियन एंजल नेटवर्क (IAN) के मुताबिक कोरोनावायरस (Corona virus) के संक्रमण कम फैले, इसके लिए हुए लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से देश के छोटे और मंझोले स्टार्टअप्स (Startups) खूब प्रभावित हुए।..
                 

मजदूरों का टोटा, कंपनियां कर रही है एयर टिकट की पेशकश

                 

सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवाने के लिए नियमों में मिली क्या ढील, जानेंं

                 

कोरोना की मार: 70 प्रतिशत स्टार्टअप प्रभावित, 12 प्रतिशत बंद

                 

इस सप्ताह TCS के तिमाही नतीजों से सेट होगा बाजार का मूड

                 

चीन को अब तक भारत से कौन-कौन सा झटका, जानें

                 

TDS से जुड़े नियम बदले, गलती पड़ सकती है भारी

                 

जानिए, किस बैंक में FD पर है ज्यादा ब्याज!

नई दिल्‍लीभले ही कोई बैंक सरकारी हो या प्राइवेट, फिक्स्ड डिपॉडिट यानी एफडी (FD rates of different banks) कराना सबसे सुरक्षित निवेश माना जाता है। कोरोना वायरस के इस दौर में शेयर बाजार में उतार चढ़ाव से लोग डरे हुए हैं। ऐसे में वह सोने में निवेश कर रहे हैं या फिर बैंकों में फिक्स डिपॉजिट कर रहे हैं। बैंक में एफडी करने पर ब्याज तो कम मिलता है, लेकिन रिटर्न की गारंटी होती है। तो अगर आप भी एफडी कराने की सोच रहे हैं, तो पहले ये जान लीजिए कि कौन सा बैंक कितना रिटर्न दे रहा है और फिर तय कीजिए कि किस बैंक में पैसे लगाना सही रहेगा।..
                 

EPF खाते से ऐसे भरें अपना इंश्योरेंस प्रीमियम

नई दिल्लीकोरोना वायरस की वजह से बहुत से लोगों ने अपनी नौकरी खो दी तो बहुत से लोगों की सैलरी कट के आ रही है। ऐसे में कुछ लोग इस बात को लेकर भी परेशान होंगे कि आखिर वह लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी का प्रीमियम (Insurance premium payment by epf account) कैसे भरें। लेकिन अगर आप नौकरीपेशा व्यक्ति हैं तो आप अपने ईपीएफ खाते का इस्तेमाल अपनी बीमा पॉलिसी का प्रीमियम भरने के लिए कर सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे इस मुश्किल की घड़ी में ईपीएफ खाता काम की चीज साबित हो सकता है।..
                 

आपसी लड़ाई में हो जाएगा 120 साल पुराना मेला

                 

6 शहरों से कोलकाता के लिए उड़ानें बंद

                 

मेड इन इंडिया ऐप्स का सपना, PM का मास्टर प्लान

                 

कोरोना संकट में चाहिए लोन, तो जानें CIBIL स्कोर

इंडिविजुअल के लिए अभी लोन लेना उतना आसान नहीं है। बैंक इस बात का विशेष खयाल रख रहे हैं कि ज्यादातर लोन उन्हीं लोगों को मिले, जिनका री-पेमेंट रेकॉर्ड मजबूत हो। बैंकों को अपना पैसा डूबने का ज्यादा खतरा सता रहा है। ऐसे में आप अगर किसी भी तरह के लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो CIBIL score बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है।..
                 

कैश निकालने पर भी लगेगा टैक्स, जानें नियम!

                 

ऐसा करेंगे तो आपकी हेल्थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी बनेगी और ज्‍यादा फायदेमंद

Policybazaar.com के Head- Health Insurance, अमित छाबड़ा का कहना है कि आपकी हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी के साथ एक राइडर (Rider)को चुनने का मुख्‍य उद्देश्‍य इंश्योरेंस कंपनी (Insurance companies) द्वारा प्रदान की जाने वाली सुरक्षा को और अधिक बढ़ाना है। यह विशिष्‍ट जोखिम के लिए कवरेज (Coverage for risks) प्रदान करते हैं। हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी के साथ आने वाले अधिकांश राइडर्स वैकल्पिक (Optional) होते हैं। ये कम कीमत पर बेस प्‍लान कवरेज (Base plan coverage) को बढ़ाने में सहायक होते हैं। सबसे महत्‍वपूर्ण बात यह है कि सही हेल्‍थ इंश्‍योरेंस Riders क्‍लेम करते समय आपके और आपके परिवार के बहुत मददगार हो सकते हैं।..
                 

मील वाउचर लेने पर कौन सा टैक्स स्लैब बेहतर!

नई दिल्लीजो लोग आयकर (Income Tax) के नए स्लैब के तहत टैक्स भरना चाहते हैं, उन्हें कुछ फ्रिंज बेनिफिट्स का फायदा नहीं मिलेगा। दरअसल, नए स्लैब (New tax slab system) के तहत आयकर विभाग ने कंपनी की तरफ से दिए जाने वाले मील वाउचर (Tax exemption on Meal Voucher) पर टैक्स छूट के नियम को बदल दिया है। एक नोटिफिकेशन में आयकर विभाग ने कहा है कि नए टैक्स स्लैब को चुनने वाले कर्मचारी धारा 115BAC के तहत मील वाउचर या कूपन पर मिलने वाली टैक्स छूट का फायदा नहीं ले पाएंगे। बता दें कि अभी एक मील पर 50 रुपए की छूट मिलती है।..
                 

गोल्ड मास्क पहनता है यह शख्स, कितनी कीमत?

                 

6 महीने में बेजोस की दौलत 57 अरब डॉलर बढ़ी

                 

फेयर नहीं अब 'ग्लो एंड लवली', इमामी करेगा केस!

                 

जियो में 12वां निवेश, 1894 करोड़ देगी ये कंपनी!

                 

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आज नहीं फूटा बम, जानें अपने शहर के दाम

पेट्रोल-डीजल की कीमत (Petrol-Diesel Price) में आज लगातार चौथे दिन बम नहीं फूटा। देश की सरकारी तेल कंपनियों (Government oil companies) ने बीते जून में लगातार 21 दिन कीमत में बढ़ोतरी कर एक रिकार्ड बनाया था। उस समय अंतर्राष्ट्रीय बाजार (International oil market) में कच्चे तेल की कीमतों (Crude oil price) में लगभग नरमी थी। उसकी भरपाई करते हुए आज लगातार चौथे दिन इन कंपनियों ने पेट्रोल डीजल की कीमतों (Petrol-Diesel price in domestic market) में कोई फेरबदल नहीं किया।..
                 

क्या अमेरिका में भी TikTok पर लगेगा बैन?

                 

डॉक्टर-नर्स को हवाई टिकट पर 25% की स्पेशल छूट

                 

चीनी सामानों के बहिष्कार में इनका भी मिला साथ

चीन में बने सामानों के बहिष्कार के कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (Confederation of all India traders) के आंदोलन को ​विभिन्न संगठनों का भी समर्थन मिलने लगा है। इसी क्रम में ट्रांसपोर्टर (Transporters), लघु उद्यमी (Small scale industries), उपभोक्ता संगठन (Consumers organisation)आदि इनसे जुड़े हैं। इनका कहना है कि देश के उपभोक्ताओं को चीनी सामानों (Chinese goods) के बजाय भारतीय वस्तुओं (Indian Goods) का उपयोग करने के लिए जागरूक करने के लिए सभी संभव कदम उठाएंगे।..
                 

हवाई जहाज को मात देंगी रेलगाड़ियां, ट्रेन चलाने दुनिया भर की कंपनियां आ रही हैं भारत

याद कीजिए वो जमाना जबकि देश के घरेलू मार्गों पर सिर्फ (Domestic aviation market) एक सरकारी कंपनी (Only one Government company) का कब्जा था। उस समय हवाई जहाज Aaeroplane) की भी हालत ट्रेन (Train) से थोड़ी ही बेहतर थी। लेकिन जब निजी कंपनियों के लिए घरेलू मार्गों (Domestic aviation routes for private companies) को खोला गया तो फिर यात्रियों को विकल्प मिला। जिन्हे शाही यात्रा (Luxury journey) करनी होती है, वे शाही यात्रा का विकल्प चुनते हैं और जिन्हें कम खर्चे में सफर करना होता है, वह नो​ फ्रिल एयरलाइन (No frill airline) चुनते हैं। यही स्थिति रेलगाड़ी में भी होने वाली है।..
                 

बैंकों ने नहीं किए एटीएम अपग्रेड, लग सकता है जुर्माना

                 

इन 5 शेयर में आज बायर्स का गजब इंट्रेस्ट

                 

बहुत जल्द दौड़ेगी 109 जोड़ी प्राइवेट ट्रेन !

                 

चाहिए निवेश लेकिन चीन से नहीं : नितिन गडकरी

                 

वोडाफोन आइडिया ने बनाया घाटे का रिकॉर्ड

                 

सरकारी बांड में आज से निवेश का मौका, मिलेगा शानदार रिटर्न

                 

आज किन शेयर में पैसा लगाने से होगा फायदा!

                 

अब ऑनलाइन फ्रॉड से नो टेंशन, क्योंकि...

                 

चीन में सोने का फर्जीवाड़ा, 4 फीसदी गोल्ड नकली

                 

एसबीआई ने तीन शहरों में लॉन्च की योनो ब्रांचेज

                 

छुपे रुस्तम साबित हो सकते हैं ये 15 स्टॉक

                 

कल से बदल जाएगा ATM से जुड़ा ये नियम

नई दिल्लीवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मार्च महीने में कोरोना वायरस (Coronavirus in india) के चलते किसी भी एटीएम से पैसे निकालने (ATM money withdrawal rule) की छूट दी थी। ये छूट उन्होंने 3 महीनों के लिए दी थी, जिसकी मियाद 30 जून को खत्म हो रही है। राहत के तहत ग्राहक किसी भी बैंक के एटीएम से कितनी भी बार पैसे निकाल सकते थे और उन पर कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं लगता था। लेकिन 30 जून के बाद ये राहत खत्म हो जाएगी और नियमों के मुताबिक दूसरे बैंक के एटीएम से कुछ चुनिंदा ट्रांजेक्शन करने की ही इजाजत होगी।..
                 

फार्मा सेक्टर के इन शेयरों पर टूट पड़े हैं निवेशक

                 

टैक्स प्लानिंग शुरू करने का सही समय क्या है, यहां जानिये

हर व्यक्ति अपनी मेहनत की कमाई को इनकम टैक्स में न चुका कर उसे बचाना चाहता है। लेकिन सोच-समझकर एक टैक्स सेविंग प्लान (Tax saving plan) बनाने और अपनी देनदारी को सुव्यवस्थित तरीके से कम करने के बारे में बहुत कम लोग सोचते हैं। अपनी टैक्स देनदारी को कम करने के लिए, नए वित्तीय वर्ष की शुरुआत से ही टैक्स प्लानिंग शुरू करना बहुत जरूरी है।..
                 

हीरो की होगी एटलस साइकिल्स!

                 

कोरोना से पहले के स्तर पर पहुंचा डिजिटल पेमेंट, क्रेडिट कार्ड से भुगतान में भी तेजी

                 

चीन के 59 ऐप बैन से भारत को कैसे नुकसान?

नई दिल्लीपिछले कुछ हफ्तों से सीमा पर भारत-चीन के बीच तनाव (india china ladakh tension) की स्थिति है। हालात इतने खराब हैं कि एक बार खूनी संघर्ष (india china conflict) भी हो चुका है, जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो चुके हैं। तब से भी पूरे देश में चीनी सामान के बहिष्कार (Boycott china) की मांग उठ रही है। लोगों ने तो चीन के ऐप, मोबाइल और तमाम सामान का इस्तेमाल करना भी बंद करना शुरू कर दिया है। इसी बीच मोदी सरकार ने चीन के 59 ऐप बैन (59 chinese app ban) करने का फैसला किया है, जिसमें टिकटॉक समेत कई लोकप्रिय ऐप हैं। आइए समझते हैं चीन के 59 ऐप बैन होने के मायने क्या हैं और इससे चीन को कितना नुकसान हो सकता है।..
                 

अब श्रमिक विशेष रेलगाड़ियों की मांग नहीं की जा रही: रेलवे

                 

टाटा की कारों पर 60 हजार रुपये तक की छूट, जल्दी कीजिए केवल एक दिन बचा है

                 

रोज 166 रुपये के निवेश से बन सकते हैं करोड़पति, यहां जानिए कैसे

                 

'सभी सामानों पर हो बनाने वाले देश का नाम'

                 

डीजल-पेट्रोल की कीमत का दोषी कौन, समझिए महंगाई का पूरा गणित

नई दिल्लीपिछले दिनों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में भारी बढ़ोतरी हुई है। 21 दिनों तक डीजल-पेट्रोल की कीमतें (Diesel Petrol Price)लगातार बढ़ने के बाद एक दिन की राहत मिली और आज 23वें दिन फिर से दाम बढ़ गए। 23 दिन में डीजल के दाम 11.23 रुपये प्रति लीटर बढ़ गए हैं, जबकि पेट्रोल की कीमतें 9.17 रुपये प्रति लीटर बढ़ चुकी हैं। डीजल-पेट्रोल की इन बढ़ती कीमतों को देखते हुए दिल्ली से लेकर पटना तक विरोध प्रदर्शन (Protest against diesel Petrol price) हो रहा है। कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए हैं। दिल्ली के साथ-साथ पटना, बेंगलुरू, अहमदाबाद, भुवनेश्वर में कांग्रेस ने मूल्य वृद्धि के खिलाफ जमकर हल्ला बोला है। ऐसे में एक बड़ा सवाल ये उठ रहा है कि आखिर पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ क्यों रही हैं, जबकि कच्चे तेल की कीमतें (Crude oil price) भी काफी हद तक घट गई हैं।..
                 

पेट्रोल डीजल कीमत: फिर बैतलवा डाल पर

                 

IRDAI को बताएं तीन नाम, पाएं 30 हजार इनाम

                 

2 दिन में निपटा लें ये 5 काम, 30 जून है लास्ट डेट

नई दिल्लीकोरोना वायरस की महामारी की वजह से बहुत सारी चीजों की तारीखें आगे पीछे हुई हैं। हाल ही में आयकर विभाग ने टैक्स से जुड़ी कई अहम आखिरी तारीखों को भी आगे बढ़ाया है। ऐसे में लोगों में कुछ तारीखों को लेकर कंफ्यूजन भी हैं। आइए आपको बताते हैं कि ऐसी कौन-कौन सी चीजें हैं, जिनके लिए 30 जून आखिरी तारीख (last date of 30th june) है और 1 जुलाई से उसमें बड़ा बदलाव (these thing change from 1st july) होगा।..
                 

10 जुलाई तक आएगा खास 'कोरोना कवच बीमा'

                 

पाकिस्तान में रातोंरात 25 रुपये महंगा हो गया पेट्रोल

                 

रक्षा बजट में तीसरे स्थान पर भारत, कहां है चीन?

                 

ऐसा करेंगे तो ले पाएंगे अच्छी टर्म लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी

टर्म इंश्योरेंस की योजना के महत्व को देखते हुए, यह कई लोगों के वित्तीय पोर्टफोलियो (Financial Portfolio) में अच्छा स्थान पाती है। लेकिन यहां सवाल उठता है कि क्या सब लोग एक अच्छी टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने में कामयाब हो पाते हैं? अक्सर लोग कुछ सामान्य गलतियां करते हैं, जिस वजह से वे टर्म इंश्योरेसं पॉलिसी से पूरा लाभ नहीं ले पाते हैं। इंश्योरेंस टेक कंपनी टर्टलमिंट के सह संस्थापक धीरेंद्र मह्यावंशी हमें बता रहे हैं कि क्या हैं ये गलतियां।..